NCERT Solutions for Class 10 History Chapter 2 Nationalism in India Important Questions (Hindi)

 

Here are the important questions (Hindi) of 1,3,4 and 5 Marks for CBSE Class 10 History Chapter 2 Nationalism in India (भारत में राष्ट्रवाद). The important questions we have compiled will help the students to brush up on their knowledge about the subject. Students can practice Class 10 History important questions (Hindi) to understand the subject better and improve their performance in the board exam.


 

भारत में राष्ट्रवाद Important question answers

 

बहुविकल्पीय प्रश्न (1 Mark)

  1. महात्मा गांधी भारत कब लौटे?

क. 1911

ख. 1913

ग.  1915

घ. 1917

उत्तर: ग

 

  1. महात्मा गांधी ने बिहार के चंपारण का दौरा कब किया?

क. 1921

ख. 1918

ग. 1915

घ. 1917

उत्तर: घ

 

  1. रॉलेट एक्ट कब प्रस्तावित हुआ?

क. 1918

ख. 1919

ग. 1920

घ. 1921

उत्तर: ख

 

  1. जलियांवाला बाग हत्याकांड कब घटित हुआ?

क. 13 अप्रैल 1919

ख. 14 अप्रैल 1919

ग. 15 अप्रैल 1919

घ. 16 अप्रैल 1919

उत्तर: क

 

  1. जलियांवाला बाग हत्याकांड में किसकी मुख्य भूमिका थी?

क. लॉर्ड विलियम बैंटिक

ख. जनरल डायर

ग. लॉर्ड कर्जन

घ. लॉर्ड कैनिंग

उत्तर: ख

 

  1. खिलाफत आन्दोलन किस आंदोलन के समकालीन  माना जाता है?

क. असहयोग आन्दोलन

ख. रॉलेट एक्ट

ग. नमक आंदोलन

घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर: क

 

  1. खिलाफत समिति का गठन कब किया गया?

क. 1918

ख. 1919

ग. 1920

घ. 1921

उत्तर: ख

 

  1. खिलाफत समिति का गठन कहां किया गया?

क. दिल्ली

ख. लाहौर

ग. बंबई

घ. पश्चिम बंगाल

उत्तर: ग

 

  1. खिलाफत आन्दोलन और असहयोग आंदोलन को साथ में चलाने का प्रस्ताव कब पारित हुआ?

क. 1918

ख. 1919

ग. 1920

घ. 1921

उत्तर: ग

 

  1. किस अधिवेशन में खिलाफत आन्दोलन और असहयोग आंदोलन को साथ में करने  का प्रस्ताव पारित हुआ?

क. लखनऊ अधिवेशन में

ख  कलकत्ता अधिवेशन में

ग.  बंबई अधिवेशन में

घ. लाहौर अधिवेशन में

उत्तर: ख

 

  1. महात्मा गांधी की किस पुस्तक में असहयोग आन्दोलन का जिक्र है?

क. माय एक्सपेरिमेंट्स विद ट्रुथ

ख.  हिंद स्वराज

ग. इंडिया ऑफ माई ड्रीम्स

घ. द वर्ड्स ऑफ गांधी

उत्तर: ख

 

  1. हिंद स्वराज पुस्तक कब प्रकाशित हुई?

क. 1906

ख. 1907

ग. 1908

घ. 1909

उत्तर: घ

 

  1. खिलाफत आन्दोलन के लिए जनसमर्थन किसने जुटाया?

क. महात्मा गांधी

ख. मोहम्मद अली जिन्ना

ग. मोहम्मद अली

घ. शौकत अली बंधु

उत्तर: घ

 

  1. असहयोग आंदोलन पर कांग्रेस में सर्व सहमति कब हुई?

क. दिसंबर 1920

ख. जनवरी 1920

ग. अक्टूबर 1920

घ. जुलाई 1920

उत्तर: क

 

  1. असहयोग आंदोलन पर कांग्रेस में सर्व सहमति किस अधिवेशन में हुई?

क. लखनऊ अधिवेशन में

ख. कलकत्ता अधिवेशन में

ग. नागपुर अधिवेशन में

घ. लाहौर अधिवेशन में

उत्तर: ग

 

  1. असहयोग आंदोलन और खिलाफत आन्दोलन कब शुरू हुए?

क. दिसंबर 1921

ख. फरवरी 1921

ग. अक्टूबर 1921

घ. जनवरी 1921 

उत्तर: घ

 

  1. अवध में असहयोग आंदोलन का नेतृत्व किसने किया?

क. वाजिद अली शाह

ख. रजिया सुल्ताना

ग. पेशवा बाजीराव

घ. बाबा रामचंद्र

उत्तर: घ

 

  1. गुरिल्ला आंदोलन कहां फैला?

क. आंध्र प्रदेश

ख. कलकत्ता

ग. असम

घ. मिजोरम

उत्तर: क

 

  1. चौरी चौरा हत्याकांड कब हुआ?

क. 1919

ख. 1920

ग. 1921

घ. 1922

उत्तर: घ

 

  1. चौरी चौरा हत्याकांड का क्या परिणाम हुआ?

क. गांधी जी ने असहयोग आन्दोलन में तेजी लाने का आह्वान किया

ख. गांधी जी ने असहयोग आंदोलन बंद कर दिया

ग. गांधी जी ने सत्याग्रह आंदोलन शुरू कर दिया

घ. कांग्रेस ने असहयोग आन्दोलन से अपना समर्थन वापस ले लिया

उत्तर: ख

 

  1. गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट कब पारित हुआ?

क. 1919

ख. 1920

ग. 1921

घ. 1922

उत्तर: क

 

  1. गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट का मुख्य प्रावधान क्या था?

क. देश के प्रशासन में भारतीयों की भागीदारी बढ़ाना

ख. कलकत्ता हाईकोर्ट में भारतीयों की नियुक्ति

ग. देश की प्रशासनिक इकाई को विभक्त करना

घ. सुप्रीम कोर्ट की स्थापना

उत्तर: क

 

  1. गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट का दूसरा नाम क्या है?

क. मोंटेग्यू-चेम्सफोर्ड सुधार

ख. बैंटिक सुधार

ग. इंडिया आर्म्स एक्ट

घ. वर्नाकुलर प्रेस एक्ट

उत्तर: क

 

  1. स्वराज पार्टी का गठन किसने किया?

क. सी आर दास, मोतीलाल नेहरू

ख. जवाहर लाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल

ग. सरदार वल्लभ भाई पटेल, सी राजगोपालचारी

घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर: क

 

  1. साइमन कमीशन का गठन किसने किया?

क. टोरी गवर्नमेंट

ख. सर जॉन साइमन

ग. जॉन विल्किंस

घ. इनमें से कोई नही

उत्तर: क

 

  1. साइमन कमीशन का गठन किसलिए किया गया?

क. राष्ट्रवादी आंदोलन दबाने के लिए

ख. ईस्ट इंडिया कंपनी का अधिकार और मजबूत करने हेतु

ग. ब्रिटिश संसद के प्रति ईस्ट इंडिया कंपनी की जिम्मेदारी बढ़ाने के लिए

घ. विकल्प बी और सी दोनों

उत्तर: क

 

  1. साइमन कमीशन का क्या कार्य था? (सीबीएसई 2020)

क. प्रशासनिक कामकाज का अध्ययन करना

ख. सुव्यवस्थित प्रशासनिक कामकाज हेतु सुझाव देना

ग. कंपनी के अधिकारियों के कामकाज की शैली की जांच करना

घ. भारतीयों के व्यवहार और चरित्र का विश्लेषण करना

उत्तर: ख

 

  1. साइमन कमीशन भारत कब आया?

क. 1922

ख. 1925

ग.  1928

घ. 1932

उत्तर: घ

 

  1. डोमिनिएन स्टेट की घोषणा कब हुई?

क. 1922

ख. 1925

ग. 1928

घ. 1929

उत्तर: घ

 

  1. डोमिनिएन स्टेट की घोषणा किसने की?

क. लॉर्ड विलियम बैंटिक

ख. लॉर्ड इरविन

ग. लॉर्ड कर्जन

घ. लॉर्ड मैकाले

उत्तर: ख

 

  1. कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज की मांग कब की?

क. दिसंबर 1929

ख. फरवरी 1928

ग. मार्च 1929

घ. अप्रैल 1929

उत्तर: क

 

  1. कांग्रेस ने पूर्ण स्वराज की मांग किस अधिवेशन में की?

क. लखनऊ अधिवेशन में

ख. कलकत्ता अधिवेशन में

ग. नागपुर अधिवेशन में

घ. लाहौर अधिवेशन में

उत्तर: घ

 

  1. लाहौर अधिवेशन की अध्यक्षता किसने की?

क. सरदार वल्लभ भाई पटेल

ख. जवाहर लाल नेहरू

ग. सी राजगोपालचारी

घ. महात्मा गांधी

उत्तर: ख

 

  1. गांधी जी दांडी कब पहुंचे?

क. 6 अप्रैल 1930

ख. 7 अप्रैल 1930

ग. 8 अप्रैल 1930

घ. 9 अप्रैल 1930

उत्तर: क

 

  1. खान अब्दुल गफ्फार खान की गिरफ्तारी कब हुई?

क. मई 1930

ख. जून 1930

ग. जुलाई 1930

घ. इनमे से कोई नहीं

उत्तर: घ

 

  1. गांधी इरविन समझौता कब हुआ?

क. 5 मार्च 1931

ख. 5 अप्रैल 1931

ग. 5 मई 1931

घ. 5 जून 1931

उत्तर: क

 

  1. अल्लुरी सीताराम राजू की गिरफ्तारी कब हुई?

क. मई 1924

ख. जून 1924

ग. जुलाई 1924

घ. जुलाई 1931 

उत्तर: क

 

  1. दमित वर्ग एसोसिएशन की स्थापना किसने की?

क. सुभाष चंद्र बोस

ख. महात्मा गांधी

ग. अल्लुरी सीताराम राजू

घ. भीमराव अम्बेडकर

उत्तर: घ

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन कब शुरू हुआ?

क.  मार्च 1931

ख. अप्रैल 1931

ग.  मई 1931

घ.  जून 1931

उत्तर: क

 

  1. गांधी जी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन कब वापस लिया?

क.  दिसंबर 1931

ख. नवंबर 1931

ग.  मार्च 1931

घ. अप्रैल 1931

उत्तर: क

 

  1. दूसरा गोलमेज सम्मेलन कब हुआ?

क. 1932

ख. 1933

ग. 1934

घ. 1935

उत्तर: क

 

  1. दलित वर्गों के लिए प्रांतीय और केंद्रीय विधानपरिषदों में सीटें किस गोलमेज सम्मेलन के दौरान आरक्षित हुई?

क. पहले

ख. दूसरे

ग. तीसरा

घ. चौथे

उत्तर: ख

 

  1. पूना पैक्ट पर भीमराव अंबेडकर ने हस्ताक्षर कब किए?

क.  सितंबर 1932

ख. नवंबर 1932

ग.  मार्च 1932

घ. अप्रैल 1932

उत्तर: क

 

  1. वंदे मातरम् का निर्माण किसने किया? (सीबीएसई 2020)

क. बंकिम चंद्र चटर्जी

ख. रवीन्द्र नाथ टैगोर

ग. विकल्प ए और बी दोनों

घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर: क

 

  1. वंदे मातरम् का निर्माण कब हुआ? 

क. 1869

ख. 1870

ग. 1871

घ. 1872

उत्तर: ख

 

  1. भारत माता के चित्र का निर्माण किसने किया?

क. बंकिम चंद्र चटर्जी

ख. रवीन्द्र नाथ टैगोर

ग. अबनींद्र नाथ टैगोर

घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर: ग

 

  1. महात्मा गांधी ने सबसे पहले अपना सत्याग्रह आंदोलन कहां चलाया? (सीबीएसई 2014)

क. चंपारण

ख. खेड़ा

ग. अहमदाबाद

घ. दांडी

उत्तर: क

 

48.खेड़ा सत्याग्रह को गांधीजी द्वारा समर्थन करने के लिए लॉन्च किया गया था?

(क) मिल श्रमिक 

(ख) किसान 

(ग) महिला कार्यकर्ता

(घ) रॉलेट एक्ट

उत्तर: ख

 

  1. 49. खिलाफत आंदोलन के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा सत्य नहीं है?

(क) इसका उद्देश्य असहयोग आंदोलन में हिंदुओं और मुसलमानों को एक साथ लाना था।

(ख) इसका उद्देश्य तुर्क सम्राट की अस्थायी शक्ति की रक्षा करना था।

(ग) मुहम्मद अली और शौकत अली ने भारत में आंदोलन का नेतृत्व किया।

(घ) इसके परिणामस्वरूप तुर्की के खिलाफत की शक्ति की बहाली हुई।

उत्तर: घ

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन में अमीर किसान समुदाय ने सक्रिय रूप से भाग क्यों लिया?

(क) दूसरे गोलमेज सम्मेलन में वार्ता की विफलता

(ख) राजस्व मांग को कम करने के लिए सरकार का इनकार

(ग) खादी का कपड़ा चक्की के कपड़े से अधिक महंगा था

(घ) नस्लीय भेदभाव

उत्तर: ख

 

  1. असहयोग आंदोलन के दौरान किस उद्योग का उत्पादन बढ़ता है?

(क) इस्पात उद्योग

(ख) कपड़ा और हथकरघा उद्योग

(ग) कोयला उद्योग

(घ) चीनी उद्योग

उत्तर: ख

 

  1. किस बैठक में असहयोग आंदोलन शुरू होने के बाद भी प्रांत परिषद के चुनाव का बहिष्कार नहीं किया गया था?

(क) बॉम्बे

(ख) कानपुर

(ग) मद्रास

(घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

उत्तर: ग

 

  1. 1916-1918 के दौरान एम के गांधी द्वारा निम्नलिखित तीन आंदोलन किस क्रम में हुए?

 (क) चंपारण, खेड़ा, अहमदाबाद मिल।

 (ख) खेड़ा, चंपारण, अहमदाबाद मिल।

 (ग) चंपारण, अहमदाबाद मिल, खेड़ा।

 (घ) अहमदाबाद मिल, चंपारण, खेड़ा।

उत्तर: क

 

  1. मद्रास प्रांत की कौन सी पार्टी असहयोग आंदोलन के दौरान परिषद चुनाव का बहिष्कार नहीं करती थी?

 क) स्वराज पार्टी

 ख) किसान पार्टी

 ग) जस्टिस पार्टी

 घ) होम रूल लीग

उत्तर: ग

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान गरीब किसानों और कांग्रेस के बीच संबंध अनिश्चित रहे क्योंकि

 क) गरीब किसान राजस्व की मांग को कम करने में रुचि रखते थे

 ख) उन्होंने नो रेंट कैंपेन शुरू किया

 ग) वे अवसाद से बुरी तरह प्रभावित थे

 घ)उपरोक्त सभी

उत्तर: ख

 

  1. 1920 में असहयोग आंदोलन की शुरुआत के पीछे निम्नलिखित में से कौन सा मुख्य कारण था?

 क) स्वराज की मांग को पूरा करने के लिए।

 ख) प्रिंस ऑफ वेल्स के आगमन का विरोध करना।

 ग) अंग्रेजों द्वारा निहित उपाधि को आत्मसमर्पण करने के लिए।

 घ) सिविल सेवाओं, सेना, पुलिस, अदालतों और विधान परिषदों का बहिष्कार करना।

उत्तर: क

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत को चिह्नित करने वाली घटना थी:

 क) 1929 के पूर्ण स्वराज की मांग।

 ख) 1930 की स्वतंत्रता दिवस प्रतिज्ञा।

 ग) 1930 में नमक कानून का उल्लंघन।

 घ) उपरोक्त सभी।

उत्तर: घ

 

  1. खेड़ा जिले के किसान राजस्व का भुगतान नहीं कर सके क्योंकि वे ___________

 (क) अत्यधिक गरीबी।

 (ख) फसल की विफलता।

 (ग) एक प्लेग महामारी।

 (घ) उपरोक्त सभी।

उत्तर: घ

 

  1. मद्रास की जस्टिस पार्टी किसकी पार्टी थी?

 क) गैर-मुस्लिम।

 ख) गैर-ब्राह्मण।

 ग) गैर-तमिल।

 घ) न्यायाधीश और अधिवक्ता।

उत्तर: ख

 

  1. बंगाल और मद्रास के दो महान लेखक जिन्होंने उन्नीसवीं शताब्दी के अंत में लोककथाओं के माध्यम से राष्ट्रवाद में योगदान दिया, वे थे

 क) रवींद्रनाथ टैगोर और नतेसा शास्त्री।

 ख) अबनिंद्रनाथ टैगोर और रवि वर्मा।

 ग) जैमिनी रॉय और रवि वर्मा।

 घ) जैमिनी रॉय और नतेसा शास्त्री।

उत्तर: क

 

  1. प्रसिद्ध उपन्यास “आनंदमठ” के लेखक कौन थे?

 क) बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय।

 ख) अबनिंद्रनाथ टैगोर।

 ग) नतासा शास्त्री।

 घ) रवींद्रनाथ टैगोर।

उत्तर: क

 

  1. प्रथम विश्व युद्ध के भारत पर प्रभाव के संबंध में गलत कथन का पता लगाएं?

 क) रक्षा व्यय के परिणामस्वरूप करों में वृद्धि हुई।

 ख) गांवों में सैनिकों की जबरन भर्ती शुरू की गई थी।

 ग) आयकर पेश किया गया और सीमा शुल्क में वृद्धि हुई।

 घ) युद्ध के साथ कठिनाइयाँ समाप्त हो गईं क्योंकि अंग्रेजों ने रॉलेट एक्ट पेश किया था

उत्तर: घ

 

  1. 1931 के गांधी-इरविन समझौते के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा सत्य नहीं है?

 क) गांधी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन को वापस लेने का फैसला किया।

 ख) गांधी ने गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने के लिए सहमति व्यक्त की।

 ग) ब्रिटिश सरकार राजनीतिक बंदियों को रिहा करने के लिए सहमत हो गई।

 घ) ब्रिटिश सरकार भारतीयों को अर्ध न्यायपालिका देने के लिए सहमत हो गई।

उत्तर: घ

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन में व्यापारिक वर्गों के भाग लेने का कारण निम्नलिखित में से कौन सा था?

 क) बिना किसी प्रतिबंध के विदेशी सामान खरीदना।

 ख) बिना किसी प्रतिबंध के भारतीय सामान बेचना।

 ग) विदेशी वस्तुओं के आयात से सुरक्षा।

 घ) अपने माल का निर्यात करने के लिए।

उत्तर: ग

 

  1. भारतीय औद्योगिक और वाणिज्यिक कांग्रेस की स्थापना ________ में हुई थी

 क) 1919

 ख) 1920

 ग) 1921

 घ) 1927 

उत्तर: ख

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौरान अमीर किसानों की तुलना में सजे-धजे गरीब किसानों के साथ कांग्रेस के संबंध किसके कारण थे?

 क) सरकार द्वारा राजस्व दर में कमी लेकिन किराए के मुद्दे पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।

 ख) कांग्रेस गरीब किसानों के बजाय सार्वजनिक रूप से अमीर किसानों का समर्थन करती है।

 ग) कांग्रेस गरीब किसानों के लिए “किराया नहीं” आंदोलन शुरू करने के लिए तैयार नहीं थी।

 घ) गरीब किसानों की संख्या अमीर किसानों की तुलना में कम है इसलिए कांग्रेस अमीर किसानों का समर्थन करके आंदोलन को और गति देना चाहती थी।

उत्तर: ग

 

अतिलघुत्तरी प्रश्न  (1 marks)

 

1.प्रथम विश्व युद्ध ने भारत में राष्ट्रीय आंदोलन के विकास में कैसे मदद की?  [सीबीएसई2014]

उत्तर: लोगों ने उपनिवेशवाद के साथ अपने संघर्ष की प्रक्रिया में अपनी एकता की खोज शुरू की। उपनिवेशवाद के तहत उत्पीड़ित होने की भावना ने एक साझा बंधन प्रदान किया जिसने कई अलग-अलग समूहों को एक साथ बांध दिया।

 

  1. अहमदाबाद मिल हड़ताल में प्लेग बोनस क्या था?

उत्तर: 1917 में, भारी मानसून के कारण कृषि फसलों के नष्ट होने के कारण अहमदाबाद में प्लेग की महामारी देखी गई। मिल मालिकों द्वारा मिल मजदूरों को काम से दूर करने के लिए प्लेग बोनस दिया गया था। 

 

  1. पूना पैक्ट क्या था?

उत्तर: पूना पैक्ट ब्रिटिश सरकार के विधानमंडल में चुनावी सीटों के आरक्षण के लिए दलित वर्ग की ओर से 24 सितंबर, 1932 को यरवदा सेंट्रल जेल, पूना में एम के गांधी और बी आर अंबेडकर के बीच एक समझौता था। 

 

  1. गोलमेज सम्मेलन क्या थे?

उत्तर: गोलमेज सम्मेलन भारत में स्वतंत्रता और संवैधानिक सुधार पर चर्चा करने के लिए भारतीय नेताओं और ब्रिटिश सरकार द्वारा आयोजित तीन ‘शांति सम्मेलन’ थे। 

 

  1. नमक आंदोलन क्या था?

उत्तर: नमक सत्याग्रह भारत में ब्रिटिश सरकार द्वारा लगाए गए नमक कर के खिलाफ महात्मा गांधी द्वारा शुरू किया गया एक सामूहिक सविनय अवज्ञा आंदोलन था। उन्होंने 12 मार्च 1930 को साबरमती आश्रम से लेकर गुजरात के एक तटीय गांव दांडी तक समुद्री जल से नमक का उत्पादन करके नमक कानून तोड़ने के लिए लोगों के एक बड़े समूह का नेतृत्व किया। 

 

  1. 1930 के प्रथम गोलमेज सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व किसने किया?

