CBSE Class 10 Economics Chapter 4 Globalisation and the Indian Economy Important Question Answers in Hindi

 

Globalisation and the Indian Economy Important Questions – Here are the important questions in Hindi of 1,3,4 and 5 Marks for CBSE Class 10 Economics Chapter 4 Globalisation and the Indian Economy (वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था). The important questions we have compiled will help the students to brush up on their knowledge about the subject. Students can practice Class 10 Economics important questions (Hindi) to understand the subject better and improve their performance in the board exam.

 

Related Class 10 SST (History, Geography, Civics and Economics Important Question Answers

 

 

वैश्वीकरण और भारतीय अर्थव्यवस्था – Globalisation and the Indian Economy Important Question Answers

 
 

बहु विकल्पीय प्रश्न (01 Marks)

1.निम्नलिखित में से कौन सा संगठन विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश के उदारीकरण पर जोर देता है?

 (ए) अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष

 (बी) अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन

 (सी) विश्व स्वास्थ्य संगठन

 (डी) विश्व व्यापार संगठन

 

 उत्तर: (डी)

 

  1. ___________सरकार द्वारा निर्धारित बाधाओं या प्रतिबंधों को हटाने के रूप में जाना जाता है

 (ए) वैश्वीकरण

 (बी) निजीकरण

 (सी) राष्ट्रवाद

 (डी) उदारीकरण

 

 उत्तर: (डी)

 

  1. निम्नलिखित में से कौन निवेश को संदर्भित करता है?

 (ए) धार्मिक समारोहों पर खर्च किया गया धन

 (बी) सामाजिक रीति-रिवाजों पर खर्च किया गया पैसा

 (सी) जमीन जैसे संपत्ति खरीदने के लिए खर्च किया गया पैसा

 (डी) घरेलू सामानों पर खर्च किया गया पैसा

 

 उत्तर: (सी)

 

  1. निम्नलिखित में से कौन-सा विदेशी व्यापार पर एक ‘बाधा’ है?

 (ए) आयात पर कर

 (बी) गुणवत्ता नियंत्रण

 (सी) बिक्री कर

 (डी) स्थानीय व्यापार पर कर

 

 उत्तर: (ए)

 

  1. ____________ आकर्षित करने के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) स्थापित किए जा रहे हैं

 (ए) विदेशी पर्यटक

 (बी) विदेशी निवेश

 (सी) विदेशी सामान

 (डी) विदेश नीतियां

 

 उत्तर: (बी)

 

  1. घरेलू बाजार में बहुराष्ट्रीय कंपनियों का प्रवेश किसके लिए हानिकारक साबित हो सकता है?

 (ए) सभी बड़े पैमाने पर उत्पादक

 (बी) सभी घरेलू उत्पादक

 (सी) सभी घटिया घरेलू उत्पादक

 (डी) सभी छोटे पैमाने के उत्पादक

 

 उत्तर: (सी)

 

  1. फोर्ड मोटर्स ने भारत में अपना पहला संयंत्र कहां स्थापित किया?

 (ए) कोलकाता

 (बी) मुंबई

 (सी) चेन्नई

 (डी) दिल्ली

 

 उत्तर: (सी)

 

  1. निम्नलिखित में से कौन सा उद्योग विदेशी प्रतिस्पर्धा से बुरी तरह प्रभावित हुआ है?

 (ए) डेयरी उत्पाद

 (बी) चमड़ा उद्योग

 (सी) कपड़ा उद्योग

 (डी) वाहन उद्योग

 

 उत्तर:

 

  1. किस वर्ष सरकार ने भारत में विदेशी व्यापार और निवेश पर बाधाओं को दूर करने का निर्णय लिया?

 (ए) 1993

 (बी) 1992

 (सी) 1991

 (डी) 1990

 

 उत्तर: सी

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियां उत्पादन स्थापित करने से पहले कुछ कारकों को ध्यान में रखती हैं। नीचे दिए गए विकल्पों में से गलत विकल्प की पहचान करें

 (ए) सस्ते कुशल और अकुशल श्रम की उपलब्धता

 (बी) बाजारों से निकटता

 (सी) बड़ी संख्या में स्थानीय प्रतिस्पर्धियों की उपस्थिति

 (डी) अनुकूल सरकारी नीतियां

 

उत्तर: (सी)

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ एक से अधिक देशों में कार्यालय और कारखाने क्यों स्थापित करती हैं?

 (ए) उत्पादन की लागत अधिक है और बहुराष्ट्रीय कंपनियां लाभ कमा सकती हैं।

 (बी) उत्पादन की लागत कम है और बहुराष्ट्रीय कंपनियों को नुकसान होता है।

 (सी) उत्पादन की लागत कम है और बहुराष्ट्रीय कंपनियां अधिक लाभ कमा सकती हैं।

 (डी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां विश्व स्तर पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाहती हैं।

 

 उत्तर: सी

 

  1. दुनिया भर के देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा निवेश के लिए सबसे आम मार्ग _________ है:

 (ए) नए कारखाने स्थापित करें

 (बी) मौजूदा स्थानीय कंपनियों को खरीदें

 (सी) स्थानीय कंपनियों के साथ साझेदारी बनाना

 (डी) इनमें से कोई नहीं

 

 उत्तर:

 

  1. प्रथम औद्योगिक नीति कब प्रतिपादित हुई?

(ए) 1951

(बी) 1952

(सी) 1953

(डी)  1954

 

उत्तर: बी 

 

  1. निम्नलिखित में से किसे भारत में वैश्वीकरण के कारण सबसे कम लाभ हुआ है?

 (ए)  कृषि क्षेत्र

 (बी) औद्योगिक क्षेत्र

 (सी) सेवा क्षेत्र

 (डी) माध्यमिक क्षेत्र

 

 उत्तर: ए 

 

  1. निम्नलिखित में से कौन एक स्थानीय कंपनी और एक बहुराष्ट्रीय कंपनी के बीच संयुक्त उत्पादन का एक प्रमुख लाभ है?

 (ए) बहुराष्ट्रीय कंपनियां उत्पादन में नवीनतम तकनीक ला सकती हैं

 (बी) बहुराष्ट्रीय कंपनी कीमत में वृद्धि को नियंत्रित कर सकती है

 (सी) बहुराष्ट्रीय कंपनी स्थानीय कंपनी खरीद सकती है

 (डी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां अपने ब्रांड नाम के तहत उत्पादों को बेच सकती हैं

 

 उत्तर: ए 

 

Related – Globalisation and Indian Economy Notes Class 10 Economics Chapter 4

 

  1. विश्व व्यापार संगठन के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा सत्य नहीं है?

 (ए) यह बिना किसी व्यापार बाधाओं के सभी देशों को मुक्त व्यापार की अनुमति देता है।

 (बी) इसका उद्देश्य अंतरराष्ट्रीय व्यापार को उदार बनाना है।

 (सी) यह अंतरराष्ट्रीय व्यापार के संबंध में नियम स्थापित करता है।

 (डी) विश्व व्यापार संगठन के नियमों ने विकासशील देशों को व्यापार बाधाओं को दूर करने के लिए मजबूर किया है।

 

 उत्तर:  ए 

 

  1. बाजारों का एकीकरण का क्या अर्थ है?

 (ए) घरेलू बाजारों से परे परिचालन

 (बी) माल का व्यापक विकल्प

 (सी) प्रतिस्पर्धी मूल्य

 (डी) उपरोक्त सभी

 

 उत्तर: डी 

 

  1. निम्नलिखित में से कौन वैश्वीकरण में योगदान देता है?

 (ए) आंतरिक व्यापार

 (बी) बाहरी व्यापार

 (सी) बड़े पैमाने पर व्यापार

 (डी) छोटे पैमाने पर व्यापार

 

 उत्तर: बी 

 

  1. निवेश निम्न में से किसके खर्च से संबंधित है?

 (ए) कारखाने की इमारत

 (बी) मशीनें

 (सी) उपकरण

 (डी) उपरोक्त सभी

 

 उत्तर: डी 

 

  1. बहुराष्ट्रीय निगमों ने किसके माध्यम से वैश्विक बाजारों में प्रवेश करने में सफलता प्राप्त की है

 (ए) विश्व व्यापार संगठन

 (बी) यूएनओ

 (सी) यूनेस्को

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

 उत्तर: ए 

 

  1. भारत में वैश्वीकरण द्वारा आकर्षित प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (प्रत्यक्ष विदेशी निवेश) किससे संबंधित है?

 (ए) विश्व बैंक

 (बी) बहुराष्ट्रीय कंपनियों

 (सी) विदेशी सरकारें

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

 उत्तर: बी 

 

  1. निम्नलिखित में से किस कारक ने वैश्वीकरण को सुगम नहीं बनाया है?

 (ए) प्रौद्योगिकी

 (बी) व्यापार का उदारीकरण

 (सी) विश्व व्यापार संगठन

 (डी) बैंकों का राष्ट्रीयकरण

 

 उत्तर: डी 

 

  1. वैश्वीकरण अब तक किस देश के पक्ष में अधिक रहा है:

 (ए) विकसित देश

 (बी) विकासशील देश

 (सी) गरीब देश

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

 उत्तर: ए 

 

  1. सस्ते आयात, बुनियादी ढांचे में अपर्याप्त निवेश के क्या कारण हैं?

 (ए)   कृषि क्षेत्र में मंदी

 (बी)  घरेलू उत्पादन की मांग को प्रतिस्थापित करें

 (सी)  औद्योगिक क्षेत्र में मंदी

 (डी)  उपरोक्त सभी

 

 उत्तर: डी 

 

  1. वैश्वीकरण की नीति से किस क्षेत्र को लाभ नहीं हुआ है?

 (ए) कृषि क्षेत्र

 (बी) विनिर्माण क्षेत्र

 (सी) सेवा क्षेत्र

 (डी) उपरोक्त सभी

 

 उत्तर: ए 

 

  1. निष्पक्ष वैश्वीकरण का तात्पर्य निम्नलिखित के लिए लाभ सुनिश्चित करना है:

 (ए) मजदूर

 (बी) निर्माता

 (सी) उपभोक्ता

 (डी) उपरोक्त सभी

 

 उत्तर: डी 

 

Related – Globalisation and Indian Economy MCQs Class 10 Economics Chapter 4 

 

  1. भारत सरकार द्वारा विकसित विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) का क्या उद्देश्य है?

 (ए) भारत में निवेश करने के लिए विदेशी कंपनियों को आकर्षित करने के लिए।

 (बी) छोटे निवेशकों को प्रोत्साहित करने के लिए।

 (सी) क्षेत्रीय विकास को प्रोत्साहित करने के लिए।

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं।

 

 उत्तर: ए

 

  1. विश्व व्यापार संगठन का मुख्य उद्देश्य क्या है?

 (ए) घरेलू व्यापार को उदार बनाने के लिए।

 (बी) अंतरराष्ट्रीय व्यापार को उदार बनाने के लिए।

 (सी) विदेशों से व्यापार को प्रतिबंधित करने के लिए।

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

 उत्तर: बी

 

  1. निम्नलिखित में से  वैश्वीकरण का क्या लाभ है?

