CBSE Class 10 Geography Chapter 2 Forest and Wildlife Resources Important Question Answers in Hindi

 

Forest and Wildlife Resources Important Questions in Hindi – Here are the important questions in Hindi of 1,3,4 and 5 Marks for CBSE Class 10 Geography Chapter 2Forest and Wildlife Resources (वन और वन्यजीव संसाधन). The important questions we have compiled will help the students to brush up on their knowledge about the subject. Students can practice Class 10 Geography important questions in Hindi to understand the subject better and improve their performance in the board exam.

 

वन और वन्यजीव संसाधन – Forest and wildlife resources Important Question Answers

 

बहु विकल्पीय प्रश्न (01 Mark)

 

1. एशियाई चीता निम्न में से किस प्रकार की प्रजाति से संबंधित है? (सीबीएसई 2012)
(ए) लुप्तप्राय प्रजातियां
(बी) दुर्लभ प्रजातियां
(ग) विलुप्त प्रजाति
(घ) सामान्य प्रजाति
उत्तर: (ग) विलुप्त प्रजाति

2. निम्नलिखित में से कौन सा विलुप्त होने के कगार पर नहीं है? (सीबीएसई 2012)
(क) एशियाई चीता
(बी) ब्लैकबक
(सी) गुलाबी सिर बतख
(डी) माउंटेन बटेर
उत्तर: बी) ब्लैकबक

 
 

3. निम्नलिखित में से किस बाघ अभयारण्य में स्थानीय समुदायों ने वनों के संरक्षण के लिए संघर्ष किया है?
(ए) मानस टाइगर रिजर्व
(बी) पेरियार टाइगर रिजर्व
(सी) सिमलीपाल बायो रिजर्व
(डी) सरिस्का टाइगर रिजर्व
उत्तर: (डी) सरिस्का टाइगर रिजर्व

4. निजी व्यक्तियों और सरकार दोनों से संबंधित वन और बंजर भूमि के रूप में कौन सा वन जाना जाता है?
(ए) पवित्र उपवन
(बी) आरक्षित वन
(सी) संरक्षित वन
(डी) अवर्गीकृत वन
उत्तर: (डी) अवर्गीकृत वन

5. कुछ विशेष क्षेत्रों में पाई जाने वाली प्रजातियां, जो आमतौर पर प्राकृतिक या भौगोलिक बाधाओं से अलग होती हैं, क्या कहलाती हैं?
(ए) कमजोर
(बी) स्थानिक
(सी) विलुप्त
(डी) लुप्तप्राय
उत्तर: (बी) स्थानिक

6. निम्नलिखित में से कौन सी विलुप्त प्रजाति है?
(ए) नीली भेड़
(बी) एशियाई चीता
(सी) काला हिरण
(डी) एशियाई हाथी
उत्तर: (बी) एशियाई चीता

7. निम्नलिखित में से कौन वनों के ह्रास का एक कारण नहीं है?
(ए) खनन
(बी) बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजनाएं
(सी) चराई
(डी) आश्रय बेल्ट का निर्माण
उत्तर: (डी) आश्रय पेटियों का निर्माण

8. निम्नलिखित में से किस राज्य में सबसे ज्यादा बड़े भाग में वन पाए जाते हैं?
(ए) बिहार
(बी) केरल
(सी) मध्य प्रदेश
(डी) उत्तर प्रदेश
उत्तर: (सी) मध्य प्रदेश

9. चिपको आंदोलन का क्या उद्देश्य था?
(ए) मानवाधिकार
(बी) राजनीतिक अधिकार
(सी) कृषि विस्तार
(डी) वन संरक्षण
उत्तर: (डी) वन संरक्षण

10. निम्नलिखित में से किस प्रकार की प्रजाति को विलुप्त प्रजाति के रूप में जाना जाता है?
(ए) प्रजातियां जिनकी जनसंख्या का स्तर सामान्य है
(बी) जिनकी आबादी में गिरावट आई है
(सी) छोटी आबादी वाली प्रजातियां
(डी) प्रजातियां जो नहीं पाई जाती हैं
उत्तर: (डी) प्रजातियां जो नहीं पाई जाती हैं।

11. बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान निम्नलिखित में से किस राज्य में स्थित है?
(ए) गुजरात
(बी) असम
(सी) मध्य प्रदेश
(डी) केरल
उत्तर: (सी) मध्य प्रदेश

Related – Forest and Wildlife Resources Important Question Answers

12. निम्नलिखित में से कौन संवेदनशील प्रजाति से संबंधित है?
(ए) काला हिरन
(बी) मगरमच्छ
(सी) भारतीय राइनो
(डी) नीली भेड़
उत्तर: (डी) नीली भेड़

13. निम्नलिखित में से कौन वनों के ह्रास का एक कारण नहीं है?
(ए) खनन
(बी) बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजनाएं
(सी) चराई
(डी) आश्रय बेल्ट का निर्माण
उत्तर: (डी) आश्रय पेटियों का निर्माण

14. सरिस्का वन्यजीव अभयारण्य किस राज्य में स्थित है?
(ए) राजस्थान
(बी) उत्तर प्रदेश
(सी) गुजरात
(डी) पश्चिम बंगाल
उत्तर: (ए) राजस्थान

15. सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान किस राज्य में स्थित है?
(ए) असम
(बी) पश्चिम बंगाल
(सी) त्रिपुरा
(डी) गुजरात
उत्तर: (बी) पश्चिम बंगाल

16. भारत में वनस्पतियों की कितनी प्रजातियाँ पाई जाती हैं?
(ए) 81000
(बी) 47000
(सी) 15000
(डी) 41000
उत्तर: (बी) 47000

17. निम्नलिखित में से कौन-सा आंदोलन वृक्षों के संरक्षण से संबंधित नहीं है?
(ए) चिपको आंदोलन
(बी) नवदान्य आंदोलन
(सी) प्रोजेक्ट टाइगर
(डी) बीज बचाओ आंदोलन
उत्तर: (सी) प्रोजेक्ट टाइगर

18. बक्सा टाइगर रिजर्व निम्नलिखित में से किस राज्य में स्थित है?
(ए) मध्य प्रदेश
(बी) पश्चिम बंगाल
(सी) गुजरात
(डी) उड़ीसा
उत्तर: (बी) पश्चिम बंगाल

19. प्राकृतिक या भौगोलिक बाधाओं से अलग क्षेत्र में जीवों की कौन सी प्रजाति पाई जाती है?
(ए) दुर्लभ
(बी) विलुप्त
(सी) कमजोर
(डी) स्थानिक
उत्तर: (डी) स्थानिक

20. एशियाई चीता को भारत में कब विलुप्त घोषित किया गया था?
(ए) 1958 . में
(बी) 1989 . में
(सी) 1922 में
(डी) 1952 . में
उत्तर: (डी) 1952 में

21. निम्नलिखित में से कौन-सा एक स्थानिक प्रजाति का उदाहरण है?
(ए) एशियाई हाथी
(बी) गंगा डॉल्फिन
(सी) मिथुन
(डी) एशियाई चीता
उत्तर: (सी) मिथुन

22. भारत में लाल पांडा की सुरक्षा हेतु किस साल नियम कानून बनाए गए?
(ए) 1996
(बी) 1973
(सी) 1995
(डी) 2004
उत्तर: (ए) 1996

23. वन संसाधनों की कमी के लिए निम्नलिखित में से कौन-से दो कारक प्रमुख रूप से जिम्मेदार हैं?
(ए) ईंधन-लकड़ी संग्रह का खनन
(बी) खनन और चराई
(ग) बाढ़ और चराई
(डी) चराई और ईंधन-लकड़ी संग्रह
उत्तर: (घ) चराई और ईंधन-लकड़ी संग्रह

24. निम्नलिखित में से किसको भारत में एक पवित्र वृक्ष नहीं माना जाता है?
(अ) पीपल
(ब) नीम
(ग) बरगद
(घ) आम
उत्तर: (बी) नीम