उत्तर: 1930 के प्रथम गोलमेज सम्मेलन में अम्बेडकर, मोहम्मद अली जिन्ना, सर तेज बहादुर सप्रू, सर मुहम्मद जफरुल्ला खान, वी.एस. श्रीनिवास शास्त्री, के.टी. पॉल और मीराबेन भारत के प्रमुख प्रतिभागी थे। 

 

  1. सभी 3 गोलमेज सम्मेलन में किसने भाग लिया?

उत्तर:  बी.आर. अम्बेडकर और तेज बहादुर ने तीनों गोलमेज सम्मेलनों में भाग लिया। दूसरे गोलमेज सम्मेलन में महात्मा गांधी ने भाग लिया। 

 

  1. दूसरा गोलमेज सम्मेलन कब हुआ?

उत्तर: दूसरा गोलमेज सम्मेलन लंदन में 7 सितंबर 1931 से 1 दिसंबर 1931 तक गांधी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की भागीदारी के साथ आयोजित किया गया था। 

 

  1. तीसरा गोलमेज सम्मेलन कब हुआ? 

उत्तर: तीसरा गोलमेज सम्मेलन 17 नवंबर 1932 और 24 दिसंबर 1932 के बीच हुआ। 

 

  1. तीसरे गोलमेज सम्मेलन का परिणाम क्या हुआ?

उत्तर: इस सम्मेलन में भी कुछ खास हासिल नहीं हुआ। इस सम्मेलन की सिफारिशों को 1933 में एक श्वेत पत्र में प्रकाशित किया गया था और बाद में ब्रिटिश संसद में चर्चा की गई थी। सिफारिशों का विश्लेषण किया गया और इसके आधार पर भारत सरकार अधिनियम 1935 पारित किया गया।

 

  1. खिलाफत आन्दोलन का नेतृत्व किसने किया?

उत्तर: खिलाफत आंदोलन का नेतृत्व शौकत और मुहम्मद अली और अबुल कलाम आजाद ने किया था।

 

  1. चंपारण सत्याग्रह के कारणों का संक्षिप्त परिचय दीजिए?

उत्तर: चंपारण सत्याग्रह का कारण यह था कि जिले के काश्तकार किसानों का ब्रिटिश उपनिवेशवादियों द्वारा अमानवीय शोषण किया गया था।  आधुनिक बिहार में चंपारण नील उत्पादन का केंद्र था और अंग्रेज केवल अपनी व्यावसायिक मांगों को पूरा करने के लिए क्षेत्र के किसानों का शोषण करने के लिए बहुत खुश थे।

 

चंपारण सत्याग्रह को भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना माना जाता है। 

 

  1. 1916 में जस्टिस पार्टी का गठन किसने किया था?

उत्तर: जस्टिस पार्टी का गठन 20 नवंबर 1916 को डॉ. सी. नतेसा मुदलियार द्वारा किया गया था और इसकी सह-स्थापना टी.एम. नायर, पी. थियागराय चेट्टी और अलामेलु मंगई थायरम्मल ने की थी। 

 

  1. जस्टिस पार्टी के महत्व का वर्णन कीजिए?

उत्तर: जस्टिस पार्टी का गठन इस मायने में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर था कि इसने मद्रास में गैर-ब्राह्मणों का प्रतिनिधित्व करने के लिए एक संगठन स्थापित करने के कई प्रयासों की परिणति को चिह्नित किया और इसे द्रविड़ आंदोलन की शुरुआत के रूप में देखा गया। 

 

  1. खिलाफत आंदोलन का असहयोग अभियान कब शुरू हुआ?

उत्तर: खिलाफत समिति ने 31 अगस्त, 1921 को, 31 अगस्त, 1921 को असहयोग का अभियान शुरू किया। इससे खिलाफत आंदोलन की आधिकारिक शुरुआत भी हुई। 

 

  1. महात्मा गांधी ने सबसे पहले शांतिपूर्ण असहयोग सत्याग्रह की अपनी नई पद्धति का प्रयोग कहाँ किया था?

उत्तर: महात्मा गांधी ने सबसे पहले शांतिपूर्ण असहयोग की अपनी पद्धति को लागू किया, जिसे सत्याग्रह के रूप में जाना जाता है, आधुनिक बिहार के चंपारण में। 

 

  1. प्रसिद्ध उपन्यास “आनंदमठ” के लेखक कौन थे? (सीबीएसई 2017,2020)

उत्तर: प्रसिद्ध उपन्यास “आनंदमठ” के लेखक बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय थे। 

 

  1. गांधी जी भारत कब लौटे?

उत्तर: गांधी जी भारत 1915 में लौटे। 

 

  1. भारतीय औद्योगिक और वाणिज्यिक कांग्रेस की स्थापना कब हुई थी?

उत्तर: भारतीय औद्योगिक और वाणिज्यिक कांग्रेस की स्थापना 1920 में हुई।

 

  1. बंगाल और मद्रास के कौन से दो महान लेखक थे जिन्होंने उन्नीसवीं शताब्दी के अंत में लोककथाओं के माध्यम से राष्ट्रवाद में योगदान दिया? 

उत्तर: रवींद्रनाथ टैगोर और नतेसा शास्त्री ने उन्नीसवीं शताब्दी के अंत में लोककथाओं के माध्यम से राष्ट्रवाद में योगदान दिया। 

 

  1. हिंद स्वराज के लेखक का नाम बताइए? (सीबीएसई 2020)

उत्तर: महात्मा गांधी। 

 

  1. भारतीयों ने साइमन कमीशन का विरोध क्यों किया? (सीबीएसई 2020, 21, 22)

उत्तर: भारतीयों ने साइमन कमीशन का विरोध इसलिए किया क्योंकि उसमे कोई भारतीय सदस्य नहीं था। 

 

  1. खिलाफत समिति के प्रमुख नेताओं का नाम बताइए? (सीबीएसई 2020)

उत्तर: मुहम्मद अली, शौकत अली खिलाफत समिति के प्रमुख नेता थे। 

 

  1. जस्टिस पार्टी कहां की पार्टी थी?

उत्तर: जस्टिस पार्टी मद्रास की पार्टी थी। 

 

  1. गांधी जी ने खेड़ा सत्याग्रह की शुरुआत किसकी भलाई के लिए की थी?

उत्तर: गांधी जी ने खेड़ा सत्याग्रह की शुरुआत किसान की भलाई के लिए की थी। 

 

  1. ‘बेगर’ का क्या अर्थ है?  [सीबीएसई 2017]

उत्तर: बेगार का अर्थ: वह श्रम जो ग्रामीण को बिना किसी भुगतान के योगदान देने के लिए मजबूर किया गया था। 

 

  1. प्रथम विश्व युद्ध के रक्षा व्यय को किसने वित्तपोषित किया?

उत्तर: युद्ध को युद्ध ऋण और बढ़ते करों द्वारा वित्तपोषित किया गया था।  सीमा शुल्क बढ़ाए गए और आयकर पेश किया गया।

 

  1. वन्देमातरम की रचना किसने की?

उत्तर: बंकिम चंद्र चटर्जी ने वन्देमातरम की रचना की। 

 

  1. कांग्रेस की स्थापना कब हुई थी?

उत्तर: कांग्रेस की स्थापना 1885 में हुई थी। 

 

  1. कांग्रेस की स्थापना किसने की?

उत्तर: ए ओ ह्यूम ने कांग्रेस की स्थापना की। 

 

  1. कांग्रेस की पहली बैठक की अध्यक्षता किसने की?

उत्तर: डबल्यू. सी चटर्जी ने कांग्रेस की पहली बैठक की अध्यक्षता की। 

 

  1. बंगाल का विभाजन कब हुआ?

उत्तर: बंगाल का विभाजन 1905 में हुआ। 

 

  1. बंगाल का विभाजन किसने किया?

उत्तर: लॉर्ड कर्जन ने बंगाल का विभाजन किया। 

 

  1. भारत माता का चित्र किसने बनाया?

उत्तर: अवनिंद्रनाथ टैगोर ने भारत माता का चित्र बनाया। 

 

  1. अवनिंद्रनाथ टैगोर ने भारत माता का चित्र कब बनाया?

उत्तर: अवनिंद्रनाथ टैगोर ने भारत माता का चित्र 1905 में बनाया। 

 

  1. मुस्लिम लीग की स्थापना कब हुई?

उत्तर: मुस्लिम लीग की स्थापना 1906 में हुई। 

 

  1. मुस्लिम लीग की स्थापना किसने की?

उत्तर: मुस्लिम लीग की स्थापना आगा खां और नवाब सलीमुल्लाह ने की। 

 

  1. कांग्रेस का विभाजन कब हुआ? 

उत्तर: कांग्रेस का विभाजन 1907 में हुआ। 

 

  1. दिल्ली दरबार का आयोजन कब हुआ?

उत्तर: दिल्ली दरबार का आयोजन 1911 में हुआ।

 

  1. पहला विश्व युद्ध कब शुरू हुआ?

उत्तर: पहला विश्व युद्ध 1914 से शुरू हुआ। 

 

  1. महात्मा गांधी ने चंपारण सत्याग्रह कब शुरू किया?

उत्तर: महात्मा गांधी ने चंपारण सत्याग्रह 1917 में शुरू किया। 

 

  1. महात्मा गांधी ने चंपारण सत्याग्रह आंदोलन क्यों शुरू किया?

उत्तर: महात्मा गांधी ने चंपारण सत्याग्रह आंदोलन नील की खेती के विरोध में शुरू किया। 

 

  1. महात्मा गांधी ने खेड़ा सत्याग्रह कब शुरू किया? 

उत्तर: महात्मा गांधी ने खेड़ा सत्याग्रह 1917 में शुरू किया। 

 

  1. महात्मा गांधी ने खेड़ा सत्याग्रह क्यों शुरू किया?

उत्तर: महात्मा गांधी ने खेड़ा गुजरात में किसानों के लिए सत्याग्रह का आयोजन किया। 

 

  1. प्रथम विश्व युद्ध कब खत्म हुआ? 

उत्तर: प्रथम विश्व युद्ध 1918 में खत्म हुआ। 

 

  1. रॉलेट एक्ट कब लागू हुआ? 

उत्तर: रॉलेट एक्ट 1919 में लागू हुआ। 

 

  1. जलियांवाला बाग़ हत्याकांड कब हुआ?

उत्तर: जलियांवाला बाग़ हत्याकांड 13 अप्रैल 1919 में हुआ। 

 

  1. जलियांवाला बाग़ हत्याकांड कहां घटित हुआ?

उत्तर: जलियांवाला बाग़ हत्याकांड पंजाब में घटित हुआ। 

 

  1. खिलाफत आन्दोलन कब शुरू हुआ?

उत्तर: खिलाफत आन्दोलन 1919 में शुरू हुआ। 

 

  1. खिलाफत आन्दोलन के प्रणेता कौन थे?

उत्तर: मोहम्मद अली और शौकत अली ने खिलाफत आन्दोलन शुरू किया। 

 

  1. असहयोग आन्दोलन कब शुरू हुआ? 

उत्तर: असहयोग आन्दोलन 1920 में शुरू हुआ। 

 

  1. चौरी चौरा हत्याकांड कब हुआ?

उत्तर: चौरी चौरा हत्याकांड 1922 में हुआ। 

 

  1. असहयोग आन्दोलन कब खत्म हुआ?

उत्तर: असहयोग आन्दोलन 1922 में खत्म हुआ। 

 

  1. काकोरी ट्रेन लूट कब हुई? 

उत्तर: 9 अगस्त, 1925 को काकोरी में क्रांतिकारियों ने अंग्रेजी खजाना ले जा रही ट्रेन को लूट लिया। 

 

  1. साइमन कमीशन भारत कब आया?

उत्तर: साइमन कमीशन भारत 1928 में आया। 

 

  1. लाला लाजपतराय की मृत्यु कब हुई?

उत्तर: 1928 में साइमन कमीशन का विरोध करते हुए लाला लाजपत राय की हत्या कर दी गई। 

 

  1. भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने सभा में कब बम फेंका? 

उत्तर: 8 अप्रैल 1929 को भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने सभा में बम फेंका। 

 

  1. महात्मा गांधी ने साबरमती से दांडी तक मार्च कब शुरू किया?

उत्तर: 12 मार्च 1930 को महात्मा गांधी ने साबरमती से दांडी तक मार्च शुरू किया। 

 

  1. महात्मा गांधी ने नमक कानून कब तोड़ा? 

उत्तर: 6 अप्रैल 1930 को महात्मा गांधी ने नमक कानून तोड़ा। 

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन कब शुरू हुआ? 

उत्तर: 6 अप्रैल 1930 को महात्मा गांधी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू किया। 

 

  1. डॉ. अम्बेडकर ने कब अनुसूचित जाति को दलित वर्ग संघ में संगठित किया?

उत्तर: 1930 में डॉ. अम्बेडकर ने अनुसूचित जाति को दलित वर्ग संघ में संगठित किया।

 

  1. भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को कब फाँसी हुई?

उत्तर: 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फाँसी हुई। 

 

  1. गांधी-इरविन समझौते पर हस्ताक्षर कब हुआ? 

उत्तर: 1931 में गांधी-इरविन समझौते पर हस्ताक्षर किए गए। 

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन कब स्थगित हुआ?

उत्तर: 1931 में गांधी-इरविन समझौते के परिणामस्वरूप सविनय अवज्ञा आंदोलन स्थगित हुआ। 

 

  1. करो या मरो का नारा किसने दिया?

उत्तर: महात्मा गांधी ने करो या मरो का नारा दिया। 

 

  1. महात्मा गांधी और डॉ. अम्बेडकर के बीच पूना पैक्ट कब हुआ था?

उत्तर: 1932, महात्मा गांधी और डॉ अम्बेडकर के बीच पूना पैक्ट पर हस्ताक्षर किए गए। 

 

  1. सबसे पहले पाकिस्तान के गठन का विचार किसको आया? 

उत्तर: चौधरी रहमत अली को सबसे पहले पाकिस्तान का विचार आया था।

 

  1. भारत सरकार अधिनियम कब पारित हुआ?

उत्तर: 1935 में, भारत सरकार अधिनियम पारित किया गया और क्षेत्रीय सरकार का गठन किया गया। 

 

  1. द्वितीय विश्व युद्ध की समयसीमा बताइए?

उत्तर: द्वितीय विश्व युद्ध 1939 में शुरू होकर 1945 में खत्म हुआ। 

 

  1. भारत छोड़ो आंदोलन कब शुरू हुआ?

उत्तर: भारत छोड़ो आंदोलन 1942 में शुरू हुआ। 

 

लघुत्तरी प्रश्न (3 Marks)

 

1.उपनिवेशों में राष्ट्रवाद की वृद्धि को उपनिवेश विरोधी आंदोलन से क्यों जोड़ा जाता है?

उत्तर: उपनिवेशवाद के तहत उत्पीड़ित होने की भावना ने एक साझा बंधन प्रदान किया जिसने कई अलग-अलग समूहों को एक साथ बांध दिया।  लोगों ने उपनिवेशवाद के साथ अपने संघर्ष की प्रक्रिया में अपनी एकता की खोज शुरू की। स्वतन्त्रता संग्राम के आन्दोलनों में जनता स्वयं को विदेशी शोषण से मुक्त करने के लिए शामिल हुई।  इस प्रकार, उपनिवेशों में राष्ट्रवाद का विकास उपनिवेशवाद विरोधी आंदोलनों से जुड़ा हुआ है।

 

  1. प्रथम विश्व युद्ध ने भारत में राष्ट्रीय आंदोलन के विकास में कैसे मदद की?

उत्तर: प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, रक्षा व्यय के वित्तपोषण के लिए, सीमा शुल्क बढ़ाए गए और आयकर पेश किया गया।  ग्रामीण क्षेत्रों में जबरन भर्ती के कारण व्यापक आक्रोश फैल गया।  1918-19 और 1920-21 में, भारत के कई हिस्सों में फसलें खराब हो गईं, जिसके परिणामस्वरूप भोजन की भारी कमी हो गई।  इसके अलावा, एक इन्फ्लूएंजा महामारी थी।  युद्ध के बाद लोगों की मुश्किलें खत्म नहीं हुईं।  इस प्रकार, वे संघर्ष का एक नया तरीका खोजने के लिए नेताओं के अधीन एकजुट हुए।

 

  1. रॉलेट एक्ट से भारतीयों में आक्रोश क्यों था?

उत्तर: भारतीय सदस्यों के एकजुट विपक्ष के बावजूद राउलट अधिनियम को शाही विधान परिषद के माध्यम से जल्दी से पारित किया गया था। इसने सरकार को राजनीतिक गतिविधियों को दबाने की भारी शक्तियां दीं और दो साल तक बिना परीक्षण के राजनीतिक कैदियों को नजरअंदाज करने की अनुमति दी। यह भारतीयों के लिए एक अन्यायपूर्ण और दमनकारी कानून था। इस प्रकार, भारतीयों को रौलाट अधिनियम से नाराज किया गया था। 

 

  1. गांधीजी ने असहयोग आंदोलन को वापस लेने का फैसला क्यों किया?

उत्तर: गांधीजी ने महसूस किया कि चौरी चौरा घटना जैसे कई स्थानों पर आंदोलन हिंसक हो रहा था।उन्होंने महसूस किया कि बड़े संघर्षों के लिए तैयार होने से पहले सत्याग्रहियों को ठीक से प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है। इस प्रकार, गांधीजी ने असहयोग आंदोलन को वापस लेने का फैसला किया

 

  1. सत्याग्रह के विचार का क्या अर्थ है?

उत्तर: सत्याग्रह जन आंदोलन का एक नया तरीका था।  ‘सत्याग्रह’ के विचार ने सत्य की शक्ति और सत्य की खोज की आवश्यकता पर बल दिया। इसने सुझाव दिया कि यदि कारण सही था, यदि संघर्ष अन्याय के खिलाफ था, तो उत्पीड़क से लड़ने के लिए शारीरिक बल आवश्यक नहीं था।  एक सत्याग्रही प्रतिशोध की मांग या आक्रामक हुए बिना अहिंसा के माध्यम से लड़ाई जीत सकता है। 

 

  1. जलियांवाला बाग नरसंहार के बारे में बताइए?

उत्तर: 13 अप्रैल 1919 को जलियांवाला बाग की घटना जलियांवाला बाग के मैदान में हुई। जलियांवाला बाग में भारी भीड़ जमा हो गई।  कुछ लोग ब्रिटिश सरकार के दमनकारी उपायों के विरोध में उपस्थित थे, जबकि अन्य वार्षिक बैशाखी मेले में भाग लेने के लिए उपस्थित थे। 

 

शहर के बाहर से होने के कारण, कई ग्रामीण मार्शल कानून से अनजान थे

जो लागू किया गया था। अचानक, एक ब्रिटिश सैन्य अधिकारी, जनरल डायर आया, उसने बाग से निकास बिंदुओं को रोक दिया और निर्दोष नागरिकों पर गोलियां चला दीं। ब्रिटिश सैनिकों द्वारा की गई गोलीबारी में महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों निर्दोष लोग मारे गए और घायल हो गए। 

 

  1. साइमन कमीशन के बारे में बताइए?

उत्तर: ब्रिटेन में टोरी सरकार द्वारा सर जॉन साइमन के अधीन साइमन कमीशन का गठन किया गया था।  आयोग का उद्देश्य भारत में संवैधानिक प्रणाली के कामकाज को देखना और कुछ संवैधानिक परिवर्तनों का सुझाव देना था।  लेकिन भारत में राष्ट्रवादियों ने आयोग का विरोध किया क्योंकि इसमें एक भी भारतीय सदस्य नहीं था।  इसलिए 1928 में जब साइमन कमीशन भारत आया तो उसका स्वागत “साइमन वापस जाओ” के नारे से किया गया।  प्रदर्शनों में कांग्रेस और मुस्लिम लीग सहित सभी दलों ने भाग लिया।

 

  1. 1921 के असहयोग आंदोलन में शामिल होने वाले सभी विभिन्न सामाजिक समूहों की सूची बनाएं। फिर किन्हीं तीन को चुनें और उनकी आशाओं और संघर्षों के बारे में लिखें कि वे आंदोलन में क्यों शामिल हुए?

उत्तर: 1921 के असहयोग आंदोलन में शामिल होने वाले विभिन्न सामाजिक समूह शहरी मध्यम वर्ग थे जिनमें वकील, छात्र, शिक्षक और प्रधानाध्यापक, किसान, आदिवासी और कार्यकर्ता शामिल थे।

  • मध्यम वर्ग आंदोलन में शामिल हो गया क्योंकि विदेशी वस्तुओं के बहिष्कार से उनके वस्त्र और हथकरघा की बिक्री बढ़ जाएगी। 
  • किसानों ने आंदोलन में भाग लिया क्योंकि उन्हें उम्मीद थी कि वे औपनिवेशिक सरकार द्वारा उठाए गए दमनकारी जमींदारों, उच्च करों से बचाए जाएंगे। 
  • बागान मजदूरों ने इस उम्मीद में आंदोलन में भाग लिया कि उन्हें बागानों के अंदर और बाहर स्वतंत्र रूप से घूमने और अपने गांवों में जमीन पाने का अधिकार मिलेगा।

 

  1. कल्पना कीजिए कि आप सविनय अवज्ञा आंदोलन में भाग लेने वाली एक महिला हैं।  बताएं कि अनुभव आपके जीवन के लिए क्या मायने रखता है।

उत्तर: मैंने सविनय अवज्ञा आंदोलन में भाग लिया जिसे गांधी जी ने बुलाया था।  मैंने विरोध मार्च में हिस्सा लिया, नमक बनाया और विदेशी कपड़े और शराब की दुकानों पर धरना दिया और जेल गया।  मैं वास्तव में राष्ट्र के लिए इन सेवाओं को महिलाओं के पवित्र कर्तव्य के रूप में देखता हूं।  शुरू से ही, मुझे यकीन था कि अंग्रेजों को हमारा देश छोड़ना होगा और मैंने इस गतिविधि में भाग लेते हुए इसे एक गर्व के क्षण के रूप में देखा।

 

  1. भारत में राष्ट्रीय आंदोलन के विकास में प्रथम विश्व युद्ध ने किस प्रकार सहायता की, यह दर्शाने के लिए किन्हीं चार तथ्यों की व्याख्या कीजिए।  [सीबीएसई 2011]

उत्तर: प्रत्येक वर्ग और समूह ने उपनिवेशवाद के प्रभावों को अलग तरह से महसूस किया, उनके अनुभव विविध थे और स्वतंत्रता की उनकी धारणाएं हमेशा समान नहीं थीं, इसलिए महात्मा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने इन समूहों को एक आंदोलन के भीतर एक साथ बनाने की कोशिश की।

 इस प्रकार, मतभेदों और संघर्षों के बावजूद, विभिन्न समूह और समुदाय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बैनर तले आ गए और विभिन्न आंदोलनों में भाग लिया जो उपनिवेश विरोधी या अंग्रेजों के खिलाफ थे।

 

  1. खेड़ा सत्याग्रह का वर्णन कीजिए?