 (ए) उपभोक्ता वस्तुओं और सेवाओं के लिए अधिक राशि का भुगतान करते हैं, इसलिए उत्पादक बेहतर हैं।

 (बी) वैश्वीकृत बाजार में असममित जानकारी मौजूद नहीं हो सकती है।

 (सी) उपभोक्ताओं को चुनने के लिए विभिन्न प्रकार के सामान मिलते हैं।

 (डी) वैश्वीकृत बाजार में सजातीय सामान बेचे जाते हैं।

 

 उत्तर: सी

 

  1. वैश्वीकरण अब तक किस देश के पक्ष में अधिक रहा है?

 (ए) विकसित देश

 (बी) विकासशील देश

 (सी) गरीब देश

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

 उत्तर: ए

 

  1. देशों में ‘नौकरी के अवसरों में वृद्धि’ निम्न में से किसका का प्रभाव है?

 (ए) निजीकरण

 (बी) उदारीकरण

 (सी) वैश्वीकरण

 (डी) इनमें से कोई नहीं

 

 उत्तर: सी

 

  1. निम्नलिखित में से कौन सा विकल्प बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए वैश्वीकरण का एक लाभ है?

 (ए) बहुराष्ट्रीय कंपनियों को दूसरे देशों से कच्चे माल की खरीद नहीं करनी पड़ती है क्योंकि वैश्वीकरण से कंपनियों की आत्मनिर्भरता होती है।

 (बी) उत्पादन को अंतरराष्ट्रीय सीमाओं में फैलाने से उत्पादन की लागत कम करने में मदद मिल सकती है।

 (सी) जब बहुराष्ट्रीय कंपनियां दुनिया भर में उत्पादन का विस्तार करती हैं, तो उन्हें करों का भुगतान नहीं करना पड़ता क्योंकि वे रोजगार पैदा करने में मदद करते हैं।

 (डी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां वैश्विक उपभोक्ताओं पर उत्पादन की बढ़ी हुई लागत का बोझ आसानी से डाल सकती हैं और उच्च लाभ अर्जित करना जारी रख सकती हैं।

 

 उत्तर: बी

 

  1. पहचानें कि निम्नलिखित में से कौन सा भारतीय उद्योग वैश्वीकरण से बुरी तरह प्रभावित हुआ है?

 (ए) सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी)

 (बी) खिलौना बनाना

 (सी) जूट

 (डी) सीमेंट

 

 उत्तर: बी

 

  1. पहचानें कि किस वर्ष सरकार ने भारत में विदेशी व्यापार और निवेश पर बाधाओं को दूर करने का निर्णय लिया?

 (ए)  1993

 (बी) 1992

 (सी) 1991

 (डी) 1990

 

 उत्तर: सी

 

  1. यदि वे बहुराष्ट्रीय कंपनियों के साथ व्यापार करते हैं तो निम्नलिखित में से कौन स्थानीय व्यवसायों के लिए लाभकारी हो सकता है?

 (ए) स्थानीय व्यवसायों को व्यवसाय में निवेश करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि बहुराष्ट्रीय कंपनियां सभी निवेश करती हैं।

 (बी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां स्थानीय व्यवसायों को सस्ता श्रम प्रदान करती हैं।

 (सी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां उत्पादन की उन्नत तकनीक ला सकती हैं।

 (डी) स्थानीय व्यवसाय अधिक लाभ कमाते हैं क्योंकि उनकी उत्पादन लागत शून्य हो जाती है।

 

 उत्तर: सी

 

Related – Class 10 Economics Chapter-wise MCQs 

 

  1. MNC का क्या मतलब  है?

 (ए)  बहुराष्ट्रीय निगम

 (बी) बहुराष्ट्रीय निगम

 (सी) बहुराष्ट्रीय शहर

 (डी) बहुराष्ट्रीय परिषद

 

 उत्तर:  ए

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा किया गया निवेश ________ कहलाता है

 (ए) निवेश

 (बी) विदेश व्यापार

 (सी) विदेशी निवेश

 (डी) विनिवेश

 

 उत्तर:  सी

 

  1. विभिन्न देशों के एकीकरण की प्रक्रिया _______ कहलाती है

(ए) उदारीकरण

(बी) निजीकरण

(सी) वैश्वीकरण

(डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

 उत्तर:  सी

 

  1. निम्नलिखित में से वैश्वीकरण का उदाहरण कौन सा है?

 (ए) विदेशों में उत्पादित वस्तुओं का उपभोग करने वाले भारतीय।

 (बी) वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन के मामले में भारतीय आत्मनिर्भर हो रहे हैं।

 (सी) घरेलू क्षेत्र में विभिन्न राज्यों में जाने वाले भारतीय।

 (डी) भारतीय भारी मात्रा में कृषि उपज का उत्पादन करते हैं।

 

 उत्तर: ए

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों में किसकी वृद्धि होती है?

 (ए) प्रतियोगिता

 (बी) मूल्य युद्ध

 (सी) गुणवत्ता

 (डी) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:  डी

 

  1. निम्न में से कौन उत्पादकों के लिए घरेलू बाजार से परे पहुंचने का अवसर पैदा करने में मदद करता है?

 (ए) विदेश व्यापार

 (बी) घरेलू व्यापार

 (सी) आंतरिक व्यापार

 (डी) व्यापार बाधा

 

उत्तर:  ए

 

  1. विदेश व्यापार क्या करता है?

 (ए) माल की पसंद को बढ़ाता है

 (बी) माल की कीमतों में कमी

 (सी) बाजार में प्रतिस्पर्धा बढ़ाता है

 (डी) कमाई घटाता है

 

उत्तर:  डी

 

  1. वैश्वीकरण को किसके द्वारा प्रेरित किया गया था?

 (ए) पैसा

 (बी) परिवहन

 (सी) जनसंख्या

 (डी) कंप्यूटर 

 

उत्तर: बी

 

  1. देश भर में ________- सेवाओं के उत्पादन को सुगम बनाया गया है

 (ए) पैसा

 (बी) मशीन

 (सी) श्रम

 (डी) सूचना और संचार प्रौद्योगिकी

 

उत्तर:  डी

 

  1. आयात पर कर किसका उदाहरण है?

 (ए) निवेश

 (बी) विनिवेश

 (सी) व्यापार बाधा

 (डी) निजीकरण

 

उत्तर:  सी

 

46.उदारीकरण में क्या नहीं शामिल है?

 (ए) व्यापार बाधाओं को दूर करना

 (बी) उदार नीतियां

 (सी) कोटा प्रणाली का परिचय

 (डी) विनिवेश

 

उत्तर:  सी

 

  1. लघु उद्योगों को निम्न में से किसकी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ता है?

 (ए) सस्ता आयात

 (बी) बढ़ती कीमतें

 (सी) निर्यात

 (डी) सब्सिडी

 

 उत्तर:  ए

 

  1. कौन सा कथन असत्य है?

(ए) बहुराष्ट्रीय कंपनियां लघु उद्योगों को सब्सिडी प्रदान करती हैं

(बी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां उत्पादन बढ़ाने के लिए छोटी कंपनियों का अधिग्रहण करती हैं

(सी) बहुराष्ट्रीय कंपनियां विदेशी बाजारों में प्रवेश करने के लिए संयुक्त उद्यम में प्रवेश करती हैं

(डी) बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने विदेशों में अपना उत्पादन केंद्र स्थापित किया

 

उत्तर :  ए 

 

  1. वैश्वीकरण किसके द्वारा समर्थित नहीं है?

 (ए) विकल्पों में से कोई नहीं

 (बी) निजीकरण

 (सी) उदारीकरण

 (डी) सूचना और संचार प्रौद्योगिकी

 

उत्तर:  ए

 

 

Important Questions and Answers

Class 10 Science Important Questions and Answer
Class 10 Social Science Important Questions and Answers
Class 10 English Important Questions and Answers

 
 

अति लघु उत्तरीय प्रश्न (01 Marks)

 

  1. वर्ष दर वर्ष बाजार कैसे बदल गए हैं?

उत्तर: बाजार बदल गए हैं क्योंकि अब वहां कैमरे, कार, घड़ियां, मोबाइल फोन आदि के नवीनतम मॉडल उपलब्ध हैं।

 

  1. MNC या बहुराष्ट्रीय निगम क्या है?

उत्तर: MNC या मल्टी-नेशनल कॉर्पोरेशन एक ऐसी कंपनी है जो एक से अधिक देशों में उत्पादन का स्वामित्व या नियंत्रण करती है। 

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने उत्पादन के लिए किन क्षेत्रों में कार्यालय और कारखाने स्थापित किए हैं?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने निम्नलिखित विशेषताओं के साथ क्षेत्रों में कार्यालय और कारखाने स्थापित किए:

    • बाजार के करीब।
    • कम लागत पर कुशल/अकुशल श्रमिकों की उपलब्धता।
  • सरकार की अनुकूल नीतियां।

 

  1. निवेश और विदेशी निवेश क्या है?

उत्तर: भूमि, भवन, मशीन और अन्य उपकरण जैसी संपत्ति खरीदने के लिए जो पैसा खर्च किया जाता है उसे निवेश कहा जाता है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा किया गया निवेश विदेशी निवेश कहलाता है।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियां दुनिया भर में उत्पादन को कैसे नियंत्रित करती हैं?  कोई एक तरीका बताइए।

उत्तर: विकसित देशों में बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ छोटे उत्पादकों जैसे वस्त्र, जूते आदि के उत्पादन के लिए ऑर्डर देती हैं।

 

  1. फोर्ड मोटर्स क्या है?  यह भारत में कब आया और इसने क्या किया?

उत्तर: फोर्ड मोटर्स, एक अमेरिकी कंपनी, दुनिया के सबसे बड़े ऑटोमोबाइल निर्माताओं में से एक है जिसका उत्पादन दुनिया के 26 देशों में फैला हुआ है। फोर्ड मोटर्स 1995 में भारत आई और चेन्नई के पास एक बड़ा संयंत्र स्थापित करने के लिए र 1700 करोड़ खर्च किए। यह महिंद्रा एंड महिंद्रा के सहयोग से किया गया था।

 

  1. भारत में चीनी खिलौनों के आयात का क्या प्रभाव पड़ा?

उत्तर: चीनी खिलौने भारतीय बाजारों में लोकप्रिय हो गए। एक साल के भीतर, 70 से 80 प्रतिशत दुकानों ने भारतीय खिलौनों को चीनी खिलौनों से बदल दिया है।

 

  1. अधिक विदेशी निवेश और अधिक विदेशी व्यापार का परिणाम क्या है?

उत्तर: अधिक विदेशी निवेश और अधिक विदेशी व्यापार से सभी देशों में उत्पादन और बाजारों का अधिक एकीकरण होता है। 

 

  1. वैश्वीकरण क्या है? (सीबीएसई 2017)

उत्तर: वैश्वीकरण देशों के बीच तीव्र एकीकरण या अंतर्संबंध की प्रक्रिया है। देश माल, सेवाओं, निवेश और प्रौद्योगिकी के आंदोलनों से जुड़े हुए हैं।

 

  1. विदेशी व्यापार में सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी किस प्रकार उपयोगी है ?

