NCERT Solutions for Class 10 Economics Chapter 2 Sectors of the Indian Economy Important Questions (Hindi)

 

Here are the important questions (Hindi) of 1,3,4 and 5 Marks for CBSE Class 10 Economics Chapter 2 Sectors of the Indian Economy (भारतीय अर्थव्यवस्था के क्षेत्र). The important questions we have compiled will help the students to brush up on their knowledge about the subject. Students can practice Class 10 Economics important questions (Hindi) to understand the subject better and improve their performance in the board exam.

 

 

भारतीय अर्थव्यवस्था के क्षेत्र Important question answers

 
 

बहुविकल्पीय प्रश्न (01 Marks)

1.राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम किस वर्ष लागू किया गया था?  [सीबीएसई सितंबर 2010]

 (क) 2001

 (ख) 1999

 (ग)  2003

 (घ)  2005

 

उत्तर:  

 

  1. राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत कितने दिन की रोजगार गारंटी होती है?

(क) 1 महीना

(ख) 100 दिन

(ग)  1 वर्ष 

(घ)  कोई अवधि नहीं

 

उत्तर:

 

  1. भारत में बेरोजगारी का मूल कारण क्या है?

(क) अशिक्षा

(ख) जागरूकता की कमी

(ग)  जनसंख्या वृद्धि 

(घ)  इनमें से कोई नहीं

 

उत्तर: ग

 

  1. निम्न में से प्राथमिक क्षेत्र का उदाहरण कौन सा है? [सीबीएसई 2016-17]

(क) मुर्गीपालन

(ख) उर्वरक का उत्पादन करना

(ग)  गन्ने से चीनी बनाना

(घ)  विकल्प क और ग

 

उत्तर: क

 

  1. भारत कैसी अर्थव्यवस्था है?

(क) पूंजीवादी

(ख) समाजवादी

(ग)  साम्यवादी

(घ)  मिश्रित

 

उत्तर:  

 

  1. किस क्षेत्र में सभी प्राकृतिक उत्पादों को विनिर्माण के माध्यम से रूपों में बदल दिया जाता है? [सीबीएसई 2016-17]

(क) प्राथमिक

(ख) द्वितीयक

(ग)  तृतीयक 

(घ)  विकल्प क और ख दोनों

 

उत्तर: ख

 

  1. निम्न में से द्वितीयक क्षेत्र का उदाहरण कौन सा है?

(क) मुर्गीपालन

(ख) उर्वरक का उत्पादन करना

(ग)  गन्ने से चीनी बनाना

(घ)  विकल्प ख और ग

 

उत्तर: घ

 

  1. निम्न में से तृतीयक क्षेत्र का उदाहरण कौन सा है?

(क) एटीएम मशीन 

(ख) गन्ने से चीनी बनाना

(ग)  मधुमक्खी पालन 

(घ)  उपर्युक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. अल्प रोजगार _________होता है 

 (क) जब लोग काम करने के इच्छुक नहीं हैं।

 (ख) जब लोग धीरे-धीरे काम कर रहे हों।

 (ग) जब लोग अपनी क्षमता से कम काम कर रहे हों।

 (घ) जब लोगों को उनकी नौकरी के लिए भुगतान नहीं किया जाता है। 

 

उत्तर:

 

  1. कौन सा क्षेत्र भारत में सबसे बड़े उत्पादक क्षेत्र के रूप में उभरा है।  निम्नलिखित विकल्पों में से एक का चयन करें:

 (क) माध्यमिक क्षेत्र

 (ख) तृतीयक क्षेत्र

 (ग) प्राथमिक क्षेत्र

 (घ) विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र

 

उत्तर:

 

  1. प्रच्छन्न बेरोजगारी आपको सबसे ज्यादा कहां मिलेगी?  नीचे दिए गए विकल्पों में से सही विकल्प का चयन करें:

 (क) छोटी कृषि भूमि के लिए काम करने वाले कृषि श्रमिकों में

 (ख) अंशकालिक औद्योगिक श्रमिकों के बीच

 (ग) अधिकांश सरकारी कार्यालयों में

 (घ) बड़ी निजी कंपनियों में

 

उत्तर:

 

  1. देश के विकास में बड़ी निजी कंपनियां कैसे योगदान करती हैं?