25. वर्ल्ड वाइल्ड फंड किसका भाग है?
(ए) आईयूसीएन
(बी) यूनाइटेड नेशंस
(सी) डबल्यूएफओ
(डी) इनमें से कोई नहीं
उत्तर:

26. निम्नलिखित में से कौन सा पक्षी ‘क्रिटिकल’ प्रजाति की श्रेणी में नहीं आता है?
(ए) गुलाबी सिर वाली बतख
(ख) मोर
(सी) माउंटेन बटेर
(घ) वन-चित्तीदार उल्लू
उत्तर: (बी) मोर

Related – Forest and Wildlife Resources MCQ Question Answers

27. निम्नलिखित में से कौन पारिस्थितिक तंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है?
(ए) चट्टानें
(बी) सड़कें
(ग) वन
(घ) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: (ग) वन

28. निम्नलिखित में से किस जीव के लिए जैव विविधता बहुत महत्वपूर्ण है?
(ए) पौधे
(बी) केंचुए
(ग) मनुष्य
(घ) एलियंस
उत्तर: (ग) मनुष्य

29. भारत के जंगली वनस्पतियों और स्तनधारियों का कितना प्रतिशत खतरे की सूची में है?
(ए) दर्ज जंगली वनस्पतियों का 10 प्रतिशत और स्तनधारियों का 20 प्रतिशत
(बी) दर्ज जंगली वनस्पतियों का 20 प्रतिशत और स्तनधारियों का 10 प्रतिशत
(ग) वनस्पतियों की खेती की प्रजातियों का 10 प्रतिशत और जानवरों का 20 प्रतिशत
(घ) उपरोक्त में से कोई नहीं ।
उत्तर: (ए) दर्ज जंगली वनस्पतियों का 10 प्रतिशत और स्तनधारियों का 20 प्रतिशत

30. काला हिरण जीवों की निम्नलिखित श्रेणियों में से किस श्रेणी का है?
(ए) विलुप्त प्रजातियां
(बी) दुर्लभ प्रजातियां
(ग) स्थानिक प्रजाति
(डी) लुप्तप्राय प्रजातियां
उत्तर: (घ) लुप्तप्राय प्रजातियां

31. भारत में पाई जाने वाली अनुमानित 47,000 पौधों की प्रजातियों में से लगभग 15,000 फूलों की प्रजातियाँ किस श्रेणी की हैं?
(ए) लुप्तप्राय प्रजातियां
(बी) विलुप्त प्रजातियां
(सी) स्थानिक प्रजातियां
(डी) कमजोर प्रजातियां
उत्तर: (सी) स्थानिक प्रजातियां

32. मौजूदा पौधों और जानवरों की प्रजातियों की विभिन्न श्रेणियों का निर्धारण निम्नलिखित में से किस एजेंसी पर आधारित है?
(ए) राज्य वन विभाग
(बी) प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ (आईयूसीएन)।
(सी) भारतीय वन सर्वेक्षण
(डी) पृथ्वी शिखर सम्मेलन
उत्तर: (बी) प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ (आईयूसीएन)।

33. जानवरों की निम्नलिखित में से कौन सी प्रजाति एक दुर्लभ प्रजाति है?
(ए) जंगली एशियाई भैंस
(बी) गंगा डॉल्फिन
(सी) भारतीय राइनो
(डी) काला हिरण
उत्तर: (ए) जंगली एशियाई भैंस

34. निम्नलिखित में से कौन सी घास की एक प्रजाति है जिसे वनस्पतियों और जीवों की संकटग्रस्त सूची में ‘महत्वपूर्ण’ प्रजाति के रूप में वर्गीकृत किया गया है?
(ए) मधुका इंसिगिन्स
(बी) इमली इंडिका
(सी) हबर्डिया हेप्टान्यूरॉन
(डी) मैंगिफेरा इंडिका
उत्तर: (सी) हबर्डिया हेप्टान्यूरॉन

35. गंगा डॉल्फिन निम्नलिखित में से किस श्रेणी के जीवों से संबंधित है?
(ए) लुप्तप्राय प्रजातियां
(बी) कमजोर प्रजातियां
(सी) दुर्लभ प्रजातियां
(डी) विलुप्त प्रजातियां
उत्तर: (बी) कमजोर प्रजातियां

36. निम्नलिखित में से किस वर्ष में भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम लागू किया गया था?
(ए) 1962
(बी) 1972
(सी) 1992
(डी) 1999
उत्तर: (बी) 1972

37. निम्नलिखित में से किस प्रकार की कृषि के कारण उत्तर-पूर्वी और मध्य भारत में व्यापक पैमाने पर वनों की कटाई और वनों का क्षरण हुआ है?
(ए) वृक्षारोपण
(बी) गहन निर्वाह खेती
(सी) खेती को स्थानांतरित करना
(डी) वाणिज्यिक कृषि
उत्तर: (सी) स्थानांतरित खेती

38. निम्नलिखित में से किस प्रजाति को 1952 में बहुत पहले भारत में विलुप्त घोषित कर दिया गया था?
(ए) तेंदुआ
(बी) गंगा डॉल्फिन
(सी) काला हिरण
(डी) एशियाई चीता
उत्तर: (d) एशियाई चीता

39. मुख्य रूप से निम्नलिखित में से किस कारण से मध्य प्रदेश में वनों की सफाई अभी भी जारी है?
(ए) डोलोमाइट खनन
(बी) वाणिज्यिक वृक्षारोपण
(सी) औद्योगीकरण और शहरीकरण
(डी) नर्मदा सागर (नदी घाटी) परियोजना
उत्तर: (डी) नर्मदा सागर (नदी घाटी) परियोजना

40. निम्नलिखित में से कौन भारत के वनों और वन्यजीव संसाधनों के प्रबंधन का प्रभारी है?
(ए) विश्व वन्यजीव फाउंडेशन
(बी) भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण
(सी) वन विभाग
(डी) गैर सरकारी संगठन
उत्तर: (सी) वन विभाग

41. हिमालयन यू क्या है?
(ए) एक प्रकार का हिरण
(बी) एक औषधीय पौधा
(सी) पक्षी की एक प्रजाति
(डी) हिमालय में उगाई जाने वाली एक खाद्य फसल
उत्तर: (बी) एक औषधीय पौधा

42. निम्नलिखित में से किस वर्ष में ‘प्रोजेक्ट टाइगर’ शुरू किया गया था?
(ए) 1951
(बी) 1973
(सी) 1993
(डी) 2009
उत्तर: (बी) 1973

43. निम्नलिखित में से किस राज्य में, इसके वनों का बहुत अधिक प्रतिशत स्थानीय समुदायों द्वारा प्रबंधित किया जाता है?
(ए) जम्मू और कश्मीर
(बी) अरुणाचल प्रदेश
(सी) आंध्र प्रदेश
(डी) हिमाचल प्रदेश
उत्तर: (बी) अरुणाचल प्रदेश

44. निम्नलिखित में से किस राज्य में स्थायी वनों के अंतर्गत सबसे बड़ा क्षेत्र है?
(ए) जम्मू और कश्मीर
(बी) मध्य प्रदेश
(सी) उत्तराखंड
(डी) महाराष्ट्र
उत्तर: (बी) मध्य प्रदेश

45. निम्नलिखित में से किस प्रजाति को 1991 में पहली बार संरक्षित प्रजातियों की सूची में शामिल किया गया था?
(ए) कीड़े
(बी) मछलियां
(सी) पौधे
(डी) सरीसृप
उत्तर: (सी) पौधे

 

अति लघु उत्तरीय प्रश्न (01 Mark)

 

1.IUCN ने मौजूदा जानवरों को कैसे वर्गीकृत किया है?  [सीबीएसई 2014]

उत्तर: 1. सामान्य प्रजातियां 2. लुप्तप्राय प्रजातियां 3. कमजोर प्रजातियां 4. दुर्लभ प्रजातियां 5. स्थानिक प्रजातियां 6. विलुप्त प्रजातियां। 

 

2. पर्यावरण निम्नीकरण के किन्हीं तीन उदाहरणों की सूची बनाइए जो आपने अपने आस-पास देखे होंगे।  [सीबीएसई 2013]

उत्तर: (i) प्रदूषित हवा और पानी: उद्योग और वाहन हानिकारक गैसें और रसायन छोड़ते हैं जो पानी और हवा के क्षरण के लिए जिम्मेदार हैं।

 (ii) भूमि निम्नीकरण : उर्वरकों और रसायनों के अत्यधिक प्रयोग से भूमि निम्नीकरण हुई है।

 (iii) जैव विविधता का नुकसान: आवास विनाश, शिकार, अवैध शिकार से जैव विविधता में गिरावट आई है।

 

3. जैव विविधता क्या है?

