CBSE Class 10 Geography Chapter 4 Agriculture Important Question Answers in Hindi

 Agriculture Important Questions in Hindi – Here are the important questions in Hindi of 1,3,4 and 5 Marks for CBSE Class 10 Geography Chapter 4 Agriculture (कृषि). The important questions we have compiled will help the students to brush up on their knowledge about the subject. Students can practice Class 10 Geography important questions in Hindi to understand the subject better and improve their performance in the board exam.

 

कृषि – Agriculture Important Question Answers

 

 

बहु विकल्पीय प्रश्न (01 Mark)

1. निम्नलिखित में से कौन सी फसल मानसून की शुरुआत के साथ उगाई जाती है और सितंबर-अक्टूबर के महीनों में काटी जाती है? [सीबीएसई 2011]
(ए) रबी
(बी) खरीफ
(सी) ज़दीक
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: बी

2. ‘स्लैश एंड बम’ कृषि एक [सीबीएसई 2011] है
(ए) कृषि को स्थानांतरित करना
(बी) गहन कृषि
(सी) वाणिज्यिक कृषि
(डी) इनमें से कोई नहीं
उत्तर: ए

 
 

3. अंगूर मुख्य रूप से _________ राज्य में उत्पादित होते हैं।
(ए) मेघालय
(बी) हिमाचल प्रदेश
(सी) मिजोरम
(डी) आंध्र प्रदेश
उत्तर: डी

4. भूदान-ग्रामदान आंदोलन किसके द्वारा शुरू किया गया था?
(ए) महात्मा गांधी
(बी) जवाहरलाल नेहरू
(सी) विनोबा भावे
(डी) बाल गंगाधर तिलकी
उत्तर: सी

5. छोटी जोतों को एक बड़े जोत में समूहित करना कहलाता है
(ए) भूमि जोत पर सीलिंग।
(बी) सामूहिकता।
(सी) सहकारी खेती।
(डी) भूमि जोत का समेकन।
उत्तर: डी

6. संतरे का उत्पादन मुख्य रूप से _________ राज्य में होता है।
(ए) मध्य प्रदेश
(बी) महाराष्ट्र
(सी) केरल
(डी) तमिलनाडु
उत्तर: बी

7. गहन निर्वाह खेती _________ के क्षेत्र में की जाती है। [सीबीएसई 2012]
(ए) उच्च जनसंख्या
(बी) कम जनसंख्या
(सी) रेगिस्तान
(डी) घने जंगल
उत्तर: ए

8. व्यावसायिक खेती के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा कथन गलत है?
(ए) मॉडेम इनपुट की भारी खुराक का उपयोग।
(बी) फसल बिक्री के लिए उगाई जाती है।
(सी) परिवार के सदस्य फसल उगाने में शामिल हैं।
(डी) बड़ी भूमि जोत पर अभ्यास किया।
उत्तर: सी

9. निम्नलिखित में से कौन-सी रबी की फसल है? [सीबीएसई 2011]
(एक चावल
(बी) गेहूं
(सी) बजरा
(डी) ज्वार
उत्तर: बी

10. भारत का सबसे बड़ा चाय उत्पादक राज्य है
(ए) कर्नाटक
(बी) असम
(सी) आंध्र प्रदेश
(डी) अरुणाचल प्रदेश
उत्तर: बी

11. आयरन, कैल्शियम, अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों और रौगेज से भरपूर बाजरा का एक प्रकार है
(ए) बजरा
(बी) राजमा
(सी) ज्वार
(डी) रागी
उत्तर: डी

Related Agriculture Important Question Answers

12. फलों और सब्जियों की विशिष्ट खेती कहलाती है
(ए) कृषि
(बी) बागवानी
(सी) रेशम उत्पादन
(डी) मछली पालन
उत्तर: बी

13. पंजाब और हरियाणा में चावल की खेती मुख्यतः किसके कारण होती है?
(ए) सस्ते श्रम की उपलब्धता।
(बी) नहरों, सिंचाई और नलकूपों का विकास।
(सी) उपजाऊ मिट्टी।
(डी) परिवहन नेटवर्क का विकास।
उत्तर: बी

14. रबी की फसल में बोई जाती है
(ए) सर्दी
(बी) गर्मी
(सी) शरद ऋतु
(डी) वसंत
उत्तर: ए

15. निम्नलिखित में से कौन एक कृषि प्रणाली का वर्णन करता है जहां एक बड़े क्षेत्र में एक ही फसल उगाई जाती है? (ए) कृषि को स्थानांतरित करना
(बी) वृक्षारोपण कृषि
(सी) बागवानी
(डी) गहन कृषि
उत्तर: बी

16. निम्नलिखित में से कौन-सी रबी की फसल है?
(ए) चावल
(बी) बाजरा
(सी) ग्राम
(डी) कपास
उत्तर: बी

17. निम्नलिखित में से कौन-सी एक दलहनी फसल है?
(ए) दालें
(बी) जवार
(सी) बाजरा
(डी) तिल
उत्तर: ए

18. सरकार द्वारा फसल के समर्थन में निम्नलिखित में से किसकी घोषणा की जाती है?
(ए) अधिकतम समर्थन मूल्य
(बी) न्यूनतम समर्थन मूल्य
(सी) मध्यम समर्थन मूल्य
(डी) प्रभावशाली समर्थन मूल्य
उत्तर: बी

19. आदिम निर्वाह खेती के रूप में भी जाना जाता है:
(ए) मिश्रित खेती
(बी) सहकारी खेती
(सी) स्लैश और बम कृषि
(डी) वाणिज्यिक खेती
उत्तर: सी

20. वृक्षारोपण कृषि एक प्रकार है:
(ए) निर्वाह खेती
(बी) वाणिज्यिक खेती
(सी) मिश्रित खेती
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: बी

21. निम्नलिखित में से कौन वृक्षारोपण खेती के बारे में सही नहीं है?
(ए) इस प्रकार की खेती में, एक बड़े क्षेत्र में एक ही फसल उगाई जाती है।
(बी) वृक्षारोपण में कृषि और उद्योग का एक इंटरफेस है।
(सी) वृक्षारोपण भूमि के बड़े भूभाग को सम्पदा कहते हैं।
(डी) किसान अनाज और अन्य खाद्य फसलों का उत्पादन करने के लिए पेड़ों को काटकर और जलाकर भूमि का एक टुकड़ा साफ करते हैं।
उत्तर: डी

22. निम्नलिखित में से कौन रोपण फसलें हैं?
(ए) चावल और मक्का
(बी) गेहूं और दालें
(सी) चाय, कॉफी, केला और गन्ना
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: सी

23. भारत के तीन प्रमुख फसल मौसम हैं:
(ए) औस, अमन और बोरोस
(बी) रबी, खरीफ और जैदी
(सी) बैसाख, पॉस और चैतो
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: बी

24. रबी की फसलें हैं:
(ए) सर्दियों में बोया जाता है और गर्मियों में काटा जाता है
(बी) बरसात के मौसम में बोया जाता है और सर्दियों में काटा जाता है
(सी) गर्मियों में बोया जाता है और सर्दी में काटा जाता है
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: ए

25. खरीफ फसलें उगाई जाती हैं:
(ए) मानसून की शुरुआत के साथ और सितंबर-अक्टूबर में काटा जाता है
(बी) सर्दियों की शुरुआत के साथ और गर्मियों में काटा जाता है
(सी) शरद ऋतु की शुरुआत के साथ और गर्मियों में काटा जाता है
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: ए

26. खरीफ मौसम की प्रमुख खाद्य फसल है :
(ए) सरसों
(बी) दालें
(सी) चावल
(डी) गेहूं
उत्तर: सी

RelatedAgriculture  MCQ Question Answers

27. रबी मौसम की प्रमुख खाद्य फसल है:
(ए) गेहूं
(बी) चावल
(सी) मक्का
(डी) ज्वार
उत्तर: ए

28. रबी और खरीफ मौसम के बीच के एक छोटे मौसम को कहा जाता है:
(ए) औसु
(बी) बोरो
(सी) ज़ैद
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: सी

29. हमारे देश की महत्वपूर्ण अखाद्य फसलें हैं:
(ए) चाय और कॉफी
(बी) बाजरा और दालें
(सी) कपास और जूट
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: सी

30. देश के पूर्वी और दक्षिणी भाग की मुख्य खाद्य फसल कौन सी है?
(ए) चावल
(बी) गेहूं
(सी) मक्का
(डी) गन्ना
उत्तर: ए

31. गेहूँ उगाने वाले दो प्रमुख क्षेत्र हैं:
(ए) गंगा-सतलज मैदान और दक्कन जाल
(बी) उत्तर-पूर्वी भाग और पूर्वी-तटीय मैदान
(सी) दक्कन पठार और कोंकण तट
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: ए

