kavita-ke-bahaane-baat-seedhi-thi-par-summary

 

CBSE Class 12 Hindi Aroh Bhag 2 Book Chapter 3 कविता के बहाने, बात सीधी थी पर Summary, Explanation 

 

इस पोस्ट में हम आपके लिए CBSE Class 12 Hindi Aroh Bhag 2 Book के Chapter 3 में  कुँवर नारायण द्वारा रचित  दो  कविताएँ कविता के बहाने और बात सीधी थी पर का पाठ सार, व्याख्या और  कठिन शब्दों के अर्थ लेकर आए हैं। यह सारांश और व्याख्या आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे आप जान सकते हैं कि इस कविता का विषय क्या है। इसे पढ़कर आपको को मदद मिलेगी ताकि आप इस कविता के बारे में अच्छी तरह से समझ सकें। Kunwar Narayan Poems Kavita ke Bahaane, Baat Seedhi Thi Par Summary, Explanation, Difficult word meanings of CBSE Class 12 Hindi Aroh Bhag-2 Chapter 3.

Also See : कविता के बहाने, बात सीधी थी पर Question Answers | NCERT Solutions Class 12 Chapter 3

कविता के बहाने

 

कविता के बहाने पाठ कविता का सार (Kavita ke Bahaane Summary)

 

कविता के बहाने कविता के कवि कुँवर नारायण हैं। इनकी कविता ‘कविता के बहाने’ उनके ‘इन दिनों’ संग्रह से ली गई है। आज का समय कविता के वजूद को लेकर चिंतित है। कवि को शक है कि आधुनिक यंत्रों के दबाव से कविता का अस्तिव नहीं रहेगा। ऐसे में यह कविता – कविता की अपार संभावनाओं को टटोलने का एक अवसर देती है। कवि कहते हैं कि कविता की उड़ान और चिड़िया की उड़ान एक ही तरह की होती है। मगर दोनों की उड़ान में फर्क केवल इतना हैं कि चिड़िया की उड़ान की एक सीमा होती है। मगर कवि की उड़ान अर्थात भावनाओं व कल्पनाओं की कोई सीमा नहीं होती। चिड़िया कविता की इस उड़ान को नहीं जान सकती क्योंकि कविता कल्पनाओं के पंख लगाकर दूर तक उड़ान भर सकती हैं। और कविता की उड़ान चिड़िया की उड़ान की तरह सीमित न होकर वस्तृत होती है। कविता भी ठीक उसी प्रकार से विकसित होती है, महक बिखेरती हैं, जिस प्रकार एक फूल विकसित होता है अथवा चारों ओर खुशबू बिखेरता हैं। लेकिन फूलों का विकसित होना और खुशबू बिखेरना कुछ ही समय के लिए होता हैं क्योंकि कुछ समय बाद वो मुरझा जाते हैं। परन्तु इसके विपरीत कविता के भावों का प्रभाव अत्यधिक लम्बे समय के लिए होता है जो हमेशा लोगों को प्रभावित करता रहता हैं। इसीलिए कवि कहते हैं कि फूल कभी भी कविता के बिना मुरझाये खिले रहने व खुशबू बिखेरते रहने के राज़ को नहीं समझ सकता हैं। कवि ने बच्चों को और उनके खेल को कविता के समान बताया है। जिस प्रकार खेल खेलते समय बच्चों की कल्पनायें असीमित होते हैं। ठीक उसी प्रकार कवि की कल्पनाऐं भी असीमित होती हैं। जिस प्रकार बच्चे खेल खेलने के लिए किसी के भी घर में चले जाते हैं। यानि उस वक्त वो सब कुछ भूलकर सबको एक कर देते हैं। ठीक उसी प्रकार कविता भी किसी तरह की सीमाओं या बंधन को नहीं जानती। वह भी सभी पर अपना प्रभाव समान रूप से डालती है। यही कारण है की कवि ने बच्चों और कविता की तुलना की है और दोनों को एक समान बताया हैं। क्योंकि दोनों की कल्पनायें असीमित होती हैं और दोनों ही अपने-पराये का भेद नही जानते।

 

 

कविता के बहाने कविता की व्याख्या (Kavita ke Bahaane Explanation)

 

काव्यांश 1-

कविता एक उड़ान हैं चिड़िया के बहाने
कविता की उड़ान भला चिड़िया क्या जाने
बाहर भीतर
इस घर, उस घर
कविता के पंख लगा उड़ने के माने
चिडिया क्या जाने ?