उत्तर: यह पृथ्वी पर रहने वाले पौधों, जानवरों और सूक्ष्मजीवों की सभी किस्मों की प्रजातियों का कुल योग है।

 

4. वनस्पति क्या है?

उत्तर: विशेष क्षेत्र या अवधि के पौधों को वनस्पति कहा जाता है। 

 

5.लेप्चा लोक गीत भारत के किस राज्य से संबंधित हैं?

उत्तर:  लेप्चा लोक गीत पश्चिम बंगाल से संबंधित हैं। 

 

6. “जैविक विविधता की विशाल श्रृंखला के मामले में भारत दुनिया के सबसे अमीर देशों में से एक है”। न्यायोचित ठहराईए।

उत्तर: दुनिया में प्रजातियों की कुल संख्या का लगभग 8% भारत में है।

 

7. आईयूसीएन क्या है?  [सीबीएसई 2013]

उत्तर: आईयूसीएन का पूर्ण रूप प्रकृति और प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए अंतर्राष्ट्रीय संघ है।

 

8. सामान्य प्रजातियां क्या हैं?  [सीबीएसई.2014]

उत्तर: जिन प्रजातियों की जनसंख्या का स्तर उनके जीवित रहने के लिए सामान्य माना जाता है, उन्हें सामान्य प्रजातियों के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

 

9.स्थानिक प्रजातियां क्या हैं?

उत्तर: कुछ विशेष क्षेत्रों में पाई जाने वाली प्रजातियां आमतौर पर प्राकृतिक या भौगोलिक बाधाओं से अलग होती हैं।

 

10. लुप्तप्राय प्रजातियां क्या हैं?

उत्तर: जिन प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा है, उन्हें लुप्तप्राय प्रजाति कहा जाता है।

 

11. कमजोर प्रजातियां क्या हैं?

उत्तर: ऐसी प्रजातियाँ जिनकी जनसंख्या उस स्तर तक गिर गई है जहाँ से निकट भविष्य में उनके लुप्तप्राय श्रेणी में जाने की संभावना है यदि नकारात्मक कारक काम करना जारी रखते हैं। 

 

12. विलुप्त प्रजातियां क्या हैं?

उत्तर: विलुप्त प्रजातियां, वे प्रजातियाँ जो ज्ञात या संभावित क्षेत्रों की खोज के बाद नहीं पाई जाती हैं जहाँ वे हो सकती हैं।

 

13. दुर्लभ प्रजातियों के दो उदाहरण दीजिए?

उत्तर: दुर्लभ प्रजातियों के निम्न उदाहरण है; 

(i) जंगली एशियाई भैंस (ii) होम्बिल

 

14. उस टाइगर रिजर्व का नाम बताइए जिसे डोलोमाइट खनन गतिविधि से गंभीर रूप से खतरा है।

उत्तर: पश्चिम बंगाल में बक्सा टाइगर रिजर्व डोलोमाइट खनन गतिविधि से गंभीर रूप से खतरा है।

 

  1. किसी वन्यजीव संरक्षण कार्यक्रम का उल्लेख करें?

उत्तर: भारतीय वन्यजीव अधिनियम 1972।

 

  1. वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए भारतीय वन्यजीव अधिनियम के तहत उठाए गए किसी एक कदम का उल्लेख करें।

उत्तर: वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए भारतीय वन्यजीव अधिनियम के तहत वन्यजीवों में व्यापार को अवैध घोषित किया गया था।

 

  1. स्थायी वन क्या हैं?

उत्तर: आरक्षित और संरक्षित वन स्थायी वन के रूप में जाने जाते हैं।

 

  1. स्थायी वनों के अंतर्गत किस राज्य का क्षेत्रफल सबसे अधिक है?

उत्तर: स्थायी वनों के अंतर्गत  मध्य प्रदेश का क्षेत्रफल सबसे अधिक है।

 

  1. किन्हीं दो राज्यों के नाम बताइए जिनके वन क्षेत्र में आरक्षित वनों का प्रतिशत बड़ा है।  [सीबीएसई 2014]

उत्तर: जम्मू और कश्मीर और आंध्र प्रदेश के वन क्षेत्र में आरक्षित वनों का प्रतिशत बड़ा है।।

 

  1. किन्हीं दो राज्यों के नाम लिखिए जिनके अधिकांश वन क्षेत्र संरक्षित वनों के अंतर्गत हैं।

उत्तर: पंजाब और हरियाणा के अधिकांश वन क्षेत्र संरक्षित वनों के अंतर्गत हैं।

 

  1. किन्हीं दो राज्यों के नाम बताइए जिनके वन क्षेत्र अवर्गीकृत वनों के अंतर्गत आते हैं।

उत्तर: असम और त्रिपुरा के वन क्षेत्र अवर्गीकृत वनों के अंतर्गत आते हैं।

 

  1. उस राज्य के स्थान का नाम बताइए जहां लोगों ने वन्यजीव संरक्षण अधिनियम का हवाला देकर खनन के खिलाफ लड़ाई लड़ी है।

उत्तर: सरिस्का टाइगर रिजर्व – राजस्थान में जहां लोगों ने वन्यजीव संरक्षण अधिनियम का हवाला देकर खनन के खिलाफ लड़ाई लड़ी है।

 

  1. चिपको आंदोलन क्या है?

उत्तर: यह हिमालय के लोगों द्वारा वनों की कटाई के खिलाफ शुरू किया गया एक आंदोलन था।

 

  1. किन्हीं दो किसानों/नागरिकों के समूह का नाम बताइए जिन्होंने यह दिखाया है कि सिंथेटिक रसायनों के उपयोग के बिना विविध फसल उत्पादन के पर्याप्त स्तर संभव और आर्थिक रूप से व्यवहार्य हैं।

उत्तर: बीज बचाओ आंदोलन और नवदान्य

 

  1. जेएफएम क्या है?

उत्तर: जेएफएम (संयुक्त वन प्रबंधन) स्थानीय समुदायों को शामिल करके अवक्रमित वनों के प्रबंधन और उन्हें पुनर्स्थापित करने के लिए शुरू किया गया एक आंदोलन था।

 

  1. उस राज्य का नाम बताइए जिसने सबसे पहले JFM प्रस्ताव पारित किया था।  [सीबीएसई 2014]

उत्तर: ओडिशा ने सबसे पहले JFM प्रस्ताव पारित किया था। 

 

  1. किन्हीं चार आंदोलनों के नाम बताइए जो स्थानीय समुदायों द्वारा वनों या वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए शुरू किए गए थे।

उत्तर: (ए) चिपको आंदोलन

 (बी) बीज बचाओ आंदोलन

 (सी) नर्मदा बचाओ आंदोलन

 (डी) भैरोदेव डाकव सोनचुरी 

 

  1. विश्व में प्रजातियों की कुल संख्या में भारत का हिस्सा कितना है?

उत्तर:  विश्व में प्रजातियों की कुल संख्या में भारत 8 प्रतिशत का हिस्सेदार है। 

 

  1. किस राज्य का 10% से कम क्षेत्र वनों के अंतर्गत आता है?

