Essay on Shree Narendra Modi in Hindi

आज के लेख में हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निबंध लिखेंगे. श्री नरेन्द्र मोदी जी हमारे भारत देश के वर्तमान प्रधानमंत्री हैं. हम इन्हीं के जीवन, संघर्षों और महान कार्यों के बारे में जानेगे |


श्री नरेंद्र मोदी

नरेंद्र : संघर्ष की मिशाल
 माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी में एक ऐसे ओजस्वी, निर्णायक तथा विकासोन्मुख नेता है, जिनका पूरा जीवन संघर्ष की मिसाल रहा है । बहुत कम उम्र से ही उन्होंने अपने जीवन को देश की सेवा में लगा दिया था और आज उन्होंने एक लोकप्रिय नेता के रूप में  विश्व पटल पर अपनी अविस्मरणीय छवि बनायी है । आज माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी पूरे देश की जनता के सपनों और आकांक्षाओं को पूरा करने वाले एक विकासोन्मुख नेता के रूप में उभरे है । माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का जीवन साहस, संवेदना तथा सतत् कठिन परिश्रम वाला रहा है। उन्होंने निचले स्तर के कार्यकर्ता, एक संगठक तथा अपने गृह राज्य गुजरात के मुख्य मंत्री के रूप में अपने 13 वर्ष के लंबे शासनकाल के दौरान एक प्रशासक के रूप में अपने कौशल का परिचय दिया।

व्यक्तिगत जीवन

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी का जन्म उत्तर गुजरात के मेहसाणा जिले के एक छोटे-से कस्बे वडनगर  में 17 सितंबर, 1950 को हुआ था । इस प्रकार माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को स्वतंत्र भारत में जन्मे पहले प्रधानमंत्री होने का गौरव प्राप्त हुआ। उनके पिता का नाम श्री दामोदरदास मोदी तथा माता का नाम  श्रीमती हीराबाई मोदी था ।   श्री नरेंद्र मोदी एक साधारण तथा विनम्र परिवार से हैं। उनके दो बड़े भाई  सोमा, अमृत और दो छोटे भाई प्रहलाद, पंकज थे। उनके पिता एक व्यापारी थे जिन्होंने अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए काफी संघर्ष किया । 

श्री नरेंद्र मोदी के सृजनात्मक वर्षों ने उन्हें शुरू से ही कठिन परिश्रम करना सिखाया जिसके फलस्वरूप ही वे अपनी पढ़ाई तथा पढ़ाई के बाद के जीवन के बीच तालमेल बिठा पाए और चाय की दुकान पर काम करने के लिए समय निकाल पाए क्योंकि उनके परिवार को दो वक्त की रोटी की व्यवस्था करने के लिए संघर्ष करना पड़ता था।

See Hindi Essay Topics

 वे बचपन से ही बहुत मेहनती रहे। वे चर्चा करने के लिए तत्पर रहते थे तथा पुस्तकें पढ़ने के शौक़ीन थे ।  मोदी जी स्थानीय पुस्तकालय में घंटों स्वाध्याय किया करते थे। बचपन में उन्हें तैराकी का भी शौक था। बचपन से ही श्री नरेंद्र मोदी के विचार तथा सपने उनके हम उम्र बच्चों के विचार से बिलकुल अलग थे। बचपन में भी वे समाज में बदलाव लाने के प्रबल पक्षधर थे। वे स्वामी विवेकानंद के कार्यों से अत्यधिक प्रभावित थे जिससे उनके जीवन में अध्यात्म की नींव पड़ी और भारत को जगत-गुरू बनाने के स्वामी जी के सपने को पूरा करने की दिशा में कार्य करने की प्रेरणा मिली। 

राजनीति से परे नरेंद्र मोदी को लिखना पसंद है। उन्होंने कई कविताएं और कई किताबें लिखी हैं। वह अपने दिन की शुरुआत योग से करते हैं। योग उनके शरीर और दिमाग को मजबूत बनाता है और तेज गति चलने वाली दिनचर्या में शांति का भाव पैदा करता है।

 श्री मोदी ने गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में एम. ए. पूरा किया है।

18 वर्ष की उम्र में उनका विवाह जशोदा बेन चिमन लाल के साथ हुआ था लेकिन मोदी जी ने कभी उनके साथ वैवाहिक जीवन नही बिताया । जशोदा बेन गुजरात के एक सरकारी स्कूल में शिक्षिका थी अब रिटायर हो चुकी है । उनकी कोई संतान नहीं है । 