 

कठिन शब्द –

उड़ान – उड़ने की क्रिया या भाव, छलाँग, कुदान, एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचने का भाव
बहाने – टालमटोल, हीला-हवाला, ढब, छल, धोखा, फ़रेब, झूठ बोलना, टालना
माने मायने

 व्याख्या – उपरोक्त पंक्तियों में कवि कहते हैं कि कविता की उड़ान और चिड़िया की उड़ान एक ही तरह की होती है। मगर दोनों की उड़ान में फर्क केवल इतना हैं कि चिड़िया की उड़ान की एक सीमा होती है। मगर कवि की उड़ान अर्थात भावनाओं व कल्पनाओं की कोई सीमा नहीं होती। कहने का तात्पर्य यह है कि कवि अपनी कल्पनाओं के सहारे कहीं भी अर्थात देश और समय की सीमाओं के परे भी अपनी सोच को उड़ा सकता है।

कविता और कवि की उड़ान को चिड़िया कभी नहीं जान सकती क्योंकि चिड़िया एक घर से दूसरे घर के आंगन, छत, पेड़ की डालियों और आसमान में थोड़ी दूर तक अपनी सीमा पर ही उड़ सकती है लेकिन कवि अपनी कविता में कल्पनाओं के पंख लगाकर देश और काल में जहाँ तक जाना चाहे वहाँ तक जा सकता है। क्योंकि कविता की उड़ान विस्तृत होती है। अर्थात उसकी कोई सीमा नहीं होती। इसीलिए कवि कहते हैं कि चिड़िया कविता की इस उड़ान को नहीं जान सकती क्योंकि कविता कल्पनाओं के पंख लगाकर दूर तक उड़ान भर सकती हैं। और कविता की उड़ान चिड़िया की उड़ान की तरह सीमित न होकर वस्तृत होती है।

 

काव्यांश 2-

कविता एक खिलना है फूलों के बहाने
कविता का खिलना भला फूल क्या जाने!
बाहर भीतर
इस घर, उस घर
बिना मुरझाए महकने के माने
फूल क्या जाने?
कविता एक खेल है बच्चों के बहाने
बाहर भीतर
यह घर, वह घर
सब घर एक कर देने के माने
बच्चा ही जाने!


कठिन शब्द –

खिलना – विकसित होना
मुरझाए – उदास होना
महकना – महक देना, ख़ुशबूदार होना, सुंगंधित होना

 व्याख्या उपरोक्त पंक्तियों में कवि कहते हैं कि कविता भी ठीक उसी प्रकार से विकसित होती है, महक बिखेरती हैं, जिस प्रकार एक फूल विकसित होता है अथवा चारों ओर खुशबू बिखेरता हैं। लेकिन फूलों का विकसित होना और खुशबू बिखेरना कुछ ही समय के लिए होता हैं क्योंकि कुछ समय बाद वो मुरझा जाते हैं। परन्तु इसके विपरीत कविता के भावों का प्रभाव अत्यधिक लम्बे समय के लिए होता है जो हमेशा लोगों को प्रभावित करता रहता हैं। इसीलिए कवि कहते हैं कि कविता के विकसित होने का अर्थ फूल कभी नहीं समझ सकता, क्योंकि फूल घर-आंगन, बाग़-बगीचों में खिलते हैं और चारों और खुशबू बिखेरते हैं। लेकिन कुछ समय बाद वे मुरझा जाते हैं। परन्तु इसके विपरीत जब एक कविता विकसित होती है तो वह अपने भावों की खुशबू से हमेशा लोगों के दिलों में खुशबू बिखेरती रहती हैं। कविता का प्रभाव हमेशा बना रहता है। जो कविता में सदैव एक नए पन को बनाये रखता हैं। इसीलिए कवि कहते हैं कि फूल कभी भी कविता के बिना मुरझाये खिले रहने व खुशबू बिखेरते रहने के राज़ को नहीं समझ सकता हैं।

