फिट इंडिया पर निबंध

 

Hindi Essay Writing – फिट इंडिया (Fit India) 

 

 
 

फिट इंडिया पर निबंध इस लेख हम स्टार्टअप इंडिया क्या है? फीट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत , विशेषताएं , फिट इंडिया अभियान की आवश्यकता के बारे में जानेगे |

फिटनेस केवल एक शब्द नहीं है बल्कि यह एक स्वस्थ और समृद्ध जीवन का आवश्यक स्तंभ होता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, स्वास्थ्य सिर्फ रोग या दुर्बलता की अनुपस्थिति ही नहीं बल्कि एक पूर्ण शारीरिक, मानसिक और सामाजिक खुशहाली की स्थिति होती है। एक स्वस्थ व्यक्ति रोजमर्रा की गतिविधियों से निपटने के लिए और किसी भी परिवेश के मुताबिक अपना अनुकूलन करने में सक्षम होता हैं। हिंदी में एक कहावत प्रचलित हैं – पहला सुख निरोगी काया | अतः इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए भारत में फीट इंडिया मूवमेंट की नींव रखी गई | 

 

 

फीट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत

प्रधानमंत्री‌ श्री नरेंद्र मोदी जी ने 29 अगस्त 2019 को राष्ट्रीय खेल दिवस के अवसर पर नई दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में लाखों लोगों की मौजूदगी में फिट इंडिया अभियान की शुरुआत की। प्रधानमंत्री की संकल्पना के अनुरूप राष्ट्रव्यापी फिट इंडिया अभियान का उद्देश्य प्रत्येक भारतीय को रोज़मर्रा के जीवन में फिट रहने के साधारण और आसान तरीके शामिल करने के लिये प्रेरित करना है। फिट इंडिया, एक मज़बूत और प्रगतिशील भारत की मांग है। अतः सभी को मानसिक एवं शारीरिक रूप से फिट रहने के लिये इस अभियान की अत्यंत आवश्यकता है। यह अभियान एक राष्ट्रीय लक्ष्य के तहत क्रियान्वित किया जाएगा। 
 

 

फीट इंडिया मूवमेंट की विशेषताएं

  • इस कार्यक्रम के तहत खेलों और नृत्य के रूप में भारत की समृद्ध स्वदेशी विरासत का प्रदर्शन किया गया तथा फिटनेस को बढ़ाने पर ज़ोर दिया गया हैं ।
  • राष्ट्रीय स्तर पर फिटनेस के प्रतीक माने जाने वाले कई लोगों को इस फिटनेस अभियान से जोड़ा गया हैं, ताकि वे स्वास्थ्य का प्रचार प्रसार कर सके | इनमें 101 वर्षीय मान कौर जो अभी भी दौड़ सकती हैं, 81 वर्षीय, ऊषा सोमन जो दंड-बैठक कर सकती हैं, और ऐसे ही लगभग 20 फिटनेस के प्रतीक शामिल हैं , जिन्हें फिट जीवन जीने के लिये नागरिकों को प्रेरित करने के उद्देश्य से चुना गया हैं ताकि उन्हें देखकर लोग अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान दें  |
  • ‘फिट इंडिया’ मुहिम के तहत केंद्र सरकार ने देशभर में 12500 आयुष सेंटर बनाने का भी लक्ष्य रखा है, जिनमें से 10 आयुष हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर का हाल ही में उद्घाटन किया गया। इसी साल 4000 आयुष सेंटर भी शुरू हो जाएंगे।
  • सरकार ने 2019 में 2,216 करोड़ रुपये के खेल बजट का प्रावधान किया है जो पिछले साल से कही ज्यादा हैं। सारांशतः यह कहा जा सकता है कि फिट इंडिया मूवमेंट देश के समग्र विकास का मार्ग प्रशस्त करेगा।
  • सरकार इस अभियान को स्वच्छ भारत अभियान की तर्ज पर आगे बढ़ाना चाहती है।

 

 

फिट इंडिया अभियान की आवश्यकता

आज हमारे समाज ने फिटनेस को कम महत्व देकर खुद से दूर कर दिया है। उदाहरण के लिए पहले एक व्यक्ति कई किलोमीटर की दूरी पैदल अथवा साइकिल से तय करता था, लेकिन आज हम मोटरगाडि़यों का प्रयोग आवश्यकता से अधिक कर रहे हैं। ऐसे में फिट इंडिया का महत्व भारत के लिए बढ़ जाता है। आज प्रौद्योगिकी ने हमारी शारीरिक क्षमता कम कर दी है और हमारी फिटनेस की आदत भी छीन ली है। साथ ही हम अपनी परंपरागत कार्यप्रणालियों और जीवनशैली से अनभिज्ञ होते जा रहे हैं, जो हमें स्वस्थ रख सकती हैं। ऐसे में यह मुहिम भारत को अपनी परंपरागत कार्यप्रणालियों और जीवनशैली से जोड़ने का काम करेगी ।