उत्तर: 1918 गुजरात के खेड़ा जिले में सूखे के कारण असफल फसलों का वर्ष था। कानून के अनुसार, यदि उपज सामान्य उत्पादन के एक चौथाई से कम थी, तो किसान छूट के हकदार थे। लेकिन सरकार ने भू-राजस्व का भुगतान करने से कोई छूट देने से इनकार कर दिया।  गांधी के मार्गदर्शन में सरदार वल्लभभाई पटेल ने अकाल के मद्देनजर करों के संग्रह के विरोध में किसानों का नेतृत्व किया। जिले की सभी जातियों और जातियों के लोग आंदोलन को अपना समर्थन देते हैं।

विरोध शांतिपूर्ण था और लोगों ने निजी संपत्ति की जब्ती और गिरफ्तारी जैसी प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने में भी उल्लेखनीय साहस दिखाया। अंत में, अधिकारियों ने हार मान ली और किसानों को कुछ रियायतें दीं। 

 

  1. अहमदाबाद मिल हड़ताल का वर्णन कीजिए?

उत्तर: अहमदाबाद में 1918 में एक कपास मिल के मालिकों और श्रमिकों के बीच एक औद्योगिक विवाद के दौरान गांधी ने पहली बार सत्याग्रह और भूख हड़ताल का इस्तेमाल किया। मालिक मजदूरों से दिया गया प्लेग बोनस वापस लेना चाहते थे जबकि मजदूर अपने वेतन में 35 प्रतिशत की वृद्धि की मांग कर रहे थे।

गांधी के नेतृत्व में शांतिपूर्ण हड़ताल के दौरान, उन्होंने भूख हड़ताल की। अहमदाबाद मिल की हड़ताल सफल रही और मजदूरों को उनकी मनचाही मजदूरी वृद्धि दी गई।

15 मार्च 1918 को महात्मा गांधी ने अपना पहला आमरण अनशन किया था। 

 

  1. गांधी-इरविन समझौते का मुख्य उद्देश्य क्या था?

उत्तर: 1931 में एम के गांधी और भारत के वाइसराय लॉर्ड इरविन के बीच समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। 

इस समझौते ने ब्रिटिश सरकार को कुछ मांगें मान लीं। वे निम्न हैं: 

(i) सभी अध्यादेशों और मुकदमों को वापस लेने के लिए। 

(ii) सभी राजनीतिक कैदियों को रिहा करने के लिए, 

(iii) सत्यगढ़ियों की जब्त की गई संपत्तियों को बहाल करने के लिए, 

(iv) नमक के मुफ्त संग्रह या निर्माण की अनुमति देने के लिए। 

 

  1. पहले गोलमेज सम्मेलन का संक्षिप्त वर्णन कीजिए?

उत्तर: गोलमेज सम्मेलन 1930-32 के दौरान ब्रिटिश भारत में संवैधानिक सुधारों पर विचार-विमर्श करने और लाने के लिए लेबर पार्टी के नेतृत्व वाली ब्रिटिश सरकार द्वारा आयोजित तीन सम्मेलनों की एक श्रृंखला थी।  ऐसे तीन सम्मेलन हुए। पहला गोलमेज सम्मेलन नवंबर 1930 और जनवरी 1931 के बीच लंदन में आयोजित किया गया था।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने सम्मेलन में भाग नहीं लेने का निर्णय लिया क्योंकि सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल होने के कारण कई भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेताओं को जेल में डाल दिया गया था।

 

  1. प्रथम गोलमेज सम्मेलन के प्रभावों पर प्रकाश डालिए?

उत्तर: प्रथम गोलमेज सम्मेलन 19 जनवरी 1931 तक चला। हालाँकि सुधारों के कई सिद्धांतों पर सहमति बनी थी, लेकिन बहुत कुछ लागू नहीं किया गया और कांग्रेस पार्टी ने सविनय अवज्ञा जारी रखी।  सम्मेलन को असफल माना गया। ब्रिटिश सरकार ने भारत के राजनीतिक भविष्य पर कोई भी निर्णय लेने के लिए कांग्रेस पार्टी के महत्व और आवश्यकता को समझा।

 

  1. तीसरे गोलमेज सम्मेलन के बारे में संक्षिप्त परिचय देते हुए परिणामों का उल्लेख कीजिए?

उत्तर: तीसरा गोलमेज सम्मेलन 17 नवंबर 1932 और 24 दिसंबर 1932 के बीच हुआ।

तीसरे गोलमेज सम्मेलन के प्रतिभागी: 

  • इस सम्मेलन में कुल 46 प्रतिनिधियों ने भाग लिया।
  • कांग्रेस और लेबर पार्टी ने इसमें शामिल नहीं होने का फैसला किया। (कांग्रेस को आमंत्रित नहीं किया गया था)।
  • भारतीय रियासतों का प्रतिनिधित्व राजकुमारों और दीवानों द्वारा किया जाता था।
  • ब्रिटिश भारतीयों का प्रतिनिधित्व आगा खान (मुसलमान) ने किया था।
  • दमित वर्ग
  • महिलाएं, यूरोपीय, एंग्लो-इंडियन और श्रमिक समूह।

परिणाम: 

इस सम्मेलन में भी कुछ खास हासिल नहीं हुआ।  इस सम्मेलन की सिफारिशों को 1933 में एक श्वेत पत्र में प्रकाशित किया गया था और बाद में ब्रिटिश संसद में चर्चा की गई थी। सिफारिशों का विश्लेषण किया गया और इसके आधार पर भारत सरकार अधिनियम 1935 पारित किया गया

 

  1. दूसरे गोलमेज सम्मेलन का परिणाम का उल्लेख कीजिए?

उत्तर: अंग्रेजों ने अल्पसंख्यक समुदायों के लिए अलग निर्वाचक मंडल प्रदान करके भारत में अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने के लिए एक सांप्रदायिक पुरस्कार देने का फैसला किया।  गांधी इसके खिलाफ थे।

इस सम्मेलन में अछूतों के लिए अलग निर्वाचक मंडल के मुद्दे पर गांधी और अम्बेडकर में मतभेद था। गांधी अछूतों को हिंदू समुदाय से अलग मानने के खिलाफ थे। इस मुद्दे को पूना पैक्ट 1932 के माध्यम से हल किया गया था।

प्रतिभागियों के बीच कई असहमति के कारण दूसरे गोलमेज सम्मेलन को विफल माना गया।  जबकि कांग्रेस ने पूरे देश के लिए बोलने का दावा किया, अन्य प्रतिभागियों और अन्य दलों के नेताओं ने इस दावे का विरोध किया।

 

  1. खिलाफत आन्दोलन के कारणों के उल्लेख कीजिए?

उत्तर: खिलाफत आंदोलन के कारण इस प्रकार हैं:

  • प्रथम विश्व युद्ध का अंत ओटोमन तुर्की की हार के साथ हुआ था, जो सदियों पुराने ओटोमन साम्राज्य के लिए एक घातक आघात था।
  • अफवाहें और अटकलें थीं कि विजयी सहयोगियों द्वारा तुर्क खलीफा पर एक कठोर संधि लगाई गई थी जो इस्लामी दुनिया के नेता की शक्तियों को सीमित कर देगी।
  • इस प्रकार खलीफा की शक्तियों की रक्षा के लिए 1919 में एक समिति का गठन किया गया था जो तुर्क खिलाफत को बहाल करने के लिए एक आंदोलन का नेतृत्व करेगी।

 

  1. महात्मा गांधी के असहयोग आन्दोलन के वापस लेने के कारणों का उल्लेख कीजिए? (सीबीएसई 2020-21-22)

उत्तर: फरवरी 1922 में चौरी-चौरा कांड के बाद गांधीजी ने आंदोलन वापस ले लिया। 

उत्तर प्रदेश के चौरी चौरा में हिंसक भीड़ ने एक पुलिस थाने में आग लगा दी, जिसमें पुलिस और आंदोलन के प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प के दौरान 22 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई।

गांधीजी ने यह कहते हुए आंदोलन वापस ले लिया कि लोग अहिंसा के माध्यम से सरकार के खिलाफ विद्रोह के लिए तैयार नहीं हैं।  मोतीलाल नेहरू और सी आर दास जैसे कई नेता हिंसा की छिटपुट घटनाओं के कारण ही आंदोलन को स्थगित करने के खिलाफ थे।

 

  1. जनता ने असहयोग आंदोलन का समर्थन किस प्रकार किया?

उत्तर: आंदोलन का समर्थन करने वाले महान नेताओं को देश के विभिन्न वर्गों के लोगों ने पूरा सहयोग दिया:

  • व्यापारियों ने आंदोलन का समर्थन किया क्योंकि स्वदेशी के इस्तेमाल पर राष्ट्रवादी आंदोलन उनके लिए फायदेमंद साबित हुआ था
  • आंदोलन का हिस्सा बनकर किसानों और मध्यम वर्ग को ब्रिटिश शासन के प्रति अपनी अस्वीकृति दिखाने का अवसर मिला
  • महिलाओं ने भी आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया और सक्रिय रूप से विरोध किया
  • बागान मजदूर जिन्हें चाय के बागानों को छोड़ने की अनुमति नहीं थी, गांधीवादी आंदोलन के समर्थन में बागान के खेतों को छोड़ दिया
  • बहुत से लोगों ने ब्रिटिश सरकार द्वारा दी गई अपनी उपाधियों और सम्मानों को भी सरेंडर कर दिया
  • लोगों ने ब्रिटिश सरकार द्वारा संचालित सिविल सेवाओं, अदालतों, स्कूलों और कॉलेजों का बहिष्कार करना शुरू कर दिया था 

 

  1. असहयोग आन्दोलन के महत्व का वर्णन कीजिए?

उत्तर: जैसा कि गांधीजी ने बताया था, स्वराज एक साल में हासिल नहीं हुआ। हालाँकि, यह वास्तव में एक जन आंदोलन था जहाँ लाखों भारतीयों ने शांतिपूर्ण तरीकों से सरकार के खिलाफ खुले विरोध में भाग लिया। 

असहयोग आंदोलन का निम्नलिखित महत्व है; 

  • इसने ब्रिटिश सरकार को झकझोर दिया जो आंदोलन की सीमा से स्तब्ध थी। इसमें हिंदुओं और मुसलमानों दोनों की भागीदारी देखी गई जिससे देश में सांप्रदायिक सद्भाव का प्रदर्शन हुआ। 
  • इस आंदोलन ने लोगों के बीच कांग्रेस पार्टी की लोकप्रियता स्थापित की। 
  • इस आंदोलन के परिणामस्वरूप लोग अपने राजनीतिक अधिकारों के प्रति जागरूक हुए।  वे सरकार से नहीं डरते थे। 
  • जेलों में स्वेच्छा से लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी।
  • ब्रिटिश माल के बहिष्कार के परिणामस्वरूप इस अवधि के दौरान भारतीय व्यापारियों और मिल मालिकों को अच्छा लाभ हुआ।  खादी को प्रमोट किया गया।
  • इस अवधि के दौरान ब्रिटेन से चीनी का आयात काफी कम हो गया।
  • इस आंदोलन ने गांधीजी को जनता के नेता के रूप में भी स्थापित किया।

 

  1. खिलाफत आन्दोलन का संक्षिप्त परिचय दीजिए? 

उत्तर: प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, तुर्की, जो केंद्रीय शक्तियों में से एक था, ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी।  तुर्की की हार के बाद, तुर्क खिलाफत को भंग करने का प्रस्ताव रखा गया था। मुसलमान तुर्की के सुल्तान को अपना खलीफा (मुसलमानों का धार्मिक मुखिया) मानते थे।  खिलाफत आंदोलन अली ब्रदर्स (मौलाना मोहम्मद अली और मौलाना शौकत अली), मौलाना आजाद, हकीम अजमल खान और हसरत मोहानी के नेतृत्व में शुरू किया गया था।  ब्रिटिश सरकार को खिलाफत को समाप्त न करने के लिए राजी करने के लिए इसे महात्मा गांधी का समर्थन मिला। इस आंदोलन के नेताओं ने गांधीजी के असहयोग आंदोलन को स्वीकार कर लिया और अंग्रेजों के खिलाफ संयुक्त विरोध का नेतृत्व किया। 

 

  1. खिलाफत समिति का गठन क्यों किया गया?

उत्तर: खिलाफत समिति का गठन तुर्क खलीफा की शक्तियों की रक्षा के लिए किया गया था जो प्रथम विश्व युद्ध के अंत में सेवरेस की संधि के बाद प्रतिबंधित था।

यह मोहम्मद अली, शौकत अली, मौलाना आजाद, हकीम अजमल खान और हसरत मोहनी के नेतृत्व में शुरू किए गए खिलाफत आंदोलन का केंद्र था।  खिलाफत आंदोलन असहयोग आंदोलन के साथ मेल खाता था और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण था।

 

  1. प्रथम विश्व युद्ध ने भारत में एक नई आर्थिक स्थिति कैसे पैदा की?  समझाना।  [सीबीएसई 2015-16-20-21-22]

उत्तर: भारत की आर्थिक और राजनीतिक स्थिति पर प्रथम विश्व युद्ध के प्रभाव निम्नलिखित थे:

 (i) अधिक रक्षा बजट देशों को युद्ध ऋण लेने के लिए मजबूर करता है।

 (ii) 1913-18 के बीच कीमतों में कमी के कारण कीमतें दोगुनी हो गईं।

 (iii) सीमा शुल्क और करों को बढ़ा दिया गया जिससे मूल्य वृद्धि हुई।

 (iv) सेना में जबरन भर्ती होने से लोगों में असंतोष पैदा हो गया।

 (v) फसल खराब होने के कारण खाद्य पदार्थों की कमी

 (vi) महामारी फैलने से कई लोगों की मौत हुई

 

  1. भारत में साइमन कमीशन का स्वागत कैसे किया गया?  [सीबीएसई 2021-22]

उत्तर:  भारत में सरकार के कामकाज को देखने और संवैधानिक सुधारों का सुझाव देने के लिए साइमन कमीशन का गठन किया गया था।  लेकिन भारत के नेताओं ने इसका पुरजोर विरोध किया।

 साइमन कमीशन का विरोध

समस्या यह थी कि आयोग में एक भी भारतीय सदस्य नहीं था।  वे 7 सदस्य थे लेकिन सभी गोरे यानी अंग्रेज थे।  भारतीयों ने इसे अपने आत्मनिर्णय के अधिकार का उल्लंघन और अपने स्वाभिमान के अपमान के रूप में देखा। 1928 में जब साइमन कमीशन भारत आया तो लोगों ने ‘साइमन वापस जाओ’ के नारे के साथ अभिवादन करके अपना विरोध दिखाया।  प्रदर्शनों में कांग्रेस और मुस्लिम लीग सहित सभी दलों ने भाग लिया।

 

  1. भारत के शहरों और कस्बों में असहयोग आंदोलन कैसे शुरू हुआ?  (सीबीएसई 2021-22)

उत्तर (i) यह आंदोलन शहरों में मध्यम वर्ग की भागीदारी के साथ शुरू हुआ।

 (ii) हजारों छात्रों ने सरकारी नियंत्रित स्कूल और कॉलेज छोड़ दिया।

 (ii) कई शिक्षकों ने इस्तीफा दे दिया।

 (iv) वकीलों ने अपनी कानूनी प्रथाओं को छोड़ दिया।

 (v) मद्रास को छोड़कर अधिकांश प्रांतों में परिषद चुनावों का बहिष्कार किया गया।

 (vi) विदेशी सामानों का बहिष्कार किया गया, शराब की दुकानों पर धरना दिया गया, और विदेशी कपड़ों को विशाल अलावों में जलाया गया।

 

  1. “आदिवासी किसानों ने महात्मा गांधी के संदेश और स्वराज के विचार को दूसरे तरीके से व्याख्यायित किया और असहयोग आंदोलन में अलग तरह से भाग लिया।”  कथन का औचित्य सिद्ध कीजिए।

उत्तर:  (i) आंध्र प्रदेश के गुडेम पहाड़ियों में उग्रवादी गुरिल्ला आंदोलन का प्रसार।

 (ii) वे औपनिवेशिक नीतियों के खिलाफ थे।

 (iii) उनकी आजीविका प्रभावित हुई और उनके पारंपरिक अधिकारों से वंचित कर दिया गया।

 (iv) उनके नेता अल्लूरी सीताराम राजू असहयोग आंदोलन से प्रेरित थे और उन्होंने लोगों को खादी पहनने और शराब पीने के लिए राजी किया।

 (v) वह बल प्रयोग से मुक्ति चाहता था।

 (vi) विद्रोहियों ने पुलिस थानों पर हमला किया और स्वराज हासिल करने के लिए गुरिल्ला युद्ध किया।

 

  1. गांधीजी ने असहयोग आंदोलन क्यों शुरू किया?  समझाना।  [सीबीएसई 2020-21]

उत्तर:  गांधीजी के असहयोग आंदोलन शुरू करने कारण नीचे दिए गए हैं:

 (i) रॉलेट एक्ट के विरुद्ध – यह एक दमनकारी कार्य था।

 (ii) जलियांवाला बाग घटना – इसने ब्रिटिश सरकार का क्रूर चेहरा दिखाया।

 (ii) खिलाफत आंदोलन – खिलाफत आंदोलन के नेताओं ने असहयोग आंदोलन को अपना समर्थन दिया।

 

  1. 1920 के दशक के दौरान आंध्र प्रदेश में अल्लूरी सीताराम राजू की भूमिका का वर्णन करें।  [सीबीएसई 2020-21]

उत्तर: आंध्र प्रदेश की गुडेम पहाड़ियों में अल्लूरी सीताराम राजू की भूमिका को निम्न प्रकार से समझा जा सकता है; 

 (i) अल्लूरी सीताराम राजू ने दावा किया कि उनके पास ज्योतिषीय भविष्यवाणियां करने, लोगों को ठीक करने और बुलेट शॉट से बचने जैसी कई विशेष शक्तियां थीं।

ii) विद्रोहियों ने उन्हें भगवान के अवतार के रूप में घोषित किया।

 iii) राजू गांधीजी के असहयोग आंदोलन से प्रेरित थे।

 (iv) उन्होंने लोगों को खादी पहनने और शराब पीने के लिए राजी किया।

 (v) लेकिन साथ ही, उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत केवल बल के प्रयोग से ही आजाद हो सकता है, अहिंसा से नहीं।

 (vi) उन्होंने स्वराज प्राप्त करने के लिए गुरिल्ला युद्ध का इस्तेमाल किया।

 

  1. जलियांवाला बाग नरसंहार की घटना का वर्णन करें [सीबीएसई 2020-21]

उत्तर: (i) रॉलेट एक्ट 10 मार्च, 1919 से प्रभावी था। पंजाब में, विरोध आंदोलन विशाल और मजबूत था।

 (ii) 10 अप्रैल को, कांग्रेस के दो प्रसिद्ध नेताओं, डॉ सत्य पाल और डॉ सैफुद्दीन किचलू को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें अज्ञात स्थान पर ले जाया गया।

 (ii) गिरफ्तारी के विरोध में 13 अप्रैल को जलियांवाला बाग में चारों ओर से इमारतों से घिरे एक छोटे से पार्क में एक जनसभा आयोजित की गई थी।

iv) जनरल डायर ने अपने ब्रिटिश सैनिकों के साथ पार्क में प्रवेश किया, पार्क के प्रवेश द्वार को बंद कर दिया और अपनी सेना को बिना किसी चेतावनी के एकत्रित लोगों पर गोली चलाने का आदेश दिया।

 (v) दस मिनट तक चली गोलीबारी और सोलह सौ राउंड फायरिंग हुई जिसमें लगभग सैकड़ों लोग मारे गए और दो हजार से अधिक लोग घायल और लावारिस रह गए।

 

  1. बागान श्रमिकों द्वारा समझे गए स्वराज के अर्थ और धारणा की व्याख्या करें।  उन्होंने असहयोग आंदोलन के आह्वान पर कैसी प्रतिक्रिया दी?  [सीबीएसई, 2020-21]

 उत्तर: ‘स्वराज’ का अर्थ और धारणा जैसा कि बागान श्रमिकों द्वारा माना जाता है असम में बागान श्रमिकों के लिए, स्वराज का अर्थ उस सीमित स्थान में स्वतंत्र रूप से आने-जाने का अधिकार था जिसमें वे संलग्न थे। 

 

  1. असहयोग आंदोलन के आह्वान पर प्रतिक्रिया:

 (ए) 1859 के अंतर्देशीय उत्प्रवास अधिनियम के तहत, बागान श्रमिकों को बिना अनुमति के चाय बागानों को छोड़ने की अनुमति नहीं थी, और वास्तव में, उन्हें शायद ही कभी ऐसी अनुमति दी गई थी।