आगे कवि ने बच्चों को और उनके खेल को कविता के समान बताया है। कवि कहते हैं कि जिस प्रकार खेल खेलते समय बच्चों की कल्पनायें असीमित होते हैं। ठीक उसी प्रकार कवि की कल्पनाऐं भी असीमित होती हैं। जिस प्रकार बच्चे खेल खेलने के लिए किसी के भी घर में चले जाते हैं। यानि उस वक्त वो सब कुछ भूलकर सबको एक कर देते हैं। ठीक उसी प्रकार कविता भी किसी तरह की सीमाओं या बंधन को नहीं जानती। वह भी सभी पर अपना प्रभाव समान रूप से डालती है। यही कारण है की कवि ने बच्चों और कविता की तुलना की है और दोनों को एक समान बताया हैं। क्योंकि दोनों की कल्पनायें असीमित होती हैं और दोनों ही अपने-पराये का भेद नही जानते। 

 

बात सीधी थी पर

 

बात सीधी थी पर कविता का सार (Baat Seedhi Thi Par Summary) 

 

“बात सीधी थी पर” कविता के कवि ‘कुँवर नारायण जी’ हैं । यह कविता उनके काव्य संग्रह “कोई दूसरा नहीं” से ली गई है। इस कविता में किसी बात को कहने के लिए भाषा की सहजता व सरलता में जोर दिया गया हैं ताकि कविता या बात के भाव व उद्देश्य श्रोता व् पाठक तक आसानी से पहुंच सके। इस कविता में कवि कहते हैं कि उनकी कविता के भाव बिलकुल सीधे थे जो श्रोताओं और पाठकों को सीधे समझ में आ जाने चाहिए थे। परन्तु भाषा को प्रभावी बनाने के चक्कर में कवि जो बात कविता के माध्यम से कहना चाहते थे, वो बात स्पष्ट नहीं हो पायी जिस कारण लोग कविता के भावों को अच्छी तरह से समझ नहीं पाये। अपनी बात को श्रोताओं और पाठकों तक आसानी से पहुँचाने के लिए उन्होंने भाषा के  शब्दों, वाक्यांशों, वाक्यों आदि को बदल कर आसान किया और तथा शब्दों को उलट-पुलट कर प्रयोग किया। कवि ने पूरी कोशिश की कि या तो इस भाषा के बदलाव से उनके भाव लोगों तक पहुँच जाएं या फिर वह भाषा के इस उलट-फेर के जंजाल से मुक्त हो जाएं, परंतु कवि को इससे कोई भी सफलता नहीं मिली। बात को सही तरीके से कैसे कहा जाय या कैसे लिखा जाए, ताकि वह लोगों की समझ में आसानी से आ सके। इस समस्या को धैर्यपूर्वक समझे बिना कवि कविता के शब्दों को तोड़-मरोड़ कर भाषा को और अधिक जटिल बनाता चला गया। कविता में प्रभावशाली व् जटिल शब्दों के प्रयोग से कविता पढ़ने व् सुनने वाले कवि की प्रशंसा करने लगे क्योंकि कविता देखने व् सुनने में तो प्रभावशाली लग रही थी। परन्तु अंत में वही हुआ जिसका कवि को डर था। भाव स्पष्ट करने के लिए जब कवि ने जोर-जबरदस्ती भाषा में बदलाव किए तो कविता प्रभावहीन व उद्देश्यहीन हो गई और कविता केवल शब्दों के आसपास घूमती नज़र आने लगी। जब कवि हर तरह से बदलाव करने पर भी अपनी बात को स्पष्ट नहीं कर सका तो कवि ने अपनी कविता को उसी तरह छोड़ दिया जिस तरह पेंच को अंत में ठोक दिया जाता है। जिस स्थिति में कवि की कविता थी वह बाहर से देखने पर तो कविता जैसी लगती थी, परंतु उसमें भावों की गहराई नहीं थी, उसके शब्दों में ताकत नहीं थी। अच्छी बात को कहने के लिए और अच्छी कविता को बनाने के लिए सही भाषा व सही शब्दों का, सही बात अथवा भाव से जुड़ना आवश्यक है। तभी उसे समझने में आसानी होगी।

 

बात सीधी थी पर कविता की व्याख्या (Baat Seedhi Thi Par Explanation) 

 

काव्यांश 1-

बात सीधी थी पर एक बार
भाषा के चक्कर में
ज़रा टेढ़ी फंस गई।
उसे पाने की कोशिश में
भाषा को उलटा-पलटा
तोड़ा-मरोड़ा
घुमाया-फिराया
कि बात या तो बने
या फिर भाषा से बाहर आए –
लेकिन इससे भाषा के साथ साथ
बात और भी पेचीदा होती चली गई।