राजनैतिक जीवन का प्रारंभ 

कम आयु में मोदी जी ने संपूर्ण भारत की यात्रा करने के लिए घर छोड़ दिया। दो वर्षों तक उन्होंने विभिन्न संस्कृतियों का पता लगाने के लिए भारत के विशाल भू-खंड की यात्रा की। जब वे घर लौटे तब वे एक अलग ही व्यक्ति थे जिसे यह स्पष्ट पता था कि उन्हें जीवन में कौन-सा लक्ष्य हासिल करना है। वे अहमदाबाद चले गए और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) से जुड़ गए। 

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एक सामाजिक-सांस्कृतिक संगठन है, जो भारत में सामाजिक एवं सांस्कृतिक पुनर्जागरण का कार्य कर रहा है। 1972 में अहमदाबाद में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का प्रचारक बनने के बाद से श्री नरेंद्र मोदी की कठिन दिनचर्या है। उनकी दिनचर्या प्रातः 5 बजे शुरू होती है और देर रात तक चलती है।

  • 1970 के दशक के आखिरी दिनों ने यह भी देखा कि युवा नरेंद्र मोदी ने भारत में आपातकाल के दौरान दमित किए जा रहे प्रजातंत्र की पुनर्बहाली के लिए चलाए जा रहे आंदोलन में हिस्सा लिया।
  • 1980 के दशक में संघ में अलग-अलग जिम्मेदारियां लेते हुए श्री नरेंद्र मोदी अपने संगठन कौशल के  उभरते नेता के रूप में सामने आए। 1987 में नरेंद्र मोदी के जीवन का एक अलग अध्याय तब शुरु हुआ जब उन्होंने गुजरात में भारतीय जनता पार्टी के महासचिव के रूप में कार्य करना शुरु किया। अपने पहले कार्य में श्री नरेंद्र मोदी ने अहमदाबाद के नगर निगम चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को पहली बार जीत दिलाई। 
  • उन्होंने 1990 के गुजरात विधान सभा चुनावों में भी भारतीय जनता पार्टी को कांग्रेस के बाद दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनाया। 1995 के विधान सभा चुनावों में श्री नरेंद्र मोदी के संगठन कौशल के फलस्वरूप भारतीय जनता पार्टी का मत प्रतिशत बढ़ा और पार्टी ने 121 सीटें जीतीं।
  • श्री नरेंद्र मोदी ने 30 मई 2019 को भारत के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली, जो उनके दूसरे कार्यकाल की शुरुआत थी। आजादी के बाद पैदा होने वाले पहले प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी जी ने 2014 से 2019 तक भारत के प्रधानमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला है,वे इस पद पर इतने लम्बे समय तक रखने वाले पहले गैर कांग्रेसी है । उन्होंने अक्टूबर 2001 से मई 2014 तक गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य भार संभाला है।

2014 और 2019 के संसदीय चुनावों में श्री मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने दोनों अवसरों पर पूर्ण बहुमत हासिल किया। 

‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’ के आदर्श वाक्य से प्रेरित होकर, श्री मोदी ने शासन व्यवस्था में एक ऐसे बदलाव की शुरुआत की और समावेशी, विकासोन्मुख और भ्रष्टाचार-मुक्त शासन का नेतृत्व किया।

 

Also See: Pollution Essay in Hindi

 

पुरस्कार और सम्मान

  • प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को भूटान सरकार द्वारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान ऑर्डर ऑफ द डूक ग्यालपो से सम्मानित किया जा चुका है। 
  • अमेरिकी प्रशासन ने भी अमेरिका की सेना को दिए जाने वाला सर्वोच्च सम्मान लीजन ऑफ मेरिट से श्री प्रधानमंत्री मोदी जी को सम्मानित किया।
  • संयुक्त अरब अमीरात ने अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान ऑर्डर ऑफ जायेद से श्री मोदी जी को अगस्त 2019 में सम्मानित किया था।
  • अफगानिस्तान ने भी अपने देश के सर्वोच्च सम्मान स्टेट बॉर्डर ऑफ गाज़ी अमानुल्लाह खान से जून 2016 में सम्मानित किया था।
  •  सऊदी अरब ने अपना आर्डर ऑफ अब्दुल अजीज ऑल साद श्री मोदी को 2016 में प्रदान किया था, यह किसी गैर मुस्लिम को दिया जाने वाला पहला सऊदी अरब सर्वोत्कृष्ट सम्मान था।
  • जून 2019 में मालदीव का डिस्ट्रिक्ट रूल ऑफ़ निशान इज्जुद्दीन सम्मान प्रधानमंत्री जी को प्रदान किया गया था ।
  •  फरवरी 2018 में फलस्तीन ने श्री मोदी को अ से सम्मानित किया था। 
  • स्वच्छ भारत अभियान के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने श्री मोदी को गोल्डन गोलकीपर अवॉर्ड सितंबर 2019 में प्रदान किया था। 
  • भारत रुस संबंधों को प्रोत्साहित करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को रूस ने अपने सर्वोच्च नागरिक सम्मान आर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू से अप्रैल 2019 में सम्मानित किया था।
  • 2018 में दक्षिण कोरिया की यात्रा के दौरान उन्हें सियोल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • महाराष्ट्र सरकार द्वारा दिया जाने वाला लता मंगेशकर सम्मान से मोदी जी को सम्मानित किया जा चुका है।
  • पर्यावरण संरक्षण के प्रति उनके प्रयासों को स्वीकार करते हुए प्रधानमंत्री मोदी को संयुक्त राष्ट्र के ‘चैंपियंस ऑफ अर्थ अवार्ड’ से सम्मानित किया गया।