 (बी) जब उन्होंने असहयोग आंदोलन के बारे में सुना, तो हजारों श्रमिकों ने अधिकारियों की अवहेलना की, बागान छोड़ दिया और घर चले गए।

(सी) उनका मानना था कि गांधी राज आ रहा था और सभी को अपने गांवों में जमीन दी जाएगी।

 (डी) हालांकि, वे अपने गंतव्य तक कभी नहीं पहुंचे।  रेलवे और स्टीमर की हड़ताल से रास्ते में फंसे उन्हें पुलिस ने पकड़ लिया और बेरहमी से पीटा। 

 

  1. सविनय अवज्ञा आंदोलन में गरीब किसान की भूमिका का वर्णन कीजिए।  (CBSE 2020)

उत्तर: किसान सविनय अवज्ञा आंदोलन (1930-34) में शामिल हो गए क्योंकि गरीब किसान न केवल राजस्व को कम करने में बल्कि लगान की छूट में भी रुचि रखते थे क्योंकि कई लोगों के पास किराए की जमीन थी और वे वर्षों के दौरान लगान का भुगतान करने में असमर्थ थे।  मंदी और नकद आय में कमी।  1931 में जब राजस्व दरों में संशोधन किए बिना आंदोलन को बंद कर दिया गया, तो किसान अत्यधिक निराश थे।  देश के कुछ हिस्सों में, उन्होंने ‘नो रेंट’ अभियान चलाया, जिसे कांग्रेस का समर्थन नहीं था क्योंकि इससे अमीर किसान और जमींदार परेशान हो सकते थे।  1932 में आंदोलन फिर से शुरू होने पर उनमें से कई ने भाग लेने से इनकार कर दिया। ये गरीब किसान कई तरह के कट्टरपंथी आंदोलनों में शामिल हुए, जिनका नेतृत्व अक्सर समाजवादी और कम्युनिस्ट करते थे।

 

  1. गांधीजी के सत्याग्रह के बारे में व्याख्या करें।  (2008, 11, 13)

उत्तर: अर्थ– “अहिंसक विधियों द्वारा सत्य की शक्ति पर बल देना”

  • यह एक शुद्ध आत्मा-शक्ति है
  • अगर संघर्ष सही कारण के लिए और अन्याय के खिलाफ है तो शारीरिक बल का प्रयोग करने की आवश्यकता नहीं है।
  • यह विरोधी को पीड़ा पहुँचाने की वकालत नहीं करता।
  • शत्रु से कोई दुर्भावना, प्रतिशोध और विनाश नहीं।
  • सत्य अनुनय का विषय है और इसे विरोधी या किसी अन्य पर थोपा नहीं जाना चाहिए।
  • सत्य की अंततः जीत ही होती है
  •  गांधीजी के अनुसार, अहिंसा का धर्म सभी भारतीयों को एकजुट कर सकता है

 

  1. महात्मा गांधी जी द्वारा 1916 और 1917 में किसानों के पक्ष में सफलतापूर्वक आयोजित किए गए दो मुख्य ‘सत्याग्रह आंदोलनों’ के नाम बताइए। (सीबीएसई 2008, 11)

उत्तर: भारत आने के बाद गांधीजी (2 अक्टूबर, 1989 30 जनवरी, 1948) ने तीन बड़े आंदोलनों को शुरू करने से पहले सफलतापूर्वक तीन बड़े आंदोलन किए।

चंपारण सत्याग्रह 1916: दमनकारी नील बागानों के खिलाफ किसानों द्वारा आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए गांधीजी चंपारण गए। 1918 में चंपारण कृषि अधिनियम ने इस समस्या को हल करने का प्रयास किया। 

खेड़ा सत्याग्रह:  फसल खराब होने और बुबोनिक प्लेग के कारण किसानों को कठिनाई हुई। वे राजस्व माफी की मांग कर रहे थे।  गांधी जी ने वहां आंदोलन का नेतृत्व किया। अहमदाबाद मिल श्रमिक – गांधीजी ने मिल मालिकों के खिलाफ कपड़ा मजदूर आंदोलन का नेतृत्व किया।  50 फीसदी वेतन वृद्धि की मांग की थी। अंतत: मिल मालिकों ने वेतन में 30% की वृद्धि करने का निर्णय लिया।

 

  1. महात्मा गांधी ने प्रस्तावित ‘रॉलेट एक्ट’ के खिलाफ राष्ट्रव्यापी ‘सत्याग्रह’ शुरू करने का फैसला क्यों किया? उदाहरण से स्पष्ट कीजिए।  (CBSE 2010, 14, 15, 11, 13,17, 16)

उत्तर: रॉलेट एक्ट सर सिडली रॉलेट की अध्यक्षता में एक समिति द्वारा तैयार किया गया था, भारतीय सदस्यों के विरोध के बावजूद, यह इंपीरियल लेजिस्लेटिव परिषद के माध्यम से जल्दबाजी में पारित किया गया। 

  • इसने सरकार की बढ़ती हुई क्रांतिकारी गतिविधियों को रोकने की शक्ति को बढ़ा दिया। 
  • राजनीतिक बंदियों की गिरफ्तारी और बिना मुकदमे के दो साल तक हिरासत में रखना। 
  •  प्रेस और व्यक्तियों की आवाजाही पर प्रतिबंध। 
  •  सरकार विरोधी गतिविधियों का संदेह

 

  1. रॉलेट एक्ट के विरोध में लोगों की प्रतिक्रियाओं का वर्णन कीजिए? 

उत्तर: जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों द्वारा अलोकतांत्रिक और सत्तावादी कानून की निंदा की गई। गांधीजी ने रौलट सत्याग्रह को कानून की अहिंसक सविनय अवज्ञा का आह्वान किया। गांधीजी के नेतृत्व में यह पहला राष्ट्रव्यापी आंदोलन था। 6 अप्रैल को प्रस्तावित रॉलेट एक्ट क खिलाफ एक शक्तिशाली हड़ताल का प्रस्ताव रखा गया था। विभिन्न शहरों में रैलियों का आयोजन किया गया, सभी दुकानें बंद कर दी गई। रेलवे वर्कशॉप में कर्मचारी पर हड़ताल चले गए। 

 

  1. लोकमान्य तिलक का संक्षिप्त विवरण दीजिए।

 उत्तर:  लोकमान्य तिलक, हालांकि गैर-उदारवादी विचारों के साथ, जनता के बीच बहुत लोकप्रिय थे।  उन्होंने मुकदमे के दौरान भारतीय लोगों को “स्वराज” की अवधारणा दी।  उनका लोकप्रिय वाक्य “स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूँगा” भारतीयों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन गया।  स्वतंत्रता की भावना की लपटों को उनके जैसे विद्वान पुरुषों ने प्रज्वलित किया, जिन्होंने आम भारतीयों को खुद पर गर्व महसूस करने, राजनीतिक और सामाजिक स्वतंत्रता की मांग करने और खुशी की तलाश करने का कारण दिया। वे शिक्षक थे जिन्होंने हजारों भारतीयों के लिए सीखने और उपलब्धि के जुनून को जगाया। 

 

  1. गाँधी जी के प्रारंभिक जीवन का संक्षिप्त विवरण दीजिए।

उत्तर: गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को भारत में एक हिंदू परिवार में हुआ था। वह हाई स्कूल से स्नातक करने वाले अपने परिवार के पहले सदस्य थे।  3 महीने के कॉलेज के बाद, उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और जल्द ही इंग्लैंड चले गए।  वह 1891 में बैरिस्टर की उपाधि के साथ भारत लौटे। उन्होंने एक छोटा सा कानून अभ्यास शुरू किया लेकिन यह असफल रहा।

1893 में गांधी वकील के सहायक के रूप में काम करने के लिए दक्षिण अफ्रीका चले गए। उन्होंने नस्लवाद को खत्म करने के लिए एक व्यक्तिगत अभियान पर तुरंत काम करना शुरू कर दिया। गांधी ने भारतीय अधिकारों के लिए लड़ते हुए 11 साल अदालत में बिताए और अपने अधिकांश मामलों में जीत हासिल की लेकिन सरकार ने उनकी जीत को रद्द करने के लिए लगातार बिल पारित किए। 

 

  1. असम के बागान मजदूरों की क्या दुर्दशा थी?

 उत्तर: असम के चाय बागानों में मजदूर वर्ग शायद अर्थव्यवस्था के संगठित क्षेत्र में सबसे अधिक उत्पीड़ित है।  वृक्षारोपण की स्थापना के बाद से कम मजदूरी, खराब आवास और सामाजिक गतिशीलता के लिए अवसरों की कमी एक आवर्ती विषय रहा है। 1859 के अंतर्देशीय उत्प्रवास अधिनियम के तहत बागान श्रमिकों को बिना अनुमति के चाय बागान छोड़ने की अनुमति नहीं थी। उन्हें शायद ही कभी ऐसी अनुमति दी जाती थी।

 

  1. असहयोग आंदोलन और सविनय अवज्ञा आंदोलन की तुलना कीजिए।

उत्तर: असहयोग निष्क्रिय था जबकि सविनय अवज्ञा सक्रिय थी और लगभग क्रांतिकारी थी। असहयोग आंदोलन का उद्देश्य प्रशासन को हर समर्थन वापस लेकर सरकार को एक स्थिर स्थिति में लाना था।

सविनय अवज्ञा आंदोलन की योजना बड़े पैमाने पर समर्थन से सरकार को पंगु बनाने के लिए बनाई गई थी, जिसे ब्रिटिश सरकार अवैध मानती थी लेकिन शोषणकारी और दमनकारी उपायों के खिलाफ विरोध कर रही थी। 

 

  1. अमृतसर में मार्शल लॉ क्यों लगाया गया था?

उत्तर: स्थानीय नेताओं को अमृतसर से उठा लिया गया और महात्मा गांधी को दिल्ली में प्रवेश नहीं करने दिया गया।  10 अप्रैल को, अमृतसर में पुलिस ने शांतिपूर्ण जुलूस पर गोलीबारी की, जिससे बैंकों, डाकघरों और रेलवे स्टेशनों पर व्यापक हमले हुए, इसलिए मार्शल लॉ लगाया गया।

 

  1. खिलाफत मुद्दे में महात्मा गांधी क्यों शामिल हुए?

उत्तर: महात्मा गांधी को अब भारत में अधिक व्यापक-आधारित आंदोलन शुरू करने की आवश्यकता महसूस हुई।  लेकिन उन्हें यकीन था कि हिंदुओं और मुसलमानों को एक साथ लाए बिना ऐसा कोई आंदोलन आयोजित नहीं किया जा सकता है। उन्होंने महसूस किया कि ऐसा करने का केवल एक तरीका है और वह है खिलाफत के मुद्दे को उठाना था।

 

  1. मद्रास में परिषद चुनावों का बहिष्कार क्यों नहीं किया गया?

उत्तर: मद्रास को छोड़कर अधिकांश प्रांतों में परिषद के चुनावों का बहिष्कार किया गया था, जहां न्याय दल, गैर-ब्राह्मणों की पार्टी ने महसूस किया कि परिषद में प्रवेश करना कुछ शक्ति हासिल करने का एक तरीका था कुछ ऐसा जो आमतौर पर केवल ब्राह्मणों के पास था।

 

  1. अवध किसान सभा का गठन कैसे हुआ?

उत्तर: जून 1920 में जवाहरलाल नेहरू ने अवध के गांवों में घूमना शुरू किया, ग्रामीणों से बात की और उनकी शिकायतों को समझने की कोशिश की।  अक्टूबर तक, अवध किसान सभा की स्थापना जवाहरलाल नेहरू, बाबा रामचंद्र और कुछ अन्य लोगों ने की थी।

 

  1. राजू किस हद तक महात्मा गांधी से प्रेरित थे?

उत्तर: राजू ने महात्मा गांधी की महानता की बात की, कहा कि वह असहयोग आंदोलन से प्रेरित थे और लोगों को खादी पहनने और शराब पीने के लिए राजी किया। लेकिन साथ ही, उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत केवल बल के प्रयोग से ही आजाद हो सकता है, अहिंसा से नहीं।

 

  1. चौरी चौरा आंदोलन क्या था?

उत्तर: चौरी चौरा आंदोलन गोरखपुर के चौरी-चौरा में हुआ, जब एक बाजार में शांतिपूर्ण प्रदर्शन पुलिस के साथ हिंसक झड़प में बदल गया।  तब वे प्रदर्शनकारी थाने गए, पुलिसकर्मियों को अंदर बंद कर दिया और थाने में आग लगा दी, जिससे करीब 11 पुलिसकर्मी जिंदा जल गए.  घटना के बारे में सुनकर, महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन को बंद कर दिया।

 

  1. महात्मा गांधी ने सविनय अवज्ञा आंदोलन की घोषणा कैसे की?

उत्तर: 6 अप्रैल को महात्मा गांधी अपने 78 अनुयायियों और कई अन्य लोगों के साथ दांडी तट पर पहुंचे और औपचारिक रूप से समुद्र के पानी को उबालकर नमक का निर्माण करते हुए कानून का उल्लंघन किया।  इसने सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत को चिह्नित किया।

 

  1. अमीर किसान समुदाय सविनय अवज्ञा आंदोलन में क्यों शामिल हुए?

उत्तर: वे व्यापार गरीबी और गिरती कीमतों से बहुत प्रभावित थे। जैसे ही उनकी नकद आय गायब हुई, उन्होंने सरकारी राजस्व मांग का भुगतान करना असंभव पाया और राजस्व मांग को कम करने के लिए सरकार के इनकार ने व्यापक आक्रोश पैदा किया।

 

  1. मुसलमानों के लिए मुहम्मद अली जिन्ना का क्या प्रस्ताव था?

उत्तर: मुस्लिम लीग के नेताओं में से एक जिन्ना, अलग निर्वाचक मंडल की मांग को छोड़ने के लिए तैयार थे, अगर मुसलमानों को केंद्रीय विधानसभा में आरक्षित सीटों और बंगाल और पंजाब के मुस्लिम बहुल प्रांतों में जनसंख्या के अनुपात में प्रतिनिधित्व का आश्वासन दिया गया था। 

 

  1. भारतीय इतिहास की पुनर्व्याख्या को राष्ट्रवाद के प्रतीक के रूप में किस प्रकार प्रयोग किया गया?

उत्तर: अंग्रेजों ने भारतीयों को पिछड़े और आदिम के रूप में देखा, जो स्वयं पर शासन करने में असमर्थ थे। जवाब में, भारतीयों ने भारत की महान उपलब्धि की खोज के लिए अतीत की ओर देखना शुरू कर दिया।  राष्ट्रवादी इतिहास ने पाठकों से अतीत में भारत की महान उपलब्धियों पर गर्व करने और ब्रिटिश शासन के तहत जीवन की दयनीय परिस्थितियों को बदलने के लिए संघर्ष करने का आग्रह किया।

 

  1. गांधीजी के विचारों को समझाइए क्योंकि उन्होंने असहयोग के बारे में प्रसिद्ध पुस्तक हिंद स्वराज ’में व्यक्त किया था। [सीबीएसई 2012] 

उत्तर: महात्मा गांधी ने हिंदी स्वराज लिखा। पुस्तक में, गांधीजी ने घोषणा की कि भारत में भारतीयों के सहयोग से ब्रिटिश शासन स्थापित किया गया था, और केवल इस सहयोग के कारण ही बच गया था। यदि भारतीयों ने सहयोग करने से इनकार कर दिया, तो भारत में ब्रिटिश शासन एक साल के भीतर ध्वस्त हो जाएगा, और स्वराज की स्थापना की जाएगी।

 

  1. भारत पर प्रथम विश्व युद्ध का क्या प्रभाव पड़ा? [CBSE, 2008,11,13 15] 

उत्तर: युद्ध ने एक नई आर्थिक और राजनीतिक स्थिति पैदा की:

 (i) इससे रक्षा व्यय में भारी वृद्धि हुई जिसे युद्ध ऋणों द्वारा वित्तपोषित किया गया और करों में वृद्धि, सीमा शुल्क बढ़ाए गए और आयकर पेश किया गया।

 (ii) युद्ध के वर्षों के दौरान, कीमतों में वृद्धि हुई – 1913 और 1918 के बीच दोगुनी होकर – आम लोगों के लिए अत्यधिक कठिनाइयों का कारण बना।

 (iii) ग्रामीणों को सैनिकों की आपूर्ति के लिए बुलाया गया था, और ग्रामीण क्षेत्रों में जबरन भर्ती होने से व्यापक आक्रोश फैल गया था। 

 

  1. गांधीजी ने प्रस्तावित रॉलेट एक्ट 1919 के विरुद्ध राष्ट्रव्यापी ‘सत्याग्रह’ शुरू करने का निर्णय क्यों लिया किन्हीं तीन कारणों की व्याख्या कीजिए।  [सीबीएसई 2010,14,15] 

उत्तर: (i) रॉलेट एक्ट को इंपीरियल लेजिस्लेटिव काउंसिल के माध्यम से जस्टिस रॉलेट की अध्यक्षता वाली सेडिशन कमेटी की एक रिपोर्ट पर पारित किया गया था।

 (ii) यह एक काला कृत्य था जिसने सरकार और पुलिस को राजनीतिक गतिविधियों को दबाने के लिए दिया, और दो साल तक बिना किसी प्रयास के राजनीतिक कैदियों को हिरासत में लेने की अनुमति दी।

 (iii) परिषद के भारतीय सदस्यों के एकजुट विरोध के बावजूद अधिनियम पारित किया गया था।

 यह अधिनियम उन कारकों में से एक बन गया जिसके कारण गांधीजी ने असहयोग आंदोलन चलाया। 

 

  1. 1917-1918 के वर्षों के दौरान गांधीजी ने सत्याग्रह की अपनी तकनीक का प्रयोग करने वाले तीन स्थानीय मुद्दे क्या थे, इन मुद्दों को कैसे हल किया गया [सीबीएसई मार्च 2011]

उत्तर: तीन स्थानीय मुद्दे थे चंपारण सत्याग्रह;  खेड़ा सत्याग्रह और अहमदाबाद सत्याग्रह।

 (i) चंपारण सत्याग्रह।  पहले प्रयोग में नील किसानों को अंग्रेजों की दमनकारी नीतियों के खिलाफ आवाज उठाने के लिए प्रोत्साहित किया गया।  उनकी मांगों को मान लिया गया।

 (ii) खेड़ा सत्याग्रह : दूसरा प्रयोग उन किसानों के लिए था जो अकाल और प्लेग महामारी के कारण राजस्व का भुगतान करने में असमर्थ थे।  वसूली माफ कर दी गई।

 (iii) अहमदाबाद सत्याग्रह : तीसरा मिल मजदूरों के लिए था जो बेहतर मजदूरी के लिए विरोध कर रहे थे। अंग्रेजों को काम करने की परिस्थितियों में सुधार के साथ-साथ वेतन में वृद्धि करनी पड़ी। 

 

  1. रॉलेट एक्ट क्या था भारतीयों ने इस अधिनियम के प्रति अपनी अस्वीकृति कैसे दिखाई     [सीबीएसई मार्च 2011]

उत्तर: रॉलेट एक्ट 1919 में ब्रिटिश सरकार द्वारा शुरू किया गया एक दमनकारी अधिनियम था। इसने सरकार को राजनीतिक गतिविधियों को दबाने के लिए भारी शक्तियाँ दीं और दो साल तक बिना मुकदमे के राजनीतिक कैदियों को हिरासत में रखने की अनुमति दी।

 भारतीय अस्वीकृति: 

  • महात्मा गांधी ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की और इस तरह के अन्यायपूर्ण कानून के खिलाफ एक अहिंसक सविनय अवज्ञा शुरू करने का फैसला किया।
  • विभिन्न शहरों में रैलियों का आयोजन किया गया, रेलवे में कर्मचारी हड़ताल पर गए, कार्यशालाएं और दुकानें बंद रहीं।
  • जलियांवाला बाग-अमृतसर में शांतिपूर्ण विरोध सभा का आयोजन किया गया। 

 

कंडीशन बेस्ड क्वेश्चंस (4 Marks)

 

1.“निष्क्रिय प्रतिरोध” के बारे में कहा जाता है कि यह कमजोरों का हथियार है, लेकिन जो शक्ति इस लेख का विषय है, उसका उपयोग केवल बलवान ही कर सकते हैं।  यह शक्ति निष्क्रिय प्रतिरोध नहीं है;  वास्तव में, यह गहन गतिविधि की मांग करता है।  दक्षिण अफ्रीका में आंदोलन निष्क्रिय नहीं बल्कि सक्रिय था… ‘सत्याग्रह शारीरिक शक्ति नहीं है।  सत्याग्रही विरोधी को पीड़ा नहीं देता;  वह अपना विनाश नहीं चाहता… सत्याग्रह के प्रयोग में कोई दुर्भावना नहीं है। सत्याग्रह शुद्ध आत्मा-शक्ति है। सत्य आत्मा का मूल तत्व है। इसलिए इस शक्ति को सत्याग्रह कहा जाता है। आत्मा को ज्ञान से सूचित किया जाता है।  उसमें प्रेम की लौ जलती है।  … अहिंसा सर्वोच्च धर्म है.. यह निश्चित है कि भारत हथियारों के बल पर ब्रिटेन या यूरोप का मुकाबला नहीं कर सकता। अंग्रेज युद्ध-ईश्वर की पूजा करते हैं और वे सभी शस्त्र धारण करने वाले बन सकते हैं। भारत में करोड़ों लोग कभी हथियार नहीं ले जा सकते। उन्होंने अहिंसा के धर्म को अपना बना लिया है। 

 

  1. गांधीजी अहिंसा को सर्वोच्च धर्म क्यों मानते थे?