32. गेहूँ को वार्षिक वर्षा की आवश्यकता होती है:
(ए) 50 और 75 सेमी
(बी) लगभग 200 सेमी
(सी) 200 और 300 सेमी
(डी) 20 सेमी . से कम
उत्तर: ए

33. हमारे देश की तीसरी सबसे महत्वपूर्ण खाद्य फसल है:
(एक चावल
(बी) गेहूं
(सी) ज्वार
(डी) रागी
उत्तर: सी

34. बाजरा का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य कौन सा है?
(ए) राजस्थान
(बी) महाराष्ट्र
(सी) गुजरात
(डी) हरियाणा
उत्तर: ए

35. मक्का की वृद्धि के लिए सही स्थिति कौन सी है?
(ए) 21 डिग्री सेल्सियस से 27 डिग्री सेल्सियस और पुरानी जलोढ़ मिट्टी के बीच का तापमान
(बी) 17 डिग्री सेल्सियस से नीचे का तापमान और उथली काली मिट्टी
(सी) 25 डिग्री सेल्सियस का तापमान और 200 सेमी वर्षा
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: ए

36. शाकाहारी भोजन में निम्नलिखित में से कौन सी फसल प्रोटीन का प्रमुख स्रोत है?
(ए) गेहूं
(बी) चावल
(सी) दालें
(डी) तिलहन
उत्तर: सी

37. निम्नलिखित में से कौन सा दालों के लिए सही नहीं है?
(ए) दालें रबी और खरीफ दोनों मौसमों में उगाई जाती हैं
(बी) दलहन फलीदार फसलें हैं
(सी) वे अन्य फसलों के साथ रोटेशन में उगाए जाते हैं
(डी) दालों को गहन सिंचाई सुविधाओं की आवश्यकता होती है
उत्तर: डी

38. गन्ने की वृद्धि के लिए आदर्श स्थिति कौन सी है?
(ए) 21 डिग्री सेल्सियस से 27 डिग्री सेल्सियस का तापमान और 75 सेमी और 100 सेमी . के बीच वार्षिक वर्षा
(बी) तापमान 17 डिग्री सेल्सियस से नीचे और 50 से 75 सेमी वर्षा
(सी) 25 डिग्री सेल्सियस का तापमान और 200 सेमी वर्षा
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: ए

39. हमारे फसल क्षेत्र का कितना प्रतिशत तिलहन से आच्छादित है?
(ए) 21
(बी) 12
(सी) 2
(डी) 4
उत्तर: बी

40. निम्नलिखित में से कौन सी स्थिति चाय की फसल को खराब कर सकती है?
(ए) साल भर में समान रूप से वितरित बार-बार बारिश
(बी) फ्रॉस्ट मुक्त जलवायु
(सी) गहरी उपजाऊ अच्छी जल निकासी वाली मिट्टी
(डी) मिट्टी की मिट्टी जिसमें उच्च जल धारण क्षमता होती है
उत्तर: डी

41. कॉफी की खेती सबसे पहले शुरू की गई थी:
(ए) हिमालय
(बी) अरावली हिल्स
(सी) गारो हिल्स
(डी) बाबा बुदन हिल्स
उत्तर: डी

42. निम्नलिखित में से कौन सी फसल ऑटोमोबाइल उद्योग के लिए एक महत्वपूर्ण कच्चा माल है?
(ए) दालें
(बी) रागी
(सी) रबड़
(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं
उत्तर: सी

43. रेशम के रेशे के उत्पादन के लिए रेशम के कीड़ों को पालने के रूप में जाना जाता है:
(ए) रेशम उत्पादन
(बी) एक्वाकल्चर
(सी) एपकल्चर
(डी) मछली पालन
उत्तर: ए

44. निम्नलिखित में से किसे गोल्डन फाइबर के रूप में जाना जाता है?
(ए) कपास
(बी) जूट
(सी) गांजा
(डी) रेशम
उत्तर: बी

 

अति लघु उत्तरीय प्रश्न (01 Mark)

1. कृषि क्या है?
उत्तर: मिट्टी की खेती, फसल उगाने और पशुपालन और वानिकी सहित पशुधन पालन की कला और विज्ञान।

2. भारत में प्रचलित किन्हीं दो कृषि प्रणालियों (कृषि प्रकार) के नाम लिखिए।
उत्तर: भारत में प्रचलित दो कृषि प्रणालियां निम्न हैं;
(ए) आदिम निर्वाह (बी) वाणिज्यिक खेती।

3. भारत द्वारा निर्यात किए जाने वाले किन्हीं चार कृषि उत्पादों के नाम लिखिए।
उत्तर: (ए) चाय
(बी) कॉफी
(सी) मसाले
(डी) जूट

4. आदिम निर्वाह खेती क्या है [सीबीएसई 2014]
उत्तर: यह एक प्रकार की कृषि/खेती है जो भूमि के छोटे-छोटे टुकड़ों पर कुदाल, दोआ, खुदाई की छड़ें और परिवार/सामुदायिक श्रम जैसे आदिम औजारों की सहायता से की जाती है।

5. स्लैश एंड बर्न कृषि क्या है
उत्तर: स्लेश एंड बर्न कृषि के तहत, किसान अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए जमीन के एक हिस्से को साफ करते हैं और अनाज और अन्य खाद्य फसलों का उत्पादन करते हैं।

6. आदिम औजारों की सहायता से भूमि के छोटे-छोटे टुकड़ों पर किस प्रकार की कृषि की जाती है?
उत्तर: आदिम औजारों की सहायता से भूमि के छोटे-छोटे टुकड़ों पर आदिम निर्वाह खेती की कृषि की जाती है।

7. गहन निर्वाह खेती क्या है
उत्तर: यह एक प्रकार की खेती है जो आधुनिक इनपुट का उपयोग करके जनसंख्या के उच्च घनत्व वाले क्षेत्रों में की जाती है

8. किन्हीं दो राज्यों के नाम बताइए जहाँ वाणिज्यिक खेती की जाती है।
उत्तर: पंजाब और हरियाणा में वाणिज्यिक खेती की जाती है।

9. भारत में उत्पादित किन्हीं चार वृक्षारोपण फसलों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर: चाय, कॉफी, रबड़ और गन्ना।

10. किन्हीं दो कारकों का उल्लेख कीजिए जो वृक्षारोपण के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
उत्तर: (i) वृक्षारोपण क्षेत्रों को जोड़ने वाले परिवहन और संचार का विकसित नेटवर्क।
(ii) विकसित बाजार।

11. उदाहरण सहित भारत की फसल ऋतुओं के नाम लिखिए।
उत्तर: (i) रबी – गेहूँ
(ii) खरीफ – धान
(iii) ज़ैद – तरबूज

12. रबी की फसलें क्या हैं चार उदाहरण दीजिए।
उत्तर: वह फसलें जो सर्दियों में अक्टूबर से दिसंबर तक उगाई जाती हैं और गर्मियों में अप्रैल से जून तक काटी जाती हैं। गेहूं, जौ, मटर, चना रबी फसलों के कुछ उदाहरण हैं।

13. खरीफ फसल की अवधि क्या है [सीबीएसई 2014]
उत्तर: खरीफ का मौसम मानसून की शुरुआत के साथ शुरू होता है, यानी जून-जुलाई और सर्दियों की शुरुआत यानी अक्टूबर-नवंबर तक जारी रहता है। उदाहरण के लिए चावल, बाजरा आदि।

14. जायद फसलें क्या हैं?
उत्तर: ये वे फसलें हैं जो रबी और खरीफ फसलों के बीच बोई जाती हैं। तरबूज, खरबूजा, खीरा और सब्जियां जायद फसलों के कुछ उदाहरण हैं।

15. रबी फसलों की सफलता के लिए उत्तरदायी किन्हीं दो महत्वपूर्ण कारकों का उल्लेख कीजिए।
उत्तर: (i) पश्चिमी शीतोष्ण चक्रवात के कारण सर्दियों के महीनों में वर्षा की उपलब्धता।
(ii) पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हरित क्रांति की सफलता।

16. किन्हीं चार राज्यों के नाम बताइए जो खरीफ फसलों के प्रमुख उत्पादक हैं।
उत्तर: (ए) असम (बी) पश्चिम बंगाल (सी) आंध्र प्रदेश (डी) तमिलनाडु खरीफ फसलों के प्रमुख उत्पादक हैं।

17. किन्हीं दो खरीफ फसलों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 2014]
उत्तर: चावल, बाजरा।

18. ऐसे किन्हीं दो राज्यों के नाम बताइए जहां एक वर्ष में धान की तीन फसलें उगाई जाती हैं।
उत्तर: असम और पश्चिम बंगाल में एक वर्ष में धान की तीन फसलें उगाई जाती हैं।।

19. भारत में अधिकांश लोगों की मुख्य फसल कौन सी है।
उत्तर: भारत में अधिकांश लोगों की मुख्य फसल चावल है।