उत्तर: दूरसंचार सुविधाएं – टेलीग्राफ, टेलीफोन सहित मोबाइल फोन, फैक्स आदि का उपयोग दुनिया भर में एक दूसरे से संपर्क करने, सूचना तक तुरंत पहुंचने और दूरदराज के क्षेत्रों से संचार करने के लिए किया जाता है।

 

  1. व्यापार बाधा क्या है?

उत्तर: विदेशी व्यापार पर प्रतिबंध को व्यापार बाधा कहा जाता है।  उदाहरण के लिए आयात पर कर एक व्यापार बाधा है।

 

  1. स्वतंत्रता के बाद भारत सरकार ने विदेशी व्यापार और विदेशी व्यापार निवेश में बाधाएँ क्यों डाल दीं?

उत्तर: भारत सरकार ने देश के भीतर उत्पादकों को विदेशी प्रतिस्पर्धा से बचाने के लिए बाधाएं डालीं। उद्योग बस आ ही रहे थे और आयात से प्रतिस्पर्धा भारतीय उद्योगों को आगे नहीं आने देगी।

 

  1. उदारीकरण क्या है?

उत्तर: सरकार द्वारा निर्धारित बाधाओं या प्रतिबंधों को हटाना उदारीकरण के रूप में जाना जाता है।

 

  1. भारत में उदारीकरण की नीति कब प्रारंभ हुई?

 उत्तर: भारत में उदारीकरण की नीति 1991 के आसपास प्रारंभ हुई।

 

  1. विश्व व्यापार संगठन का उद्देश्य क्या है?

उत्तर: विश्व व्यापार संगठन का उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को उदार बनाना है।

 

  1. कौन सा देश किसानों को भारी मात्रा में धन देता है ताकि वे अपने कृषि उत्पादों को अन्य देशों में असामान्य रूप से कम कीमतों पर बेच सकें?

उत्तर: अमेरीका।

 

  1. वैश्वीकरण के परिणामस्वरूप कौन सी भारतीय कंपनियां बहुराष्ट्रीय कंपनियों के रूप में उभरी हैं?  किन्हीं दो के नाम बताइए।

 उत्तर: 

  • टाटा मोटर्स (ऑटोमोबाइल)
  • इंफोसिस (आईटी)
  • रैनबैक्सी (दवाएं)
  • एशियन पेंट्स (पेंट्स)।

 

  1. भारत में लघु उद्योगों में कितने श्रमिक कार्यरत हैं?

उत्तर: भारत में लघु उद्योग देश में कृषि के बाद सबसे अधिक संख्या में (20 मिलियन) श्रमिक कार्यरत हैं।

 

  1. लचीले श्रम कानूनों के तहत श्रमिकों को कैसे नुकसान हुआ है? किन्हीं दो बिन्दुओं का उल्लेख कीजिए।

उत्तर: 

  • श्रमिकों को अब अस्थायी आधार पर नियोजित किया जाता है ताकि नियोक्ताओं को पूरे वर्ष के लिए श्रमिकों का भुगतान न करना पड़े।  ,
  • मजदूरी कम है और दोनों सिरों को पूरा करने के लिए श्रमिकों को ओवरटाइम काम करने के लिए मजबूर किया जाता है।

 

  1. वैश्वीकरण को और अधिक निष्पक्ष कैसे बनाया जा सकता है? दो चरण लिखिए और इसका क्या प्रभाव पड़ेगा?

उत्तर: (1) सरकार को देश के सभी लोगों के हितों की रक्षा करनी चाहिए। सरकार यह सुनिश्चित कर सकती है कि श्रम कानूनों को ठीक से लागू किया जाए और श्रमिकों को उनके अधिकार मिले।

(2) निष्पक्ष वैश्वीकरण सभी के लिए अवसर पैदा करेगा, और यह भी सुनिश्चित करेगा कि वैश्वीकरण के लाभों को बेहतर तरीके से साझा किया जाए।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अधिक लाभ कैसे प्राप्त कर सकती हैं?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उन क्षेत्रों में उत्पादन के लिए कार्यालय और कारखाने स्थापित करती हैं जहाँ उन्हें सस्ता श्रम और अन्य संसाधन मिल सकते हैं। 

 

  1. चीनी खिलौने भारत में इतने लोकप्रिय क्यों हैं?

उत्तर: भारत में खरीदारों के पास अब भारतीय और चीनी खिलौनों के बीच चयन करने का विकल्प है।  सस्ते दाम और नए डिजाइन के कारण चीनी खिलौने भारतीय बाजारों में अधिक लोकप्रिय हो गए।

 

23: वैश्वीकरण के युग को प्रोत्साहित करने के लिए परिवहन प्रौद्योगिकी में सुधार का क्या योगदान है?

उत्तर: पिछले पचास वर्षों में परिवहन प्रौद्योगिकी में कई सुधार हुए हैं। इसने कम लागत पर लंबी दूरी तक माल की तेजी से डिलीवरी संभव बना दी है।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों के निवेश के लिए सबसे आम मार्ग क्या है?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियों के निवेश का सबसे आम मार्ग स्थानीय कंपनियों को खरीदना और फिर उत्पादन का विस्तार करना है।  बड़ी दौलत वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ ऐसा आसानी से कर सकती हैं।

 

  1. उन उद्योगों के उदाहरण दीजिए जिनमें विश्व भर में बड़ी संख्या में छोटे उत्पादकों द्वारा उत्पादन किया जाता है।

उत्तर: गारमेंट्स, फुटवियर और स्पोर्ट्स आइटम ऐसे उद्योगों के उदाहरण हैं जहां दुनिया भर में बड़ी संख्या में छोटे उत्पादकों द्वारा उत्पादन किया जाता है।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियां अपने उत्पादन को फैलाने के लिए स्थानीय कंपनियों के साथ कैसे संपर्क कर रही हैं?

उत्तर: कई तरीके हैं, जैसे-स्थानीय कंपनियों के साथ साझेदारी स्थापित करके, आपूर्ति के लिए स्थानीय कंपनियों का उपयोग करके और स्थानीय कंपनियों के साथ निकटता से प्रतिस्पर्धा करके या उन्हें खरीदकर। 

 

  1. वैश्वीकरण में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की भूमिका की व्याख्या कीजिए।

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियां वैश्वीकरण की प्रक्रिया में एक प्रमुख भूमिका निभा रही हैं।  अधिक से अधिक सामान और सेवाएं, निवेश और प्रौद्योगिकी देशों के बीच आगे बढ़ रहे हैं।

 

  1. वैश्वीकरण के युग को प्रोत्साहित करने के लिए परिवहन प्रौद्योगिकी में सुधार का क्या योगदान है?

उत्तर: पिछले पचास वर्षों में परिवहन प्रौद्योगिकी में कई सुधार हुए हैं। इसने कम लागत पर लंबी दूरी तक माल की तेजी से डिलीवरी संभव बना दी है।

 

  1. सरकारें व्यापार बाधाओं का उपयोग क्यों करती हैं?

उत्तर: सरकारें विदेशी व्यापार को बढ़ाने या घटाने (विनियमित) के लिए व्यापार बाधाओं का उपयोग कर सकती हैं और यह तय कर सकती हैं कि देश में किस प्रकार का सामान और प्रत्येक देश का कितना सामान आना चाहिए।

 

  1. स्वतंत्रता के बाद भारत सरकार ने विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश में बाधा क्यों डाली?

उत्तर: देश के भीतर उत्पादकों को विदेशी प्रतिस्पर्धा से बचाने के लिए इसे आवश्यक समझा गया।  उद्योग बस आ ही रहे थे और उस स्तर पर आयात से प्रतिस्पर्धा इन उद्योगों को आने नहीं देती थी।

 

  1. स्वतंत्रता के बाद किन वस्तुओं के आयात की अनुमति दी गई?

उत्तर: स्वतंत्रता के बाद, केवल आवश्यक वस्तुओं जैसे मशीनरी, उर्वरक, पेट्रोलियम आदि के आयात को ही आयात करने की अनुमति दी गई थी।

 

  1. उदारीकरण नीति व्यापार में किस प्रकार सहायता करती है?

उत्तर: व्यापार के उदारीकरण के साथ, व्यवसायों को स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने की अनुमति है कि वे क्या आयात या निर्यात करना चाहते हैं।  सरकार पहले की तुलना में बहुत कम प्रतिबंध लगाती है और इसलिए इसे अधिक उदार कहा जाता है।

 

  1. विश्व व्यापार संगठन क्या है?

उत्तर: यह विश्व व्यापार संगठन है जो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर व्यापार के उदारीकरण की निगरानी करता है। 

 

  1. विश्व व्यापार संगठन के गठन का मुख्य उद्देश्य क्या था? [सीबीएसई 2017]

उत्तर: विश्व व्यापार संगठन के गठन का मुख्य उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को उदार बनाना है।

 

  1. व्यापार को उदार बनाने में विश्व व्यापार संगठन की क्या भूमिका है?

उत्तर: WTO की शुरुआत विकसित देशों की पहल पर हुई थी। विश्व व्यापार संगठन अंतरराष्ट्रीय व्यापार के संबंध में नियम स्थापित करता है, और देखता है कि नियमों का पालन किया जाता है या नहीं। 

 

  1. . बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ किन विशिष्ट उद्योगों में रुचि रखती हैं?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियां सेल फोन, ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक्स, शीतल पेय, फास्ट फूड या शहरी क्षेत्रों में बैंकिंग जैसी सेवाओं जैसे उद्योगों में रुचि रखती हैं।

 

  1. भारत में केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा ‘विशेष आर्थिक क्षेत्र’ क्यों स्थापित किए जा रहे हैं?  [सीबीएसई 2017]

उत्तर: विदेशी कंपनियों को भारत में निवेश के लिए आकर्षित करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार द्वारा विशेष आर्थिक क्षेत्र स्थापित किए जा रहे हैं। 

 

  1. दुनिया भर के देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा निवेश के लिए सबसे आम मार्ग कौन सा है?  [सीबीएसई नमूना पेपर 2017]

उत्तर: दुनिया भर के देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा निवेश के लिए सबसे आम मार्ग स्थानीय कंपनियों को खरीदना और फिर उत्पादन का विस्तार करना है।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उन क्षेत्रों में अपने कार्यालय और कारखाने क्यों स्थापित करती हैं जहाँ उन्हें सस्ता श्रम और अन्य संसाधन मिलते हैं?  [सीबीएसई (एआई) 2016]

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अपने कार्यालय और कारखाने उन क्षेत्रों में स्थापित करती हैं जहाँ उन्हें सस्ते श्रम और अन्य संसाधन मिलते हैं क्योंकि –

 (i) उत्पादन की कम लागत।

 (ii) वे अधिक लाभ कमा सकते हैं

 

  1. किस कारण से विभिन्न वस्तुओं के नवीनतम मॉडल हमारी पहुंच के भीतर उपलब्ध हैं? [सीबीएसई 2016]

उत्तर: वैश्वीकरण के कारण हमारे पास डिजिटल कैमरा, मोबाइल फोन, टीवी आदि के नवीनतम मॉडल उपलब्ध हैं। 
 

 
 

लघु उत्तरीय प्रश्न (03 Marks)

 

1: विदेशी व्यापार विभिन्न देशों के बाजारों को आपस में कैसे जोड़ता है? उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिए। [सीबीएसई 2016, 2017]

उत्तर: विदेशी व्यापार ने विभिन्न देशों के बाजारों को निम्न प्रकार से आपस में जोड़ा है। 

  • विदेशी व्यापार उत्पादकों के लिए घरेलू बाजारों से परे पहुंचने का अवसर पैदा करता है। 
  • उत्पादक अपनी उपज को स्थानीय और विदेशी बाजार में बेच सकते हैं। 
  • यह माल की पसंद का विस्तार करने का एक तरीका है। 
  • बाजारों में माल की पसंद बढ़ जाती है। 
  • दो बाजारों में समान वस्तुओं की कीमतें समान हो जाती हैं। 
  • आपस में कड़ी प्रतिस्पर्धा। 

 

  1. वैश्वीकरण में प्रतिस्पर्धा के साथ कौन सी भारतीय कंपनियां बहुराष्ट्रीय कंपनियां बन गई हैं?