उत्तर: दिल्ली और पंजाब में 10% से कम क्षेत्र वनों के अंतर्गत आता है। 

 

  1. उन संरक्षण रणनीतियों के नाम बताइए जिनमें सीधे तौर पर सामुदायिक भागीदारी शामिल है?

उत्तर: संयुक्त वन प्रबंधन, चिपको आंदोलन में सीधे तौर पर सामुदायिक भागीदारी शामिल है। 

 

लघु उत्तरीय प्रश्न (03 Marks)

1.’प्रोजेक्ट टाइगर’ पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।  [सीबीएसई 2010]

उत्तर: प्रोजेक्ट टाइगर 1973 में बंगाल टाइगर की रक्षा के लिए भारत में शुरू की गई एक वन्यजीव संरक्षण परियोजना थी।  भारत में 42 से अधिक बाघ अभयारण्य हैं जो लगभग 37,761 वर्ग किमी के क्षेत्र को कवर करते हैं।

 भारत में चार टाइगर रिजर्व हैं:

 (i) कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान – उत्तराखंड

 (ii) सुंदरबन राष्ट्रीय – पश्चिम बंगाल

 (iii) मानस टाइगर रिजर्व – असम 

  (iv) पेरियार टाइगर रिजर्व – केरल

 

  1. बाघों की आबादी के लिए किन्हीं चार प्रमुख खतरों का उल्लेख करें?  इनके संरक्षण के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयासों की व्याख्या कीजिए।  [सीबीएसई 2013]

उत्तर: बाघों की आबादी के लिए निम्न चार प्रमुख खतरे निम्न हैं-

 (i) व्यापार के लिए अवैध शिकार

 (ii) सिकुड़ते आवास

 (iii) शिकार आधार प्रजातियों का ह्रास

 (iv) बढ़ती मानव जनसंख्या

 (v) बाघ की खाल के व्यापार और संक्रमणकालीन दवाओं में उनकी हड्डियों के उपयोग, विशेष रूप से एशियाई देशों में बाघों की आबादी विलुप्त होने के कगार पर है।

 

इनके संरक्षण के लिए सरकार द्वारा किए गए प्रयास इस प्रकार हैं:

 (i) प्रोजेक्ट टाइगर, दुनिया में एक बहुप्रचारित वन्यजीव अभियान, 1973 में शुरू किया गया था।

 (ii) भारत में 42 बाघ अभ्यारण्य हैं जो 37,761 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैले हुए हैं। 

 (iii) भारत के कुछ टाइगर रिजर्व उत्तराखंड में कॉर्बेट नेशनल पार्क, पश्चिम बंगाल में सुंदरबन नेशनल पार्क आदि हैं।

 

  1. किसी भी देश के वन्यजीव अभ्यारण्य किन मूल्यों को बढ़ावा देते हैं?  [सीबीएसई 2013]

उत्तर: (i) प्राकृतिक विरासत की विविधता और अखंडता को बनाए रखने और बनाए रखने के लिए वन्यजीव अभयारण्यों का गठन किया गया है।

 (ii) वे प्राकृतिक पारिस्थितिकी तंत्र को संरक्षित करने में मदद करते हैं।

 (iii) वे हमें साझा करने का मूल्य सिखाते हैं क्योंकि हम मनुष्य सभी जीवित जीवों के साथ पारिस्थितिक तंत्र का एक जटिल जाल बनाते हैं जिसमें हम केवल एक हिस्सा हैं और अपने अस्तित्व के लिए इस प्रणाली पर बहुत अधिक निर्भर हैं।

 

  1. लुप्तप्राय प्रजातियों और विलुप्त प्रजातियों के बीच किन्हीं तीन अंतरों को उजागर करें।  [सीबीएसई सितंबर 2010]

उत्तर: लुप्तप्राय प्रजातियां

  1. ये ऐसी प्रजातियां हैं जो विलुप्त होने के कगार पर हैं।
  2. ऐसी प्रजातियों का अस्तित्व मुश्किल है यदि उनकी आबादी में गिरावट के कारण नकारात्मक कारक काम करना जारी रखते हैं।
  3. काला हिरण, मगरमच्छ, भारतीय जंगली गधा, शेर की पूंछ वाला मकाक आदि लुप्तप्राय प्रजातियों के उदाहरण हैं।

 

विलुप्त प्रजाति

  1. ये ऐसी प्रजातियां हैं जो ज्ञात या संभावित क्षेत्रों की खोज के बाद नहीं मिलती हैं जहां वे हो सकती हैं।
  2. एक प्रजाति स्थानीय क्षेत्र, क्षेत्र, देश, महाद्वीप या पूरी पृथ्वी से विलुप्त हो सकती है।
  3. एशियाई चीता, गुलाबी सिर वाली बत्तख विलुप्त प्रजातियों के उदाहरण हैं।

 

  1. वन और वन्य जीवन की जैविक हानि सांस्कृतिक विविधता के नुकसान से कैसे संबंधित है?  [सीबीएसई 2010, 2011]

उत्तर: (i) वन और वन्यजीवों के जैविक नुकसान ने कई स्वदेशी और अन्य वन आश्रित समुदायों को हाशिए पर और गरीब बना दिया है, जो भोजन, पेय, दवा, संस्कृति, आध्यात्मिकता आदि के लिए सीधे जंगल और वन्य जीवन के विभिन्न घटकों पर निर्भर हैं।

 (ii) गंभीर सूखे या वनों की कटाई से प्रेरित बाढ़ आदि जैसे गिरावट का अप्रत्यक्ष प्रभाव भी गरीबों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है।  इन मामलों में गरीबी पर्यावरण विनाश का प्रत्यक्ष परिणाम है।

 (iii) वन और वन्य जीवन के जैविक नुकसान के कारण कई आदिवासी समुदाय गायब हो गए हैं।

 

  1. जैव विविधता क्या है? वनोन्मूलन के सामाजिक प्रभाव का उल्लेख कीजिए। [सीबीएसई 2012]

उत्तर: जैव विविधता पृथ्वी पर रहने वाले पौधों, जानवरों और सूक्ष्म जीवों की सभी किस्मों की प्रजातियों का कुल योग है।  इसमें वह आवास भी शामिल है जिसमें वे रहते हैं। कुछ वैज्ञानिकों का अनुमान है कि हमारी पृथ्वी पर 10 मिलियन से अधिक प्रजातियां रहती हैं और कुछ का मानना ​​है कि यह संख्या 100 मिलियन से अधिक हो सकती है।

 

वनोन्मूलन के सामाजिक प्रभाव निम्न हैं; 

  • कई समाजों में, ईंधन, चारा, पानी और अन्य बुनियादी निर्वाह आवश्यकताओं के संग्रह की प्रमुख जिम्मेदारी महिलाओं पर होती है।
  • जैसे-जैसे ये संसाधन समाप्त होते जाते हैं, महिलाओं की मेहनत बढ़ती जाती है और कभी-कभी उन्हें इन संसाधनों को इकट्ठा करने के लिए 10 किमी से अधिक पैदल चलना पड़ता है।

 

  1. भारत में वनों का क्षेत्रफल बढ़ाना क्यों आवश्यक है?  [सीबीएसई 2013]

उत्तर: (i) वन पारिस्थितिक तंत्र में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं क्योंकि ये प्राथमिक उत्पादक हैं जिन पर अन्य सभी जीवित प्राणी निर्भर हैं।

 (ii) कई वन आश्रित समुदाय भोजन, पेय, दवा, संस्कृति, आध्यात्मिकता आदि के लिए सीधे उन पर निर्भर हैं।

 (iii) वन हमें लकड़ी प्रदान करते हैं।

 (iv) वन बांस, ईंधन के लिए लकड़ी, घास, लकड़ी का कोयला, फल, फूल आदि भी प्रदान करते हैं। 

 

  1. सामान्य प्रजातियां क्या हैं? ये लुप्तप्राय प्रजातियों से किस प्रकार भिन्न हैं। उदाहरण दीजिए।