20. विश्व में चावल का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौन-सा है?
उत्तर: विश्व में चावल का सबसे बड़ा उत्पादक देश चीन है।

21. पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश जैसे कम वर्षा वाले क्षेत्रों में चावल उगाना संभव बनाने वाले किन्हीं दो कारकों का उल्लेख करें।
उत्तर: (i) नहर सिंचाई के घने नेटवर्क का विकास।
(ii) आधुनिक इनपुट जैसे उर्वरक, कीटनाशक आदि।

22. भारत में गेहूँ उगाने वाले दो महत्वपूर्ण क्षेत्र कौन-से हैं?
उत्तर: (i) गंगा-सतलुज के मैदान।
(ii) दक्कन का उत्तर-पश्चिम और काली मिट्टी का क्षेत्र। –

23. भारत के दो सबसे महत्वपूर्ण गेहूँ उत्पादक राज्यों के नाम बताइए।
उत्तर: भारत के दो सबसे महत्वपूर्ण गेहूँ उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश और पंजाब हैं।

24. भारत के प्रमुख बाजरा के नाम लिखिए।
उत्तर: (ए) ज्वार (बी) बाजरा (सी) रागी (डी) मक्का

25. भारत में चावल के प्रमुख उत्पादक राज्य कौन से हैं?
उत्तर: भारत में चावल के प्रमुख उत्पादक राज्य पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पंजाब और तमिलनाडु हैं।

26. भारत की किन्हीं चार अनाज फसलों के नाम लिखिए।
उत्तर: (ए) गेहूं (बी) चावल (सी) बाजरा (डी) मक्का।

27. उस राज्य का नाम बताइए जो निम्नलिखित बाजरा का प्रमुख उत्पादक है।
(i) ज्वार (ii) बाजरा (ili) रागी
उत्तर: (i) ज्वार – महाराष्ट्र।
(ii) बाजरा – राजस्थान।
(iii) रागी – कामतका

28. बाजरा का क्या महत्व है किन्हीं दो बिंदुओं का उल्लेख कीजिए।
उत्तर: (i) इनका पोषण मूल्य बहुत अधिक होता है।
(ii) मक्का और बाजरा चारे के रूप में प्रयोग किया जाता है।

29. एक बाजरे का नाम बताइए जो वर्षा पर आधारित फसल है, जो ज्यादातर नम क्षेत्रों में उगाई जाती है। उस राज्य का नाम बताइए जो उस फसल का प्रमुख उत्पादक है।
उत्तर: ज्वार वर्षा पर आधारित फसल है, जो ज्यादातर नम क्षेत्रों में उगाई जाती है। महाराष्ट्र ज्वार का सबसे बड़ा उत्पादक है।

30. एक ऐसे बाजरा का नाम बताइए जिसका उपयोग भोजन और चारे दोनों के रूप में किया जाता है।
उत्तर: मक्का का उपयोग भोजन और चारे दोनों के रूप में किया जाता है।

31. उन राज्यों के नाम बताइए जो मक्का के प्रमुख उत्पादक हैं।
उत्तर: कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार और आंध्र प्रदेश मक्का के प्रमुख उत्पादक हैं।

32. विश्व में दालों का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौन-सा है?
उत्तर: विश्व में दालों का सबसे बड़ा उत्पादक देश भारत है।

33. भारत की प्रमुख दालों के नाम लिखिए।
उत्तर: अरहर, मूंग, मसूर, मटर और चना।

34. दालों का उत्पादन क्यों बढ़ाया जाना चाहिए इसके दो कारण बताइए। [सीबीएसई 2014]
उत्तर: (i) अधिकांश लोगों के लिए ये प्रोटीन के प्रमुख स्रोत हैं।
(ii) ये पौधे मिट्टी की उर्वरता को बहाल करने में मदद करते हैं।

35. दलहनों को चक्रीय फसल के रूप में क्यों उगाया जाता है? दो कारण दीजिए।
उत्तर: (i) दलहनों को चक्रीय फसल के रूप में उगाया जाता है क्योंकि इनमें मिट्टी में वायुमंडलीय नाइट्रोजन को नाइट्रोजनयुक्त यौगिक में स्थिर करने की क्षमता होती है। ये मिट्टी की उर्वरता को बनाए रखने या बहाल करने में मदद करते हैं।
(ii) इन्हें कम नमी की आवश्यकता होती है और शुष्क परिस्थितियों में भी जीवित रहते हैं।

36. भारत के सबसे महत्वपूर्ण दलहन उत्पादक राज्यों के नाम बताइए।
उत्तर: भारत के सबसे महत्वपूर्ण दलहन उत्पादक राज्य निम्न हैं; (ए) मध्य प्रदेश (बी) यूपी (सी) राजस्थान (डी) महाराष्ट्र

37. विश्व में गन्ने का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौन-सा है?
उत्तर: विश्व में गन्ने का सबसे बड़ा उत्पादक देश ब्राजील है।

38. भारत के प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्य कौन से हैं?
उत्तर: भारत के प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्य यूपी, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश है।

39. चीनी उद्योग के उप उत्पादों के नाम लिखिए।
उत्तर: गुड़, खांडसारी और गुड़ चीनी उद्योग के उप उत्पाद हैं।

40. विश्व में तिलहन का सबसे बड़ा उत्पादक देश कौन-सा है?
उत्तर: विश्व में तिलहन का सबसे बड़ा उत्पादक देश भारत है।

41. भारत के कुछ प्रमुख तिलहनों के नाम लिखिए।
उत्तर: मूंगफली, तिल, रेपसीड, सरसों और अलसी।

42. भारत का सबसे महत्वपूर्ण तिलहन कौन सा है उस राज्य का नाम बताइए जो उस तिलहन का सबसे बड़ा उत्पादक है।
उत्तर: भारत का सबसे महत्वपूर्ण तिलहन मूंगफली है। आंध्र प्रदेश प्रमुख उत्पादक है।

43. एक दलहनी फसल का नाम बताइए जो खरीफ और रबी दोनों फसल के रूप में उगाई जाती है।
उत्तर: कैस्टर खरीफ और रबी दोनों फसल के रूप में उगाई जाती है।

44. एक तिलहन का नाम बताइए जो उत्तर में खरीफ फसल और दक्षिण में रबी फसल के रूप में उगाया जाता है।
उत्तर: तिल उत्तर में खरीफ फसल और दक्षिण में रबी फसल के रूप में उगाया जाता है।

45. किन्हीं चार रोपण फसलों के नाम लिखिए।
उत्तर: (ए) रबड़ (बी) चाय (सी) कॉफी (डी) नारियल

46. ​​प्रमुख उत्पादकों सहित भारत की किन्हीं दो प्रमुख पेय फसलों के नाम लिखिए।
उत्तर: चाय – असम; कॉफी – तमिलनाडु

47. चाय की खेती के लिए उच्च आर्द्रता क्यों
अच्छी है।?
उत्तर: उच्च आर्द्रता कोमल पत्तियों के विकास में मदद करती है।

48. भारत के प्रमुख चाय उत्पादक राज्य कौन से हैं
उत्तर: असम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और केरल भारत के प्रमुख चाय उत्पादक राज्य ।

49. भारत में उत्पादित कॉफी की एक किस्म का नाम बताइए।
उत्तर: अरेबिका किस्म शुरू में यमन से लाई गई थी।

50. बागवानी क्या है?
उत्तर: सब्जियों, फलों और फूलों की गहन खेती को बागवानी के रूप में जाना जाता है।

51. भारत के रबड़ उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए।
उत्तर: केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक और अंडमान और निकोबार भारत के रबड़ उत्पादक राज्य हैं।

52. भारत की किन्हीं चार रेशेदार फसलों के नाम लिखिए।
उत्तर: कपास, जूट, भांग और प्राकृतिक रेशम भारत की चार प्रमुख रेशेदार फसलें हैं।

53. रेशम उत्पादन क्या है [सीबीएसई 2014]
उत्तर रेशम के रेशे के उत्पादन के लिए रेशमकीटों को पालने को रेशम उत्पादन कहा जाता है।

54. एक रेशेदार फसल का नाम बताइए जो रेशमकीट के कोकून से प्राप्त होती है।
उत्तर: रेशम रेशमकीट के कोकून से प्राप्त होती है।

55. भारत के दो कपास उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 1999]
उत्तर: महाराष्ट्र, गुजरात भारत के दो कपास उत्पादक राज्य हैं।

56. कपास की खेती के लिए कौन सा क्षेत्र आदर्श है?
उत्तर: डेक्कन ट्रैप का काली मिट्टी क्षेत्र कपास की खेती के लिए आदर्श है।