उत्तर: (i) कई शीर्ष भारतीय कंपनियां बढ़ी हुई प्रतिस्पर्धा से लाभ उठाने में सफल रही हैं।

 (ii) उन्होंने नई तकनीक और उत्पादन विधियों में निवेश किया है और अपने उत्पादन मानकों को बढ़ाया है।

 (iii) वैश्वीकरण ने कुछ बड़ी कंपनियों को स्वयं बहुराष्ट्रीय कंपनियों के रूप में उभरने में सक्षम बनाया है जैसे टाटा मोटर्स (ऑटोमोबाइल), इंफोसिस (आईटी), रैनबैक्सी (मेडिसिन), एशियन पेंट्स (पेंट), सुंदरम फास्टनर (नट और बोल्ट) कुछ भारतीय कंपनियां हैं जो हैं  दुनिया भर में अपने कार्यों का प्रसार। 

 

  1. विश्व व्यापार संगठन का प्रमुख उद्देश्य क्या है? विश्व व्यापार संगठन की कोई दो कमियाँ बताइए?  (सीबीएसई 2011, 2012)

उत्तर: विश्व व्यापार संगठन का मानना ​​है कि विभिन्न देशों के व्यापार के बीच कोई बाधा नहीं होनी चाहिए। देशों के बीच व्यापार मुक्त होना चाहिए।

 विश्व व्यापार संगठन के उद्देश्य:

 

  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को उदार बनाना।
  •  अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के संबंध में नियम स्थापित करना।

 विश्व व्यापार संगठन की दो कमियाँ:

 

  • यद्यपि विश्व व्यापार संगठन को सभी के लिए मुक्त व्यापार की अनुमति देनी चाहिए, व्यवहार में, यह देखा गया है कि विकसित देशों ने व्यापार बाधाओं को गलत तरीके से बनाए रखा है और अपने उत्पादकों को सुरक्षा प्रदान करना जारी रखा है।  
  • दूसरी ओर विश्व व्यापार संगठन के नियमों ने विकासशील देशों को व्यापार बाधाओं को दूर करने के लिए मजबूर किया है। 

 

4: सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियां वैश्वीकरण से कैसे लाभान्वित हो रही हैं?

उत्तर: (i) वैश्वीकरण ने सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियों, विशेष रूप से आईटी से जुड़ी कंपनियों के लिए भी नए अवसर पैदा किए हैं।

 

(ii) ऐसी भारतीय कंपनियां हैं जो लंदन स्थित कंपनियों के लिए पत्रिकाएं तैयार कर रही हैं और कॉल सेंटर भी वैश्वीकरण के कारण ही मौजूद हैं।

 

(iii) इसके अलावा, डेटा प्रविष्टि, लेखा, प्रशासनिक कार्य, इंजीनियरिंग जैसी सेवाओं की मेजबानी अब भारत जैसे विकासशील देशों में सस्ते में की जा रही है और विकसित देशों को निर्यात की जाती है। 

 

5: “कुछ ही वर्षों में, भारतीय बाजारों में सामानों की व्यापक पसंद के साथ कायापलट हो गया है।” उदाहरण सहित कथन का समर्थन करें। [सीबीएसई 2017]

उत्तर: बाजार में हमारे सामने विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ और सेवाएँ हैं।

  • दुनिया के अग्रणी निर्माताओं द्वारा बनाए गए डिजिटल कैमरा, मोबाइल फोन और टेलीविजन के नवीनतम मॉडल बाजार में उपलब्ध हैं।
  • भारतीय सड़कों पर हर सीजन में ऑटोमोबाइल के नए मॉडल देखे जा सकते हैं।
  • आज भारतीय दुनिया की लगभग सभी शीर्ष कंपनियों द्वारा निर्मित कारें खरीद रहे हैं।
  • इसी तरह का विस्फोट कई अन्य सामानों के लिए भी देखा जा सकता है।

 

6.’1991 से भारत में विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश की बाधाओं को काफी हद तक हटा दिया गया।’ इस कथन की पुष्टि कीजिए।  [सीबीएसई 2016]

उत्तर: विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश पर बाधाओं को दूर करना:

  • विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश पर बाधाओं को आंशिक रूप से हटा दिया गया था।
  • माल का आयात और निर्यात आसानी से किया जा सकता था।
  • विदेशी कंपनियां यहां कारखाने और कार्यालय स्थापित कर सकती थीं।
  • भारतीय उत्पादकों के लिए दुनिया भर के उत्पादकों के साथ प्रतिस्पर्धा करने के अवसर प्रदान की। 

 

  1. स्वतंत्रता के बाद भारत सरकार ने विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश में बाधा क्यों डाली? कारणों का विश्लेषण करें।  [सीबीएसई 2016]

उत्तर: भारत सरकार ने स्वतंत्रता के बाद विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश में बाधाएँ डालीं क्योंकि:

  • यह देश के भीतर उत्पादकों को विदेशी प्रतिस्पर्धा से बचाना चाहता था।
  • चूंकि उद्योग 1950 और 1960 के दशक में ही आ रहे थे, उस स्तर पर इनपुट से प्रतिस्पर्धा ने इन उद्योगों को आगे नहीं आने दिया।
  • भारत ने केवल आवश्यक वस्तुओं जैसे मशीनरी उर्वरक, पेट्रोलियम आदि के आयात की अनुमति दी।

 

  1. वैश्वीकरण और उत्पादकों के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा के कारण उपभोक्ताओं को होने वाले किन्हीं पांच लाभों का वर्णन कीजिए।  [सीबीएसई 2017]

उत्तर: वैश्वीकरण और उत्पादकों, स्थानीय और विदेशी दोनों उत्पादकों के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा से उपभोक्ताओं को लाभ हुआ है।

 

  • प्रतिस्पर्धी मूल्य के साथ-साथ उपभोक्ताओं के सामने एक बड़ा विकल्प है।
  • वे कई उत्पादों के लिए बेहतर गुणवत्ता और कम कीमतों का आनंद लेते हैं।
  • वे जीवन स्तर के उच्च स्तर का आनंद लेते हैं जो पहले संभव था।
  • उपभोक्ता अधिकारों को सुदृढ़ करना जैसे – सूचना का अधिकार, चुनने का अधिकार, सुनने का अधिकार और शिकायत निवारण का अधिकार उपभोक्ताओं को दिया गया है।
  • उपभोक्ताओं के कानूनी अधिकार अधिक प्रभावी हो गए हैं। 

 

  1. निवेश क्या है? विदेशी निवेश इससे किस प्रकार भिन्न है? (सीबीएसई 2016)

उत्तर: भूमि, भवन, मशीन और अन्य उपकरण जैसे संपत्ति खरीदने के लिए जो पैसा खर्च किया जाता है उसे निवेश कहा जाता है। 

बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा किया गया निवेश विदेशी निवेश कहलाता है। हर निवेश इस उम्मीद के साथ किया जाता है कि संपत्ति इन कंपनियों के लिए मुनाफा कमाएगी। 

बहुराष्ट्रीय कंपनियां किसी भी देश में व्यापार करने हेतु वहां की संपन्न स्थानीय कंपनियों का अधिग्रहण कर लेती हैं। 

 

  1. पूँजी निवेश के आधार पर उद्योगों का वर्गीकरण कीजिए। वे एक दूसरे से कैसे भिन्न हैं?  उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिए। [सीबीएसई (दिल्ली) 2016]

उत्तर: पूंजी निवेश के आधार पर उद्योगों का वर्गीकरण:

 (i) लघु उद्योग

 (ii) बड़े पैमाने का उद्योग

 

 अंतर:

 (i) यदि किसी उद्योग पर एक करोड़ से अधिक का निवेश किया जाता है तो उसे बड़े पैमाने का उद्योग माना जाता है, उदाहरण के लिए, लोहा और इस्पात उद्योग/सीमेंट उद्योग।

 (ii) जबकि एक उद्योग पर एक करोड़ से कम का निवेश एक लघु उद्योग माना जाता है, उदाहरण के लिए, प्लास्टिक उद्योग, खिलौना उद्योग।

 

  1. वैश्वीकरण और उत्पादकों के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा उपभोक्ताओं के लिए फायदेमंद रही है।”  उदाहरण सहित कथन की पुष्टि कीजिए। [सीबीएसई 2016, 17]

उत्तर: वैश्वीकरण और उत्पादकों, स्थानीय और विदेशी दोनों तरह के उत्पादकों के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा से उपभोक्ताओं को फायदा हुआ है।

 

 (i) प्रतिस्पर्धी मूल्य के साथ-साथ उपभोक्ताओं के सामने अधिक विकल्प हैं।

 

 (ii) वे कई उत्पादों के लिए बेहतर गुणवत्ता और कम कीमतों का आनंद लेते हैं।

 

 (iii) वे जीवन स्तर के उच्च स्तर का आनंद लेते हैं जो पहले संभव था।

 

 (iv) उपभोक्ता अधिकारों को सुदृढ़ करना जैसे – सूचना का अधिकार, चुनने का अधिकार, सुनने का अधिकार और शिकायत निवारण का अधिकार उपभोक्ताओं को दिया गया है।

 

 (v) उपभोक्ताओं के कानूनी अधिकार अधिक प्रभावी हो गए हैं।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अन्य देशों में उत्पादन को स्थापित करने या नियंत्रित करने के विभिन्न तरीके क्या हैं?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय निगम (एमएनसी) अपने कारखाने या उत्पादन इकाइयाँ बाजारों के पास स्थापित करते हैं जहाँ वे उत्पादन के अन्य कारकों के साथ-साथ कम लागत पर वांछित प्रकार के कुशल या अकुशल श्रम प्राप्त कर सकते हैं।  इन शर्तों को सुनिश्चित करने के बाद बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ निम्नलिखित तरीकों से उत्पादन इकाइयाँ स्थापित करती हैं: 