उत्तर: सामान्य प्रजातियाँ वे प्रजातियाँ हैं जिनकी जनसंख्या का स्तर उनके जीवित रहने के लिए सामान्य माना जाता है, जैसे कि मवेशी, साल, देवदार, कृंतक, आदि।

जबकि लुप्तप्राय प्रजातियां वे प्रजातियां हैं जो विलुप्त होने के खतरे में हैं। ऐसी प्रजातियों का अस्तित्व मुश्किल है यदि उनकी आबादी में गिरावट के कारण नकारात्मक कारक काम करना जारी रखते हैं। 

काला हिरन, मगरमच्छ, भारतीय जंगली गधा, भारतीय गैंडा, शेर की पूंछ वाला मकाक आदि लुप्तप्राय प्रजातियों के उदाहरण हैं।

 

  1. संवेदनशील प्रजातियां क्या हैं? उदाहरण दीजिए।  [सीबीएसई सितंबर 2012]

उत्तर: ये वे प्रजातियां हैं जिनकी जनसंख्या में गिरावट आई है, जहां से निकट भविष्य में इसके लुप्तप्राय श्रेणी में जाने की संभावना है यदि नकारात्मक कारक ऐसी प्रजातियों को संचालित करना जारी रखते हैं। ऐसी प्रजातियों के उदाहरण नीली भेड़, एशियाई हाथी, गंगा डॉल्फिन आदि हैं।

 

  1. भारत में आवासों की सुरक्षा में भारतीय वन्यजीव संरक्षण अधिनियम का क्या योगदान रहा है? [सीबीएसई 2010, 2011]

उत्तर: (i) संरक्षित प्रजातियों की अखिल भारतीय सूची प्रकाशित की गई। कार्यक्रम का जोर कुछ लुप्तप्राय प्रजातियों की शेष आबादी को शिकार पर प्रतिबंध लगाने, उनके आवासों को कानूनी संरक्षण देने और वन्यजीवों में व्यापार को प्रतिबंधित करने की ओर था।

(ii) केंद्र सरकार ने विशिष्ट जानवरों की रक्षा के लिए कई परियोजनाओं की भी घोषणा की, जिनमें बाघ, एक सींग वाला गैंडा, कश्मीर हरिण या हंगुल, तीन प्रकार के मगरमच्छ- ताजे पानी के मगरमच्छ, खारे पानी के मगरमच्छ और घड़ियाल शामिल हैं। 

(iii) वन्यजीवों की रक्षा और संरक्षण के लिए कई राष्ट्रीय उद्यान, वन्यजीव अभयारण्य और जैव भंडार स्थापित किए गए थे।

 

  1. स्थानिक व विलुप्त प्रजातियां क्या हैं? उदाहरण दीजिए।

उत्तर: स्थानिक प्रजातियां:  वे प्रजातियाँ जो केवल किसी विशेष क्षेत्र में पाई जाती हैं, आमतौर पर प्राकृतिक या भौगोलिक बाधाओं से अलग होती हैं।  ऐसी प्रजातियों के उदाहरण अंडमान चैती, निकोबार कबूतर, अंडमान जंगली सुअर आदि हैं।

 

विलुप्त प्रजातियां:  ये प्रजातियां जो ज्ञात या संभावित क्षेत्रों की खोज के बाद नहीं मिलती हैं जहां वे हो सकती हैं। ये प्रजातियाँ किसी स्थानीय क्षेत्र, क्षेत्र, देश, महाद्वीप या पूरी पृथ्वी से विलुप्त हो सकती हैं। ऐसी प्रजातियों के उदाहरण एशियाई चीता, गुलाबी सिर वाली बत्तख आदि हैं। 

 

  1. विकसित देशों और अमीर लोगों को पर्यावरण क्षरण का प्रमुख कारक माना जाता है।”  समझाना।

उत्तर: (i) विकसित देश अविकसित या विकासशील देशों की तुलना में अधिक संसाधनों का उपभोग करते हैं। 

उदाहरण: एक औसत अमेरिकी एक औसत सोमालियाई की तुलना में 40 गुना अधिक संसाधनों का उपभोग करता है।

(ii) अमीर वर्ग शायद गरीब वर्ग की तुलना में अधिक पारिस्थितिक क्षति का कारण बनता है क्योंकि अमीरों की ऊर्जा खपत का स्तर गरीबों की तुलना में अधिक है।

(iii) अमीर लोग गैर-नवीकरणीय संसाधनों का बड़े पैमाने पर उपयोग करते हैं।

 

  1. भारत में कितने प्रकार के वनों को वर्गीकृत किया गया है? [सीबीएसई सितंबर 2010]

उत्तर: (i) आरक्षित वन: ये वे वन हैं जो स्थायी रूप से या तो लकड़ी या अन्य वन उपज के उत्पादन के लिए निर्धारित किए जाते हैं और जिनमें चराई और खेती का अधिकार शायद ही कभी दिया जाता है।

 (ii) संरक्षित वन: ये वे वन हैं जिनमें कुछ छोटे प्रतिबंधों के अधीन चराई और खेती के अधिकार की अनुमति है।

 (iii) अवर्गीकृत वन: इनमें बड़े पैमाने पर दुर्गम वन या निर्जन अपशिष्ट शामिल हैं।

 

  1. खनन वनों की कटाई के लिए जिम्मेदार प्रमुख महत्वपूर्ण कारकों में से एक है? 

उत्तर: (i) खनन कार्यों के लिए बड़ी मशीनों, श्रम, सड़कों, रेलवे आदि की आवश्यकता होती है। इन सभी से वनों की कटाई होती है।

 (ii) खनन कार्यों के कारण पश्चिम बंगाल में बक्सर टाइगर रिजर्व गंभीर रूप से खतरे में है।  खनन कार्यों ने रिजर्व और आसपास के क्षेत्र को गंभीर पारिस्थितिक क्षति पहुंचाई है।

 (iii) खनन गतिविधियों ने महान भारतीय हाथियों सहित कई प्रजातियों के प्रवास मार्ग को अवरुद्ध कर दिया है, जिससे उनके प्राकृतिक आवास में बाधा आ रही है।

 

  1. संयुक्त वन प्रबंधन कार्यक्रम के मुख्य उद्देश्य क्या हैं? [सीबीएसई सितंबर 2012, 2014]

उत्तर: संयुक्त वन प्रबंधन कार्यक्रम के मुख्य उद्देश्य निम्न हैं; 

 (i) संयुक्त वन प्रबंधन कार्यक्रम के तहत, स्थानीय समुदायों को अपमानित वनों के प्रबंधन और बहाली में शामिल किया जाता है।

 (ii) संयुक्त वन प्रबंधन कार्यक्रम का प्रमुख उद्देश्य वनों को अतिक्रमण, चराई, चोरी और आग से बचाना और एक अनुमोदित संयुक्त वन प्रबंधन योजना के अनुसार वनों में सुधार करना है।

 (iii) बदले में, इन समुदायों के सदस्य गैर-लकड़ी वन उपज जैसे मध्यस्थ लाभों के हकदार हैं।

 

वैल्यू बेस्ड प्रश्न (04 Marks)

1.कुछ अनुमान बताते हैं कि भारत में दर्ज जंगली वनस्पतियों का कम से कम 10 प्रतिशत और इसके 20 प्रतिशत स्तनधारी खतरे की सूची में हैं। इनमें से कई को अब ‘क्रिटिकल’ के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा, जो कि विलुप्त होने के कगार पर है जैसे चीता, गुलाबी सिर वाली बत्तख, पहाड़ी बटेर, वन स्पॉटेड उल्लू और “मधुकैनसिग्निस” (महुआ की एक जंगली किस्म) और हुबार्डिया हेप्टान्यूरॉन,(घास की एक प्रजाति) जैसे पौधे। वास्तव में, कोई यह नहीं कह सकता कि कितनी प्रजातियां पहले ही खो चुकी हैं। आज, हम केवल बड़े और अधिक दिखाई देने वाले जानवरों और पौधों की बात करते हैं जो विलुप्त हो गए हैं लेकिन कीड़े और पौधों जैसे छोटे जानवरों के बारे में क्या?