उत्तर: गांधीजी ने अहिंसा को एक दर्शन और जीवन के एक आदर्श तरीके के रूप में अपनाया। उनके अनुसार अहिंसा का दर्शन कमजोरों का हथियार नहीं है;  यह एक ऐसा हथियार है, जिसे सभी आजमा सकते हैं।

 

  1. गांधीवादी सत्याग्रह को उनके दर्शन में विश्वास रखने वाले लोगों ने कैसे लिया?

उत्तर: सत्याग्रही विरोधी को पीड़ा नहीं देता;  वह अपने विनाश की तलाश नहीं करता है।  सत्याग्रह के प्रयोग में दुर्भावना नहीं होती।

 

  1. गांधीवादी सत्याग्रह को अन्याय का विरोध करने का एक नया तरीका क्यों माना गया?

उत्तर: अहिंसा से कोई भी युद्ध जीत सकता है।

 (ii) यह उत्पीड़क के ज़मीर से अपील करके किया जा सकता है।

 (iii) लोगों को – उत्पीड़कों सहित – को हिंसा के माध्यम से सच्चाई को स्वीकार करने के लिए मजबूर करने के बजाय, सच्चाई को देखने के लिए राजी करना पड़ा।

 

  1. गांधी जी के अनुसार सबसे बड़ा धर्म क्या है?

उत्तर: गांधी जी के अनुसार सबसे बड़ा धर्म अहिंसा है। 

 

  1. आंदोलन की शुरुआत शहरों में मध्यम वर्ग की भागीदारी से हुई।  हजारों छात्रों ने सरकारी नियंत्रित स्कूलों और कॉलेजों को छोड़ दिया, प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों ने इस्तीफा दे दिया और वकील ने अपनी कानूनी प्रथाओं को छोड़ दिया। व्यापारियों ने विदेशी वस्तुओं के व्यापार या विदेशी व्यापार के वित्तपोषण से इनकार कर दिया। जैसे-जैसे बहिष्कार आंदोलन फैल गया, और लोगों ने आयातित कपड़ों को छोड़ना शुरू कर दिया और केवल भारतीय कपड़े पहनने लगे, भारतीय कपड़ा मिलों और हथकरघा का उत्पादन बढ़ गया। 

 

  1. कौंसिल चुनावों के बहिष्कार में जस्टिस पार्टी की भूमिका की व्याख्या कीजिए।

उत्तर: गैर-ब्राह्मणों की पार्टी, जस्टिस पार्टी ने महसूस किया कि परिषद में प्रवेश करना कुछ शक्ति प्राप्त करने का एक तरीका था-कुछ ऐसा जो आमतौर पर केवल ब्राह्मणों के पास था।

 

  1. b. ‘आर्थिक मोर्चे पर असहयोग’ का प्रभाव कैसे नाटकीय रहा?

 उत्तर: विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया गया, शराब की दुकानों पर धरना दिया गया और विदेशी कपड़ों को विशाल अलावों में जलाया गया।

 

  1. विदेशी वस्त्र व्यापार पर ‘बहिष्कार’ आंदोलन के प्रभाव की व्याख्या कीजिए।

उत्तर: i. विदेशी कपड़े का आयात आधा हुआ।

ii. व्यापारियों और व्यापारियों ने विदेशी वस्तुओं के व्यापार या विदेशी व्यापार के वित्तपोषण से इनकार कर दिया।

iii.  भारतीय कपड़ा मिलें और हथकरघा की बिक्री में वृद्धि हुई।  

 

  1. असहयोग आंदोलन का क्या अर्थ है?

उत्तर: असहयोग आंदोलन का सीधा सा अर्थ है कि अंग्रेजी सरकार को किसी भी प्रकार से सहयोग न जाए, और अंग्रेज़ो की किसी भी चीज का प्रयोग न करके घरेलू व्यापार को बढ़ावा देना। 

 

  1. मंदी ने भारतीय व्यापार को तुरंत प्रभावित किया। 1928 और 1934 के बीच भारत का निर्यात और आयात लगभग आधा हो गया। जैसे-जैसे अंतरराष्ट्रीय कीमतें गिरीं, भारत में कीमतें गिर गईं। 1928 और 1934 के बीच, भारत में गेहूं की कीमतों में 50 प्रतिशत की गिरावट आई। 

कीमतों में गिरावट का गरीब किसानों पर गहरा प्रभाव पड़ा। हालांकि कृषि कीमतों में तेजी से गिरावट आई लेकिन औपनिवेशिक सरकार ने किसानों को करों में कोई राहत देने से इनकार कर दिया।  विश्व बाजार के लिए उत्पादन करने वाले किसान सबसे ज्यादा प्रभावित हुए। उनका कर्ज बढ़ गया। उन्हें अपनी जमीन बेचने या गिरवी रखने के लिए मजबूर किया गया था। लोगों को अपनी संपत्ति जैसे टी सोना और चांदी बेचने को मजबूर होना पड़ा। भारतीय जूट उत्पादक सबसे ज्यादा प्रभावित हुए। महामंदी से उत्पन्न अशांति ने महात्मा गांधी को 1931 में सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू करने का अवसर प्रदान किया।

 

शहरी भारत के लिए यह मंदी कम गंभीर साबित हुआ।  कीमतों में गिरावट के कारण निश्चित आय वाले जैसे शहर में रहने वाले जमींदार जिन्हें किराए पर मिलता था और मध्यम वर्ग के वेतनभोगी कर्मचारी-अब खुद को बेहतर पाते हैं। सब कुछ कम खर्च होता है। औद्योगिक निवेश में भी वृद्धि हुई क्योंकि सरकार ने राष्ट्रवादी राय के दबाव में उद्योगों को टैरिफ संरक्षण प्रदान किया।

 

  1. वैश्विक मंदी से भारत में कौन सा व्यवसायिक वर्ग सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ?

उत्तर: वैश्विक मंदी से भारत में जूट उत्पादक सबसे ज्यादा प्रभावित हुए।

 

  1. सविनय अवज्ञा का क्या अर्थ है

उत्तर: सविनय अवज्ञा का अर्थ है; अहिंसापूर्ण ढंग से सरकारी नीतियों और आदेशों को न माना जाए।

 

  1. भारत के शहरी क्षेत्रों के लिए मंदी कम प्रभावशाली क्यों हुई?

उत्तर: भारत के शहरी क्षेत्रों के लिए मंदी कम प्रभावशाली इसलिए हुई क्योंकि कीमतों में गिरावट के कारण निश्चित आय वाले जैसे शहर में रहने वाले जमींदार जिन्हें किराए पर मिलता था और मध्यम वर्ग के वेतनभोगी कर्मचारी-अब खुद को बेहतर पाते हैं। सब कुछ कम खर्च होता है। शहरो के औद्योगिक निवेश में भी वृद्धि हुई क्योंकि सरकार ने राष्ट्रवादी राय के दबाव में उद्योगों को टैरिफ संरक्षण प्रदान किया।

 

  1. 1928 और 1934 के बीच भारतीय अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ा

उत्तर: 1928 और 1934 के बीच भारत का निर्यात और आयात लगभग आधा हो गया। जैसे-जैसे अंतरराष्ट्रीय कीमतें गिरीं, भारत में कीमतें गिर गईं। 1928 और 1934 के बीच, भारत में गेहूं की कीमतों में 50 प्रतिशत की गिरावट आई। 

 

  1. सत्याग्रह उत्पीड़क के खिलाफ जन आंदोलन का एक अहिंसक तरीका था। इस पद्धति ने सुझाव दिया कि यदि कारण सही था, यदि संघर्ष अन्याय के खिलाफ था, तो उत्पीड़क से लड़ने के लिए शारीरिक बल की कोई आवश्यकता नहीं है। गांधीजी ने दक्षिण अफ्रीका में अन्याय के विरुद्ध सत्याग्रह तकनीक का सफलतापूर्वक प्रयोग किया। 1916 ई. में, उन्होंने चंपारण के किरायेदारों के लिए न्याय के लिए लड़ाई लड़ी, और सरकार को 1918 ई. में चंपारण के किसानों के कल्याण के लिए एक अधिनियम पारित करना पड़ा। उन्होंने खेड़ा सत्याग्रह शुरू किया जिसमें गांधीजी ने लोगों से फसलों की विफलता के कारण करों का भुगतान न करने के लिए कहा। अंतत: सरकार को झुकना पड़ा और करों का भुगतान अगले वर्ष के लिए टाल दिया गया। 1918 ई. में फिर से, गांधीजी ने अहमदाबाद में मिल मजदूरों की हड़ताल में हस्तक्षेप किया, और उन्हें उनका वेतन बढ़ाने में मदद की, जिसके लिए उन्होंने आमरण अनशन शुरू किया था। 

 

  1. गांधी जी सबसे पहले सत्याग्रह आंदोलन कहां किया? 

उत्तर: गांधी जी सबसे पहले सत्याग्रह आंदोलन दक्षिण अफ्रीका में किया। 

 

  1. खेड़ा सत्याग्रह समाज के किस वर्ग के लिए शुरू किया गया था?

उत्तर: खेड़ा सत्याग्रह किसानों के लिए शुरू किया गया था। 

 

  1. अहमदाबाद मिल आंदोलन कब चलाया गया

उत्तर: 1918 में अहमदाबाद मिल आंदोलन चलाया गया। 

 

  1. चंपारण सत्याग्रह समाज के किस वर्ग के लिए चलाया गया था?

उत्तर: चंपारण सत्याग्रह असम के बागान मजदूरों के लिए चलाया गया था। 

 

  1. खिलाफत मुद्दे ने महात्मा गांधी को हिंदुओं और मुसलमानों को एक आम मंच पर लाने का मौका दिया। प्रथम विश्व युद्ध में तुर्क  बुरी तरह हार गया था। इस्लामिक दुनिया (खलीफा) के आध्यात्मिक प्रमुख ओटोमन सम्राट पर एक कठोर शांति संधि लागू होने की संभावना के बारे में अफवाहें थीं। खलीफा की रक्षा के लिए मार्च 1919 में बॉम्बे में एक खिलाफत समिति का गठन किया गया था। इस समिति में भाई मुहम्मद अली और शौकत अली जैसे नेता थे।  वे यह भी चाहते थे कि महात्मा गांधी एक संयुक्त जन कार्रवाई का निर्माण करें। सितंबर 1920 में कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में खिलाफत के समर्थन में और स्वराज के लिए भी एक असहयोग आंदोलन शुरू करने का प्रस्ताव पारित किया गया था।

 

  1. खिलाफत समिति की स्थापना क्यों की थी? 

उत्तर: खिलाफत समिति की स्थापना खलीफा की रक्षा के लिए की गई थी। 

 

  1. खिलाफत समिति की स्थापना कब की गई थी?

उत्तर: मार्च 1919 में बॉम्बे में खिलाफत समिति का गठन किया गया। 

 

  1. खलीफा कौन थे?

उत्तर: खलीफा इस्लामिक दुनिया के आध्यात्मिक प्रमुख थे। 

 

  1. किस अधिवेशन में खलीफा और असहयोग आंदोलन साथ साथ चलाने का प्रस्ताव पारित हुआ?

उत्तर: सितंबर 1920 में कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में खिलाफत के समर्थन में और स्वराज के लिए भी एक असहयोग आंदोलन शुरू करने का प्रस्ताव पारित किया गया था। 

 

  1. जलियांवाला बाग हत्याकांड-तथ्य-13 अप्रैल, 1919 को, जनरल डायर ने जलियांवाला बाग के संलग्न मैदान से निकास बिंदुओं को अवरुद्ध कर दिया, जहां एक बड़ी भीड़ जमा हुई थी – कुछ ब्रिटिश सरकार के दमनकारी उपायों के विरोध में, अन्य वार्षिक बैसाखी मेले में भाग लेने के लिए।  डायर का उद्देश्य “नैतिक प्रभाव पैदा करना” और सत्याग्रहियों को आतंकित करना था।

ब्रिटिश सैनिकों द्वारा की गई अंधाधुंध फायरिंग में महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों निर्दोष लोग मारे गए थे।  इससे क्रोधित भारतीय लोगों द्वारा बड़े पैमाने पर हड़तालें, पुलिस के साथ संघर्ष और सरकारी भवनों पर हमले हुए।

साइमन कमीशन 1928 में भारत आया और उसे “साइमन वापस जाओ” के नारों का विरोध करना पड़ा। ऐसा इसलिए था क्योंकि इस निकाय को भारतीय शासन में संवैधानिक परिवर्तन का सुझाव देना था, लेकिन इसमें कोई भारतीय सदस्य नहीं था। कांग्रेस और मुस्लिम लीग ने संयुक्त रूप से इसके खिलाफ प्रदर्शन किया। लॉर्ड इरविन ने आंदोलन को दबाने के लिए भारत के लिए एक अस्पष्ट “प्रभुत्व की स्थिति” की घोषणा की, जिससे अक्टूबर, 1929 में एक गोलमेज सम्मेलन हुआ।

 

  1. जलियांवाला बाग हत्याकांड के पीछे जनरल डायर का क्या उद्देश्य था? 

उत्तर: जलियांवाला बाग हत्याकांड के पीछे जनरल डायर का उद्देश्य “नैतिक प्रभाव पैदा करना” और सत्याग्रहियों को आतंकित करना था।

 

  1. साइमन कमीशन भारत क्यों आया

उत्तर: साइमन कमीशन भारत शासन में संवैधानिक परिवर्तन का सुझाव देने आया था।

 

  1. साइमन कमीशन का विरोध क्यों किया गया? 

उत्तर: भारत में साइमन कमीशन का विरोध इसलिए हुआ क्योंकि इस निकाय को भारतीय शासन में संवैधानिक परिवर्तन का सुझाव देना था, लेकिन इसमें कोई भारतीय सदस्य नहीं था। 

 

  1. गोलमेज सम्मेलन क्यों हुए? 

उत्तर: लॉर्ड इरविन द्वारा “डोमिनियन स्टेटस” की घोषणा कर देने से गोलमेज सम्मेलनो की शुरुआत हुई। 

 

  1. अबनिंद्रनाथ टैगोर द्वारा चित्रित भारत माता की छवि उन्हें शिक्षा, भोजन और वस्त्र प्रदान करने के रूप में दिखाती है। वह अपने द्वारा धारण की गई माला द्वारा निरूपित सौंदर्य गुण धारण करती है। यह फिलिप वीट द्वारा चित्रित जर्मनिया की छवि के समान है, जहां वह तलवार रखती है, लेकिन अधिक स्त्री दिखती है। भारत माता की अन्य पेंटिंग इसके प्रतिनिधित्व में अधिक मर्दाना हैं। इसमें, उसे वहन करने वाली शक्ति और अधिकार के रूप में दिखाया गया है जैसा कि उसके बगल में शेर और हाथी द्वारा दर्शाया गया है। बाद की छवि लोरेंज क्लासेन द्वारा जर्मनिया की छवि के समान है, जहां वह तलवार और ढाल का इस्तेमाल करती है, और लड़ने के लिए तैयार दिखती है। 

 

  1. भारत माता की प्रथम बार छवि किसने बनाई?

उत्तर: अबनिंद्रनाथ टैगोर ने पहली बार भारत माता की छवि बनाए।

 

  1. अबनिंद्रनाथ टैगोर की भारत माता की छवि में भारत माता को किस रुप में चित्रित किया गया?

उत्तर: अबनिंद्रनाथ टैगोर द्वारा चित्रित भारत माता की छवि उन्हें शिक्षा, भोजन और वस्त्र प्रदान करने के रूप में दिखाती है। 

 

  1. अबनिंद्रनाथ टैगोर की भारत माता की छवि किस चित्रकार के छवि से मिलती है? 

उत्तर: अबनिंद्रनाथ टैगोर की भारत माता की छवि फिलिप वीट द्वारा चित्रित जर्मनिया की छवि से मिलती है। 

 

  1. भारत माता की अन्य छवियां अबनिंद्रनाथ टैगोर की भारत माता की छवि से किस प्रकार भिन्न है? 

उत्तर: भारत माता की अन्य पेंटिंग अबनिंद्रनाथ टैगोर की भारत माता की छवि की अपेक्षा अधिक मर्दाना हैं क्योंकि उनमें उसे वहन करने वाली शक्ति और अधिकार के रूप में दिखाया गया है जैसा कि उसके बगल में शेर और हाथी द्वारा दर्शाया गया है। 

 

  1. अवध में, किसानों का नेतृत्व बाबा रामचंद्र द्वारा किया गया था – एक संन्यासी जो पहले फिजी के लिए एक प्रेरित मजदूर के रूप में था। यहां आंदोलन तालुकदारों और जमींदारों के खिलाफ था, जिन्होंने अत्यधिक उच्च किराए और किसानों से कई अन्य उपकरों की मांग की थी। किसानों को बिना किसी भुगतान के जमींदारों के खेतों में बेगर और काम करना पड़ा। किरायेदारों के रूप में, उनके पास कार्यकाल की कोई सुरक्षा नहीं थी, नियमित रूप से बेदखल किया जा रहा था ताकि वे पट्टे पर दी गई भूमि पर कोई अधिकार नहीं प्राप्त कर सकें। किसान आंदोलन ने राजस्व में कमी, बेगर के उन्मूलन और दमनकारी जमींदारों के सामाजिक बहिष्कार की मांग की। कई स्थानों पर नई धोबी बांध ’का आयोजन पंचायतों द्वारा नाइयों और वाशरमैन की सेवाओं से वंचित करने के लिए किया गया था। आदिवासी किसानों ने महात्मा गांधी के संदेश और स्वराज के विचार की व्याख्या एक और तरीके से की। उदाहरण के लिए, आंध्र प्रदेश की गुदेम पहाड़ियों में, 1920 के दशक की शुरुआत में एक आतंकवादी गुरिल्ला आंदोलन फैल गया – संघर्ष का एक ऐसा रूप नहीं जिसे कांग्रेस मंजूरी दे सकती थी। अन्य वन क्षेत्रों में, औपनिवेशिक सरकार ने बड़े वन क्षेत्रों को बंद कर दिया था, जिससे लोगों को अपने मवेशियों को चराने के लिए या ईंधन और फलों को इकट्ठा करने के लिए जंगलों में प्रवेश करने से रोका गया। इससे पहाड़ी लोग नाराज हो गए। न केवल उनकी आजीविका प्रभावित हुई, बल्कि उन्हें लगा कि उनके पारंपरिक अधिकारों से वंचित किया जा रहा है। जब सरकार ने उन्हें सड़क निर्माण के लिए बेगर का योगदान देने के लिए मजबूर करना शुरू किया, तो पहाड़ी लोगों ने विद्रोह कर दिया। 

 

  1. अवध में किसानों को सत्याग्रह के लिए किसने प्रेरित किया? 

उत्तर: अवध में, किसानों का नेतृत्व बाबा रामचंद्र ने किया।

 

  1. किसान आंदोलन की क्या मांग थी? 

उत्तर: किसान आंदोलन ने राजस्व में कमी, बेगर के उन्मूलन और दमनकारी जमींदारों के सामाजिक बहिष्कार की मांग की।

 

  1. 1920 के दशक में भारत के दक्षिणी पूर्वी भाग के क्या हालत थे?

उत्तर: 1920 के दशक की शुरुआत में एक आतंकवादी गुरिल्ला आंदोलन फैल गया। 

 

  1. आतंकवादी गुरिल्ला आंदोलन क्यों फैला?

उत्तर: वन क्षेत्रों में, औपनिवेशिक सरकार ने बड़े वन क्षेत्रों को बंद कर दिया था, जिससे लोगों को अपने मवेशियों को चराने के लिए या ईंधन और फलों को इकट्ठा करने के लिए जंगलों में प्रवेश करने से रोका गया। इससे पहाड़ी लोग नाराज हो गए। न केवल उनकी आजीविका प्रभावित हुई, बल्कि उन्हें लगा कि उनके पारंपरिक अधिकारों से वंचित किया जा रहा है। जब सरकार ने उन्हें सड़क निर्माण के लिए बेगर का योगदान देने के लिए मजबूर करना शुरू किया, तो पहाड़ी लोगों ने विद्रोह कर दिया। 

 

  1. महात्मा गांधी ने नमक में एक शक्तिशाली प्रतीक पाया जो राष्ट्र को एकजुट कर सकता था। 31 जनवरी 1930 को उन्होंने ग्यारह मांगों को बताते हुए वायसराय इरविन को एक पत्र भेजा।  इनमें से कुछ सामान्य रुचि के थे;  अन्य उद्योगपतियों से लेकर किसानों तक विभिन्न वर्गों की विशिष्ट मांगें थीं।  मांगों को व्यापक बनाने का विचार था ताकि भारतीय समाज के सभी वर्ग उनके साथ पहचान कर सकें और सभी को एकजुट अभियान में एक साथ लाया जा सके।  सबसे अधिक हलचल नमक कर को समाप्त करने की मांग थी।  नमक अमीर और गरीब समान रूप से खाया जाता था, और यह भोजन की आवश्यक वस्तुओं में से एक था।  नमक पर कर और इसके उत्पादन पर सरकारी एकाधिकार, महात्मा गांधी ने घोषणा की, ब्रिटिश शासन का सबसे दमनकारी चेहरा सामने आया।

 

महात्मा गांधी ने अपने 78 विश्वस्त स्वयंसेवकों के साथ अपना प्रसिद्ध नमक मार्च शुरू किया।  मार्च 240 मील से अधिक था, साबरमती में गांधीजी के आश्रम से गुजराती तटीय शहर दांडी तक।  स्वयंसेवक 24 दिनों तक चलते थे, दिन में लगभग 10 मील।  महात्मा गांधी जहां भी रुके, हजारों लोग उनकी बात सुनने के लिए आए, और उन्होंने उन्हें स्वराज से क्या मतलब था, बताया और उनसे शांतिपूर्वक अंग्रेजों का विरोध करने का आग्रह किया।  6 अप्रैल को वे दांडी पहुंचे, और औपचारिक रूप से कानून का उल्लंघन किया, समुद्री जल को उबालकर नमक का निर्माण किया।

 

देश के विभिन्न हिस्सों में हजारों लोगों ने नमक कानून तोड़ा, नमक बनाया और सरकारी नमक कारखानों के सामने प्रदर्शन किया।  जैसे ही आंदोलन फैल गया, विदेशी कपड़े का बहिष्कार किया गया और शराब की दुकानों पर धरना दिया गया।  किसानों ने राजस्व और चौकीदार करों का भुगतान करने से इनकार कर दिया, गांव के अधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया, और कई जगहों पर, वन लोगों ने वन कानूनों का उल्लंघन किया – लकड़ी इकट्ठा करने और मवेशियों को चराने के लिए आरक्षित वनों में जाना। 

 

  1. महात्मा गांधी ने नमक को सबसे शक्तिशाली प्रतीक क्यों पाया?