57. उन राज्यों के नाम बताइए जो कपास के प्रमुख उत्पादक हैं।
उत्तर: महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश और कर्नाटक कपास के प्रमुख उत्पादक राज्य हैं।

58. किस फाइबर को गोल्डन फाइबर के रूप में जाना जाता है?
उत्तर: जूट को गोल्डन फाइबर के रूप में जाना जाता है।

59. भारत में जूट के मुख्य उत्पादक राज्य का नाम बताइए।
उत्तर: भारत में जूट के मुख्य उत्पादक राज्य पश्चिम बंगाल है।

60. पैकेज तकनीक क्या है इसका परिणाम क्या था?
उत्तर: पैकेज के तहत कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए कृषि के कई उन्नत तरीकों के संयोजन या पैकेज को एक साथ अपनाया जाता है। यह ‘हरित क्रांति’ की ओर ले जाता है।

62. श्वेत क्रांति क्या है
उत्तर: दूध के उत्पादन में वृद्धि को श्वेत क्रांति के रूप में जाना जाता है। इसे ऑपरेशन फ्लड के नाम से भी जाना जाता है।

63. किसानों के लाभ के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू की गई दो योजनाओं के नाम बताइए।
उत्तर: (i) किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) की शुरुआत की गई, (ii) व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा योजना (PAIS) भी शुरू की गई।

64. ‘जीडीपी में कृषि का गिरना हिस्सा गंभीर चिंता का विषय है’। कारण बताईये।
उत्तर: क्योंकि कृषि में किसी भी गिरावट और ठहराव से अर्थव्यवस्था के अन्य क्षेत्रों में गिरावट आएगी, जिसका समाज पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

65. सकल खेती वाला क्षेत्र क्या है
उत्तर: शुद्ध बोया गया क्षेत्र और एक से अधिक बार खेती की गई भूमि, एक साथ सकल खेती योग्य क्षेत्र बनाते हैं।

66. किन्हीं दो शुष्क फसलों के नाम लिखिए
उत्तर: दो शुष्क फसल जवार, बाजरा है।

67. शुष्क भूमि खेती क्या है
उत्तर: यह एक प्रकार की खेती है जो कम वर्षा वाले क्षेत्रों में की जाती है और जहां सिंचाई की सुविधाएं अपर्याप्त होती हैं, जैसे, ज्वार और बाजरा की खेती।

68. आर्द्र भूमि खेती क्या है
उत्तर: यह एक प्रकार की खेती है जो उच्च वर्षा और सिंचित क्षेत्रों, जैसे चावल और गन्ने की खेती में की जाती है।

69. शुद्ध बोया गया क्षेत्र क्या है?
उत्तर: एक वर्ष में खेती की जाने वाली भूमि को शुद्ध बोया गया क्षेत्र कहा जाता है।

70. कपास को छोड़कर दो प्राकृतिक रेशों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 1994]
उत्तर: कपास को छोड़कर दो प्राकृतिक रेशों के नाम निम्न हैं; जूट और सन।

71. किन्हीं चार फसलों के नाम लिखिए जिनकी खेती स्थानान्तरित कृषि के अंतर्गत की जाती है।
उत्तर: (ए) मक्का (बी) बाजरा (सी) सब्जियां (डी) सूखा धान की खेती स्थानान्तरित कृषि के अंतर्गत की जाती है।

72. स्थानांतरित कृषि को हतोत्साहित क्यों किया जाता है
उत्तर: (i) इससे वनों की कटाई होती है।
(ii) प्रति हेक्टेयर उपज बहुत कम है।

73. भारत में कौन से राज्य जूट के प्रमुख उत्पादक हैं?
उत्तर: पश्चिम बंगाल, बिहार, असम, ओडिशा और मेघालय प्रमुख जूट उत्पादक राज्य हैं।

74. किन्हीं तीन नकदी फसलों के नाम लिखिए।
उत्तर: रबर, तंबाकू और कपास तीन नकदी फसल हैं।

75. कृषि की दृष्टि से जलवायु ने किस प्रकार हमारी भूमि को अधिक मूल्यवान बना दिया है, दो बिंदु दीजिए।
उत्तर: (i) व्यापक जलवायु परिवर्तन के कारण सभी प्रकार की फसलें उगाई जा सकती हैं।

76. हरित क्रांति की दो विशेषताओं की सूची बनाएं।
उत्तर: (i) गेहूँ और चावल के उत्पादन में वृद्धि,
(ii) गेहूँ और चावल की अधिक उपज देने वाली किस्मों का उपयोग।

 

लघु उत्तरीय प्रश्न (03 Mark)

 

1.भारतीय अर्थव्यवस्था में कृषि का क्या महत्व है
उत्तर: (i) कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार है क्योंकि हमारी लगभग 60% जनसंख्या प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि पर निर्भर है।
(ii) यह उद्योगों को कच्चा माल उपलब्ध कराता है।
(iii) भारत कृषि उत्पादों के निर्यात से विदेशी मुद्रा अर्जित करता है।
(iv) यह सकल घरेलू उत्पाद में लगभग 29% का योगदान देता है।
(v) यह 1210.2 मिलियन से अधिक आबादी को भोजन प्रदान करता है।

2. देश के कुछ भागों में अभी भी निर्वाह कृषि क्यों की जाती है इसके चार विशेषताएं बताइए। [सीबीएसई 2008, 2010]
उत्तर: जिस खेती में किसान के परिवार द्वारा मुख्य उत्पादन का उपभोग किया जाता है उसे निर्वाह खेती के रूप में जाना जाता है।

विशेषताएँ :
(i) पुरानी तकनीक और पारंपरिक उपकरणों का उपयोग किया जाता है।
(ii) कृषि क्षेत्र छोटे होते हैं और किसानों के पास बिखरी हुई भूमि जोत होती है।
(iii) अधिकांश किसान गरीब हैं, और उर्वरकों और HYV बीजों का उपयोग नहीं करते हैं।
(iv) समग्र उत्पादकता बहुत कम है।

3. गहन निर्वाह खेती में भूमि पर भारी दबाव क्यों है [सीबीएसई 2013]
उत्तर: गहन खेती : यह एक प्रकार की खेती है जिसमें वैज्ञानिक तरीकों और बेहतर कृषि आदानों का उपयोग करके कृषि उत्पादन को बढ़ाया जाता है।
विशेषताएँ :
(i) उत्पादन बढ़ाने के लिए HYV बीजों और आधुनिक आदानों का उपयोग किया जाता है।
(ii) एक वर्ष में एक से अधिक फसलों की खेती की जाती है।
(iii) यह घनी आबादी वाले क्षेत्रों में प्रचलित है।
(iv) प्रति हेक्टेयर उपज बहुत अधिक है।

4. वृक्षारोपण कृषि क्या है वृक्षारोपण कृषि की कुछ विशेषताएं लिखिए। [सीबीएसई 2012]
उत्तर: यह एक प्रकार की कृषि है जिसमें केवल बिक्री के लिए बनाई गई एकल नकदी फसल को उगाना और उसका प्रसंस्करण करना शामिल है। रबड़, चाय, कॉफी, मसाले, नारियल और फल कुछ महत्वपूर्ण फसलें हैं जो वृक्षारोपण कृषि की श्रेणी में आती हैं।

विशेषताएँ :
(i) यह एकल फसल खेती है।
(ii) यह एक पूंजी प्रधान खेती है, यानी बड़ी मात्रा में पूंजी की आवश्यकता होती है।
(iii) इसे विशाल संपदा, प्रबंधकीय क्षमता, तकनीकी जानकारी, परिष्कृत मशीनरी, उर्वरक, अच्छी परिवहन सुविधाओं और प्रसंस्करण के लिए एक कारखाने की आवश्यकता है।
(iv) इस प्रकार की कृषि उत्तर-पूर्वी भारत, उप-हिमालयी क्षेत्र, पश्चिम बंगाल और नीलगिरि के क्षेत्रों में विकसित हुई है।

5. स्थानांतरित कृषि क्या है स्थानांतरण कृषि को हतोत्साहित क्यों किया जा रहा है?
उत्तर: यह उस प्रकार की कृषि है जिसमें किसान वन भूमि को साफ करते हैं और इसका उपयोग फसल उगाने के लिए करते हैं। फसलें 2 से 3 साल तक उगाई जाती हैं, और जब मिट्टी की उर्वरता कम हो जाती है, तो किसान एक नई भूमि में चला जाता है। इस प्रकार की खेती में आमतौर पर सूखे धान, मक्का, बाजरा और सब्जियां उगाई जाती हैं। इसे हतोत्साहित किया जा रहा है क्योंकि:
(i) इससे वनों की कटाई होती है।
(ii) प्रति हेक्टेयर उपज बहुत कम है।