 

  • मौजूदा देश की कुछ स्थानीय कंपनियों के साथ संयुक्त रूप से।
  • स्थानीय कंपनियों को खरीदें और फिर आधुनिक तकनीक की मदद से अपने उत्पादन का विस्तार करें। 
  • वे छोटे उत्पादकों के लिए ऑर्डर देते हैं और इन उत्पादों को अपने ब्रांड नाम के तहत दुनिया भर के ग्राहकों को बेचते हैं।

 

  1. वैश्वीकरण भारत में उत्पादकों और उपभोक्ताओं दोनों के लिए किस प्रकार लाभप्रद रहा है?(सीबीएसई 2012)

 उत्तर:  कई शीर्ष भारतीय कंपनियां बढ़ी हुई प्रतिस्पर्धा से लाभ उठाने में सफल रही हैं। उन्होंने नई तकनीक और उत्पादन विधियों में निवेश किया है और इस तरह अपने उत्पादन मानकों को बढ़ाया है। उन्हें विदेशी कंपनियों के साथ सफल सहयोग से लाभ हुआ है। वैश्वीकरण ने आईटी क्षेत्र के विकास में मदद की। कम कीमतों पर अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पादों का उत्पादन किया जा रहा है।

 उपभोक्ताओं के सामने अधिक विकल्प हैं जो कई उत्पादों के लिए बेहतर गुणवत्ता और कम कीमतों का आनंद ले सकते हैं।

 आज लोग पहले की तुलना में कहीं अधिक उच्च जीवन स्तर का आनंद ले रहे हैं।

 

  1. किसी देश के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की उन्नति उसकी आर्थिक समृद्धि का सूचक है।”  पाँच तर्कों के साथ कथन की पुष्टि कीजिए।  (सीबीएसई 2013)

उत्तर: किसी देश के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की उन्नति उसकी आर्थिक समृद्धि का सूचक है।”

 

  • चूंकि कोई भी देश सभी संसाधनों में आत्मनिर्भर नहीं है, वह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के बिना जीवित नहीं रह सकता है।
  • यदि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का संतुलन अनुकूल है, तो एक देश अधिक विदेशी मुद्रा अर्जित करने में सक्षम होगा।
  • अंतर्राष्ट्रीय व्यापार एक देश को वस्तुओं के निर्यात के लिए द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्रों को विकसित करने के लिए प्रोत्साहित करता है जो अधिक विदेशी मुद्रा प्राप्त कर सकते हैं।
  • किसी देश की आर्थिक समृद्धि का अंदाजा उसके अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के स्वास्थ्य से लगाया जा सकता है।
  • एक देश अंतरराष्ट्रीय व्यापार के माध्यम से बड़ी मात्रा में विदेशी मुद्रा अर्जित कर सकता है।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों को अपनी उत्पादन इकाइयां स्थापित करने के लिए किन शर्तों का ध्यान रखना चाहिए?  (सीबीएसई  2017)

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियों को अपनी उत्पादन इकाइयां स्थापित करने के लिए निम्न शर्तों का ध्यान रखना चाहिए

 

  • बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उन क्षेत्रों में उत्पादन के लिए कार्यालय और कारखाने स्थापित करती हैं जहाँ उन्हें सस्ता श्रम और अन्य संसाधन मिल सकते हैं। उदाहरण, चीन, बांग्लादेश और भारत जैसे देश। 
  • वे सस्ते विनिर्माण स्थानों का लाभ भी प्रदान करते हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों को भी अपने विनिर्माण सामानों के लिए निकटवर्ती बाजारों की आवश्यकता होती है। मेक्सिको और पूर्वी यूरोप अमेरिका और यूरोप के बाजारों से निकटता के लिए उपयोगी हैं।
  • इनके अलावा, बहुराष्ट्रीय कंपनियों को कुशल इंजीनियरों और आईटी कर्मियों और बड़ी संख्या में अंग्रेजी बोलने वाले लोगों की भी आवश्यकता होती है जो ग्राहक देखभाल सेवाएं प्रदान करने में सक्षम हैं (भारत संभवतः इस क्षेत्र में सबसे ऊपर है)।

 

ये सभी कारक बहुराष्ट्रीय कंपनियों को उत्पादन लागत में 50-60% की बचत करने में मदद करते हैं। 

 

  1. वैश्वीकरण की प्रक्रिया में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की भूमिका की व्याख्या कीजिए।  (सीबीएसई 2014)

उत्तर: वैश्वीकरण देशों के बीच तेजी से एकीकरण या अंतर-संयोजन की प्रक्रिया है। बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने वैश्वीकरण की प्रक्रिया में निम्न प्रकार से  योगदान दिया है।

 

  • बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने विभिन्न देशों में उत्पादन केंद्र स्थापित किए हैं और विभिन्न देशों को उत्पादित वस्तुओं, सेवाओं और प्रौद्योगिकी की आपूर्ति कर रहे हैं।
  • दुनिया के देश करीब आ गए हैं।  इसने देशों के बीच लोगों की आवाजाही भी बढ़ा दी है।
  • बहुराष्ट्रीय कंपनियां तेजी से उत्पादन के लिए अतिरिक्त निवेश के लिए धन उपलब्ध कराती हैं।  साथ ही, बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अपने साथ उत्पादन बढ़ाने और सुधारने के लिए नवीनतम तकनीक लाती हैं।

 

  1. व्यापार क्या है?  अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार के महत्व को स्पष्ट कीजिए।  (2015 ओडी, 2016 डी)

उत्तर: लोगों, राज्यों और देशों के बीच वस्तुओं के आदान-प्रदान को व्यापार कहा जाता है।

 अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का महत्व:

 

  • किसी देश का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार उसकी आर्थिक समृद्धि का सूचक होता है।
  • चूंकि कोई भी देश सभी संसाधनों में आत्मनिर्भर नहीं है, वह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के बिना जीवित नहीं रह सकता है।
  • प्रमुख व्यापारिक ब्लॉकों के साथ देशों के व्यापारिक संबंध हैं।
  • सूचना और ज्ञान के आदान-प्रदान द्वारा वस्तुओं और वस्तुओं के आदान-प्रदान का स्थान ले लिया गया है। 

 

  1. भारत की अर्थव्यवस्था में बैंक किस प्रकार महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं?(सीबीएसई 2015 ओडी)

उत्तर: बैंक लोगों को उनके पैसे बचाने और उनके पैसे को सुरक्षित रखने में मदद करते हैं। अपने पैसे की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, लोग अपना पैसा बैंकों में जमा करते हैं। बैंक जमा स्वीकार करते हैं और जमा पर ब्याज का भुगतान करते हैं। लोगों के पास जरूरत पड़ने पर अपना पैसा निकालने का प्रावधान है। बैंक लोगों को विभिन्न उद्देश्यों के लिए ऋण भी देते हैं। जरूरत के समय व्यक्ति, व्यापारिक घराने और उद्योग बैंकों से पैसा उधार ले सकते हैं। बैंकों द्वारा प्रदान किया गया ऋण देश के विकास और आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है।  

 

  1. विदेश व्यापार और विदेशी निवेश नीति का उदारीकरण ने वैश्वीकरण का रास्ता कैसे सुगम किया?

उत्तर: विदेश व्यापार और विदेशी निवेश नीति का उदारीकरण ने वैश्वीकरण का रास्ता निम्न प्रकार सुगम किया; 

 

  • सरकार द्वारा निर्धारित बाधाओं या प्रतिबंधों को हटाना उदारीकरण है।  उदारीकरण के तहत वस्तुओं का आयात और निर्यात आसानी से किया जा सकता है।
  • विदेशी कंपनियों को दूसरे देशों में कारखाने और कार्यालय स्थापित करने की अनुमति है।
  • इस प्रकार उदारीकरण ने बहुराष्ट्रीय कंपनियों को भारत जैसे अन्य देशों में अपना निवेश बढ़ाने में सक्षम बनाया है।
  • अधिक विदेशी निवेश और अधिक विदेशी व्यापार के परिणामस्वरूप, सभी देशों में उत्पादन और बाजारों का अधिक एकीकरण होता है।
  • वैश्वीकरण देशों के बीच अंतर्संबंधों के तीव्र एकीकरण की यह प्रक्रिया है।

 

  1. सूचना और संचार प्रौद्योगिकी ने पूरे देश में सेवाओं के उत्पादन को फैलाने में एक प्रमुख भूमिका निभाई है।”  उदाहरण सहित कथन की पुष्टि कीजिए। [सीबीएसई 2015, 16]

उत्तर: वैश्वीकरण को सक्षम करने वाले कारक नीचे दिए गए हैं:

  1. प्रौद्योगिकी: पिछले पचास वर्षों में, प्रौद्योगिकी में कई सुधार हुए हैं।

उदाहरण: परिवहन प्रौद्योगिकी में, कंटेनरों का उपयोग उन सामानों के परिवहन के लिए किया जाता है जिन्हें कंटेनरों में रखा जाता है जिन्हें जहाजों, रेलवे, विमानों और ट्रकों पर लोड किया जा सकता है। कंटेनरों ने पोर्ट हैंडलिंग लागत में भारी कमी की है और उस गति में वृद्धि की है जिसके साथ निर्यात बाजारों तक पहुंच सकता है।

 

(2) सूचना प्रौद्योगिकी: दूरसंचार सुविधाएं – टेलीग्राफ, मोबाइल फोन, फैक्स – का उपयोग दुनिया भर में एक दूसरे से संपर्क करने और दूरदराज के क्षेत्रों से संवाद करने के लिए किया जाता है।

यहां तक ​​कि लंदन के एक बैंक से दिल्ली के एक बैंक में डिजाइनिंग और प्रिंटिंग के लिए पैसे का भुगतान भी इंटरनेट ई., ई-बैंकिंग के माध्यम से तुरंत किया जाता है। 

 

  1. एसईजेड (SEZ) क्या हैं?

उत्तर: SEZ किसी देश का एक विशेष आर्थिक क्षेत्र है जो अद्वितीय आर्थिक नियमों के अधीन होता है जो उसी देश के अन्य क्षेत्रों से भिन्न होता है। ये नियम प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए अनुकूल हैं। एसईजेड में कारोबार करने का आमतौर पर मतलब होता है कि कंपनी को कर प्रोत्साहन और कम टैरिफ का भुगतान करने का अवसर मिलेगा। एसईजेड में उत्पादन इकाइयां स्थापित करने वाली कंपनियों को शुरुआती पांच साल की अवधि के लिए करों का भुगतान नहीं करना पड़ता है।

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों को SEZ के क्या लाभ हैं?