उत्तर: महात्मा गांधी ने नमक को सबसे शक्तिशाली प्रतीक इसलिए पाया क्योंकि नमक अमीर और गरीब समान रूप से खाया जाता था, और यह भोजन की आवश्यक वस्तुओं में से एक था। नमक पर कर और इसके उत्पादन पर सरकारी एकाधिकार की वजह से गरीब और दोनो को समस्या हो रही थी इसलिए महात्मा गांधी को लगा कि नमक ही देश को एकजुट कर सकता है। 

 

  1. नमक कानून क्या था? 

उत्तर: नमक कानून का सीधा सा मतलब था नमक के उत्पादन और वितरण पर सरकार का एकाधिकार और उच्च कर। 

 

  1. नमक कानून किस आंदोलन से जुड़ा है?

उत्तर: नमक कानून असहयोग आंदोलन से जुड़ा है।

 

  1. नमक कानून के उल्लघन का देश की जनता पर क्या प्रभाव पड़ा? 

उत्तर: देश के विभिन्न हिस्सों में हजारों लोगों ने नमक कानून तोड़ा, नमक बनाया और सरकारी नमक कारखानों के सामने प्रदर्शन किया।  जैसे ही आंदोलन फैल गया, विदेशी कपड़े का बहिष्कार किया गया और शराब की दुकानों पर धरना दिया गया।  किसानों ने राजस्व और चौकीदार करों का भुगतान करने से इनकार कर दिया, गांव के अधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया, और कई जगहों पर, वन लोगों ने वन कानूनों का उल्लंघन किया – लकड़ी इकट्ठा करने और मवेशियों को चराने के लिए आरक्षित वनों में जाना। 

 

  1. डॉ बी.आर. 1930 में दलितों को दलित वर्ग संघ में संगठित किए। फिर अम्बेडकर ने दूसरे गोलमेज सम्मेलन में दलितों के लिए अलग निर्वाचक मंडल की मांग को लेकर महात्मा गांधी से भिड़ गए।  जब ब्रिटिश सरकार ने अंबेडकर की मांग मान ली तो गांधी जी ने आमरण अनशन शुरू कर दिया।  उनका मानना ​​था कि दलितों के लिए अलग निर्वाचक मंडल समाज में उनके एकीकरण की प्रक्रिया को धीमा कर देगा।  अम्बेडकर ने अंततः गांधीजी की स्थिति को स्वीकार कर लिया, और परिणाम सितंबर 1932 का पूना पैक्ट था। यदि मुसलमानों को केंद्रीय विधानसभा में आरक्षित सीटों और मुस्लिम बहुल प्रांतों (बंगाल और पंजाब) में जनसंख्या के अनुपात में प्रतिनिधित्व का आश्वासन दिया गया था, तो मुहम्मद अली जिन्ना अलग निर्वाचक मंडल की मांग को छोड़ने के लिए तैयार थे।  प्रतिनिधित्व के सवाल पर बातचीत जारी रही, लेकिन 1928 में सर्वदलीय सम्मेलन में इस मुद्दे को हल करने की सभी उम्मीदें गायब हो गईं जब हिंदू महासभा के एम.आर. जयकर ने समझौते के प्रयासों का कड़ा विरोध किया।

 

  1. भीमराव अंबेडकर ने दमित वर्ग को दलित वर्ग संगठन में क्यों शामिल किया?

उत्तर: भीमराव अंबेडकर ने दमित वर्ग को दलित वर्ग संगठन में इसलिए शामिल किया ताकि समाज में उनके पिछड़ेपड़ को दूर करके उनके जीवन स्तर को सुधारा जा सके। 

 

  1. दूसरे गोलमेज सम्मेलन में भीमराव अंबेडकर और महात्मा गांधी के बीच असहमति क्यों हुई? 

उत्तर: दूसरे गोलमेज सम्मेलन में भीमराव अंबेडकर और महात्मा गांधी के बीच असहमति इसलिए हुई क्योंकि भीमराव अंबेडकर दलितों के लिए अलग निर्वाचक मंडल की मांग कर रहे थे जबकि महात्मा गांधी का मानना था कि दलितों के लिए अलग निर्वाचक मंडल समाज में एकीकरण की प्रक्रिया को धीमा कर देगा। 

 

  1. भीमराव अंबेडकर और महात्मा गांधी के बीच सहमति कब हुई?

उत्तर: भीमराव अंबेडकर और महात्मा गांधी के बीच सहमति 1932 के पूना पैक्ट के दौरान हुई। 

 

  1. पूना पैक्ट में क्या निर्णय लिया गया? 

उत्तर: पूना पैक्ट में दलितों विशेष रूप से हरिजनों को विधान परिषद के चुनाव में 33% आरक्षण दिया गया। 

 

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (5 Marks)

 

1.रौलट एक्ट से भारतीयों में आक्रोश क्यों था? (सीबीएसई 2010,11,13,14,15,16,17)

उत्तर: उन्हें उम्मीद थी कि युद्ध के बाद उनकी मुश्किलें खत्म हो जाएंगी और सरकार उनकी हालत में सुधार के लिए कदम उठाएगी। दूसरी ओर, सरकार ने भारतीय सदस्यों के एकजुट विरोध के खिलाफ इंपीरियल लेजिस्लेटिव काउंसिल में रॉलेट एक्ट पारित करवाया। इस अधिनियम ने सरकार को राजनीतिक गतिविधियों को दबाने के लिए भारी शक्तियाँ दीं।  इसने राजनीतिक कैदियों को बिना किसी मुकदमे के दो साल तक हिरासत में रखने की अनुमति दी। इन प्रावधानों का अर्थ था न्याय के दो सिद्धांतों का निलंबन – जूरी द्वारा मुकदमा और बंदी प्रत्यक्षीकरण – अवैध कारावास से बचाव के अधिकार। रॉलेट एक्ट को काला कानून माना जाता था और गांधी के नेतृत्व में भारतीयों ने अहिंसक सविनय अवज्ञा द्वारा इसका विरोध करने का फैसला किया, जो 6 अप्रैल को हड़ताल के साथ शुरू होगा।

 

  1. गांधी जी के अनुसार सत्याग्रह के विचार की व्याख्या कीजिए।  [सीबीएसई 2014, 13]

उत्तर: सत्याग्रह शुद्ध आत्मा-शक्ति है। सत्य आत्मा का मूल तत्व है।  इसलिए इस बल को सत्याग्रह कहा जाता है। आत्मा को ज्ञान से सूचित किया जाता है। यह प्रेम की लौ जलाता है। अहिंसा सर्वोच्च धर्म है।

सत्याग्रह के विचार ने सत्य की शक्ति और सत्य की खोज की आवश्यकता पर बल दिया।  इसने सुझाव दिया कि यदि कारण सही था, यदि संघर्ष अन्याय के खिलाफ था, तो उत्पीड़क से लड़ने के लिए शारीरिक बल आवश्यक नहीं था।

प्रतिशोध की मांग या आक्रामक हुए बिना, एक सत्याग्रही अहिंसा के माध्यम से लड़ाई जीत सकता था। सत्याग्रह में, उत्पीड़कों सहित लोगों को हिंसा के माध्यम से सत्य को स्वीकार करने के लिए मजबूर करने के बजाय, सत्य को देखने के लिए राजी करना पड़ा।

इस तरह इस संघर्ष से अंतत: सत्य की जीत होनी ही थी। महात्मा गांधी का मानना था कि अहिंसा का यह धर्म सभी भारतीयों को एकजुट करेगा।

 

  1. साइमन कमीशन के बारे में वर्णन कीजिए?

उत्तर: केंद्रीय विधान सभा के भारतीय सदस्यों ने भारत सरकार अधिनियम 1919 ई.  इस आयोग में सात सदस्य थे और इसके अध्यक्ष सर जॉन साइमन थे। 

भारतीय द्वारा खारिज किए जाने के कारण

भारतीयों ने साइमन कमीशन का बहिष्कार किया क्योंकि इस आयोग में कोई भारतीय सदस्य नहीं था।  आयोग की नियुक्ति की शर्तों ने ‘स्वराज’ का कोई संकेत नहीं दिया, जबकि भारतीयों की मांग केवल ‘स्वराज’ थी।  इसलिए, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस, मुस्लिम लीग और अन्य दलों ने साइमन कमीशन का विरोध करने का फैसला किया।

भारतीयो द्वारा खारिज किए जाने के तरीके

भारतीय लोगों ने पूरे देश में हड़तालें आयोजित कीं।  जब आयोग बंबई (मुंबई) पहुंचा, तो उन्होंने “साइमन गो बैक” के नारे के साथ एक काला झंडा प्रदर्शन भी किया।  इस तरह के प्रदर्शन हर जगह आयोजित किए गए। 

 

  1. 1921 के असहयोग आंदोलन में शामिल होने वाले सभी विभिन्न सामाजिक समूहों का वर्णन कीजिए और उनकी आशाओं और संघर्षों के बारे में लिखें कि वे आंदोलन में क्यों शामिल हुए?

उत्तर: असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाले सामाजिक समूह। 

असहयोग आंदोलन (1920-1922) में निम्नलिखित सामाजिक समूहों ने भाग लिया।

(I) शहरों में मध्यम वर्ग के लोग

शहरों में आंदोलन: शहरों में मध्यम वर्ग की भागीदारी के साथ आंदोलन शुरू हुआ।  हजारों छात्रों ने सरकारी नियंत्रित स्कूलों और कॉलेजों को छोड़ दिया, प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों ने इस्तीफा दे दिया और वकीलों ने अपनी कानूनी प्रथाओं को छोड़ दिया।

परिषद चुनावों का बहिष्कार: मद्रास (चेन्नई) को छोड़कर अधिकांश प्रांतों में परिषद के चुनावों का बहिष्कार किया गया, जहां गैर-ब्राह्मणों की पार्टी जस्टिस पार्टी ने महसूस किया कि परिषद में प्रवेश करना कुछ शक्ति हासिल करने का एक तरीका था, कुछ ऐसा जो आमतौर पर केवल ब्राह्मणों के पास था।  तक पहुंच।

स्वदेशी: असहयोग आंदोलन का भारतीय कपड़ा उद्योग पर बहुत प्रभाव पड़ा।  स्वदेशी वस्तुओं, विशेषकर कपड़े को बहुत प्रोत्साहन मिला।  विदेशी सामानों का बहिष्कार किया गया, शराब की दुकानों पर धरना दिया गया, और विदेशी कपड़ों को विशाल अलावों में जलाया गया।

उद्योग पर प्रभाव : कई स्थानों पर व्यापारियों और व्यापारियों ने विदेशी वस्तुओं के व्यापार या विदेशी व्यापार के वित्तपोषण से इंकार कर दिया।  इससे भारतीय कपड़ा मिलों और हथकरघा की मांग बढ़ गई।  मांग में वृद्धि ने भारत के लुप्त हो रहे कपड़ा उद्योग को एक बड़ी राहत प्रदान की।

ग्रामीण इलाकों में आंदोलन: हालांकि ग्रामीण इलाकों में लोगों ने अपने तरीके से ‘स्वराज’ के विचार की व्याख्या की, लेकिन उन्होंने बड़े पैमाने पर आंदोलन में भाग लिया। अवध में, किसानों ने तालुकदारों और जमींदारों के खिलाफ आंदोलन शुरू किया। वहीं बागान मजदूरों ने चाय बागान मालिकों के खिलाफ आंदोलन छेड़ दिया। 

 (II) ग्रामीण क्षेत्रों में किसान

 (i) प्रतिभागी: ग्रामीण इलाकों में, आंदोलन का नेतृत्व किसानों, आदिवासियों और स्थानीय नेताओं ने किया था।  उदाहरण के लिए, अवध में, बाबा रामचंद्र संन्यासी थे, जो पहले एक गिरमिटिया मजदूर के रूप में फिजी गए थे।

 (ii) ग्रामीण लोगों ने क्यों भाग लिया?

 यहां का आंदोलन अंग्रेजों के खिलाफ नहीं बल्कि तालुकदारों और जमींदारों के खिलाफ था।  ग्रामीण लोगों की समस्याएं शहरी लोगों की समस्याओं से भिन्न थीं:

तालुकदार और जमींदार बहुत अधिक लगान और कई तरह के अन्य करों की मांग कर रहे थे। किसानों को बिना किसी भुगतान के जमींदार के खेतों में भिखारी का काम करना पड़ता था।

किसानों के पास कार्यकाल की कोई सुरक्षा नहीं थी।  उन्हें नियमित रूप से बेदखल किया जाता था ताकि वे कार्यकाल की कोई सुरक्षा प्राप्त न कर सकें। चूंकि लोगों की समस्याएं अलग थीं, इसलिए उनकी मांगें भी अलग थीं। 

(iii) विरोध के तरीके: ग्रामीण इलाकों में आंदोलन का एक अलग कोण था।  जमींदारों को नाइयों, मोची, धोबी आदि की सेवाओं से वंचित करने के लिए कई जगहों पर पंचायतों द्वारा नई धोबी बंद का आयोजन किया गया था। जवाहरलाल नेहरू जैसे राष्ट्रीय नेता भी लोगों की शिकायतों को जानने के लिए अवध के गांवों में गए थे।  अक्टूबर तक, अवध किसान सभाओं की स्थापना जवाहरलाल नेहरू, बाबा रामचंद्र और कुछ अन्य लोगों ने की थी।  1921 में जब आंदोलन फैला तो तालुकदारों और व्यापारियों के घरों पर हमले हुए।  आंदोलन हिंसक हो गया जो कुछ कांग्रेसी नेताओं को पसंद नहीं आया।

 (III) जनजातीय लोग

 अधिकांश आदिवासी लोग अपनी आजीविका के लिए जंगलों पर निर्भर थे लेकिन नई वन नीति के तहत सरकार ने लोगों पर कई प्रतिबंध लगा दिए थे:

  • आदिवासी लोगों के लिए बड़े वन क्षेत्र को बंद करना।
  • स्थानीय लोगों को भीख मांगने के लिए मजबूर करना।
  • लोगों को अपने मवेशियों को चराने के लिए या ईंधन की लकड़ी और फल इकट्ठा करने के लिए जंगलों में प्रवेश करने से रोकना।

इन सभी कदमों ने पहाड़ी लोगों को नाराज कर दिया। न केवल उनकी आजीविका प्रभावित हुई, बल्कि उन्हें लगा कि उनके पारंपरिक अधिकारों से भी वंचित किया जा रहा है तो लोगों ने विद्रोह कर दिया।

 (iv) बागान कार्यकर्ता

असम में बागान श्रमिकों के लिए, स्वतंत्रता का अर्थ उस सीमित स्थान में स्वतंत्र रूप से आने-जाने का अधिकार था जिसमें वे संलग्न थे, और इसका अर्थ उस गाँव के साथ संबंध बनाए रखना था जहाँ से वे आए थे।

सरकार ने 1859 का अंतर्देशीय उत्प्रवास अधिनियम पारित किया था जिसके तहत बागान श्रमिकों को बिना अनुमति के चाय बागानों को छोड़ने की अनुमति नहीं थी, और वास्तव में, उन्हें शायद ही कभी ऐसी अनुमति दी गई थी। जब बागान श्रमिकों ने असहयोग आंदोलन के बारे में सुना, तो उनमें से हजारों ने अधिकारियों की अवहेलना की, बागानों को छोड़ दिया और अपने घरों की ओर चल पड़े।

बागान मजदूरों का मानना था कि गांधी राज आ रहा है और सभी को उनके अपने गांवों में जमीन दी जाएगी।

 

  1. यह स्पष्ट करने के लिए नमक मार्च की चर्चा करें कि यह उपनिवेशवाद के खिलाफ प्रतिरोध का एक प्रभावी प्रतीक क्यों था।  [सीबीएसई 2015]

उत्तर:नमक मार्च उपनिवेशवाद के खिलाफ प्रतिरोध का एक प्रभावी प्रतीक था क्योंकि-

  • यह पहली बार था जब भारतीय नेताओं ने कानून का उल्लंघन करने का फैसला किया।  लोगों को अब न केवल अंग्रेजों के साथ सहयोग से इंकार करने के लिए कहा गया, बल्कि औपनिवेशिक कानूनों को तोड़ने के लिए भी कहा गया।
  • देश के विभिन्न हिस्सों में हजारों भारतीयों ने नमक कानून तोड़ा, नमक बनाया और सरकारी नमक कारखानों के सामने प्रदर्शन किया।
  • आंदोलन फैलते ही विदेशी कपड़ों का बहिष्कार कर दिया गया और शराब की दुकानों पर धरना दिया गया।  किसानों ने राजस्व और ‘चौकीदारी कर’ देने से इनकार कर दिया, गाँव के अधिकारियों ने इस्तीफा दे दिया, और कई जगहों पर वन लोगों ने वन कानूनों का उल्लंघन किया – लकड़ी इकट्ठा करने और मवेशियों को चराने के लिए आरक्षित वनों में जा रहे थे।
  • विकास से चिंतित, औपनिवेशिक सरकार ने एक-एक करके कांग्रेस नेताओं को गिरफ्तार करना शुरू कर दिया।  इससे कई जगहों पर हिंसक झड़प भी हुई। बख्तरबंद गाड़ियों और पुलिस फायरिंग का सामना करते हुए गुस्साई भीड़ ने सड़कों पर प्रदर्शन किया इससे  कई मारे गए।
  • जब महात्मा गांधी को स्वयं गिरफ्तार किया गया, तो शोलापुर में औद्योगिक श्रमिकों ने पुलिस चौकियों, नगरपालिका भवनों, कानून अदालतों और रेलवे स्टेशनों पर हमला किया – सभी संरचनाएं जो ब्रिटिश शासन का प्रतीक थीं।
  • आंदोलन का परिणाम गांधी-इरविन समझौता था, जिस पर गांधीजी ने इरविन के साथ 5 मार्च, 1931 को हस्ताक्षर किए थे। इस गांधी-इरविन समझौते से, गांधीजी ने लंदन में एक गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने के लिए सहमति व्यक्त की। 

 

  1. पृथक निर्वाचक मंडल के प्रश्न पर राजनीतिक नेताओं में तीव्र मतभेद क्यों था?[CBSE 2015]

उत्तर: पृथक निर्वाचक मंडल की व्यवस्था से हमारा तात्पर्य ऐसी व्यवस्था से है जब एक धर्म के लोग केवल अपने ही धर्म के उम्मीदवार को वोट देते हैं। ऐसी व्यवस्था का प्रयोग ब्रिटिश सरकार की एक शरारत थी जो राष्ट्रीय आंदोलन को कमजोर करने के लिए लोगों को बांटना चाहती थी।  ऐसा करके अंग्रेज भारत में अपने प्रवास को लम्बा करना चाहते थे।

अलग-अलग निर्वाचक मंडलों के प्रश्न पर विभिन्न राजनीतिक नेताओं में निम्नलिखित कारणों से मतभेद था:

 (1) कांग्रेस नेताओं ने अलग निर्वाचक मंडल की मांग के लिए विभिन्न लोगों को उकसाने में ब्रिटिश सरकार की नीति का विरोध किया।  वे अच्छी तरह जानते थे कि यह सब ब्रिटिश सरकार की शरारत थी जिसने अलग-अलग लोगों को अलग निर्वाचक मंडल की मांग करने के लिए प्रोत्साहित किया क्योंकि इस तरह की नीति से राष्ट्रीय आंदोलन कमजोर होगा, और अंग्रेज भारत में लंबे समय तक रहेंगे।  कांग्रेस के नेता संयुक्त निर्वाचक मंडल के पक्ष में एक थे। 

(2) मुहम्मद इकबाल और श्री जिन्ना जैसे मुस्लिम नेताओं ने मुसलमानों के राजनीतिक हितों की रक्षा के लिए अलग निर्वाचक मंडल की मांग की।  उनकी राय में, अधिकांश लोग हिंदू थे, और इसलिए संयुक्त निर्वाचक मंडल के मामले में, मुसलमानों के पास सीटें जीतने की बहुत कम संभावना होगी। जैसे, वे हमेशा हिंदुओं की दया पर रहेंगे।

 (3) दलित वर्गों के नेता, डॉ. बी.आर.  अम्बेडकर ने अलग निर्वाचक मंडल की भी मांग की क्योंकि संयुक्त निर्वाचक मंडलों में, उन्हें चुनावों में उच्च मतदाताओं या उच्च जाति के हिंदुओं के प्रभुत्व का डर था।  हालाँकि, पूना पैक्ट द्वारा, उन्होंने हिंदुओं के साथ संयुक्त निर्वाचक मंडल के लिए सहमति व्यक्त की, बशर्ते कि दलित वर्गों के लिए सीटें प्रांतीय और केंद्रीय विधान परिषदों में तय या आरक्षित हों।

 

  1. गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट 1919 के बारे में विस्तार से वर्णन कीजिए?