 

Also See: Essay on Internet in Hindi

 

मोदी जी द्वारा किए गए सराहनीय कार्य 

  • देश की वित्तीय धारा से दूर गरीबों को वित्तीय धारा में लाने के लिए प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री जन धन योजना शुरू की, जिसका उद्देश्य प्रत्येक भारतीय का बैंक खाते खोलना था। अब तक 35 करोड़ से अधिक जन धन खाते खोले जा चुके हैं। इन खातों ने न केवल गरीबों को बैंक से जोड़ा, बल्कि सशक्तीकरण के अन्य रास्ते भी खोले हैं।
  • जन-धन से एक कदम आगे बढ़ते हुए श्री मोदी ने समाज के सबसे कमजोर वर्गों को बीमा और पेंशन कवर देकर जन सुरक्षा पर जोर दिया। JAM ट्रिनिटी (जन धन- आधार- मोबाइल) ने बिचौलियों को समाप्त कर दिया है और प्रौद्योगिकी के माध्यम से पारदर्शिता और गति सुनिश्चित की है।
  • असंगठित क्षेत्र से जुड़े 42 करोड़ से अधिक लोगों के पास अब प्रधानमंत्री श्रम योगी मान धन योजना के तहत पेंशन कवरेज मिली है। 2019 के चुनाव परिणामों के बाद पहली कैबिनेट बैठक के दौरान व्यापारियों के लिए समान पेंशन योजना की घोषणा की गई है।
  • 2016 में गरीबों को मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना शुरू की गई थी। यह योजना 7 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को धुआं मुक्त रसोई प्रदान करने में एक बड़ा कदम साबित हुई है। इसकी अधिकांश लाभार्थी महिलाएं हैं।
  • आजादी के बाद से 70 वर्षों के बाद भी 18,000 गाँव बिना जहां बिजली नहीं थी वहां बिजली पहुंचाई गई है।
  • श्री मोदी का मानना है कि कोई भी भारतीय बेघर नहीं होना चाहिए और इस विजन को साकार करने के लिए 2014 से 2019 के बीच 1.25 करोड़ से अधिक घर बनाए गए है। 2022 तक प्रधानमंत्री के ‘हाउसिंग फॉर ऑल’ के सपने को पूरा करने के लिए घर के निर्माण की गति में तेजी आई है।
  • कृषि एक ऐसा क्षेत्र है जो श्री नरेंद्र मोदी के बहुत करीब है। 2019 के अंतरिम बजट के दौरान सरकार ने किसानों के लिए पीएम किसान सम्मान निधि के रूप में एक मौद्रिक प्रोत्साहन योजना की घोषणा की। 24 फरवरी 2019 को योजना के शुरू होने के बाद लगभग 3 सप्ताह में नियमित रूप से किश्तों का भुगतान किया गया है। 
  • श्री मोदी ने सॉयल हेल्थ कार्ड, बेहतर बाजारों के लिए ई-नाम और सिंचाई पर नए सिरे से ध्यान केंद्रित करने जैसी किसान कल्याण की दिशा में विभिन्न पहल शुरू की। 
  • 30 मई 2019 को प्रधानमंत्री ने जल संसाधनों से संबंधित सभी पहलुओं की देखरेख करने के लिए एक नया जल शक्ति मंत्रालय बनाकर एक बड़ा वादा पूरा किया।
  • 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की जयंती पर प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे देश में स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए ‘स्वच्छ भारत मिशन’ शुरू किया। इस जन आंदोलन का बड़े पैमाने पर ऐतिहासिक प्रभाव पड़ा है। 
  • 2014 में स्वच्छता कवरेज 38% थी जो आज बढ़कर 99% हो गई है। कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) घोषित किया गया है। स्वच्छ गंगा के लिए पर्याप्त उपाय किए गए हैं।
  •  2017 में संसद के एक ऐतिहासिक सत्र के दौरान भारत सरकार ने जीएसटी लागू किया, जिसने ‘वन नेशन, वन टैक्स’ के सपने को साकार किया।