 

ए. भारत में कुल कितने प्रतिशत वनस्पति खतरे की सूची में है?

उत्तर: भारत में कम से कम 10 प्रतिशत वनस्पति खतरे की सूची में है। 

 

बी. भारत में कुल कितने प्रतिशत जीवधारी खतरे की सूची में है?

उत्तर: भारत में कुल 20 प्रतिशत स्तनधारी खतरे की सूची में हैं।

 

सी. महुआ की एक जंगली किस्म का नाम लिखिए जो विलुप्त होने की कगार में है?

उत्तर: मधुकैनसिग्निस

 

डी. घास की एक प्रजाति का नाम बताइए जो विलुप्त होने की कगार में है?

उत्तर: हुबार्डिया हेप्टान्यूरॉन। 

 

  1. भारत में वनों की कटाई के आयाम चौंका देने वाले हैं। देश में वन और वृक्ष कवर 79.42 मिलियन हेक्टेयर अनुमानित है,जो कुल भौगोलिक क्षेत्र का 24.16 प्रतिशत है (घने जंगल 12.2 प्रतिशत; खुले जंगल 9.14 प्रतिशत; और मैंग्रोव 0.14 प्रतिशत)। स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट (2015) के अनुसार, 2013 के बाद से घने वन कवर में 3,775 वर्ग किमी की वृद्धि हुई है। हालांकि, वन आवरण में यह स्पष्ट वृद्धि संरक्षण उपायों, प्रबंधन हस्तक्षेपों और वृक्षारोपण आदि के कारण है। 

 

ए. भारत में कुल कितना वन क्षेत्र है?

उत्तर: भारत में कुल 79.42 मिलियन हेक्टेयर अनुमानित है। 

 

बी. भारत का कुल कितना प्रतिशत क्षेत्र वन से घिरा है?

उत्तर: भारत का कुल 24.16 प्रतिशत क्षेत्र वन से घिरा है। 

 

सी. देश में कुल कितने प्रतिशत मैंग्रोव वन हैं?

उत्तर: देश में कुल 0.14 प्रतिशत मैंग्रोव वन हैं। 

 

डी. देश में कुल कितने प्रतिशत घना वन प्रदेश है?

उत्तर: देश में कुल 12.2 प्रतिशत घना वन प्रदेश है। 

 

  1. दुनिया का सबसे तेज़ भूमि स्तनपायी, चीता (एसिनोनिक्स जुबेंटस), बिल्ली परिवार का एक अनूठा और विशिष्ट सदस्य है और 112 किमी की गति से आगे बढ़ सकता है। चीता को अक्सर तेंदुए के लिए गलत माना जाता है। इसके विशिष्ट निशान नाक के प्रत्येक तरफ उसकी आंखों के कोने से उसके मुंह तक लंबी अश्रु के आकार की रेखाएं हैं। 20 वीं शताब्दी से पहले, चीतों को पूरे अफ्रीका और एशिया में व्यापक रूप से वितरित था। 

आज, उपलब्ध आवास और शिकार की गिरावट के कारण एशियाई चीता लगभग विलुप्त हो गया है। इस प्रजाति को 1952 में भारत में विलुप्त घोषित किया गया था। 

 

ए. दुनिया का सबसे तेज़ भूमि स्तनपायी कौन है?

उत्तर: दुनिया का सबसे तेज़ भूमि स्तनपायी, चीता (एसिनोनिक्स जुबेंटस) है। 

 

बी. चीता और तेंदुआ में क्या अंतर है?

उत्तर: चीता और तेंदुआ में निम्न अंतर है; 

  • तेंदुआ के विशिष्ट निशान नाक के प्रत्येक तरफ उसकी आंखों के कोने से उसके मुंह तक लंबी अश्रु के आकार की रेखाएं होती हैं।

 

सी. आज कौन सी प्रजाति का चीता विलुप्त होने की कगार में है? 

उत्तर: एशियाई चीता आज विलुप्त होने की कगार में है। 

 

डी. भारत में एशियाई चीता को कब विलुप्त घोषित किया गया?

उत्तर: एशियाई चीता को 1952 में भारत में विलुप्त घोषित किया गया था। 

 

  1. 1951 और 1980 के बीच, भारतीय वन सर्वेक्षण के अनुसार, 26,200 वर्ग मीटर से अधिक किमी. पूरे भारत में वन क्षेत्र को कृषि भूमि में परिवर्तित कर दिया गया। आदिवासी बेल्ट के पर्याप्त हिस्से, विशेष रूप से उत्तर-पूर्वी और मध्य भारत में, शिफ्टिंग खेती (झूम), एक प्रकार की ‘स्लैश एंड बर्न’ कृषि द्वारा वनों की कटाई या क्षरण किया गया है। 

1951 से, नदी घाटी परियोजनाओं के लिए 5,000 वर्ग किमी से अधिक जंगल को मंजूरी दी गई थी। मध्य प्रदेश में नर्मदा सागर परियोजना जैसी परियोजनाओं के साथ जंगलों को साफ करना अभी भी जारी है, जो 40,000 हेक्टेयर जंगल को जलमग्न कर देगा। वनों की कटाई के पीछे खनन एक और महत्वपूर्ण कारक है। पश्चिम बंगाल में बक्सा टाइगर रिजर्व को चल रहे डोलोमाइट खनन से गंभीर खतरा है। इसने कई प्रजातियों के प्राकृतिक आवास को परेशान किया है और महान भारतीय हाथी सहित कई अन्य लोगों के प्रवास मार्ग को अवरुद्ध कर दिया है। 

 

ए. 1951 और 1980 के बीच कुल कितनी भूमि कृषि में परिवर्तित हुई?

उत्तर: 1951 और 1980 के बीच, भारतीय वन सर्वेक्षण के अनुसार, 26,200 वर्ग मीटर से अधिक किमी. पूरे भारत में वन क्षेत्र को कृषि भूमि में परिवर्तित कर दिया गया। 

 

बी. स्लैश एंड बर्न कृषि द्वारा वनों की कटाई कहां की जाती है?

उत्तर: आदिवासी बेल्ट के पर्याप्त हिस्से, विशेष रूप से उत्तर-पूर्वी और मध्य भारत में, शिफ्टिंग खेती (झूम), एक प्रकार की ‘स्लैश एंड बर्न’ कृषि द्वारा वनों की कटाई या क्षरण किया गया है। 

 

सी. नदी घाटी परियोजनाओं के लिए कितनी भूमि आवंटित की गई?

उत्तर: नदी घाटी परियोजनाओं के लिए 5,000 वर्ग किमी से अधिक जंगल को मंजूरी दी गई थी।

 

डी. बक्सा टाइगर रिजर्व कहां स्थित है?

उत्तर: बक्सा टाइगर रिजर्व पश्चिम बंगाल में स्थित है। 

 

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (05 Marks)

 

1.भारत में ‘भारतीय वन्यजीव संरक्षण अधिनियम’ किस वर्ष लागू किया गया था?  इस कार्यक्रम के मुख्य जोर क्षेत्र का वर्णन करें।  (सीबीएसई 2017)

उत्तर: 1960 और 1970 के दशक में संरक्षणवादियों ने वन्यजीवों की सुरक्षा के लिए कुछ नियमों की मांग की। उनकी मांग को स्वीकार करते हुए, सरकार ने भारतीय वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम 1972 को अधिनियमित किया। इस अधिनियम के तहत, संरक्षित प्रजातियों की एक अखिल भारतीय सूची प्रकाशित की गई थी। कुछ लुप्तप्राय प्रजातियों की शेष आबादी की रक्षा के लिए शिकार पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। वन्यजीवों के व्यापार पर प्रतिबंध लगा दिया गया और वन्यजीवों के आवासों को कानूनी संरक्षण दिया गया।  विभिन्न राज्य सरकारों और केंद्र सरकार द्वारा कई राष्ट्रीय उद्यान और वन्यजीव अभयारण्य स्थापित किए गए थे।