उत्तर: भारत सरकार अधिनियम 1919 ब्रिटिश संसद का एक अधिनियम था जिसने अपने देश के प्रशासन में भारतीयों की भागीदारी बढ़ाने की मांग की थी। 

यह अधिनियम 1916 और 1921 के बीच भारत के तत्कालीन सचिव एडविन मोंटेग्यू और भारत के वायसराय लॉर्ड चेम्सफोर्ड की एक रिपोर्ट की सिफारिशों पर आधारित था। इसलिए इस अधिनियम द्वारा निर्धारित संवैधानिक सुधारों को मोंटेग्यू-चेम्सफोर्ड सुधारों के रूप में जाना जाता है। 

 

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट 1919 की विशेषताएं

प्रांतीय सरकार

 कार्यकारिणी: द्वैध शासन की शुरुआत हुई, यानी प्रशासकों के दो वर्ग थे – कार्यकारी पार्षद और मंत्री।

  • राज्यपाल प्रांत का कार्यकारी प्रमुख होता था।
  • विषयों को दो सूचियों में विभाजित किया गया था – आरक्षित और स्थानांतरित।
  •  राज्यपाल अपने कार्यकारी पार्षदों के साथ आरक्षित सूची के प्रभारी थे।  इस सूची के अधीन विषय कानून और व्यवस्था, सिंचाई, वित्त, भू-राजस्व आदि थे।
  • मंत्री तबादला सूची के तहत विषयों के प्रभारी थे।  शामिल विषयों में शिक्षा, स्थानीय सरकार, स्वास्थ्य, उत्पाद शुल्क, उद्योग, सार्वजनिक कार्य, धार्मिक बंदोबस्ती आदि शामिल थे।
  • मंत्री उन लोगों के प्रति उत्तरदायी थे जिन्होंने उन्हें विधायिका के माध्यम से चुना था।
  • इन मंत्रियों को विधान परिषद के निर्वाचित सदस्यों में से मनोनीत किया जाता था।
  • मंत्रियों के विपरीत, कार्यकारी पार्षद विधायिका के प्रति जिम्मेदार नहीं थे।
  • राज्य के सचिव और गवर्नर-जनरल आरक्षित सूची के तहत मामलों में हस्तक्षेप कर सकते थे लेकिन यह हस्तक्षेप स्थानांतरित सूची के लिए प्रतिबंधित था।

 

 विधान – सभा: प्रांतीय विधान सभाओं का आकार बढ़ा दिया गया।  अब लगभग 70% सदस्य चुने गए।

  •  सांप्रदायिक और वर्गीय मतदाता थे।
  •  कुछ महिलाएं मतदान भी कर सकती थीं।
  •  किसी भी विधेयक को पारित करने के लिए राज्यपाल की अनुमति आवश्यक थी।  उसके पास वीटो पावर भी थी और वह अध्यादेश भी जारी कर सकता था।
  •  ब्रिटिश भारत में पारित कानून के बारे में अधिक जानने के लिए, लिंक किए गए लेख पर क्लिक करें।

 

 केन्द्रीय सरकार

 कार्यकारिणी: मुख्य कार्यकारी अधिकारी गवर्नर-जनरल था।

  •  प्रशासन के लिए दो सूचियाँ थीं – केंद्रीय और प्रांतीय।
  •  प्रांतीय सूची प्रांतों के अधीन थी जबकि केंद्र ने केंद्रीय सूची का ध्यान रखा।
  •  वायसराय की कार्यकारी परिषद के 8 सदस्यों में से 3 भारतीय सदस्य होने थे।
  •  गवर्नर-जनरल अध्यादेश जारी कर सकता था।
  •  वह उन बिलों को भी प्रमाणित कर सकता था जिन्हें केंद्रीय विधायिका ने खारिज कर दिया था।

 

विधान – सभा: एक द्विसदनीय विधायिका की स्थापना दो सदनों – विधान सभा (लोकसभा के अग्रदूत) और राज्य परिषद (राज्य सभा के अग्रदूत) के साथ की गई थी।

 => विधान सभा (निचला सदन)

 => विधान सभा के सदस्य

 => मनोनीत सदस्यों को गवर्नर-जनरल द्वारा एंग्लो-इंडियन और भारतीय ईसाइयों से नामित किया गया था।

 

  • सदस्यों का कार्यकाल 3 वर्ष का होता था।

 

राज्य परिषद (उच्च सदन) केवल पुरुष सदस्य जिनका कार्यकाल 5 वर्ष है।

  • राज्य परिषद के सदस्य
  • विधायक सवाल पूछ सकते हैं और बजट के एक हिस्से पर वोट भी कर सकते हैं।
  • बजट का केवल 25% मतदान के अधीन था।
  •  बाकी गैर-मतदान योग्य था।
  •  एक विधेयक को कानून बनने से पहले दोनों सदनों में पारित करना पड़ता था।
  •  दोनों सदनों के बीच किसी भी गतिरोध को हल करने के लिए तीन उपाय थे- संयुक्त समितियां, संयुक्त सम्मेलन और संयुक्त बैठकें।

 

गवर्नर जनरल

  • किसी भी विधेयक को कानून बनने के लिए गवर्नर-जनरल की सहमति आवश्यक थी, भले ही दोनों सदनों ने उसे पारित कर दिया हो।
  •  वह विधायिका की सहमति के बिना भी विधेयक बना सकता था।
  • वह किसी विधेयक को कानून बनने से रोक सकता है यदि वह इसे देश की शांति के लिए हानिकारक मानता है।
  • वह सदन में किसी भी प्रश्न, स्थगन प्रस्ताव या वाद-विवाद की अनुमति नहीं दे सकता था

 

वोट देने का अधिकार किसको था?

मताधिकार प्रतिबंधित था और कोई सार्वभौमिक वयस्क मताधिकार नहीं था। 

  • मतदाताओं को 3000 रुपये के भू-राजस्व का भुगतान करना चाहिए या किराये की कीमत वाली संपत्ति होनी चाहिए या कर योग्य आय होनी चाहिए। 
  • उन्हें विधान परिषद में पिछला अनुभव होना चाहिए।
  •  वे एक विश्वविद्यालय सीनेट के सदस्य होने चाहिए।
  •  उन्हें स्थानीय निकायों में कुछ पद धारण करने चाहिए।
  •  उन्हें कुछ विशिष्ट उपाधियाँ धारण करनी चाहिए।

 

भारतीय परिषद

  • परिषद में कम से कम 8 और अधिकतम 12 सदस्य होने चाहिए थे।
  • आधे सदस्यों को भारत में सार्वजनिक सेवा में दस साल का अनुभव होना चाहिए।
  • इनका कार्यकाल 5 वर्ष का होना था।
  • उनका वेतन £1000 से बढ़ाकर £1200 कर दिया गया।
  •  परिषद में 3 भारतीय सदस्य होने थे

 

  1. गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट की मुख्य विशेषताओं का वर्णन करते हुए उसके लाभ और लिमिटेशन के बारे में बताइए?

उत्तर: भारत सरकार अधिनियम, 1919  मुख्य विशेषताएं

  • इस अधिनियम ने पहली बार भारत में एक लोक सेवा आयोग की स्थापना का प्रावधान किया।
  • अधिनियम में यह भी प्रावधान था कि 10 वर्षों के बाद, सरकार के कामकाज का अध्ययन करने के लिए एक वैधानिक आयोग का गठन किया जाएगा।  इसके परिणामस्वरूप 1927 का साइमन कमीशन हुआ।
  • इसने लंदन में भारत के उच्चायुक्त का कार्यालय भी बनाया।

भारत सरकार अधिनियम 1919 के गुण

  • द्वैध शासन ने जिम्मेदार सरकार की अवधारणा पेश की।
  •  इसने संघीय ढांचे की अवधारणा को एकात्मक पूर्वाग्रह के साथ पेश किया।
  •  प्रशासन में भारतीयों की भागीदारी बढ़ी।  उनके पास श्रम, स्वास्थ्य आदि जैसे कुछ विभाग थे।
  •  पहली बार चुनाव की जानकारी लोगों को हुई और इसने लोगों में राजनीतिक चेतना पैदा की।
  •  कुछ भारतीय महिलाओं को भी पहली बार वोट देने का अधिकार मिला।

भारत सरकार अधिनियम 1919 की सीमाएं

  • इस अधिनियम ने समेकित और सांप्रदायिक प्रतिनिधित्व बढ़ाया।
  • मताधिकार बहुत सीमित था।  यह आम आदमी तक नहीं फैला।
  • गवर्नर-जनरल और गवर्नरों के पास क्रमशः केंद्र और प्रांतों में विधायिकाओं को कमजोर करने की बहुत शक्ति थी।
  • केंद्रीय विधायिका के लिए सीटों का आवंटन जनसंख्या पर नहीं बल्कि अंग्रेजों की नजर में प्रांत के ‘महत्व’ पर आधारित था।
  • 1919 में रॉलेट एक्ट पारित किया गया जिसने प्रेस और आंदोलन को गंभीर रूप से प्रतिबंधित कर दिया। विधान परिषद के भारतीय सदस्यों के सर्वसम्मत विरोध के बावजूद, उन विधेयकों को पारित किया गया। 
  • कई भारतीय सदस्यों ने विरोध में इस्तीफा दे दिया।

 

  1. चंपारण सत्याग्रह के बारे में विस्तार से जानकारी दीजिए?

उत्तर: स्वतंत्रता संग्राम में गांधी द्वारा पहला आंदोलन सविनय अवज्ञा आंदोलन था। नील की खेती करने वाले राजकुमार शुक्ल के समझाने पर गांधी बिहार के चंपारण गए और वहां के किसानों की स्थिति का जायजा लिया। किसान भारी करों और शोषणकारी व्यवस्था से पीड़ित थे। उन्हें ब्रिटिश बागान मालिकों द्वारा तिनकठिया प्रणाली के तहत नील उगाने के लिए मजबूर किया गया था। 

गांधी मामले की जांच के लिए चंपारण पहुंचे लेकिन ब्रिटिश अधिकारियों ने उन्हें ऐसा करने की अनुमति नहीं दी। उन्हें जगह छोड़ने के लिए कहा गया लेकिन उन्होंने मना कर दिया। वह किसानों और जनता से समर्थन इकट्ठा करने में सक्षम था। जब वह एक समन के जवाब में अदालत में पेश हुए, तो लगभग 2000 स्थानीय लोग उनके साथ थे। उनके खिलाफ मामला हटा दिया गया था और उन्हें जांच करने की अनुमति दी गई थी।

गांधी के नेतृत्व में बागान मालिकों और जमींदारों के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध के बाद, सरकार शोषक तिनकठिया व्यवस्था को खत्म करने के लिए सहमत हुई। किसानों को उनसे निकाले गए पैसे का एक हिस्सा मुआवजे के रूप में भी मिलता था। चंपारण संघर्ष को गांधी द्वारा सत्याग्रह पर पहला प्रयोग कहा जाता है और बाद में अहमदाबाद मिल हड़ताल और खेड़ा सत्याग्रह हुआ।

इसी समय के दौरान गांधी को लोगों द्वारा ‘बापू’ और ‘महात्मा’ नाम दिए गए थे। 

 

  1. पूना पैक्ट के महत्व पर प्रकाश डालिए?

उत्तर: पूना पैक्ट ब्रिटिश सरकार के विधानमंडल में चुनावी सीटों के आरक्षण के लिए दलित वर्ग की ओर से 24 सितंबर, 1932 को यरवदा सेंट्रल जेल, पूना में एम के गांधी और बी आर अंबेडकर के बीच एक समझौता था।

दलित वर्गों की ओर से अंबेडकर द्वारा और हिंदुओं की ओर से मदन मोहन मालवीय द्वारा और गांधी द्वारा उपवास को समाप्त करने के साधन के रूप में हस्ताक्षर किए गए थे, जो गांधी ब्रिटिश प्रधान मंत्री रामसे मैकडोनाल्ड द्वारा दिए गए निर्णय के विरोध में जेल में कर रहे थे। ब्रिटिश भारत में प्रांतीय विधानसभाओं के सदस्यों के चुनाव के लिए दलित वर्गों के लिए अलग निर्वाचक मंडल। 

 

पूना पैक्ट के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

डॉ अम्बेडकर दलित वर्गों के लिए एक अलग निर्वाचक मंडल के पक्ष में थे और यह उनके द्वारा प्रथम गोलमेज सम्मेलन में निर्धारित किया गया था।  वह सम्मेलन में दलित वर्गों का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। गांधी इस विचार के खिलाफ थे और जब पीएम मैकडोनाल्ड ने अल्पसंख्यकों और दलित वर्गों को सांप्रदायिक पुरस्कार देने का फैसला किया, तो उन्होंने पूना में जेल में उपवास किया। आमरण अनशन को समाप्त करने के लिए जनता के दबाव के कारण, डॉ अम्बेडकर और गांधी ने पूना पैक्ट किया, जिसने प्रांतीय विधानसभाओं में दलित वर्गों के लिए आरक्षित सीटों को निर्धारित किया, जिसके लिए चुनाव संयुक्त निर्वाचक मंडल के माध्यम से होंगे।

गांधी इस विचार के खिलाफ थे क्योंकि वे अछूतों को हिंदू धर्म के दायरे से बाहर के रूप में नहीं देखना चाहते थे। प्रांतीय विधायिकाओं के लिए कुछ सीटें दलित वर्गों के लिए आरक्षित होंगी। 

केन्द्रीय विधानमंडल में भी संयुक्त निर्वाचक मंडल और आरक्षित सीटों के समान सिद्धांत का पालन किया जाना था। केंद्रीय विधायिका में, 19% सीटें दलित वर्गों के लिए आरक्षित होंगी। यह प्रणाली दस साल तक जारी रहेगी जब तक कि कोई आपसी समझौता इसे पहले समाप्त करने की सहमति नहीं देता।

स्थानीय निकायों के चुनाव या सार्वजनिक सेवाओं की नियुक्तियों में किसी के साथ जाति के आधार पर भेदभाव नहीं किया जाएगा। सभी प्रांतों में दलित वर्गों की शिक्षा के लिए शैक्षिक अनुदान से एक निश्चित राशि आवंटित की जाएगी।

 

  1. गांधी इरविन समझौते का महत्व, विशेषताएं और परिणाम का उल्लेख कीजिए?

उत्तर: दिल्ली मेनिफेस्टो में महात्मा गांधी द्वारा रखी गई मांगों की अस्वीकृति के कारण लाहौर कांग्रेस अधिवेशन हुआ।  बाद में, सविनय अवज्ञा आंदोलन के तहत, गांधी ने 11 मांगों को सामने रखा और 31 जनवरी, 1930 को स्वीकार या अस्वीकार करने का अल्टीमेटम दिया। जुलाई 1930 में वायसराय लॉर्ड इरविन ने एक गोलमेज सम्मेलन का सुझाव दिया और डोमिनियन स्टेटस के लक्ष्य को दोहराया।

25 जनवरी, 1931 को, गांधी और कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) के अन्य सभी सदस्यों को बिना शर्त जेल से रिहा कर दिया गया। सीडब्ल्यूसी ने गांधी को वाइसराय लॉर्ड इरविन के साथ चर्चा शुरू करने के लिए अधिकृत किया।  बाद में दिल्ली में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए, जिसे दिल्ली-पैक्ट या गांधी-इरविन पैक्ट के रूप में जाना जाने लगा। 

गांधी इरविन समझौते का महत्व: दूसरा गोलमेज सम्मेलन 1931 में लंदन में होना था। 1930 में, नमक सत्याग्रह आयोजित किया गया और भारत और गांधी ने दुनिया भर में ध्यान आकर्षित किया।  भारत में ब्रिटिश सरकार की भारतीयों के साथ अन्यायपूर्ण व्यवहार के लिए आलोचना की गई थी। गांधी और कई अन्य नेताओं को हजारों भारतीयों के साथ जेल में डाल दिया गया था। लॉर्ड इरविन चाहते थे कि इस मुद्दे का अंत हो। इसलिए, गांधी को जनवरी 1931 में जेल से रिहा कर दिया गया। तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सरदार वल्लभभाई पटेल ने गांधी को लॉर्ड इरविन के साथ बातचीत करने के लिए अधिकृत किया। तदनुसार, गांधी ने इरविन से मुलाकात की और बातचीत की। यह पहली बार था कि दोनों ‘बराबर’ के रूप में मिल रहे थे। 

गांधी इरविन समझौते की विशेषताएं: 

  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने के लिए सहमत हो गई। 
  • कांग्रेस सविनय अवज्ञा आंदोलन को रोक देगी। 
  • कांग्रेस की गतिविधियों पर अंकुश लगाने वाले सभी अध्यादेशों को वापस लेना। 
  • हिंसक अपराधों को छोड़कर सभी अभियोगों को वापस लेना।
  • सविनय अवज्ञा आंदोलन में भाग लेने के लिए गिरफ्तार किए गए लोगों की रिहाई। नमक कर को हटाना। 

 

गांधी इरविन समझौते का परिणाम:  

  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने दूसरे गोलमेज सम्मेलन में भाग लिया जो 1931 में सितंबर-दिसंबर के दौरान आयोजित किया गया था। 
  • सरकार सभी अध्यादेशों को वापस लेने पर सहमत हो गई है। 
  • यह हिंसा में शामिल लोगों को बचाने के लिए सभी राजनीतिक बंदियों को रिहा करने पर सहमत हुआ। 
  • शराब और विदेशी कपड़े की दुकानों पर शांतिपूर्ण धरना देने पर सहमति बनी। 
  • यह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पर प्रतिबंध को रद्द करने पर सहमत हुआ। 
  • यह सत्याग्रहियों की जब्त की गई संपत्तियों को बहाल करने पर सहमत हुआ। 
  • यह समुद्र तटों के पास लोगों द्वारा नमक के संग्रह की अनुमति देने पर सहमत हुआ। 
  • यह अभी तक एकत्र नहीं किए गए जुर्माने को छोड़ने पर सहमत हुआ। 
  • यह सविनय अवज्ञा आंदोलन के मद्देनजर सेवा से इस्तीफा देने वाले सभी सरकारी कर्मचारियों के साथ उदार व्यवहार पर सहमत हुआ। 

 

  1. नमक सत्याग्रह आंदोलन के बारे में विस्तृत जानकारी दीजिए?

उत्तर: नमक सत्याग्रह भारत में ब्रिटिश सरकार द्वारा लगाए गए नमक कर के खिलाफ महात्मा गांधी द्वारा शुरू किया गया एक सामूहिक सविनय अवज्ञा आंदोलन था। उन्होंने 12 मार्च 1930 को साबरमती आश्रम से लेकर गुजरात के एक तटीय गांव दांडी तक समुद्री जल से नमक का उत्पादन करके नमक कानून तोड़ने के लिए लोगों के एक बड़े समूह का नेतृत्व किया। 

नमक सत्याग्रह आंदोलन की पृष्ठभूमि: 1930 तक, कांग्रेस पार्टी ने घोषणा की थी कि पूर्ण स्वराज्य या पूर्ण स्वतंत्रता स्वतंत्रता संग्राम का एकमात्र उद्देश्य था।

इसने 26 जनवरी को पूर्ण स्वराज्य दिवस के रूप में मनाना शुरू किया, और यह निर्णय लिया गया कि सविनय अवज्ञा को इसे प्राप्त करने के लिए नियोजित साधन होना चाहिए।

 गांधीजी ने सरकार की अवज्ञा में नमक कर को तोड़ने का फैसला किया। कांग्रेस के कुछ सदस्यों को पसंद पर संदेह था और अन्य भारतीयों और अंग्रेजों ने नमक के इस विकल्प को तिरस्कार के साथ खारिज कर दिया।

यह सभी के लिए आवश्यक वस्तु थी और नमक कर के कारण गरीब लोग आहत थे। 1882 के नमक अधिनियम के पारित होने तक भारतीय समुद्री जल से मुफ्त में नमक बना रहे थे, जिसने नमक के उत्पादन पर ब्रिटिश एकाधिकार और नमक कर लगाने का अधिकार दिया। नमक अधिनियम का उल्लंघन करना एक आपराधिक अपराध था।

गांधीजी को भी हिंदुओं और मुसलमानों को एकजुट करने की उम्मीद थी क्योंकि दोनों समूहों के लिए कारण समान था।

ब्रिटिश राज के कर से होने वाले राजस्व में नमक कर का 8.2% हिस्सा होता था और गांधीजी जानते थे कि सरकार इसे नज़रअंदाज़ नहीं कर सकती थी। 

नमक सत्याग्रह आंदोलन की घटनाएं: गांधीजी ने 2 मार्च 1930 को लॉर्ड इरविन को अपनी योजना से अवगत कराया। वह 12 मार्च 1930 को साबरमती में अपने आश्रम से लोगों के एक समूह का नेतृत्व करेंगे और गुजरात के गांवों में घूमेंगे। दांडी के तटीय गाँव में पहुँचकर वह समुद्री जल से नमक बनाकर नमक अधिनियम को तोड़ देता था। 

गांधीजी ने अपने 80 अनुयायियों के साथ योजना के अनुसार मार्च शुरू किया। उन्हें किसी भी तरह की हिंसा न करने की सख्त हिदायत दी गई। साबरमती आश्रम से अहमदाबाद तक इस ऐतिहासिक घटना को देखने के लिए हजारों लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। हर दिन के अंत में गांधीजी हजारों लोगों को संबोधित करते थे और अपने भाषणों में सरकार पर हमला करते थे। 

गांधीजी ने विदेशी पत्रकारों से बात की और रास्ते में अखबारों के लिए लेख लिखे।  इसने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन को विश्व मीडिया में सबसे आगे धकेल दिया। पश्चिम में गांधीजी एक घरेलू नाम बन गए। रास्ते में सरोजिनी नायडू उनके साथ हो गईं। हर दिन अधिक से अधिक लोग उनके साथ जुड़ते गए और 5 अप्रैल 1930 को वे दांडी पहुंचे। इस समय मार्च में करीब 50 हजार लोग शामिल थे। 6 अप्रैल 1930 की सुबह गांधी जी ने नमक बनाकर नमक कानून तोड़ा।  हजारों लोगों ने इसका अनुसरण किया। 

 

  1. नमक सत्याग्रह आंदोलन के प्रभावों का उल्लेख कीजिए?