  • ‘फिट इंडिया’ अभियान स्वस्थ भारत की दिशा में काम करने का एक अनोखा और रोमांचक अवसर हो सकता है। इस अभियान के अंतर्गत व्यक्ति और संगठन अपने एवं साथ के अन्य लोगों और संगठन के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए विभिन्न प्रयास कर सकते हैं।
  • आज भारत में, जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां बढ़ रही हैं और उससे हर आयु वर्ग के लोग प्रभावित हो रहे हैं। डायबिटीज और हाइपरटेंशन के मामले बढ़ रहे हैं और यहां तक की बच्चों में भी कई बीमारियां देखने को मिल रही हैं। ‘फिट इंडिया’ अभियान लोगों को इन बीमारियों के चपेट में आने से रोक  सकता  है।
  • भारत में जिन बीमारियों से लोग मौत का शिकार हो रहे हैं, उन पर शारीरिक सक्रियता, व्यायाम, योग आदि से काबू पाया जा सकता है। इन्हीं संभावित बीमारियों और परेशानियों को खत्म करने के लिए शुरू किया गया, फिट इंडिया अभियान नए भारत को फिट बना सकता है।
  • विश्व स्वास्थ्य  संगठन के मुताबिक पौष्टिक भोजन, तंबाकू उत्पादों से दूरी और शारीरिक सक्रियता से दिल की बीमारियों और टाइप-2 मधुमेह से होने वाले असामयिक मृत्यु से बचा जा सकता है। साथ ही यह उपाय गंभीर बीमारियों से होने वाली 40 फीसदी मौतों से भी बचा सकती है। यही वजह है कि सरकार ने देश के नागरिकों को स्वस्थ रखने के लिए फिट इंडिया मुहिम शुरू किया है।
  • फिट इंडिया अभियान भारत के लिए इसलिए भी महत्त्व रखता है क्योंकि यह न सिर्फ संभावित बीमारियों से बल्कि उनके दुष्प्रभावों से भी व्यक्ति को बचा सकता है। साथ ही देश को एक नई ऊँचाई भी प्रदान कर सकता है।
  • गौरतलब है कि आयुष और योग फिट इंडिया मुहिम के दो महत्वपूर्ण स्तंभ हैं। आज योग दुनिया को भारत के साथ जोड़ने का माध्यम बन रहा है।
  • जौ, ज्वार, रागी, कोदो, बाजरा, सांवा, ऐसे अनेक अनाज कभी हमारे खान-पान का हिस्सा हुआ करते थे, लेकिन अब ये सब चीजें हमारी थालियों से गायब हो गई हैं। फिट इंडिया अभियान में इस पर ध्यान दिया जाएगा।
  • ‘स्वस्थ भारत’ का सपना साकार करने के लिए सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति की भी शुरूआत की है। विदित हो कि सरकार का लक्ष्य है कि बड़ी आबादी को सरकारी अस्पताल के जरिए निःशुल्क इलाज की सुविधा मिले।
  • भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण ने ईट राईट इंडिया पहल के तहत ‘स्वस्थ भारत’ यात्रा की शुरूआत की है। इस राष्ट्रीय अभियान के तहत देश भर में उपभोक्ताओं को सुरक्षित व पौष्टिक भोजन, स्वस्थ रहने तथा खाद्य पदार्थों में मिलावट के बारे में जागरूक करने के लिए देश भर में साइकिल रैली का आयोजन किया गया है।
  • खेल से शरीर के समस्त अंगों का बेहतर विकास होता है। बच्चों में प्रतियोगिता की भावना का विकास होता है। साथ ही उसमें धैर्य और रणनीति जैसे कौशल का भी गुण विकसित होता है। ऐसे में आवश्यकता इस बात कि है कि बच्चों के साथ बड़ों को भी आउट डोर और इनडोर खेल खेलना चाहिए।

 

 

उपसंहार

सरकार द्वारा ‘फिट इंडिया अभियान’ का चलाया जाना स्वास्थ्य को लेकर सरकार की गंभीरता को बताता है। दरअसल स्वस्थ भारत ही एक सशक्त भारत का निर्माण कर सकता है। उदाहरण के तौर पर अगर भारतीयों की सेहत में सुधार आ जाए तो भारत की जीडीपी में 1.4% का इजाफा किया जा सकता है। इससे उत्पादकता और प्रति व्यक्ति आय में भी बढ़ोतरी होगी। वहीं सेहत में सुधार होने से बीमारियों पर भी खर्च कम हो जायेगा, नतीजतन सरकार का खर्च बचेगा | जिसका प्रयोग सरकार द्वारा कल्याणकारी व अन्य कार्यों में किया जा सकेगा। अंततः फिट इंडिया को भारत के लिए वर्तमान समय की मांग कहा जा सकता है जिसको सफल बनाने के लिए जरूरी है कि इस अभियान को जन आंदोलन बनाया जाए। सरकार द्वारा शुरू किए गए इस  अभियान को सफल बनाने के लिये आम लोगों की भागीदारी अनिवार्य है।
 

 

Recommended Read –