उत्तर: एसईजेड में उत्पादन इकाइयां स्थापित करने वाली कंपनियों को शुरुआती पांच साल की अवधि के लिए करों का भुगतान नहीं करना पड़ता है। सरकार ने विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए श्रम कानूनों में लचीलेपन की अनुमति दी है l 

बहुराष्ट्रीय कंपनियों को भारत में प्रवेश करने के साथ ही उच्च करों का सामना करना पड़ता है,इसके अलावा सरकार की विदेशी निवेश में वृद्धि के दृष्टिकोण से निवेश क्षेत्र में उदारवादी कदम भी बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने भारत में अधिकाधिक निवेश किया। 

 

  1. बहुराष्ट्रीय कंपनियों से प्रतिस्पर्धा में शीर्ष भारतीय कंपनियों को कैसे लाभ हुआ है?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने नई तकनीक और उत्पादन विधियों में निवेश किया है और अपने उत्पादन मानकों को बढ़ाया है। कुछ को विदेशी कंपनियों के साथ सफल सहयोग से लाभ हुआ है।

 

उदाहरण के लिए महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी को ही देख लीजिए जब 1995 में भारत में फोर्ड मोटर्स कंपनी ने आगमन किया तो यहां पर प्लांट लगाने के लिए उन्होंने महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के साथ करार किया जिससे महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी के उत्पादन क्षमता में वृद्धि हुई और इसके अलावा उनको नई प्रौद्योगिकी अपनाने का भी मौका मिला। 

 

  1. आप कैसे कह सकते हैं कि बहुराष्ट्रीय कंपनियों में कामगारों की नौकरी सुरक्षित नहीं है?

उत्तर: वैश्वीकरण और प्रतिस्पर्धा के दबाव ने श्रमिकों के जीवन को काफी हद तक बदल दिया है। बढ़ती प्रतिस्पर्धा का सामना करते हुए, अधिकांश नियोक्ता इन दिनों श्रमिकों को ‘लचीले’ तरीके से नियुक्त करना पसंद करते हैं। इसका मतलब है कि श्रमिकों की नौकरी अब सुरक्षित नहीं है।

 

बढ़ती प्रतियोगिता में बहुराष्ट्रीय कंपनियों के पास भारत जैसे विकासशील और बड़े देशों में कामगारों की कमी नहीं है, इसलिए भी भारत में बहुराष्ट्रीय कंपनियों में विशेषकर छोटे कर्मचारियों की नौकरी सुरक्षित नहीं है।  

 

25.. सरकार भारत में निष्पक्ष वैश्वीकरण कैसे सुनिश्चित कर सकती है?

उत्तर: भारत में निष्पक्ष वैश्वीकरण को संभव बनाने में सरकार प्रमुख भूमिका निभा सकती है। सरकार यह सुनिश्चित कर सकती है कि श्रम कानूनों को ठीक से लागू किया जाए और श्रमिकों को उनके अधिकार मिले। यदि आवश्यक हो, तो सरकार व्यापार और निवेश बाधाओं का उपयोग कर सकती है।  भारत में निष्पक्ष वैश्वीकरण को सुनिश्चित करने हेतु सरकार को बहुराष्ट्रीय कंपनियों को कुछ रियायत देनी होगी तथा भारत में बहुराष्ट्रीय कंपनियों की स्थापना की प्रक्रिया सरल बनाना होगा इसके अलावा बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए उदारवादी आर्थिक नीतियां अपनानी होगी। 

 

 
Important Videos Links

 
 

कंडीशन बेस्ड क्वेश्चन (04 Marks)

1.आइए भारतीय बाजारों में चीनी खिलौनों के उदाहरण के माध्यम से विदेशी व्यापार के प्रभाव को देखें।  चीनी निर्माता भारत में खिलौनों को निर्यात करने का अवसर सीखते हैं, जहां खिलौने उच्च कीमत पर बेचे जाते हैं।  वे भारत में प्लास्टिक के खिलौनों का निर्यात शुरू करते हैं।  भारत में खरीदारों के पास अब भारतीय और चीनी खिलौनों के बीच चयन करने का विकल्प है।  सस्ते दाम और नए डिजाइन की वजह से चीनी खिलौने भारतीय बाजारों में ज्यादा लोकप्रिय हो गए हैं।  एक साल के भीतर ही 70 से 80 फीसदी खिलौनों की दुकानों ने भारतीय खिलौनों की जगह चीनी खिलौनों से ले ली है।  खिलौने अब भारतीय बाजारों में पहले के मुकाबले सस्ते हो गए हैं। यहाँ क्या हो रहा है? व्यापार के फलस्वरूप चीनी खिलौने भारतीय बाजारों में आते हैं। भारतीय और चीनी के बीच प्रतियोगिता में;  खिलौने, चीनी खिलौने बेहतर साबित होते हैं। भारतीय खरीदारों के पास कम कीमत पर खिलौनों का अधिक विकल्प है। चीनी खिलौना निर्माताओं के लिए, यह व्यापार का विस्तार करने का अवसर प्रदान करता है। भारतीय खिलौना निर्माताओं के लिए यह विपरीत है। उन्हें नुकसान का सामना करना पड़ता है, क्योंकि उनके खिलौने बहुत कम बिक रहे हैं। 

 

  1. चीनी खिलौनों ने भारतीय बाजारों में भी वैश्विक उपस्थिति दर्ज कराई है।  यदि भारत चीनी उत्पादों को अपने बाजार में प्रतिबंधित करता है तो इसका क्या अर्थ होगा?

 (ए) यह भारतीय बाजारों में प्रतिस्पर्धा को कम करेगा।

 (बी) यह एक अस्वास्थ्यकर व्यापार अभ्यास होगा।

 (सी) यह दोनों देशों के बीच आर्थिक और साथ ही राजनीतिक संबंधों को प्रभावित करेगा।

 (डी) दोनों (बी) और (सी)

 

 उत्तर: (डी) 

 

  1. दिए गए मामले के संदर्भ में विदेशी व्यापार का मूल कार्य क्या है?

(ए) यह विभिन्न देशों के बाजारों को जोड़ता है।

(बी) यह केवल खरीदार के लिए विदेशी सामान तक पहुंचने    के अवसर पैदा करता है।

 (सी) यह केवल दो देशों के बाजारों को जोड़ता है।

 (डी) विदेशी व्यापार विकसित देशों को ही जोड़ता है।

 

उत्तर: (ए) 

 

iii. चीनी खिलौनों पर टैक्स लगने से क्या होगा?

 (ए) चीनी खिलौने बनाने वालों को फायदा होगा।

 (बी) भारतीय खिलौने बनाने वाले समृद्ध होंगे।

 (सी) चीनी खिलौने सस्ते रहेंगे

 (डी) भारतीय उपभोक्ता अधिक चीनी खिलौने खरीदेंगे।

 

उत्तर: (बी)

 

(iv) हाल के वर्षों में बाजार कैसे बदल गए हैं?

 (ए) सामान सस्ता हो जाता है और उपयोगकर्ता के पास कई विकल्प होते हैं।

 (बी) लोगों के लिए कम नौकरी के अवसर।

 (सी) वस्तुओं और सेवाओं के निर्माताओं के बीच उच्च प्रतिस्पर्धा

 (डी) दोनों (ए) और (सी)

 

उत्तर: (डी)

 

  1. पिछले कुछ वर्षों में भारत कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों का दूसरा घर बन गया है। बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ उन क्षेत्रों में उत्पादन के लिए कार्यालय और कारखाने स्थापित करती हैं जहाँ उन्हें सस्ता श्रम और अन्य संसाधन मिल सकते हैं। ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि उत्पादन की लागत कम हो और बहुराष्ट्रीय कंपनियां अधिक मुनाफा कमा सकें। बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ वहाँ उत्पादन स्थापित करती हैं जहाँ यह बाज़ारों के निकट होता है;  जहां कम लागत पर कुशल और अकुशल श्रमिक उपलब्ध हों;  और जहां उत्पादन के अन्य साधनों की उपलब्धता सुनिश्चित हो।  लेकिन बहुराष्ट्रीय कंपनियों के निवेश का सबसे आम तरीका स्थानीय कंपनियों को खरीदना और फिर उत्पादन का विस्तार करना है।  बड़ी दौलत वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियां ऐसा आसानी से कर सकती हैं।  उदाहरण के लिए, एक बहुत बड़ी अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनी कारगिल फूड्स ने पारख फूड्स जैसी छोटी भारतीय कंपनियों को खरीद लिया है। पारेख फूड्स ने भारत के विभिन्न हिस्सों में एक बड़ा मार्केटिंग नेटवर्क बनाया था, जहां इसके ब्रांड की अच्छी प्रतिष्ठा थी।  साथ ही, पारख फूड्स की चार तेल रिफाइनरियां थीं, जिनका नियंत्रण अब कारगिल में स्थानांतरित हो गया है।  कारगिल अब भारत में खाद्य तेल का सबसे बड़ा उत्पादक है, जिसकी प्रतिदिन 5 मिलियन पाउच बनाने की क्षमता है।  विकसित देशों में बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ छोटे उत्पादकों को उत्पादन के लिए ऑर्डर देती हैं।  गारमेंट्स, फुटवियर, स्पोर्ट्स आइटम ऐसे उद्योगों के उदाहरण हैं जहां दुनिया भर में बड़ी संख्या में छोटे उत्पादकों द्वारा उत्पादन किया जाता है।  उत्पादों की आपूर्ति बहुराष्ट्रीय कंपनियों को की जाती है, जो फिर इन्हें अपने ब्रांड नाम से ग्राहकों को बेचती हैं।  इन बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के पास इन दूर के उत्पादकों के लिए कीमत, गुणवत्ता, वितरण और श्रम की स्थिति निर्धारित करने की जबरदस्त शक्ति है। फोर्ड मोटर्स, एक अमेरिकी कंपनी, दुनिया के सबसे बड़े ऑटोमोबाइल निर्माताओं में से एक है जिसका उत्पादन दुनिया के 26 देशों में फैला हुआ है। फोर्ड मोटर्स 1995 में भारत आई और उसने रु.  चेन्नई के पास एक बड़ा प्लांट लगाने के लिए 1700 करोड़ रुपये। यह जीप और ट्रकों के एक प्रमुख भारतीय निर्माता महिंद्रा एंड महिंद्रा के सहयोग से किया गया था।

 

  1. किन क्षेत्रों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने उत्पादन के लिए कार्यालय और कारखाने स्थापित किए हैं?

 

 (ए) बाजार के करीब

 (बी) कुशल/अकुशल श्रमिकों की कम लागत पर उपलब्धता

 (सी) अनुकूल सरकारी नीतियां

 (डी) उपरोक्त सभी 

 

उत्तर: डी

 

  1. बहु राष्ट्रीय कंपनियों का निवेश का सबसे आम तरीका क्या है? 

 

(ए)  स्थानीय कंपनियों का अधिग्रहण 

(बी) स्थानीय दुकानदारों से हिस्सेदारी

(सी) स्थानीय कंपनियों से हिस्सेदारी

(डी) इनमे से कोई नहीं

 

उत्तर: ए 

 

iii. भारत में फोर्ड कंपनी कब आई?

 

(ए)  1999

(बी) 1976

(सी) 1990

(डी) 1995

 

उत्तर: डी 

 

  1. फोर्ड मोटर्स ने किस भारतीय कंपनी से सहयोग प्राप्त किया?