 

कठिन शब्द –

सीधी – सरल, सहज
चक्कर – प्रभाव
टेढ़ा फंसना – बुरा फँसना
पाना – प्राप्त होना, मिलना
भाषा को उलटा-पलटा – अपने अनुसार भाषा में परिवर्तन करना
तोड़ा-मरोड़ा – अपने अनुसार करना या बनाना, काट-छाँट, हेर-फेर
पेचीदा – कठिन, मुश्किल

 व्याख्या उपरोक्त पंक्तियों में कवि कहते हैं कि उनकी कविता के भाव बिलकुल सीधे थे जो श्रोताओं और पाठकों को सीधे समझ में आ जाने चाहिए थे। परन्तु भाषा को प्रभावी बनाने के कारण श्रोता व् पाठक कोई भी उन भावों को अच्छी तरह से समझ नहीं पाये। और कवि ने पाया कि उनकी कविता में भाषा की जटिलता होने के कारण कविता में एक टेढ़ापन आ गया है। कहने का अभिप्राय यह है कि कवि जो बात कविता के माध्यम से कहना चाहते थे , वो बात स्पष्ट नहीं हो पायी जिस कारण लोग कविता के भावों को अच्छी तरह से समझ नहीं पाये। अपनी बात को श्रोताओं और पाठकों तक आसानी से पहुँचाने के लिए कवि ने कविता में थोड़ा बदलाव किया। उन्होंने भाषा के  शब्दों, वाक्यांशों, वाक्यों आदि को बदल कर आसान किया और तथा शब्दों को उलट-पुलट कर प्रयोग किया। उन्होंने अपनी भाषा में इस तरह का बदलाव किया जिससे कविता का भाव लोगों की समझ में सही तरीके से आ सके। कवि ने पूरी कोशिश की कि या तो इस भाषा के बदलाव से उनके भाव लोगों तक पहुँच जाएं या फिर वह भाषा के इस उलट-फेर के जंजाल से मुक्त हो जाएं, परंतु कवि को इससे कोई भी सफलता नहीं मिली। उसकी भाषा के बदलाव के साथ-साथ उनकी बात अथवा भाव और भी अधिक जटिल हो गए। अर्थात उन्हें समझना और भी मुश्किल हो गया।

 

काव्यांश 2-

सारी मुश्किल को धैर्य से समझे बिना
मैं पेंच को खोलने के बजाए
उसे बेतरह कसता चला जा रहा था
क्यों कि इस करतब पर मुझे
साफ़ सुनाई दे रही थी
तमाशबीनों की शाबाशी और वाह वाह।
आखिरकार वही हुआ जिसका मुझे डर था
ज़ोर जबरदस्ती से
बात की चूड़ी मर गई
और वह भाषा में बेकार घूमने लगी!

 

कठिन शब्द –

मुश्किल – कठिन, संकट, विपत्ति
धैर्य – धीरज, चित्त की दृढ़ता, स्थिरता
पेंच – ऐसी कील जिसके आधे भाग पर चूड़ियाँ बनी होती हैं, उलझन
बेतरह – बुरी तरह से, विकट रूप से, असाधारण रूप से
करतब – चमत्कार, कौशल
तमाशबीन – दर्शक, तमाशा देखने वाले
शाबाशी – प्रशंसा, प्रोत्साहन
जबरदस्ती – बलपूर्वक किया गया काम, जुल्म
बेकार – निठल्ला, निकम्मा, बेरोज़गार
चूड़ी मरना – पेंच कसने के लिए बनी चूड़ी का नष्ट होना, कथ्य का मुख्य भाव समाप्त होना