विशिष्ट जानवरों की रक्षा के लिए कई परियोजनाओं की घोषणा की गई, जैसे, प्रोजेक्ट टाइगर। बाघों को विलुप्त होने से बचाने के लिए 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर शुरू किया गया था। 

 

  1. ‘वन और वन्य जीवन जीवन और पर्यावरण की गुणवत्ता के लिए महत्वपूर्ण हैं’।  तीन कारण बताते हुए इस कथन की पुष्टि कीजिए।  (टर्म- I 2016)

उत्तर: वन और वन्य जीवन जीवन और पर्यावरण की गुणवत्ता के लिए महत्वपूर्ण हैं।  ऐसा इसलिए है क्योंकि वनों और वन्यजीवों के विनाश से होता है

(i) सांस्कृतिक विविधता का नुकसान – जंगल में वनस्पतियों और जीवों के नुकसान के अलावा;  विभिन्न वनोपजों पर निर्भर रहने वाले समुदायों को बहुत नुकसान होता है।

(ii) महिलाओं पर प्रभाव – लगभग सभी ग्रामीण समाजों में महिलाएं जलाऊ लकड़ी, चारा और पानी इकट्ठा करने की जिम्मेदारी उठाती हैं।  इन संसाधनों के समाप्त होने से उन्हें अधिक मेहनत करनी पड़ती है और कार्यों में अधिक समय लगता है।  इससे अक्सर उनमें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो जाती हैं।

(iii) गरीबी – जब गरीब आदिवासी आबादी को बुनियादी वस्तुओं की आपूर्ति नहीं मिल पाती है, तो उन्हें पैसे खर्च करके खरीदना पड़ता है जो कि कम आपूर्ति में है।

 

  1. भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए प्रोजेक्ट टाइगर का वर्णन करें।  (सीबीएसई 2016)

उत्तर: भारत में बाघों की आबादी को विलुप्त होने से बचाने के उद्देश्य से उत्तराखंड के कॉर्बेट नेशनल पार्क में 1973 में परियोजना बाघ संरक्षण कार्यक्रम शुरू किया गया था। इस परियोजना का उद्देश्य भारत में बाघों की आबादी के अस्तित्व और रखरखाव को सुनिश्चित करना था। यह पूरी दुनिया में वन्यजीव संरक्षण की सफलता की कहानियों में से एक है। सदी के उस मोड़ पर भारत में बाघों की आबादी का अनुमान 40,000 तक है। इसके बाद, 1972 में पहली बार अखिल भारतीय बाघों की जनगणना की गई, जिसमें केवल 1827 बाघों के अस्तित्व का पता चला। बाघों की आबादी के संरक्षण की परियोजना भारत सरकार द्वारा विश्व वन्यजीव कोष आदि जैसी अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की मदद से शुरू की गई थी। नौ राज्यों में कुल 13,017 किमी 2 के साथ नौ टाइगर रिजर्व को लगभग 300 की बाघ आबादी के साथ अलग रखा गया था।

इस परियोजना की मुख्य उपलब्धियां निवास स्थान और परिणामी क्षेत्रों की उत्कृष्ट वसूली हैं, जो 1972 में 9 रिजर्व में मात्र 268 से 2015 में 27 रिजर्व में 2,226 थी। कुल क्षेत्रफल में से 4,936 किमी 2 के क्षेत्र को कोर जोन मुक्त के रूप में अलग किया गया था। सभी मानवीय हस्तक्षेप से।  इस क्षेत्र में मवेशियों के चरने को रोक दिया गया है और कई गांवों को बाहर कर दिया गया है। 

 

  1. विलुप्त प्रजातियां क्या हैं? भारत की जैव विविधता के भयानक ह्रास का कारण बनने वाले किन्हीं दो कारकों का वर्णन कीजिए।  (2015, 2014)

उत्तर: किसी विशेष जानवर या पौधों की प्रजाति का विलुप्त होना तब होता है जब दुनिया में कहीं भी उस प्रजाति के अधिक व्यक्ति जीवित नहीं होते हैं – प्रजाति मर गई है।  यह विकास का एक स्वाभाविक हिस्सा है।  लेकिन कभी-कभी विलुप्ति सामान्य से बहुत तेज गति से होती है।

 

जैव विविधता का ह्रास के निम्न कारण  है?

 

(ए) कृषि के विकास के लिए जंगलों की कटाई:  इससे निवास स्थान में गिरावट के साथ-साथ जंगली जानवरों का शिकार भी होता है।

(बी) बड़े वन क्षेत्रों को जलमग्न करने वाली नदी जल विकास परियोजनाएं।

(सी) सड़कों और रेलवे नेटवर्क का विकास।

(डी) जंगली जानवरों का शिकार / शिकार।

(ई) अन्य किस्मों की कीमत पर कुछ पेड़ों का वाणिज्यिक रोपण। 

 

  1. भारत में वनस्पतियों और जीवों के ह्रास के लिए उत्तरदायी किन्हीं तीन कारकों की व्याख्या कीजिए। (सीबीएसई 2014)

उत्तर: कुछ प्रमुख कारण हैं जो भारत में वनस्पतियों और जीवों के ह्रास के लिए जिम्मेदार हैं:

 (i) कृषि विस्तार: स्वतंत्रता के बाद कृषि विस्तार वन संसाधनों के ह्रास का प्रमुख कारण बन गया।  1951 और 1980 के बीच, भारतीय वन सर्वेक्षण के अनुसार पूरे भारत में 26,200 वर्ग किमी से अधिक वन क्षेत्र कृषि भूमि में परिवर्तित हो गया था।

 (ii) खनन: यह वनों की कटाई के लिए जिम्मेदार एक अन्य प्रमुख कारक है, उदा।  डोलोमाइट खनन ने पश्चिम बंगाल में बक्सा टाइगर रिजर्व को गंभीर रूप से खतरे में डाल दिया है।  इस चल रहे खनन ने प्राकृतिक आवास को अस्त-व्यस्त कर दिया है और महान भारतीय हाथी के प्रवास मार्ग को अवरुद्ध कर दिया है।

 (iii) बड़े पैमाने पर विकास परियोजनाएं: 1951 से, नदी घाटी परियोजनाओं के लिए 5000 वर्ग किमी से अधिक जंगल को साफ किया गया है। बड़ी पनबिजली परियोजनाओं ने बड़े वन क्षेत्रों को जलमग्न कर दिया है। 

(iv) तेजी से बढ़ती औद्योगिक-शहरी अर्थव्यवस्था: इससे वन-आधारित उत्पाद जैसे रबर, दवाएं, रंग, ईंधन की लकड़ी की भारी खपत होती है।  इससे वन संसाधनों का ह्रास हुआ है। 

 

  1. वनों की कटाई का विरोध करने वाले और स्थानीय समुदायों को शामिल करने वाले दो प्रसिद्ध कार्यक्रमों की व्याख्या कीजिए। (सीबीएसई 2013)

उत्तर: (i) चिपको आंदोलन: यह आंदोलन संरक्षण कार्यक्रम में सामुदायिक भागीदारी का एक अच्छा उदाहरण है।  चिपको आंदोलन एक वन संरक्षण आंदोलन था जहां लोगों ने पेड़ों को काटने से रोकने के लिए उन्हें गले लगा लिया था।

पहला आंदोलन 1730 ईस्वी पूर्व का है जब राजस्थान के खेजरली गाँव में 363 बिश्नोइयों ने खेजड़ी के पेड़ों को बचाने के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी। आधुनिक भारत में, यह 1973 में उत्तराखंड (तब उत्तर प्रदेश में) में शुरू हुआ और दुनिया भर में 133 भविष्य के पर्यावरण आंदोलनों के लिए कई वनों और वन्यजीवों के लिए एक रैली स्थल बन गया।

 