6. गेहूँ की खेती के लिए किस प्रकार की जलवायु की आवश्यकता होती है भारत के किन्हीं चार प्रमुख गेहूँ उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 2012]
उत्तर: (i) तापमान: वृद्धि के दौरान ठंडा और नम मौसम, और पकने के दौरान गर्म और शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है।
(ii) वर्षा : 50-75 सेमी वर्षा की आवश्यकता होती है। बुवाई के 15 दिन बाद और पकने से 15 दिन पहले वर्षा आवश्यक और लाभकारी है। कुछ हल्की सर्दियों की बौछारें या सुनिश्चित सिंचाई से भरपूर फसल सुनिश्चित होती है।
(iii) मिट्टी : हल्की दोमट (दोमट) मिट्टी की आवश्यकता होती है। इसे काली मिट्टी में भी उगाया जा सकता है। महत्वपूर्ण उत्पादक : पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश गेहूँ के प्रमुख उत्पादक हैं।

7. मक्के की खेती के लिए तीन भौगोलिक आवश्यकताओं का वर्णन करें – तापमान, वर्षा और मिट्टी। भारत के तीन मक्का उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 2010]
उत्तर: (i) तापमान: यह 21°C और 27°C के बीच तापमान में अच्छी तरह से बढ़ता है।
(ii) वर्षा : यह 50¬100 सेमी वर्षा वाले क्षेत्रों में तथा कम वर्षा वाले क्षेत्रों में यदि सिंचाई के तहत उगाया जाता है, तो यह अच्छी तरह से बढ़ता है।
(iii) मिट्टी: इसके लिए अच्छी जल निकासी वाली जलोढ़ उपजाऊ मिट्टी या मोटे पदार्थों से मुक्त लाल दोमट मिट्टी की आवश्यकता होती है।
महत्वपूर्ण उत्पाद : कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार और आंध्र प्रदेश प्रमुख उत्पादक हैं।

8. ‘गोल्डन फाइबर’ के रूप में क्या जाना जाता है? यह भारत में कहाँ उगाया जाता है और इस फाइबर के विभिन्न उपयोगों का वर्णन क्यों करें। [सीबीएसई 2012]
उत्तर: जूट को गोल्डन फाइबर कहा जाता है।
इसकी खेती के लिए भौगोलिक परिस्थितियाँ निम्न प्रकार हैं:
(i) जूट बाढ़ के मैदानों की अच्छी जल निकासी वाली उपजाऊ मिट्टी में अच्छी तरह से बढ़ता है जहाँ हर साल मिट्टी का नवीनीकरण किया जाता है।
(ii) वृद्धि के समय उच्च तापमान की आवश्यकता होती है।
(3) यह बाढ़ के मैदानों में अच्छी तरह से जल निकासी वाली उपजाऊ मिट्टी पर बढ़ता है।
(4) इसलिए, यह पश्चिम बंगाल, बिहार, असम, ओडिशा और मेघालय में उगाया जाता है।
उपयोग: इसका उपयोग बोरी, चटाई, रस्सी के निर्माण के लिए किया जा सकता है।

9. भारत में उत्पादित किन्हीं चार तिलहनों के नाम लिखिए। हमारे दैनिक जीवन में तिलहन के महत्व की व्याख्या करें। [सीबीएसई 2012]
उत्तर: भारत में उत्पादित मुख्य तिलहन हैं:
(i) मूंगफली (ii) सरसों
(iii) नारियल (iv) तिल

तिलहन का आर्थिक महत्व :
(i) इनमें से अधिकांश खाद्य हैं, और तेल के रूप में खाना पकाने के माध्यम के रूप में उपयोग किए जाते हैं।
(ii) निकाले गए तेल का उपयोग बड़ी संख्या में पेंट, वार्निश, हाइड्रोजनीकृत तेल, साबुन, इत्र, स्नेहक आदि जैसी वस्तुओं के निर्माण के लिए कच्चे माल के रूप में भी किया जाता है।
(iii) तिलहन से तेल निकालने के बाद प्राप्त होने वाली खली जो उप-उत्पाद है, एक उत्कृष्ट पशु चारा है।
(iv) खली का उपयोग उर्वरक के रूप में भी किया जाता है।

10. कृषि में विकास दर क्यों घट रही है [सीबीएसई 2010]
उत्तर: (i) भारत सरकार कृषि क्षेत्र में विशेष रूप से सिंचाई, बिजली, ग्रामीण सड़कों, बाजार और मशीनीकरण में सार्वजनिक निवेश में कमी के साथ आगे बढ़ रही है।
(ii) उर्वरकों पर सब्सिडी कम कर दी जाती है जिससे उत्पादन लागत में वृद्धि होती है।
(iii) कृषि उत्पादों पर आयात शुल्क में कमी देश में कृषि के लिए हानिकारक साबित हुई है।
(iv) किसान कृषि से अपना निवेश वापस ले रहे हैं जिससे कृषि में रोजगार में गिरावट आ रही है।

11. भारतीय कृषि की किन्हीं तीन विशेषताओं के नाम लिखिए। [सीबीएसई 2013]
उत्तर: (I) मानसून पर अधिक निर्भरता: फसली क्षेत्र का अधिकांश भाग अभी भी सिंचाई के लिए मानसून पर निर्भर करता है। फसली क्षेत्र का केवल एक तिहाई भाग ही सुनिश्चित सिंचाई के अधीन है।
(ii) आदानों की कमी: अधिकांश किसान गरीब हैं इसलिए वे उर्वरकों और उच्च उपज देने वाली किस्मों के बीजों का उपयोग नहीं करते हैं।
(iii) छोटी और बिखरी हुई भूमि जोत : बढ़ती जनसंख्या के कारण प्रति हेक्टेयर भूमि की उपलब्धता बहुत कम है। जांड जोत भी बिखरी हुई है।

12. सकल घरेलू उत्पाद में कृषि का गिरना हिस्सा गंभीर चिंता का विषय है। [सीबीएसई 2012]
उत्तर: (i) भारत की आधी से अधिक जनसंख्या कृषि क्षेत्र में कार्यरत है।
(ii) कृषि के हिस्से में किसी भी तरह की गिरावट का मतलब खाद्यान्न का कम उत्पादन है, जिससे भोजन की कमी हो सकती है।
(iii) कृषि में किसी भी गिरावट और ठहराव से अर्थव्यवस्था के अन्य क्षेत्रों में गिरावट आएगी जिसका समाज पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

13. ‘स्लैश एंड बम’ कृषि कैसे की जाती है?
उत्तर: ‘स्लेश एंड बर्न’ खेती निम्न प्रकार से की जाती है:
इस प्रणाली के तहत, किसान अपने परिवार का भरण-पोषण करने के लिए जमीन के एक हिस्से को साफ करते हैं और अनाज और अन्य खाद्य फसलों का उत्पादन करते हैं।
जैसे-जैसे मिट्टी की उर्वरता कम होती जाती है, भूमि को छोड़ दिया जाता है। किसान नए क्षेत्रों में चले जाते हैं और खेती के लिए जमीन के एक नए हिस्से को साफ करते हैं। इसे ‘स्थानांतरित कृषि’ के रूप में जाना जाता है। किसानों को नए क्षेत्र में स्थानांतरित करने से प्रकृति प्राकृतिक प्रक्रियाओं के माध्यम से मिट्टी की उर्वरता को फिर से भरने की अनुमति देती है। चूंकि किसान उर्वरकों और अधिक उपज देने वाली किस्मों के बीजों का उपयोग नहीं करते हैं, इसलिए भूमि की उत्पादकता कम है।

14. व्यावसायिक खेती क्या है? इसकी प्रमुख विशेषताओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर: व्यावसायिक खेती में फसलें उगाई जाती हैं और जानवरों को बाजार में बिक्री के लिए पाला जाता है, यानी व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए।

वाणिज्यिक खेती की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  • यह भूमि के बड़े पैच पर अभ्यास किया जाता है।
  • उच्च उत्पादकता प्राप्त करने के लिए उच्च उपज देने वाले किस्म के बीज, रासायनिक उर्वरक, कीटनाशकों और कीटनाशकों का उपयोग किया जाता है।
  • पंजाब और हरियाणा जैसे कम वर्षा वाले क्षेत्रों में – नहर सिंचाई और नलकूपों के घने नेटवर्क के विकास ने चावल को एक व्यावसायिक फसल उगाना संभव बना दिया है।
  • गेहूं, कपास, चावल वाणिज्यिक आधार पर उगाए जाते हैं।
  • वृक्षारोपण भी एक प्रकार की व्यावसायिक खेती है।  भारत में चाय, कॉफी, रबर, गन्ना, केला आदि वृक्षारोपण फसलें हैं।

 

15. देश के कुछ भागों में अभी भी निर्वाह कृषि क्यों की जाती है? कारण दे।
उत्तर: निर्वाह कृषि अभी भी देश के कुछ भागों में निम्न कारणों से प्रचलित है:

  • जमीन के छोटे-छोटे टुकड़े देश के कुछ हिस्सों में किसानों के पास जमीन के छोटे-छोटे टुकड़े होते हैं जहां वे कुदाल, ताव और खुदाई की लाठी और पारिवारिक श्रम जैसे आदिम औजारों की मदद से खेती करते हैं।
  • गरीबी : छोटे किसान गरीब हैं।  वे उर्वरकों और उच्च उपज देने वाली किस्मों के बीजों का उपयोग नहीं कर सकते हैं।
  • सिंचाई सुविधाओं का अभाव : कुछ भागों में किसानों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध नहीं है।  खेती अभी भी मानसून पर निर्भर है।  ऐसी स्थिति में वे केवल वही उत्पादन कर सकते हैं जिसकी उन्हें आवश्यकता है।
  • मिट्टी की उर्वरता: जिन स्थानों पर मिट्टी उपजाऊ नहीं है, वहां केवल निर्वाह कृषि ही की जा सकती है।  इस प्रकार किसान अपने परिवार को चलाने के लिए उत्पादन करने के लिए मजबूर हैं।

 

वैल्यू बेस्ड प्रश्न (04 Marks)

1.झूम खेती: ‘स्लैश एंड बर्न’ कृषि मेक्सिको और मध्य अमेरिका में ‘मिल्पा’, वेन्ज़ुएला में ‘कोनुको’, ब्राजील में ‘रोका’, मध्य अफ्रीका में ‘मासोल’, इंडोनेशिया में ‘लाडांग’, वियतनाम में ‘रे’ के रूप में जाना जाता है। भारत में, खेती के इस आदिम रूप को मध्य प्रदेश में ‘बेवर’ या ‘दहिया’, आंध्र प्रदेश में ‘पोडू’ या ‘पेंदा’, ओडिशा में ‘पामा डाबी’ या ‘कोमन’ या ब्रिंगा’, पश्चिमी घाट में ‘कुमारी’, दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में ‘वेल्रे’ या ‘वाल्ट्रे’ कहा जाता है। हिमालयन बेल्ट, झारखंड में’ कुरुवा ‘और उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में’ झुमिंग’ के नाम से जाना जाता है।

ए. स्लैश एंड बर्न कृषि किसको कहते हैं?
उत्तर: स्लैश एंड बर्न कृषि झूम खेती कहते हैं।

बी. मध्य प्रदेश में झूम खेती को क्या कहते हैं?
उत्तर: मध्य प्रदेश में झूम खेती को ‘बेवर’ या ‘दहिया कहते हैं।

सी. आंध्र प्रदेश में झूम खेती को क्या कहते हैं?
उत्तर: आंध्र प्रदेश में झूम खेती को ‘पोडू’ या ‘पेंदा’, कहते हैं।

डी. मध्य अमेरिका में झूम खेती को क्या कहते हैं?
उत्तर: मध्य अमेरिका में झूम खेती को ‘मिल्पा’ कहते हैं।

2. यद्यपि क्रमिक पीढ़ियों के बीच भूमि के विभाजन के लिए अग्रणी “विरासत के अधिकार” ने भूमि-धारण आकार को गैर-आर्थिक बना दिया है, किसान आजीविका के वैकल्पिक स्रोत के अभाव में सीमित भूमि से अधिकतम उत्पादन लेना जारी रखते हैं। इस प्रकार, कृषि भूमि पर भारी दबाव है।
वाणिज्यिक खेती: इस प्रकार की खेती की मुख्य विशेषता उच्च उत्पादकता प्राप्त करने के लिए आधुनिक आदानों की उच्च खुराक, जैसे उच्च उपज देने वाली किस्म (एचवाईवी) के बीज, रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक और कीटनाशक का उपयोग है। कृषि के व्यावसायीकरण की डिग्री एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भिन्न होती है।
उदाहरण के लिए, चावल हरियाणा और पंजाब में एक व्यावसायिक फसल है, लेकिन ओडिशा में, यह एक निर्वाह फसल है।

ए. वाणिज्यिक खेती की मुख्य विशेषता का वर्णन कीजिए?
उत्तर: वाणिज्यिक खेती की मुख्य विशेषता उच्च उत्पादकता प्राप्त करने के लिए आधुनिक आदानों की उच्च खुराक, जैसे उच्च उपज देने वाली किस्म (एचवाईवी) के बीज, रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक और कीटनाशक का उपयोग है। कृषि के व्यावसायीकरण की डिग्री एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भिन्न होती है।

बी. “कृषि भूमि पर भारी दबाव है।” कथन की पुष्टि कीजिए?
उत्तर: क्रमिक पीढ़ियों के बीच भूमि के विभाजन के लिए अग्रणी “विरासत के अधिकार” ने भूमि-धारण आकार को गैर-आर्थिक बना दिया है, किसान आजीविका के वैकल्पिक स्रोत के अभाव में सीमित भूमि से अधिकतम उत्पादन लेना जारी रखते हैं। इस प्रकार, कृषि भूमि पर भारी दबाव है।

सी. चावल किस राज्य की व्यवसायिक फसल है?
उत्तर: चावल हरियाणा और पंजाब की व्यवसायिक फसल है।

डी. चावल किस राज्य की निर्वाह फसल है?
उत्तर: ओडिशा में, चावल एक निर्वाह फसल है।

3. वृक्षारोपण भी एक प्रकार की व्यावसायिक खेती है। इस प्रकार की खेती में, एक बड़े क्षेत्र में एक ही फसल उगाई जाती है। वृक्षारोपण में कृषि और उद्योग का एक इंटरफ़ेस है। वृक्षारोपण प्रवासी मजदूरों की मदद से पूंजी गहन इनपुट का उपयोग करके भूमि के बड़े हिस्से को कवर करता है। सभी उत्पाद संबंधित उद्योगों में कच्चे माल के रूप में उपयोग किए जाते हैं। भारत में, चाय, कॉफी, रबर, गन्ना, केला, आदि महत्वपूर्ण वृक्षारोपण फसलें हैं। असम में चाय और कर्नाटक में उत्तर बंगाल कॉफी इन राज्यों में उगाई जाने वाली कुछ महत्वपूर्ण वृक्षारोपण फसलें हैं। चूंकि उत्पादन मुख्य रूप से बाजार के लिए है, वृक्षारोपण को जोड़ने वाले परिवहन और संचार का एक अच्छी तरह से विकसित नेटवर्क वृक्षारोपण के विकास में क्षेत्र, प्रसंस्करण उद्योग और बाजार महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ए. वृक्षारोपण किस प्रकार की खेती है?
उत्तर: वृक्षारोपण भी एक प्रकार की व्यावसायिक खेती है।

बी. भारत की कुछ महत्वपूर्ण वृक्षारोपण फसलों के नाम बताइए?
उत्तर: भारत में, चाय, कॉफी, रबर, गन्ना, केला, आदि महत्वपूर्ण वृक्षारोपण फसलें हैं।

सी. असम किसकी खेती के लिए प्रसिद्ध है?
उत्तर: असम चाय की खेती के लिए प्रसिद्ध है।

डी. वृक्षारोपण के विकास में कौन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है?
उत्तर: वृक्षारोपण को जोड़ने वाले परिवहन और संचार का एक अच्छी तरह से विकसित नेटवर्क वृक्षारोपण के विकास में क्षेत्र, प्रसंस्करण उद्योग और बाजार महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

4. रबी की फसलों को अक्टूबर से दिसंबर तक सर्दियों में बोया जाता है और अप्रैल से जून तक गर्मियों में काटा जाता है। रबी की कुछ महत्वपूर्ण फसलें गेहूं, जौ, मटर, चना और सरसों हैं। हालांकि, ये फसलें भारत के बड़े हिस्से में उगाई जाती हैं, उत्तर और उत्तर-पश्चिमी भागों जैसे पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के राज्य गेहूं और अन्य रबी फसलों के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण हैं। पश्चिमी समशीतोष्ण चक्रवातों के कारण सर्दियों के महीनों के दौरान वर्षा की उपलब्धता इन फसलों की सफलता में मदद करती है। हालांकि, पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कुछ हिस्सों में हरित क्रांति की सफलता भी उपर्युक्त रबी फसलों की वृद्धि में एक महत्वपूर्ण कारक रही है।

ए. रबी की फसल कब बोई और काटी जाती है?
उत्तर: रबी की फसलों को अक्टूबर से दिसंबर तक सर्दियों में बोया जाता है और अप्रैल से जून तक गर्मियों में काटा जाता है।

बी. रबी की महत्वपूर्ण फसलों के नाम बताइए?
उत्तर: रबी की कुछ महत्वपूर्ण फसलें गेहूं, जौ, मटर, चना और सरसों हैं।