 

(ए)  महिंद्रा

(बी) टाटा

(सी) रिलायंस

(डी) मारुति

 

उत्तर: ए 

 

  1. वैश्वीकरण विशाल दूरी पर विचारों और वस्तुओं की आवाजाही और आदान-प्रदान को बढ़ाता है और तेज करता है। वैश्वीकरण ने भारत में अधिक प्रतिस्पर्धी माहौल बनाया है।  पिछले दो से तीन दशकों में, अधिक से अधिक बहुराष्ट्रीय कंपनियां दुनिया भर में ऐसे स्थानों की तलाश कर रही हैं जो उनके उत्पादन के लिए सस्ते हों। इन देशों में बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा विदेशी निवेश बढ़ रहा है। इसी समय, देशों के बीच विदेशी व्यापार तेजी से बढ़ रहा है। विदेशी व्यापार का एक बड़ा हिस्सा भी बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा नियंत्रित किया जाता है। अधिक विदेशी निवेश और अधिक विदेशी व्यापार का परिणाम देशों में उत्पादन और बाजारों का अधिक एकीकरण रहा है। वैश्वीकरण देशों के बीच तीव्र एकीकरण या अंतर्संबंध की यह प्रक्रिया है। बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ वैश्वीकरण की प्रक्रिया में एक प्रमुख भूमिका निभा रही हैं। अधिक से अधिक सामान और सेवाएं, निवेश और प्रौद्योगिकी देशों के बीच आगे बढ़ रहे हैं। वस्तुओं, सेवाओं, निवेश और प्रौद्योगिकी की आवाजाही के अलावा, एक और तरीका है जिससे देशों को जोड़ा जा सकता है। यह देशों के बीच लोगों की आवाजाही के माध्यम से है। आमतौर पर लोग बेहतर आय, बेहतर नौकरी या बेहतर शिक्षा की तलाश में एक देश से दूसरे देश जाते हैं। प्रौद्योगिकी में तेजी से सुधार एक प्रमुख कारक रहा है जिसने वैश्वीकरण प्रक्रिया को प्रेरित किया है।  इससे भी अधिक उल्लेखनीय सूचना और संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विकास हुआ है। वैश्वीकरण और उत्पादकों के बीच अधिक प्रतिस्पर्धा – स्थानीय और विदेशी दोनों उत्पादकों – उपभोक्ताओं, विशेष रूप से शहरी क्षेत्रों में संपन्न वर्गों के लिए फायदेमंद रहा है। इन उपभोक्ताओं के सामने अधिक विकल्प हैं जो अब बेहतर गुणवत्ता और कई उत्पादों के लिए कम कीमतों का आनंद लेते हैं। परिणामस्वरूप, ये लोग आज पहले की तुलना में कहीं अधिक उच्च जीवन स्तर का आनंद ले रहे हैं। वैश्वीकरण ने सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियों के लिए विशेष रूप से आईटी से जुड़े लोगों के लिए नए अवसर पैदा किए हैं। 

 

  1. विभिन्न देशों के एकीकरण की प्रक्रिया_________ कहलाती है

(ए)   उदारीकरण

(बी)  निजीकरण

(सी)  भूमंडलीकरण

(डी)  इनमे से कोई भी नहीं

 

उत्तर: सी 

 

  1. वैश्वीकरण से भारत को क्या लाभ हुआ है?

 

(ए) भारत और विश्व के अन्य देश करीब आए हैं

(बी) भारत के सामानों को विश्व स्तर पर पहचान मिली है

(सी) विकल्प ए और बी दोनों

(डी) उपर्युक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर: सी

 

iii. भारत में वैश्वीकरण का क्या प्रभाव हुआ है?

 

(ए) भारत में रोजगार बढ़े हैं 

(बी) भारतीय बाजारों में प्रतिस्पर्धा बढ़ी है 

(सी) विकल्प ए और बी दोनों

(डी) उपर्युक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर: सी 

 

  1. भारत में वैश्वीकरण से सबसे ज्यादा नौकरियां किस क्षेत्र में बढ़ी हैं?

 

(ए) प्राथमिक क्षेत्र

(बी) द्वितीयक क्षेत्र

(सी) तृतीयक क्षेत्र

(डी) नौकरियां नही बढ़ी है

 

उत्तर: ए 

 

  1. हाल के वर्षों में, भारत में केंद्र और राज्य सरकारें विदेशी कंपनियों को भारत में निवेश के लिए आकर्षित करने के लिए विशेष कदम उठा रही हैं। विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) नामक औद्योगिक क्षेत्र स्थापित किए जा रहे हैं। एसईजेड में विश्व स्तरीय सुविधाएं हैं: बिजली, पानी, सड़क, परिवहन, भंडारण, मनोरंजन और शैक्षिक सुविधाएं। एसईजेड में उत्पादन इकाइयां स्थापित करने वाली कंपनियों को पांच साल की प्रारंभिक अवधि के लिए करों का भुगतान नहीं करना पड़ता है। सरकार ने विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए श्रम कानूनों में लचीलेपन की भी अनुमति दी है। आपने अध्याय 2 में देखा है कि संगठित क्षेत्र की कंपनियों को कुछ नियमों का पालन करना होगा जिनका उद्देश्य श्रमिकों के अधिकारों की रक्षा करना है। हाल के वर्षों में, सरकार ने कंपनियों को इनमें से कई की अनदेखी करने की अनुमति दी है। एक पर श्रमिकों को काम पर रखने के बजाय नियमित आधार पर, कंपनियां काम के तीव्र दबाव होने पर कम समय के लिए श्रमिकों को ‘लचीले ढंग से’ काम पर रखती हैं। यह कंपनी के लिए श्रम की लागत को कम करने के लिए किया जाता है। हालांकि, अभी भी संतुष्ट नहीं हैं, विदेशी कंपनियां श्रम कानूनों में अधिक लचीलेपन की मांग कर रही हैं ।  

 

  1. विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) क्या है?

(ए) एक प्रकार का सरकार के अधीन क्षेत्र

(बी) आर्थिक पार्क

(सी) विशेष औद्योगिक क्षेत्र 

(डी) इनमे से कोई नहीं

 

उत्तर: सी 

 

  1. विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) में क्या क्या सुविधाएं हैं?

(ए) बिजली

(बी) पानी

(सी) परिवहन

(डी) इनमे से सभी

 

उत्तर: डी

 

iii. एसईजेड में उत्पादन इकाइयां स्थापित करने वाली कंपनियों को क्या लाभ मिलेगा?

(ए) मुफ्त बिजली

(बी) निश्चित समय के लिए कर से मुक्ति

(सी) सरकार की तरफ से मुफ्त भंडारण सुविधाएं

(डी) इनमे से सभी

 

उत्तर: बी 

 

  1. एसईजेड में उत्पादन इकाइयां स्थापित करने वाली कंपनियों को कितने साल की कर मुक्ति मिलती है?

(ए) 2 साल

(बी) 3 साल 

(सी) 4 साल

(डी) 5 साल

 

उत्तर: डी 
 

 
 

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (05 Marks)

  1. भारतीय अर्थव्यवस्था में वैश्वीकरण के योगदान का वर्णन करें ।  [सीबीएसई 2017]

उत्तर: वैश्वीकरण ने भारतीय अर्थव्यवस्था को निम्न प्रकार से लाभान्वित किया है:

कच्चे माल की आपूर्ति करने वाली स्थानीय कंपनियां आदि।  इन उद्योगों को समृद्ध किया है। कई शीर्ष भारतीय कंपनियां बढ़ी हुई प्रतिस्पर्धा से लाभ उठा पाई हैं। 

नई तकनीक और उत्पादन विधियों में निवेश ने उनके उत्पादन मानकों को बढ़ा दिया है। कुछ उद्योगों ने विदेशी कंपनियों के साथ सफल सहयोग से प्राप्त किया है। इसने कुछ बड़ी भारतीय कंपनियों को बहुराष्ट्रीय कंपनियों के रूप में उभरने में सक्षम बनाया है। 

इसने सेवाएं प्रदान करने वाली कंपनियों के लिए भी नए अवसर पैदा किए हैं, विशेष रूप से आईटी से जुड़े लोगों के लिए और उद्योगों में कई नई नौकरियां पैदा की गई हैं। 

डेटा प्रविष्टि, लेखा, प्रशासनिक कार्य और इंजीनियरिंग जैसी सेवाओं की मेजबानी अब भारत जैसे देशों में सस्ते में की जा रही है और विकसित देशों को निर्यात की जाती है। 

 

  1. किन कारकों ने वैश्वीकरण प्रक्रिया को प्रेरित किया है?

उत्तर: निम्नलिखित कारकों ने वैश्वीकरण प्रक्रिया को प्रेरित किया है । 

 

(i) परिवहन में सुधार: पिछले पचास वर्षों में, परिवहन प्रौद्योगिकी में बहुत सुधार हुए हैं। इसने कम लागत पर लंबी दूरी पर माल की तेजी से डिलीवरी संभव बना दी है। 

(ii) सूचना और संचार प्रौद्योगिकी में विकास: दूरसंचार और कंप्यूटर के क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी तेजी से आगे बढ़ रही है । 

(iii) दूरसंचार: दुनिया में लोगों को जोड़ने के लिए टेलीफोन, टेलीग्राफ, मोबाइल, फैक्स जैसी दूरसंचार सुविधाओं का उपयोग किया जाता है। उपग्रह संचार उपकरणों के कारण यह संभव हुआ है।  

(iv) कंप्यूटर: वे अब गतिविधि के लगभग हर क्षेत्र में प्रवेश कर चुके हैं। इंटरनेट की अद्भुत दुनिया में, हम लगभग किसी भी चीज़ पर जानकारी प्राप्त और साझा कर सकते हैं। 

(V) इंटरनेट: इंटरनेट हमें नगण्य लागत पर दुनिया भर में तत्काल इलेक्ट्रॉनिक मेल (ई-मेल) और टॉक (वॉयस मेल) भेजने की अनुमति देता है। यहां तक कि एक बैंक से दूसरे बैंक में पैसे का भुगतान भी हो सकता है। 

 

  1. एक बहुराष्ट्रीय कंपनी क्या है? एक मेजबान देश के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हानिकारक प्रभाव क्या हैं? तीन उदाहरण दीजिए।  (सीबीएसई 2012)

उत्तर: एक बहु-राष्ट्रीय निगम (एमएनसी) एक ऐसी कंपनी है जो एक से अधिक देशों में उत्पादन का स्वामित्व या नियंत्रण करती है। विश्व स्तर पर वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन किया जाता है। उत्पादन प्रक्रिया छोटे भागों में विभाजित है और दुनिया भर में फैली हुई है।

 

 एक मेजबान देश के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियों के हानिकारक प्रभाव:

 

  • छोटे उत्पादक प्रतिस्पर्धा करते हैं या नष्ट हो जाते हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने बड़ी संख्या में छोटे उत्पादकों और श्रमिकों के लिए बड़ी चुनौतियां पेश की हैं।  छोटे निर्माताओं को प्रतिस्पर्धा के कारण कड़ी चोट लगी है। कई इकाइयां बंद हो गई हैं, जिससे कई कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं।   
  • अनिश्चित रोजगार: लाभ को अधिकतम करने के लिए बहुराष्ट्रीय कंपनियां न्यूनतम श्रम लागत वाले स्थान की तलाश करती हैं।  प्रतिस्पर्धा का सामना करते हुए, अधिकांश नियोक्ता इन दिनों श्रमिकों को अस्थायी आधार पर नियुक्त करना पसंद करते हैं ताकि उन्हें पूरे वर्ष के लिए श्रमिकों का भुगतान न करना पड़े। इससे श्रमिकों का जीवन बदल गया है और उनकी नौकरी अब सुरक्षित नहीं है।
  • रोजगार की स्थिति:  पीक सीजन के दौरान श्रमिकों को भी बहुत लंबे समय तक काम करना पड़ता है और नियमित रूप से रात की पाली में काम करना पड़ता है।  मजदूरी कम है और दोनों सिरों को पूरा करने के लिए श्रमिकों को ओवरटाइम काम करने के लिए मजबूर किया जाता है।  श्रमिकों को उनके लाभों के उचित हिस्से से वंचित कर दिया जाता है और अब उन्हें वह सुरक्षा नहीं मिलती जो उन्हें पहले मिलती थी, उदाहरण के लिए, भारतीय परिधान निर्यात उद्योग अक्सर अपने श्रमिकों को उनके लाभों के उचित हिस्से से वंचित करता है। 

 

4: बहुराष्ट्रीय कंपनियां अन्य देशों में उत्पादन का प्रबंधन कैसे करती हैं?