उनके कार्यकाल में भारत के समृद्ध इतिहास और संस्कृति पर विशेष ध्यान दिया गया। भारत में दुनिया का सबसे बड़ा स्टैच्यू ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ बनाया गया जो सरदार पटेल को एक सच्ची श्रद्धांजलि है। इस स्टैच्यू को एक विशेष जन आंदोलन के माध्यम से बनाया गया था, जिसमें भारत के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के किसानों के औज़ार और मिट्टी का इस्तेमाल किया गया था, जो ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना को दर्शाता है।

प्रधानमंत्री को पर्यावरण से जुड़े मुद्दों से गहरा लगाव है। उन्होंने हमेशा से माना है कि हमें एक साफ और हरा ग्रह बनाने के लिए काम करना चाहिए। गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में श्री मोदी ने जलवायु परिवर्तन के अभिनव समाधान तैयार करने के लिए अलग जलवायु परिवर्तन विभाग बनाया। इस भावना को पेरिस में 2015 के COP21 शिखर सम्मेलन में भी देखा गया था जहां पीएम मोदी ने पर्यावरण से जुड़े मुद्दों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

जलवायु परिवर्तन से एक कदम आगे बढ़कर पीएम मोदी ने जलवायु न्याय के बारे में बात की है। 2018 में अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन के शुभारंभ के लिए कई देशों के राष्ट्राध्यक्ष भारत आए थे। यह गठबंधन एक बेहतर ग्रह के लिए सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने का एक अभिनव प्रयास है।

जलवायु परिवर्तन ने हमारे ग्रह को प्राकृतिक आपदाओं से ग्रस्त कर दिया है, इस तथ्य के प्रति पूरी तरह से संवेदनशील होते हुए श्री मोदी ने प्रौद्योगिकी की शक्ति और मानव संसाधनों की ताकत के उचित इस्तेमाल के रूप में आपदा के लिए एक नया विजन साझा किया है । मुख्यमंत्री के रूप में उन्होंने 26 जनवरी 2001 को विनाशकारी भूकंप से तबाह हुए गुजरात को बदल दिया। इसी तरह उन्होंने गुजरात में बाढ़ और सूखे से निपटने के लिए नई प्रणालियों की शुरुआत की जिनकी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा हुई।

प्रशासनिक सुधारों के माध्यम से श्री मोदी ने नागरिकों के लिए न्याय को हमेशा प्राथमिकता दी है। गुजरात में लोगों की समस्याओं को हल करने के लिए उन्होंने शाम की अदालतों की शुरुआत की। केंद्र में उन्होंने PRAGATI ((प्रो-एक्टिव गवर्नेंस एंड टाइमली इम्प्लीमेंटेशन) शुरू किया जो विकास में देरी कर रहे लंबित परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने के लिए एक कदम है।

श्री मोदी की विदेश नीति की पहल ने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की वास्तविक क्षमता और भूमिका को महसूस किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने सार्क देशों के सभी प्रमुखों की उपस्थिति में अपना पहला कार्यकाल शुरू किया और दूसरे की शुरुआत में बिम्सटेक नेताओं को आमंत्रित किया। संयुक्त राष्ट्र महासभा में उनके संबोधन की दुनिया भर में सराहना हुई। पीएम मोदी 17 साल की लंबी अवधि के बाद नेपाल, 28 साल के बाद ऑस्ट्रेलिया, 31 साल के बाद फिजी और 34 साल के बाद सेशेल्स और यूएई के द्विपक्षीय दौरे पर जाने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री बने। पदभार संभालने के बाद से श्री मोदी ने UN, BRICS, SAARC और G-20 समिट में भाग लिया, जहाँ विभिन्न वैश्विक आर्थिक और राजनीतिक मुद्दों पर भारत के विचारों को व्यापक रूप से सराहा गया।

 

Also See – Aupcharik Patra – Formal Letter in Hindi

 

उपसंहार 

विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों ने इस बात को माना कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत रिकॉर्ड गति से गरीबी को खत्म कर रहा है। इसका श्रेय केंद्र सरकार द्वारा गरीबों के हित को ध्यान में रखते हुए लिए गए विभिन्न फैसलों को जाता है। आज भारत दुनिया के सबसे बड़े स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम आयुष्मान भारत का नेतृत्व कर रहा है। 50 करोड़ से अधिक भारतीयों को कवर करते हुए आयुष्मान भारत गरीब और नव-मध्यम वर्ग को उच्च गुणवत्ता और सस्ती स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित कर रहा है।

दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित स्वास्थ्य पत्रिकाओं में से एक लांसेट ने आयुष्मान भारत की सराहना करते हुए कहा है कि यह योजना भारत में स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े असंतोष को दूर कर रही है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने स्वच्छ भारत मिशन की सराहना की और कहा कि इससे 3 लाख लोगों की जान बच सकती है।