सी. रबी फसल उत्पादन में कौन कौन से राज्य महत्वपूर्ण है?
उत्तर: उत्तर और उत्तर-पश्चिमी भागों जैसे पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के राज्य गेहूं और अन्य रबी फसलों के उत्पादन के लिए महत्वपूर्ण हैं।

डी. पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान में रबी फसल की सफलता का क्या राज है?
उत्तर: पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कुछ हिस्सों में हरित क्रांति की सफलता भी उपर्युक्त रबी फसलों की वृद्धि में एक महत्वपूर्ण कारक रही है।

 

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (05 Marks)

 

1.चावल के उत्पादन के लिए आवश्यक अनुकूल भौगोलिक परिस्थितियों की व्याख्या कीजिए। भारत के प्रमुख चावल उत्पादक राज्यों का भी उल्लेख कीजिए। [सीबीएसई 2010, 2011, 2012, 2013]
उत्तर: (i) तापमान: यह एक खरीफ फसल है जिसके लिए उच्च तापमान और उच्च आर्द्रता की आवश्यकता होती है। इसका मतलब है कि बुवाई, बढ़ने और कटाई के मौसम के दौरान मामूली बदलाव के साथ लगभग 25 डिग्री सेल्सियस का मासिक तापमान पौधे की वृद्धि के लिए उपयुक्त है।

(ii) वर्षा : चावल को प्रचुर मात्रा में वर्षा की आवश्यकता होती है, अर्थात 100 सेमी से अधिक। यह कम वर्षा वाले क्षेत्रों में उग सकता है, लेकिन सुनिश्चित सिंचाई के साथ। पंजाब और हरियाणा में सिंचाई की सहायता से चावल उगाया जाता है।

(iii) मिट्टी: चावल सिल्ट, दोमट और बजरी सहित विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उग सकते हैं, लेकिन यह अभेद्य मिट्टी की उप-मिट्टी के साथ जलोढ़ मिट्टी में सबसे अच्छा उगाया जाता है। उत्पादन के क्षेत्र: भारत के लगभग सभी राज्यों में चावल की खेती की जाती है, लेकिन इसकी अधिकांश खेती नदी घाटियों, नदियों के डेल्टा और तटीय मैदानों में केंद्रित है।

मुख्य चावल उत्पादक राज्य पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब, ओडिशा, कर्नाटक, असम और महाराष्ट्र हैं।

2. गन्ने की खेती के लिए आवश्यक तापमान और जलवायु परिस्थितियों का वर्णन करें। दो प्रमुख उत्पादकों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 2008,09, 2010]
उत्तर: (i) तापमान : गन्ने को 21°C से 27°C के बीच तापमान के साथ गर्म और आर्द्र जलवायु की आवश्यकता होती है। बहुत अधिक तापमान इसकी वृद्धि के लिए हानिकारक होता है, जबकि कम तापमान इसकी वृद्धि को धीमा कर देता है। यह ठंढ का सामना नहीं कर सकता। पकने के समय ठंडे तापमान की आवश्यकता होती है।
(ii) वर्षा : यह 75 सेमी से 100 सेमी वर्षा वाले क्षेत्रों में सबसे अच्छा बढ़ता है। बहुत अधिक वर्षा से शर्करा की मात्रा कम हो जाती है।
(iii) मिट्टी : गन्ना अच्छी जल निकासी वाली उपजाऊ मिट्टी पर उगता है। यह काली, जलोढ़, दोमट और लाल दोमट मिट्टी सहित विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उग सकता है।

गन्ना: लेकिन सबसे अच्छी मिट्टी गंगा के मैदान की जलोढ़ मिट्टी और दक्षिण भारत की काली मिट्टी है। गन्ना मिट्टी की उर्वरा शक्ति को समाप्त कर देता है। इसलिए उच्च पैदावार सुनिश्चित करने के लिए खाद का उपयोग आवश्यक है।

उत्पादन के क्षेत्र: उत्तर प्रदेश गन्ने का सबसे बड़ा उत्पादक है। गंगा के मैदान में अन्य राज्य बिहार, पंजाब और हरियाणा हैं।

3. चाय की खेती के लिए आवश्यक किन्हीं तीन भौगोलिक परिस्थितियों का वर्णन कीजिए। चाय के किन्हीं दो उत्पादक राज्यों के नाम लिखिए। [सीबीएसई 2010, 2012, 2013]
उत्तर: चाय भारत की सबसे महत्वपूर्ण पेय फसल है।

वातावरण की परिस्थितियाँ : (i) तापमान: चाय का पौधा उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय जलवायु में अच्छी तरह से बढ़ता है। चाय की झाड़ियों को साल भर गर्म और नम, पाले से मुक्त जलवायु की आवश्यकता होती है। चाय की झाड़ियों को 25°C से अधिक तापमान की आवश्यकता होती है।
(ii) वर्षा : चाय के पौधे को 150 सेमी से 250 सेमी के बीच भारी वर्षा की आवश्यकता होती है। वर्षा पूरे वर्ष अच्छी तरह से वितरित की जानी चाहिए।
(iii) मिट्टी : पौधे को हल्की दोमट मिट्टी की आवश्यकता होती है। मिट्टी ह्यूमस और आयरन की मात्रा से भरपूर होनी चाहिए। चाय एक मिट्टी की थकावट वाली फसल है, इसलिए रासायनिक उर्वरकों और खाद का बार-बार उपयोग आवश्यक है।

निर्माता: प्रमुख चाय उत्पादक राज्य असम, पश्चिम बंगाल, (दार्जिलिंग और जलपाईगुड़ी जिलों की पहाड़ियाँ), तमिलनाडु और केरल हैं। इनके अलावा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, मेघालय, आंध्र प्रदेश और त्रिपुरा हैं।

4. रबड़ के उत्पादन के लिए आवश्यक अनुकूल जलवायु परिस्थितियों की व्याख्या कीजिए। रबर का उत्पादन करने वाले राज्यों का भी उल्लेख कीजिए। [सीबीएसई 2008, 2008, 2010, 2011, 2012]
उत्तर: (i) तापमान: यह उष्णकटिबंधीय जंगलों का एक पेड़ है, और इसके लिए 25 डिग्री सेल्सियस से ऊपर लगातार उच्च तापमान की आवश्यकता होती है। इस प्रकार, रबर के पेड़ को अधिक ऊंचाई पर नहीं उगाया जा सकता है।
(ii) वर्षा : इसे पूरे वर्ष भारी और अच्छी तरह से वितरित वर्षा की आवश्यकता होती है। पौधे को 200 सेमी से अधिक वर्षा की आवश्यकता होती है।
(iii) मिट्टी: पौधे को जलोढ़ या लेटराइट मिट्टी की आवश्यकता होती है। उत्पादन के क्षेत्र:
भारत विश्व के प्राकृतिक रबर उत्पादकों में पांचवें स्थान पर है। केरल राज्य भारत में रबर का सबसे बड़ा उत्पादक है। केरल में रबर की खेती के तहत कुल क्षेत्रफल का लगभग 91% हिस्सा है। तमिलनाडु, कर्नाटक और हिमालय की गारो पहाड़ियों सहित अंडमान और निकोबार द्वीप समूह अन्य उत्पादक हैं।

5. कपास के उत्पादन के लिए आवश्यक जलवायु परिस्थितियों की व्याख्या कीजिए। भारत के प्रमुख कपास उत्पादक राज्यों का भी उल्लेख कीजिए।
उत्तर: (i) तापमान: कपास को गर्म जलवायु की आवश्यकता होती है। पौधे की वृद्धि के दौरान गर्मी का तापमान 21 डिग्री सेल्सियस से 27 डिग्री सेल्सियस और प्रचुर मात्रा में धूप आवश्यक है। पौधे के परिपक्व होने के लिए कम से कम 210 फ्रॉस्टफ्री दिनों की लंबी बढ़ती अवधि भी आवश्यक है।
(ii) वर्षा : कपास की खेती के लिए मध्यम से हल्की वर्षा पर्याप्त होती है। 50 सेमी से 80 सेमी के बीच वर्षा पर्याप्त है। कम वर्षा वाले क्षेत्रों में सिंचाई की सहायता से फसल को सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है।
(iii) मिट्टी: कपास को विभिन्न प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है लेकिन दक्कन के पठार की काली कपास मिट्टी जिसमें नमी बनाए रखने की क्षमता होती है, सबसे उपयुक्त होती है। यह सतलुज-गंगा के मैदान की जलोढ़ मिट्टी में भी अच्छी तरह से उगता है।

उत्पादन के क्षेत्र: प्रमुख कपास उत्पादक राज्य गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, कर्नाटक, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश हैं। पंजाब और हरियाणा लंबी प्रधान किस्म उगाते हैं।