 व्याख्याकवि कहता है कि वह अपनाई सारी समस्या को धीरज से समझे बिना ही, हल ढूँढ़ने की बजाय और अधिक शब्दों के जाल में फैस गया। बात का पेंच खुलने के स्थान पर और टेढ़ा होता गया और कवि उस पेंच को बुरी तरह कसता चला गया। इससे कवि की भाषा और अधिक जटिल हो गई। कहने का अभिप्राय यह है कि जब कवि को समझ में आया कि अपनी भाषा को प्रभावित बनाने के चक्कर में उसने भाषा को जटिल बना दिया है तो इस समस्या को धैर्य पूर्वक हल करने बजाए अनजाने में कवि ने भाषा को और भी अधिक जटिल बना दिया। इसके लिए कवि ने पेंच का उदाहरण देते हुए समझाया कि जिस तरह  दो वस्तुओं को जोड़ने के लिए पेंच में खाँचे होते हैं ताकि वस्तुओं पर पेंच की पकड़ मजबूत हो सके और पेंच को अच्छी तरह से कसने के लिए उसे सही दिशा में धूमाना पढता है क्योंकि गलत दिशा में धुमाने से पेंच कसने के बजाय खुलने लगता है और जबरदस्ती कसने की कोशिश करने पर पेंच के खाँचे खत्म होकर टूट जाते हैं। ठीक यही बात कवि पर भी लागू होती है। बात को सही तरीके से कैसे कहा जाय या कैसे लिखा जाए, ताकि वह लोगों की समझ में आसानी से आ सके। इस समस्या को धैर्यपूर्वक समझे बिना कवि कविता के शब्दों को तोड़-मरोड़ कर भाषा को और अधिक जटिल बनाता चला गया। कविता में प्रभावशाली व् जटिल शब्दों के प्रयोग से तमाशा देखने वाले अर्थात कविता पढ़ने व् सुनने वाले कवि की प्रशंसा करने लगे क्योंकि कविता देखने व् सुनने में तो प्रभावशाली लग रही थी। परन्तु अंत में वही हुआ जिसका कवि को डर था। जटिल भाषा का प्रयोग करने से दिखने व् सुनने में तो कवि की कविता सुंदर तो दिखने लगी परन्तु उसके भाव किसी को भी समझ में नहीं आ रहे थे। और भाव स्पष्ट करने के लिए जब कवि ने जोर-जबरदस्ती भाषा में बदलाव किए तो कविता प्रभावहीन व उद्देश्यहीन हो गई और कविता केवल शब्दों के आसपास घूमती नज़र आने लगी। 


काव्यांश 3-

हार कर मैंने उसे कील की तरह
उसी जगह ठोंक दिया।
ऊपर से ठीकठाक
पर अंदर से
न तो उसमें कसाव था
न ताकत!
बात ने, जो एक शरारती बच्चे की तरह
मुझसे खेल रही थी,
मुझे पसीना पोंछते देखकर पूछा-
“क्या तुमने भाषा को
सहूलियत से बरतना कभी नहीं सीखा?”

 

कठिन शब्द  –

ठोंकना  – किसी चीज को किसी दूसरी चीज के अन्दर गड़ाना, जमाना, धंसाना
कसाव – खिचाव, गहराई
सहूलियत – सहजता, सुविधा
बरतना – व्यवहार में लाना

 व्याख्या उपरोक्त पंक्तियों में कवि कहते हैं कि आखिर में जब कवि अपनी बात अथवा अपने भाव स्पष्ट नहीं कर सका तो उसने अपनी बात को वहीं पर छोड़ दिया जैसे पेंच की चूड़ी समाप्त होने पर उसे कील की तरह ठोंक दिया जाता है। कहने का अभिप्राय यह है कि जब कवि हर तरह से बदलाव करने पर भी अपनी बात को स्पष्ट नहीं कर सका तो कवि ने अपनी कविता को उसी तरह छोड़ दिया जिस तरह पेंच को अंत में ठोक दिया जाता है। जिस स्थिति में कवि की कविता थी वह बाहर से देखने पर तो कविता जैसी लगती थी, परंतु उसमें भावों की गहराई नहीं थी, उसके शब्दों में ताकत नहीं थी। कहने का अर्थ है कि कविता प्रभावशाली नहीं थी। जब कवि अपनी बात स्पष्ट न कर सका तो बात ने एक शरारती बच्चे के समान, पसीना पोंछते कवि से पूछा कि क्या तुमने कभी भाषा को सरलता, सहजता और सुविधा से प्रयोग करना नहीं सीखा है। कहने का अभिप्राय यह है कि अच्छी बात को कहने के लिए और अच्छी कविता को बनाने के लिए सही भाषा व सही शब्दों का, सही बात अथवा भाव से जुड़ना आवश्यक है। तभी उसे समझने में आसानी होगी।

 

Also See : 

Lesson Summary and Explanation

Lesson Question Answers