उत्तर: सरकार ने स्वयं गांधीजी सहित लगभग 60,000 लोगों को गिरफ्तार किया था। लोगों द्वारा व्यापक सविनय अवज्ञा की गई। नमक कर के अलावा, अन्य अलोकप्रिय कर कानूनों की अवहेलना की जा रही थी जैसे वन कानून, चौकीदार कर, भूमि कर, आदि। सरकार ने अधिक कानूनों और सेंसरशिप के साथ आंदोलन को दबाने की कोशिश की।

कांग्रेस पार्टी को अवैध घोषित कर दिया गया।  कलकत्ता और कराची में हिंसा की कुछ घटनाएं हुईं लेकिन गांधीजी ने पिछली बार के असहयोग आंदोलन के विपरीत आंदोलन को वापस नहीं लिया।

सी राजगोपालाचारी ने दक्षिण-पूर्वी तट पर त्रिची से तमिलनाडु के वेदारण्यम तक इसी तरह के मार्च का नेतृत्व किया।  उन्हें भी नमक बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। पेशावर में, सत्याग्रह का आयोजन और नेतृत्व गांधीजी के शिष्य, खान अब्दुल गफ्फार खान ने किया था। अप्रैल 1930 में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।  खान के अनुयायी (जिन्हें खुदाई खिदमतगार कहा जाता है) जिन्हें उन्होंने सत्याग्रह में प्रशिक्षित किया था, किस्सा ख्वानी बाजार नामक बाजार में एकत्र हुए थे। वहां उन्हें निहत्थे होने के बावजूद ब्रिटिश भारतीय सेना द्वारा गोली मार दी गई थी।

हजारों महिलाओं ने भी सत्याग्रह में भाग लिया। विदेशी कपड़ों का बहिष्कार किया गया। शराब की दुकानों पर धरना दिया गया।  जगह-जगह धरना-प्रदर्शन हुआ। 21 मई 1930 को, सरोजिनी नायडू के नेतृत्व में शांतिपूर्ण अहिंसक प्रदर्शनकारियों द्वारा धरसाना साल्ट वर्क्स के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया था। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर बेरहमी से लाठीचार्ज किया और इसमें 2 लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए।  आंदोलन से ब्रिटिश सरकार हिल गई। साथ ही, इसकी अहिंसक प्रकृति ने उनके लिए इसे हिंसक रूप से दबाना मुश्किल बना दिया।

इस आंदोलन के तीन मुख्य प्रभाव थे:

  • इसने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को पश्चिमी मीडिया में सुर्खियों में ला दिया।
  • इसने महिलाओं और दलित वर्गों सहित बहुत से लोगों को सीधे स्वतंत्रता आंदोलन के संपर्क में लाया।
  • इसने साम्राज्यवाद से लड़ने में अहिंसक सत्याग्रह की शक्ति को एक उपकरण के रूप में दिखाया।

 

गांधीजी 1931 में जेल से रिहा हुए और उनकी मुलाकात लॉर्ड इरविन से हुई, जो सविनय अवज्ञा आंदोलन और मीडिया का ध्यान आकर्षित करने के लिए उत्सुक थे। गांधी-इरविन समझौते के अनुसार, सविनय अवज्ञा आंदोलन समाप्त हो जाएगा और भारतीयों को बदले में घरेलू उपयोग के लिए नमक बनाने की अनुमति दी जाएगी। लॉर्ड इरविन भी गिरफ्तार भारतीयों को रिहा करने के लिए सहमत हुए। गांधीजी ने लंदन में दूसरे गोलमेज सम्मेलन में ‘समान’ के रूप में भाग लिया। 

 

  1. प्रथम गोलमेज सम्मेलन का उल्लेख कीजिए? 

उत्तर: ब्रिटिश राजव्यवस्था के एक खास वर्ग के बीच भारत को डोमिनियन का दर्जा देने की मांग बढ़ती जा रही थी। भारत में, स्वराज या करिश्माई गांधी के नेतृत्व में स्व-शासन की मांग के साथ स्वतंत्रता आंदोलन पूरे जोरों पर था। सम्मेलन मुहम्मद अली जिन्ना की भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड इरविन और तत्कालीन ब्रिटिश प्रधान मंत्री जेम्स रामसे मैकडोनाल्ड और साइमन कमीशन की रिपोर्ट पर आधारित थे।

यह पहली बार था कि भारतीय और अंग्रेज ‘बराबर’ के रूप में मिल रहे थे।  पहला सम्मेलन 12 नवंबर 1930 को शुरू हुआ था 

प्रथम गोलमेज सम्मेलन के प्रतिभागी: 

  • ब्रिटिश भारत के 58 राजनीतिक नेता।
  • देशी रियासतों के 16 प्रतिनिधि।
  • तीन ब्रिटिश राजनीतिक दलों के 16 प्रतिनिधि।
  • भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने सम्मेलन में भाग नहीं लेने का निर्णय लिया। सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल होने के कारण कई भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के  नेताओं को जेल में डाल दिया गया था।
  • ब्रिटिश-भारतीयों में, निम्नलिखित प्रतिनिधियों ने सम्मेलन में भाग लिया: मुस्लिम लीग, हिंदू, जस्टिस पार्टी, सिख, उदारवादी, पारसी, ईसाई, एंग्लो-इंडियन, यूरोपीय, जमींदार, श्रमिक, महिलाएं, विश्वविद्यालय, सिंध, बर्मा, अन्य प्रांत,  और भारत सरकार के प्रतिनिधि।

प्रथम गोलमेज सम्मेलन में क्या क्या मामलों पर बात हुई: 

  • संघीय संरचना
  • प्रांतीय संविधान
  • सिंध प्रांत 
  • अल्पसंख्यकों
  • रक्षा सेवाएं
  • मताधिकार
  • विधायिका के प्रति कार्यकारी जिम्मेदारी
  • डॉ बी आर अम्बेडकर ने ‘अछूतों’ के लिए अलग निर्वाचक मंडल की मांग की।
  • तेज बहादुर सप्रू ने अखिल भारतीय संघ के विचार को आगे बढ़ाया। इसका समर्थन मुस्लिम लीग ने किया था। रियासतों ने भी इस शर्त पर इसका समर्थन किया कि उनकी आंतरिक संप्रभुता बनी रहे।

 

  1. दूसरे गोलमेज सम्मेलन में गांधी जी की भूमिका का उल्लेख कीजिए?

उत्तर: दूसरा गोलमेज सम्मेलन लंदन में 7 सितंबर 1931 से 1 दिसंबर 1931 तक गांधी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की भागीदारी के साथ आयोजित किया गया था। 

दूसरे गोलमेज सम्मेलन में गांधी जी की भूमिका: 

सत्र 7 सितंबर 1931 को शुरू हुआ। पहले और दूसरे सम्मेलन के बीच मुख्य अंतर यह था कि कांग्रेस दूसरे सम्मेलन में भाग ले रही थी। यह गांधी-इरविन समझौते के परिणामों में से एक था।

एक और अंतर यह था कि पिछली बार के विपरीत, ब्रिटिश पीएम मैकडोनाल्ड एक लेबर सरकार नहीं, बल्कि एक राष्ट्रीय सरकार का नेतृत्व कर रहे थे। ब्रिटेन में दो हफ्ते पहले लेबर पार्टी को गिरा दिया गया था।

अंग्रेजों ने अल्पसंख्यक समुदायों के लिए अलग निर्वाचक मंडल प्रदान करके भारत में अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व करने के लिए एक सांप्रदायिक पुरस्कार देने का फैसला किया। गांधी इसके खिलाफ थे। इस सम्मेलन में अछूतों के लिए अलग निर्वाचक मंडल के मुद्दे पर गांधी और अम्बेडकर में मतभेद था। गांधी अछूतों को हिंदू समुदाय से अलग मानने के खिलाफ थे। इस मुद्दे को पूना पैक्ट 1932 के माध्यम से हल किया गया था।

प्रतिभागियों के बीच कई असहमति के कारण दूसरे गोलमेज सम्मेलन को विफल माना गया। जबकि कांग्रेस ने पूरे देश के लिए बोलने का दावा किया, अन्य प्रतिभागियों और अन्य दलों के नेताओं ने इस दावे का विरोध किया।

 

  1. असहयोग आंदोलन पर टिप्पणी कीजिए?

उत्तर: महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) द्वारा 5 सितंबर 1920 को असहयोग आंदोलन शुरू किया गया था।  सितंबर 1920 में, कलकत्ता में कांग्रेस के अधिवेशन में, पार्टी ने असहयोग कार्यक्रम की शुरुआत की।  असहयोग आंदोलन की अवधि सितंबर 1920 से फरवरी 1922 तक मानी जाती है। इसने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में एक नए अध्याय का संकेत दिया।

जलियांवाला बाग हत्याकांड सहित कई घटनाओं के मद्देनजर असहयोग आंदोलन शुरू किया गया था और 1922 की चौरी चौरा घटना के कारण इसे बंद कर दिया गया था।

असहयोग आंदोलन में गांधी जी की भूमिका: असहयोग आंदोलन के पीछे महात्मा गांधी मुख्य शक्ति थे।  मार्च 1920 में, उन्होंने अहिंसक असहयोग आंदोलन के सिद्धांत की घोषणा करते हुए एक घोषणा पत्र जारी किया।  गांधी, इस घोषणापत्र के माध्यम से चाहते थे कि लोग:

  •  स्वदेशी सिद्धांतों को अपनाएं
  •  हाथ कताई और बुनाई सहित स्वदेशी आदतों को अपनाएं
  •  समाज से अस्पृश्यता उन्मूलन के लिए कार्य करें

 

गांधी ने 1921 में आंदोलन के सिद्धांतों की व्याख्या करते हुए पूरे देश की यात्रा की। 

असहयोग आंदोलन की विशेषताएं: यह आंदोलन अनिवार्य रूप से भारत में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ एक शांतिपूर्ण और अहिंसक विरोध था। भारतीयों को अपने खिताब छोड़ने और स्थानीय निकायों में नामित सीटों से विरोध के निशान के रूप में इस्तीफा देने के लिए कहा गया था। लोगों को अपनी सरकारी नौकरी से इस्तीफा देने के लिए कहा गया था। लोगों को अपने बच्चों को सरकारी या सहायता प्राप्त स्कूलों और कॉलेजों से वापस लेने के लिए कहा गया। लोगों को विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार करने और केवल भारतीय निर्मित वस्तुओं का उपयोग करने के लिए कहा गया। लोगों से विधान परिषदों के चुनाव का बहिष्कार करने को कहा गया।

 लोगों को ब्रिटिश सेना में सेवा नहीं करने के लिए कहा गया था। यह भी योजना बनाई गई थी कि यदि उपरोक्त कदमों का परिणाम नहीं निकला, तो लोग अपने करों का भुगतान करने से मना कर देंगे। कांग्रेस ने स्वराज्य या स्वशासन की भी मांग की। मांगों को पूरा करने के लिए पूरी तरह से अहिंसक साधनों का ही प्रयोग किया जाएगा।

 

  1. असहयोग आंदोलन के कारणों का विस्तृत विवरण दीजिए? (CBSE 2011, 12, 15, 16,21,22)

उत्तर: असहयोग आंदोलन के निम्न कारण थे; 

  • युद्ध के बाद अंग्रेजों पर नाराजगी: भारतीयों ने सोचा कि प्रथम विश्व युद्ध के दौरान उन्होंने ब्रिटेन को प्रदान की गई जनशक्ति और संसाधनों के व्यापक समर्थन के बदले में युद्ध के अंत में स्वायत्तता से पुरस्कृत किया जाएगा।  लेकिन भारत सरकार अधिनियम 1919 असंतोषजनक था।  इसके अलावा, अंग्रेजों ने रॉलेट एक्ट जैसे दमनकारी कृत्यों को भी पारित किया, जिसने कई भारतीयों को और नाराज कर दिया, जिन्होंने अपने युद्ध के समर्थन के बावजूद शासकों द्वारा विश्वासघात महसूस किया।
  • होमरूल आंदोलन: एनी बेसेंट और बाल गंगाधर तिलक द्वारा शुरू किए गए होमरूल आंदोलन ने असहयोग आंदोलन की नींव रखी।  कांग्रेस के उग्रवादी और नरमपंथी एकजुट थे और लखनऊ समझौते में मुस्लिम लीग और कांग्रेस पार्टी के बीच एकजुटता भी देखी गई।  चरमपंथियों की वापसी ने कांग्रेस को एक उग्रवादी चरित्र दिया।
  • प्रथम विश्व युद्ध के कारण आर्थिक कठिनाइयाँ: युद्ध में भारत की भागीदारी ने लोगों को बहुत अधिक आर्थिक कठिनाइयाँ दीं।  वस्तुओं के दाम आसमान छूने लगे जिससे आम आदमी प्रभावित हुआ।  किसानों को भी नुकसान हुआ क्योंकि कृषि उत्पादों की कीमतें नहीं बढ़ीं।  यह सब सरकार के खिलाफ आक्रोश का कारण बना।
  • रॉलेट एक्ट और जलियांवाला बाग हत्याकांड: दमनकारी रॉलेट एक्ट और अमृतसर के जलियांवाला बाग में क्रूर नरसंहार का भारतीय नेताओं और लोगों पर गहरा प्रभाव पड़ा।  ब्रिटिश न्याय प्रणाली में उनका विश्वास टूट गया और पूरा देश अपने नेताओं के पीछे खड़ा हो गया जो सरकार के खिलाफ अधिक आक्रामक और दृढ़ रुख के लिए आवाज उठा रहे थे।
  • खिलाफत आंदोलन: प्रथम विश्व युद्ध के दौरान, तुर्की, जो केंद्रीय शक्तियों में से एक था, ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी।  तुर्की की हार के बाद, तुर्क खिलाफत को भंग करने का प्रस्ताव रखा गया था।  मुसलमान तुर्की के सुल्तान को अपना खलीफा (मुसलमानों का धार्मिक मुखिया) मानते थे।  खिलाफत आंदोलन अली ब्रदर्स (मौलाना मोहम्मद अली और मौलाना शौकत अली), मौलाना आजाद, हकीम अजमल खान और हसरत मोहानी के नेतृत्व में शुरू किया गया था।  ब्रिटिश सरकार को खिलाफत को समाप्त न करने के लिए राजी करने के लिए इसे महात्मा गांधी का समर्थन मिला।  इस आंदोलन के नेताओं ने गांधीजी के असहयोग आंदोलन को स्वीकार कर लिया और अंग्रेजों के खिलाफ संयुक्त विरोध का नेतृत्व किया। 

 

  1. जलियांवाला बाग हत्याकांड की घटना और प्रभाव का वर्णन करें।  (सीबीएसई 2015, 14, 12)

उत्तर: लोग सरकार द्वारा अपनाए गए दमनकारी उपायों का विरोध कर रहे थे। इसी बीच जलियांवाला बाग कांड हो गया। यह एक संलग्न क्षेत्र था जिसमें प्रवेश और निकास का केवल एक बिंदु था। बैसाखी समारोह के लिए वहां भारी भीड़ जमा थी, कुछ लोग सरकार के दमनकारी उपायों के खिलाफ अपना विरोध दिखाने आए थे।  कई ग्रामीणों को मार्शल लॉव के तहत प्रायश्चित के आदेशों की जानकारी नहीं थी।  जनरल डायर ने क्षेत्र में प्रवेश किया, निकास को अवरुद्ध कर दिया और बिना किसी चेतावनी के गोलीबारी करने का आदेश दिया। यह एक जानबूझकर किया गया नरसंहार था जिसमें सैकड़ों लोग मारे गए और हजारों घायल हुए।  जनरल डायर ने बेशर्मी से सत्याग्रहियों के मन में भय और आतंक के रूप में एक नैतिक शक्ति पैदा करने का अपना उद्देश्य घोषित कर दिया।

 

जलियांवाला बाग घटना का प्रभाव:

  • सड़कों पर भारी भीड़ एकत्रित हो गई
  • सरकार पर हमले, झड़प और हमले की घटनाएं। 
  • इमारतों को क्षति पहुंचाई गई। 
  • सरकार ने क्रूर दमन का सहारा लिया और लोगों को पीड़ा और अत्याचार किया।
  • सत्याग्रहियों की हुई बेइज्जती की गई उनको जमीन पर नाक मलने, सड़कों पर रेंगने, सभी साहिबों को सलाम करने को मजबूर
  • ग्रामीणों की पिटाई
  • गांवों पर बमबारी (पंजाब में गुजरांवाला के आसपास)
  • रवींद्रनाथ टैगोर ने अपनी नाइटहुड की उपाधि को त्याग दिया।
  • हिंसा फैलते देख गांधीजी ने आंदोलन वापस ले लिया। 

 

  1. खिलाफत आंदोलन के कारणों का उल्लेख करते हुए बताइए कि महात्मा गांधी ने इस आंदोलन का समर्थन क्यों किया?  (CBSE 2011, 2012, 14)

 उत्तर: खिलाफत आंदोलन के कारण:

  • प्रथम विश्व युद्ध में तुर्क तुर्की की हार हुई थी
  • यह अफवाह थी कि तुर्की को अलग करने के लिए एक कठोर संधि की जा रही है। 
  • ओटोमन साम्राज्य के सुल्तान इस्लामिक आध्यात्मिक प्रमुख ‘खलीफा’ को हटाना था। इन सबने भारत में भी मुसलमानों को आंदोलित किया। 
  • मुसलमानो ने खलीफा की लौकिक शक्तियों का बचाव किया और इसे अक्षुण्ण रखना चाहते थे। 

 

खिलाफत समिति का गठन:

इसका गठन मार्च 1919 में बॉम्बे में हुआ था अली ब्रदर्स (शौकत अली, मुहम्मद अली), मौलाना आज़ाद, अजमल खान और हसरत मोहिनी इसके संस्थापक सदस्य थे।

 खिलाफत मुद्दे को गांधी जी का समर्थन:

 गांधीजी ने एक अधिक व्यापक-आधारित योजना शुरू करने की आवश्यकता महसूस की हिन्दुओं और मुसलमानों के साथ भारत में खिलाफत आंदोलन हिंदू-मुस्लिम एकता को मजबूत करने और मुसलमानों को एक एकीकृत राष्ट्रीय आंदोलन की छत्रछाया में लाने का एक सुनहरा अवसर प्रतीत हुआ, गांधीजी भी खिलाफत समिति के अध्यक्ष बने। अली ब्रदर्स ने गांधीजी से किसी भी एकीकृत जन कार्रवाई की संभावना पर बात की कलकत्ता कांग्रेस सत्र (1920) में, गांधीजी ने अन्य नेताओं को खिलाफत और स्वराज के पक्ष में असहयोग आंदोलन के मुद्दे पर आश्वस्त किया।  

 

  1. वियतनाम और भारत में साम्राज्य-विरोधी संघर्ष में महिलाओं के योगदान पर प्रकाश डालिए।  क्या वे सफल हुए?

 उत्तर:

 (i) महिलाओं ने वियतनाम में साम्राज्य-विरोधी संघर्ष में पुरुषों के समान ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।  सामाजिक मानदंडों के खिलाफ विद्रोह करने वाली महिलाओं को आदर्श बनाया गया।  अतीत की विद्रोही महिलाएं भी ऐसी ही थीं

 मनाये जाने।

 (ii) 1913 में, राष्ट्रवादी फान बोज चाऊ ने ट्रुंग बहनों के जीवन पर आधारित एक नाटक लिखा, जिन्होंने 39-43 सीई में चीनी वर्चस्व के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी।  इस नाटक में, उन्होंने इन बहनों को वियतनामी राष्ट्र को चीनियों से बचाने के लिए लड़ रहे देशभक्तों के रूप में चित्रित किया। उन्हें वियतनामी की अदम्य इच्छा और तीव्र देशभक्ति का प्रतिनिधित्व करने वाले चित्रों, नाटकों और उपन्यासों में चित्रित किया गया था।

 (iii) त्रिउ औ अतीत की एक अन्य महिला विद्रोही थी जो तीसरी शताब्दी सीई में रहती थी। वह जंगलों में गई, एक बड़ी सेना का गठन किया और चीनी शासन का विरोध किया। अंत में, जब उसकी सेना थी

 कुचल दिया, वह खुद डूब गई।  देश की इज्जत के लिए लड़ने वाली वो शहीद हो गईं।

 (iv) 1960 के दशक में, महिलाओं को बहादुर सेनानियों और श्रमिकों के रूप में प्रतिनिधित्व किया जाता था।  उनके एक हाथ में राइफल और दूसरे में हथौड़े के साथ दिखाया गया था।

 (v) 1960 के दशक में जैसे-जैसे युद्ध में हताहतों की संख्या बढ़ी, बड़ी संख्या में महिलाएं प्रतिरोध आंदोलन में शामिल हुईं।  उन्होंने घायलों की देखभाल करने, भूमिगत कमरे और सुरंग बनाने और दुश्मन से लड़ने में मदद की। 1965 और 1975 के बीच, हो ची मिन्ह ट्रेल पर काम करने वाले 17,000 युवाओं में से 70 से 80 प्रतिशत महिलाएं थीं।  

साम्राज्यवाद-विरोधी संघर्ष में वियतनामी महिलाओं की प्रत्यक्ष और सक्रिय भागीदारी की तुलना में, भारतीय महिलाओं ने अंग्रेजों के खिलाफ भारत के राष्ट्रवादी संघर्ष में एक छोटी भूमिका निभाई।

उन्होंने सविनय अवज्ञा आंदोलन के साथ-साथ गांधी के नमक मार्च में भी बड़ी संख्या में भाग लिया। उन्होंने विदेशी सामानों का भी बहिष्कार किया और शराब की दुकानों पर धरना दिया लेकिन वे मुख्यधारा की राजनीति से दूर थे, जिस पर केवल पुरुषों का ही नियंत्रण था।  भारतीय महिलाओं का मुख्य कर्तव्य अभी भी घर और चूल्हा तक ही सीमित था।