6. वाणिज्यिक कृषि और निर्वाह कृषि के बीच अंतर। [सीबीएसई 2010, 2011, 2012, 2013]
उत्तर: निर्वाह कृषि:
(i) खेती के तरीके जिसमें किसान और उनका परिवार पूरी फसल का उपभोग करता है। उनके पास बाजार में बेचने के लिए कोई सरप्लस नहीं है।
(ii) खेत छोटे और खंडित होते हैं।
(iii) खाद्य फसलों की खेती ज्यादातर अनाज जैसे चावल और गेहूं के साथ-साथ तिलहन, सब्जियां और गन्ने की होती है।
(iv) किसान पुराने औजारों और उपकरणों का उपयोग करते हैं। ट्रैक्टर जैसे आधुनिक उपकरणों और रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों और कीटनाशकों जैसे कृषि आदानों का पूर्ण अभाव है।
(v) मानसून पर निर्भर करता है और जनशक्ति का अधिक उपयोग होता है।

वाणिज्यिक खेती:
(i) इस कृषि पद्धति में उत्पादित अधिकांश माल मुख्य रूप से पैसा कमाने के लिए बाजार में बेचा जाता है।
(ii) जोत बड़े होते हैं और उनसे पैसे कमाने के लिए नकदी फसलों की खेती की जाती है।
(iii) भारत के विभिन्न भागों में उगाई जाने वाली प्रमुख व्यावसायिक फ़सलें कपास, जूट, गन्ना मूंगफली हैं।
(iv) इस प्रकार की खेती में किसान सिंचाई, रासायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों, कीटनाशकों और उच्च उपज देने वाली किस्मों जैसे बीजों का बेहतर उपयोग करते हैं।
(v) आधुनिक उपकरणों जैसे ट्रैक्टर आदि के प्रयोग से मानव शक्ति का कम प्रयोग होता है।

7. विभिन्न तकनीकी और संस्थागत सुधारों का वर्णन करें जिनके कारण भारत में हरित और श्वेत क्रांति हुई। [सीबीएसई 2012]
उत्तर: श्वेत क्रांति के संबंध में कोई विवरण नहीं। हरित क्रांति का अर्थ है विभिन्न तकनीकी और संस्थागत सुधारों की शुरूआत के कारण कृषि उत्पादन के क्षेत्र में क्रांति।

जिम्मेदार कारक:
(i) पंचवर्षीय योजनाओं में कृषि को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई।
(ii) 60 के दशक की शुरुआत में गेहूं के HYV बीजों और 70 के दशक में चावल के विकास ने भारत में हरित क्रांति की नींव रखी।
(iii) सिंचाई के लिए कई योजनाएँ शुरू की गईं, और शुष्क और अर्ध-शुष्क क्षेत्रों को खेती के तहत लाया गया।
(iv) स्वतंत्रता के बाद देश में संस्थागत सुधार लाने के लिए सामूहिकता, जोतों का समेकन, जमींदारी व्यवस्था का उन्मूलन आदि को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई।
(v) प्राकृतिक आपदाओं जैसे सूखा, बाढ़, ओलावृष्टि, चक्रवात, आग आदि के कारण फसल खराब होने से होने वाले नुकसान से किसानों को बचाने के लिए सरकार द्वारा फसल बीमा योजना शुरू की गई थी।
(vi) पूंजी या निवेश की आसान उपलब्धता, ग्रामीण बैंकिंग के एक अच्छी तरह से जुड़े नेटवर्क के माध्यम से इनपुट और कम ब्याज दरों वाली लघु सहकारी समितियां कृषि के आधुनिकीकरण के लिए किसानों को प्रदान की जाने वाली अन्य सुविधाएं थीं।

8. कृषि उत्पादन में वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए सरकार द्वारा क्या पहल की गई है [सीबीएसई 2010, 2011]
उत्तर: (i) संस्थागत सुधार: कृषि में उत्पादन बढ़ाने के लिए, सरकार ने कुछ संस्थागत उपायों की शुरुआत की है जिसमें सामूहिकता, जोत का समेकन, सहयोग और जमींदारी व्यवस्था का उन्मूलन शामिल है।

(ii) व्यापक भूमि विकास कार्यक्रम: 1980 और 1990 के दशक में, एक व्यापक भूमि विकास कार्यक्रम शुरू किया गया था, जिसमें संस्थागत और तकनीकी सुधार दोनों शामिल थे। सूखे, बाढ़, चक्रवात, आग और बीमारी के खिलाफ फसल बीमा का प्रावधान, किसानों को कम ब्याज दरों पर ऋण सुविधा प्रदान करने के लिए ग्रामीण बैंकों, सहकारी समितियों और बैंकों की स्थापना इस दिशा में कुछ महत्वपूर्ण कदम थे।

(iii) सब्सिडी : सरकार कृषि आदानों पर भारी सब्सिडी प्रदान कर रही है। फिलहाल खाद पर सबसे ज्यादा सब्सिडी दी जा रही है।

(iv) HYV बीज और कृषि विश्वविद्यालय: उत्पादन बढ़ाने के लिए, सरकार किसानों को HYV बीज उपलब्ध करा रही है। विशेष सेमिनार भी आयोजित किए जा रहे हैं। कई नए कृषि विश्वविद्यालय स्थापित किए गए हैं।

(v) सार्वजनिक खरीद प्रणाली और कृषि मूल्य आयोग: कृषि मूल्य आयोग की स्थापना की गई है जो कृषि उत्पादों की कीमतों को अग्रिम रूप से घोषित करता है ताकि किसानों को पता चल सके कि उन्हें अपने कृषि उत्पादों के लिए क्या मिलने वाला है। सरकारी एजेंसियां ​​जैसे एफ.सी.आई. (भारतीय खाद्य निगम) किसानों से कृषि उत्पाद खरीदते हैं।

(vi) फसल बीमा और कृषि वित्त: जैसा कि हम जानते हैं कि भारतीय कृषि मुख्य रूप से प्रकृति पर निर्भर करती है, इसलिए उच्च जोखिम वाली फसलों का भी बीमा किया जा रहा है। सरकार ने किसानों को कृषि ऋण उपलब्ध कराने के लिए नाबार्ड जैसे विशेष बैंकों की स्थापना की है।

9. भारत में तिलहनों का विवरण दीजिए। मूंगफली का महत्व बताइये और उन राज्यों के नाम बताइये जहाँ इसकी खेती होती है। [सीबीएसई 2013]
उत्तर: (1) (i) भारत विश्व में तिलहन का सबसे बड़ा उत्पादक है।
(ii) विभिन्न प्रकार के तिलहन भारत के कुल फसली क्षेत्र के लगभग 12 प्रतिशत को कवर करते हुए उगाए जाते हैं।
(iii) भारत मूंगफली, सरसों, नारियल, तिल, सोयाबीन, अरंडी के बीज, कपास के बीज, अलसी और सूरजमुखी का एक महत्वपूर्ण उत्पादक है।
(iv) इनमें से अधिकांश खाने योग्य हैं और खाना पकाने के माध्यम के रूप में उपयोग किए जाते हैं और इनमें से कुछ का उपयोग साबुन, सौंदर्य प्रसाधन और मलहम के उत्पादन में कच्चे माल के रूप में भी किया जाता है।

(2) (i) मूंगफली एक खरीफ फसल है और देश में उत्पादित प्रमुख तिलहनों का लगभग आधा हिस्सा है।
(ii) आंध्र प्रदेश मूंगफली का सबसे बड़ा उत्पादक है। यह तमिलनाडु, कर्नाटक, गुजरात और महाराष्ट्र में भी उगाया जाता है।

10. भारत में कृषि विकास की गति में बाधक किन्हीं चार कारकों की व्याख्या कीजिए।
उत्तर: (i) कृषि में अत्यधिक भीड़ : भारतीय कृषि की वास्तविक समस्या यह है कि कृषि पर निर्भर लोगों की संख्या बहुत अधिक है। 1901 से, कृषि पर निर्भर लोगों का अनुपात लगभग स्थिर रहा है, अर्थात 70%।
(ii) आदानों की समस्या: भारतीय कृषि को वित्त, बीज, उर्वरक, विपणन, परिवहन आदि की अपर्याप्तता के कारण नुकसान उठाना पड़ा।
(iii) जोत का आकार: भारत में जोत का औसत आकार बहुत कम है, 2 हेक्टेयर या 5 एकड़ से कम है। कृषि जोत न केवल छोटी हैं, बल्कि वे खंडित भी हैं। देश के कुछ हिस्सों में, भूमि के भूखंड इतने छोटे हो गए हैं कि आधुनिक मशीनरी का उपयोग करना असंभव है।
(iv) प्रकृति पर अधिक निर्भरता: सिंचाई के स्रोतों के विकास के बावजूद, देश के बड़े हिस्से में अधिकांश किसान अभी भी अपनी कृषि को जारी रखने के लिए मानसून और प्राकृतिक उर्वरता पर निर्भर हैं।