(ii) बीज बचाओ आंदोलन या बीबीए: यह आंदोलन टिहरी गढ़वाल के जरधरगांव में स्वदेशी बीजों और कृषि पद्धतियों के संरक्षण और बढ़ावा देने के लिए शुरू किया गया था।  इसकी जड़ें चिपको आंदोलन में हैं।

किसान और सामाजिक कार्यकर्ता विजय जरधारी ने महसूस किया कि आधुनिक कृषि पारंपरिक खेती को नष्ट कर रही है।  उन्होंने बीबीए का गठन किया। उन्होंने रासायनिक निर्भर बीजों की खेती को बंद करने का फैसला किया। उन्होंने और उनके सहयोगियों ने पारंपरिक किस्मों के बीजों के बारे में पता लगाया। उन्हें चारधान नामक लाल चावल की एक विशिष्ट किस्म के बारे में पता चला। 

थपचिनी, झुमकिया, रिखवा और लाल बासमती अन्य देशी किस्में थीं।

 

  1. भारत में समुदायों ने किस प्रकार वनों और वन्य जीवों का संरक्षण और संरक्षण किया है? (सीबीएसई 2015, 12)

उत्तर:  (i) वनों का संरक्षण भारतीय संस्कृति और लोककथाओं का हिस्सा रहा है और यह प्राचीन काल से ही ग्रामीण समुदायों में प्रचलित है।

 (ii) कई आदिवासी समुदायों और अन्य सरकारी अधिकारियों ने कुछ मान्यताओं के नाम पर वनों और वन्यजीवों के संरक्षण के लिए आवाज उठाई है।

(iii) उदाहरण: राजस्थान में अलवर जिले के पांच गांवों के निवासियों ने 1200 हेक्टेयर भूमि को भैरोदेव डाकव ‘सोनचुरी’ के रूप में किसी के शिकार से वन्यजीवों की सुरक्षा के रूप में घोषित किया है। 

(iv) कुछ समुदायों द्वारा कुछ पेड़ों और जानवरों को पवित्र माना जाता था, जिससे वनों और वन्यजीवों के संरक्षण में मदद मिली। 

उदाहरण:  छोटा नागपुर के मुंडा और संथाल महुआ और कदंब के पेड़ों की पूजा करते हैं।  ओडिशा और बिहार के आदिवासी शादियों के दौरान इमली और आम के पेड़ की पूजा करते हैं।

(v) अन्य वृक्ष जैसे तुलसी, नीम और पीपल को भी पवित्र माना जाता है।  कुछ मंदिरों में मकाक और लंगूर जैसे कुछ जानवर पाए जाते हैं।

(vi) राजस्थान की बिश्नोई जनजातियों ने काले हिरण, नीलगाय और मोर के संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।  इस प्रकार, संरक्षण को समुदाय का एक अनिवार्य हिस्सा माना जाता था और पेड़ों और जानवरों को होने वाले किसी भी नुकसान के गंभीर परिणाम होते थे। 

 

  1. जैव-विविधता क्या है?  मानव जीवन के लिए जैव-विविधता क्यों महत्वपूर्ण है?  विश्लेषण।  (सीबीएसई 2017)

उत्तर: “किसी दिए गए भौगोलिक क्षेत्र में वनस्पतियों और जीवों की विविधता उस क्षेत्र की जैव विविधता कहलाती है।”   

 

जैव विविधता का महत्व:

 

  • जैव विविधता पारिस्थितिकी तंत्र की उत्पादकता को बढ़ाती है जहां प्रत्येक प्रजाति, चाहे वह कितनी भी छोटी क्यों न हो, सभी की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उदाहरण:  बड़ी संख्या में पौधों की प्रजातियों का अर्थ है फसलों की अधिक विविधता। 
  • अधिक प्रजाति विविधता सभी जीवन रूपों के लिए प्राकृतिक स्थिरता सुनिश्चित करती है।  
  • स्वस्थ पारिस्थितिकी तंत्र विभिन्न प्रकार की आपदाओं का बेहतर ढंग से सामना कर सकता है और उनसे उबर सकता है और इसलिए, जब हम इस ग्रह पर हावी हैं, तब भी हमें वन्य जीवन में विविधता को संरक्षित करने की आवश्यकता है।
  • प्रत्येक प्रजाति जीवित रहने के लिए अन्य प्रजातियों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं पर निर्भर करती है। 
  • यह पारस्परिक अस्तित्व पर आधारित एक प्रकार का सहयोग है जो एक संतुलित पारिस्थितिकी तंत्र द्वारा प्रदान किया जाता है। इसीलिए जब पारिस्थितिकी तंत्र में गड़बड़ी होती है तो प्रजातियों का जीवित रहना मुश्किल हो जाता है।

 

  1. देश के वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण के लिए उठाए गए कदमों का वर्णन करें।  (सीबीएसई 2014, 2015)

उत्तर: देश के वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों में शामिल हैं:

 (ए) भारतीय वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 का कार्यान्वयन।

 (बी) वनों की कटाई और वनीकरण कार्यक्रमों को लागू करने पर वांछित नियंत्रण।

(सी) शिकार और अवैध शिकार पर प्रतिबंध लगाने जैसे कानूनों को लाकर और लागू करके जानवरों को कानूनी सुरक्षा प्रदान करना।

 (डी) जनता के बीच वनों और इसके वनस्पतियों और जीवों के मूल्यों के बारे में जागरूकता फैलाना।

 (ई) बायोस्फीयर रिजर्व की स्थापना – भारत में 18 बायोस्फीयर रिजर्व स्थापित किए गए हैं।  अनेक वनस्पति उद्यानों को वित्तीय एवं तकनीकी सहायता प्रदान करना।

 (च) विशिष्ट केंद्रित परियोजनाओं जैसे – प्रोजेक्ट टाइगर, प्रोजेक्ट राइनो, प्रोजेक्ट ग्रेट इंडियन बस्टर्ड और कई अन्य पर्यावरण विकास परियोजनाओं का कार्यान्वयन।  प्राकृतिक विरासत की देखभाल के लिए 103 राष्ट्रीय उद्यान, 530 वन्यजीव अभयारण्य और प्राणी उद्यान (भारत सरकार, जुलाई 2015) स्थापित किए गए हैं। 

 

  1. भारत में पाए जाने वाले विभिन्न प्रकार के पौधों और जानवरों की प्रजातियों का वर्णन करें।  [सीबीएसई 2013]

उत्तर: (i) सामान्य प्रजातियाँ: इनमें वे शामिल हैं जिनकी जनसंख्या का स्तर उनके जीवित रहने के लिए सामान्य माना जाता है, जैसे मवेशी, साल, देवदार, कृंतक आदि।

(ii) लुप्तप्राय प्रजातियाँ: इनमें वे प्रजातियाँ शामिल हैं जो विलुप्त होने के खतरे में हैं।  ऐसी कई प्रजातियां मुश्किल होती हैं यदि उनकी आबादी में गिरावट के कारण नकारात्मक कारक काम करना जारी रखते हैं।  उदाहरण के लिए, काला हिरन, मगरमच्छ, भारतीय जंगली गधा, आदि।

(iii) सुभेद्य प्रजातियाँ : इनमें वे प्रजातियाँ शामिल हैं जिनकी जनसंख्या उस स्तर तक गिर गई है जहाँ से निकट भविष्य में इसके संकटापन्न श्रेणी में जाने की संभावना है यदि नकारात्मक कारक कार्य करना जारी रखते हैं।  उदाहरण के लिए, नीली भेड़, गैंगेटिक डॉल्फ़िन आदि।

(iv) दुर्लभ प्रजातियाँ: वे लुप्तप्राय या कमजोर श्रेणी में आ सकती हैं, उदाहरण के लिए, नीला भालू, जंगली एशियाई भैंस।

(v) स्थानिक प्रजातियाँ: ये कुछ विशेष क्षेत्रों में पाए जाते हैं जो आमतौर पर प्राकृतिक या भौगोलिक बाधाओं से अलग होते हैं। उदाहरण के लिए, अंडमान चैती, निकोबार प्रिगो।