उत्तर: बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ न केवल अपने तैयार उत्पादों को विश्व स्तर पर बेचती हैं, बल्कि विश्व स्तर पर वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन भी करती हैं। नतीजतन, उत्पादन तेजी से जटिल तरीकों से आयोजित किया जाता है। उत्पादन प्रक्रिया छोटे भागों में विभाजित है और दुनिया भर में फैली हुई है।

 

उदाहरण: चीन एक सस्ते विनिर्माण स्थान होने का लाभ प्रदान करता है।  मेक्सिको और पूर्वी यूरोप अमेरिका और यूरोप के बाजारों से निकटता के लिए उपयोगी हैं। भारत में अत्यधिक कुशल इंजीनियर हैं, जो उत्पादन के तकनीकी पहलुओं को समझ सकते हैं।  इसमें शिक्षित अंग्रेजी बोलने वाले युवा भी हैं, जो ग्राहक सेवा सेवाएं प्रदान कर सकते हैं।  और यह सब शायद बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए लागत में 50-60 फीसदी की बचत का मतलब हो सकता है।

 

5: बहुराष्ट्रीय कंपनी फोर्ड मोटर्स ने भारत में अपने पैर कैसे जमाए?

 उत्तर: (i) फोर्ड मोटर्स, एक अमेरिकी कंपनी, दुनिया के सबसे बड़े ऑटोमोबाइल निर्माताओं में से एक है, जिसका उत्पादन दुनिया के छब्बीस देशों में फैला हुआ है।

 

  (ii) यह 1995 में भारत आया और चेन्नई के पास एक बड़ा संयंत्र स्थापित करने के लिए 1,700 करोड़ रुपये खर्च किए।

 

  (iii) यह जीप और ट्रकों के एक प्रमुख भारतीय निर्माता महिंद्रा एंड महिंद्रा के सहयोग से किया गया था।

 

  (iv) वर्ष 2014 तक, फोर्ड मोटर्स भारतीय बाजारों में 77,000 कारों की बिक्री कर रही थी, जबकि अन्य 77,000 कारों को भारत से दक्षिण अफ्रीका, मैक्सिको और ब्राजील में निर्यात किया गया था।

 

  (v) कंपनी दुनिया भर में अपने अन्य संयंत्रों के लिए फोर्ड इंडिया को एक घटक आपूर्ति आधार के रूप में विकसित करना चाहती थी।

 

  1. वैश्वीकरण का प्रभाव एक समान नहीं रहा है।  दृष्टांतों की सहायता से प्रदर्शित कीजिए। [सीबीएसई 2016]

उत्तर:   वैश्वीकरण की शुरूआत के बाद से, भारतीय अर्थव्यवस्था के वैश्वीकरण ने एक लंबा सफर तय किया है। जबकि वैश्वीकरण ने संपन्न उपभोक्ताओं और कौशल, शिक्षा और धन के साथ उत्पादकों को लाभान्वित किया है, कई छोटे उत्पादकों और श्रमिकों को बढ़ती प्रतिस्पर्धा के परिणामस्वरूप नुकसान उठाना पड़ा है।

अब लोगों के पास बेहतर गुणवत्ता और कम कीमतों वाले उत्पादों की विस्तृत श्रृंखला है। वैश्वीकरण को सुविधाजनक बनाने के लिए सरकारों की व्यापार बाधाओं और उदारीकरण नीतियों को हटाने से स्थानीय उत्पादकों और निर्माताओं को भारी नुकसान हुआ है।

वैश्वीकरण और प्रतिस्पर्धा के दबाव ने श्रमिकों के जीवन को काफी हद तक बदल दिया है। बढ़ती प्रतिस्पर्धा का सामना करते हुए, अधिकांश नियोक्ता इन दिनों श्रमिकों को ‘लचीले’ तरीके से नियुक्त करना पसंद करते हैं। इसका मतलब है कि श्रमिकों की नौकरी अब सुरक्षित नहीं है। कई इकाइयां बंद हो गई हैं, जिससे कई कर्मचारी बेरोजगार हो गए हैं। भारत में छोटे उद्योग देश में सबसे अधिक श्रमिकों (20 मिलियन) को रोजगार देते हैं, केवल कृषि के बाद। 

 

  1. भारत सरकार द्वारा विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश में बाधा डालने का क्या कारण था? वह इन बाधाओं को दूर क्यों करना चाहता था?

उत्तर: भारत सरकार ने घरेलू उत्पादकों को विदेशी प्रतिस्पर्धा से बचाने के लिए विदेशी व्यापार और विदेशी निवेश में बाधाएं डाल दी थीं, खासकर जब 1950 और 1960 के दशक में उद्योग शुरू हुए थे। इस समय, आयात से प्रतिस्पर्धा बढ़ते उद्योगों के लिए एक घातक आघात होता। इसलिए, भारत ने केवल आवश्यक वस्तुओं के आयात की अनुमति दी। 1991 में नई आर्थिक नीति में, सरकार इन बाधाओं को दूर करना चाहती थी क्योंकि उसे लगा कि घरेलू उत्पादक विदेशी उद्योगों के साथ प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार हैं। यह महसूस किया गया कि विदेशी प्रतिस्पर्धा से वास्तव में भारतीय उद्योगों द्वारा उत्पादित वस्तुओं की गुणवत्ता में सुधार होगा। इस फैसले को शक्तिशाली अंतरराष्ट्रीय संगठनों ने भी समर्थन दिया था।

 

  1. वैश्वीकरण और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने के कारण चीनी खिलौनों ने भारतीय खिलौना बाजार पर कब्जा कर लिया है, जिससे भारतीय खिलौना निर्माताओं को भारी नुकसान हुआ है। क्या आपको लगता है कि “बहिष्कार और स्वदेशी” का मंत्र आज किसी काम का होगा? [सीबीएसई 2016]

उत्तर: हम इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और वैश्वीकरण को बढ़ावा देने के कारण चीनी खिलौनों ने भारतीय खिलौना बाजार पर कब्जा कर लिया है जिससे भारतीय खिलौना निर्माताओं को भारी नुकसान हुआ है।  इसके बावजूद ‘बहिष्कार और स्वदेशी’ मंत्र से काम नहीं चलेगा क्योंकि

 

(ए) व्यापार बाधाओं को उठाने के साथ, विदेशी वस्तुओं का आयात और निर्यात आसान हो गया है और देशी देशों के बाजार विदेशी उत्पादों से भर गए हैं।

 

(बी) विदेशी उत्पादों की कीमतें विशेष रूप से चीनी सामान जैसे खिलौने सस्ते हैं और ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए एक महान विविधता है।

 

(सी) स्वदेशी और बहिष्कार आंदोलन प्रासंगिक थे और हमारे देश की आजादी के आंदोलन के कारण काम करते थे।  आज परिस्थितियां अलग हैं।  तकनीक ने अपनी पहचान बनाई है।  विदेशी सामान देशी देशों के लिए राजस्व में वृद्धि करते हैं।  इसके अलावा, देश के आर्थिक विकास के लिए मुक्त व्यापार और विपणन को स्वीकार करने की आवश्यकता है।

 

  1. छोटे उत्पादकों और श्रमिकों के लिए वैश्वीकरण द्वारा उत्पन्न समस्याओं का वर्णन कीजिए। [सीबीएसई 2017]

उत्तर: वैश्वीकरण द्वारा छोटे उत्पादकों और श्रमिकों के लिए पैदा की गई समस्याएं

 (i) बड़ी कंपनियों के साथ कड़ी प्रतिस्पर्धा।

 (ii) कई छोटी इकाइयों को बंद किया जा रहा है।

 (iii) श्रमिकों की बेरोजगारी।

 (iv) नौकरी की सुरक्षा में।

 (v) छोटे उत्पादक और निर्यातक प्रतिस्पर्धा के कारण अपनी लागत में कटौती करने का भरसक प्रयास करते हैं।

 (vi) श्रमिकों को अस्थायी आधार पर काम पर रखा जाता है।

 (vii) श्रमिकों को लंबे समय तक काम करना पड़ता है और रात की पाली में काम करना पड़ता है।

 (viii) मजदूरी कम है और ओवरटाइम काम करने के लिए मजबूर किया जाता है।

 (ix) श्रमिकों को वैश्वीकरण द्वारा लाए गए लाभों के उनके उचित हिस्से से वंचित किया जाता है। 

 

  1. विश्व व्यापार संगठन ने भारतीय अर्थव्यवस्था को कैसे प्रभावित किया है?  इसके अनुकूल और प्रतिकूल प्रभाव क्या थे?

उत्तर: भारतीय अर्थव्यवस्था पर विश्व व्यापार संगठन के कामकाज का प्रभाव: भारत जैसे विकासशील देश खुद को ठगा हुआ महसूस करते हैं क्योंकि उन्हें विकसित देशों के लिए अपने बाजार खोलने के लिए मजबूर किया जाता है, लेकिन उन्हें विकसित देशों के बाजारों तक पहुंच की अनुमति नहीं है।

 

विश्व व्यापार संगठन के कामकाज के अनुकूल प्रभाव: विश्व व्यापार संगठन के सदस्य देशों के बीच खुले, समान और गैर-भेदभावपूर्ण तरीके से अंतर्राष्ट्रीय व्यापार जैसे वातावरण का निर्माण करता है। 

 

विश्व व्यापार संगठन के प्रतिकूल प्रभाव: विश्व व्यापार संगठन पर विकसित देशों, विशेष रूप से अमेरिका, यूरोपीय संघ और जापान आदि का प्रभुत्व है। विकासशील और गरीब देशों से शायद ही कभी परामर्श किया जाता है जब तक कि अमीर राष्ट्र अपनी बातचीत पूरी नहीं कर लेते।