 (क विज्ञापनों के माध्यम से अपने उत्पादों की मांग बढ़ाकर।

 (ख) उनके लाभ में वृद्धि करके।

 (ग) औद्योगिक वस्तुओं के निर्माण में देश की उत्पादकता बढ़ाकर।

 (घ) अमीरों के लिए निजी अस्पताल की सुविधा प्रदान करके।

 

उत्तर:

 

  1. दिए गए विकल्पों में से सही उत्तर की पहचान करें।

 टिस्को और रिलायंस इंडस्ट्रीज दोनों के स्वामित्व हैं:

 (क) सरकार

 (ख) निजी कंपनी

 (ग) एक सहकारी समिति

 (घ) संयुक्त रूप से निजी कंपनियों और सरकार द्वारा

 

उत्तर:

 

  1. जीवन बीमा किसकी गतिविधि है?

 (क) प्राथमिक क्षेत्र

 (ख) माध्यमिक क्षेत्र

 (ग) सेवा क्षेत्र

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों का उद्देश्य _________ है

 (क) लाभ कमाने

 (ख) मनोरंजन

 (ग) सामाजिक कल्याण और सुरक्षा

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर: ग

 

  1. देश के विकास में बड़ी निजी कंपनियां कैसे योगदान करती हैं?

 (क) विज्ञापनों के माध्यम से अपने उत्पादों की मांग बढ़ाकर।

 (ख) उनके लाभ में वृद्धि करके।

 (ग) औद्योगिक वस्तुओं के निर्माण में देश की उत्पादकता बढ़ाकर।

 (घ) अमीरों के लिए निजी अस्पताल की सुविधा प्रदान करके।

 

उत्तर:

 

  1. कौन सा क्षेत्र भारत में सबसे बड़े उत्पादक क्षेत्र के रूप में उभरा है।  निम्नलिखित विकल्पों में से एक का चयन करें:

 (क) माध्यमिक क्षेत्र

 (ख) तृतीयक क्षेत्र

 (ग) प्राथमिक क्षेत्र

 (घ) विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र

 

उत्तर:

 

  1. निम्नलिखित में से कौन सा उदाहरण असंगठित क्षेत्र के अंतर्गत नहीं आता है?

 (क) एक किसान अपने खेत की सिंचाई कर रहा है।

 (ख) एक ठेकेदार के लिए काम करने वाला एक दिहाड़ी मजदूर।

 (ग) एक अस्पताल में एक डॉक्टर एक मरीज का इलाज कर रहा है।

 (घ) एक हथकरघा बुनकर अपने घर में करघे पर काम कर रही है।

 

उत्तर:

 

  1. देश में आधे से अधिक श्रमिक किस प्राथमिक क्षेत्र में कार्यरत हैं:

 (क) मत्स्य पालन

 (ख) कृषि

 (ग) टोकरी बनाना

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. कृषि क्षेत्र में ___________ श्रमिक हैं:

 (क) नियोजित से अधिक

 (ख) कम नियोजित

 (ग) अधिक कार्यरत

 (घ) कार्यरत के तहत

 

उत्तर:

 

  1. रोजगार के अंतर्गत क्या छिपा है ___________ कहलाता है:

 (क) छिपे हुए रोजगार

 (ख) खुला रोजगार

 (ग) प्रच्छन्न रोजगार

 (घ) दृश्यमान रोजगार

 

उत्तर:

 

  1. नरेगा का पूर्ण रूप ________ है:

 (क) राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम

 (ख) राष्ट्रीय ग्रामीण नियोजित माल अधिनियम

 (ग) प्राकृतिक ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. सरकार के नियंत्रण से बाहर बड़े पैमाने पर छोटी और बिखरी हुई इकाइयों की विशेषता वाले क्षेत्र को _______ कहा जाता है:

 (क) संगठित क्षेत्र

 (ख) निश्चित क्षेत्र

 (ग) अस्थायी क्षेत्र

 (घ) असंगठित क्षेत्र

 

उत्तर:  

 

  1. वह क्षेत्र जिसमें बड़ी संख्या में लोग शामिल होते हैं, जो अपने दम पर छोटे-छोटे काम करते हैं जैसे कि सड़क पर बेचना या मरम्मत का काम करना, उसे ________ कहा जाता है:

 (क) सेवा क्षेत्र

 (ख) संगठित क्षेत्र

 (ग) असंगठित क्षेत्र

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. 1990 के बाद से, किस क्षेत्र में बड़ी संख्या में श्रमिकों ने अपनी नौकरी खो दी?

 (क) सेवा क्षेत्र

 (ख) संगठित क्षेत्र

 (ग) असंगठित क्षेत्र

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. असंगठित क्षेत्र के कामगारों को संरक्षण और समर्थन दोनों के लिए __________ आवश्यक है:

 (क) ग्रामीण और शहरी क्षेत्र

 (ख) आर्थिक और राजनीतिक विकास

 (ग) सामाजिक और राजनीतिक विकास

 (घ) आर्थिक और सामाजिक विकास

 

उत्तर:  

 

  1. जीडीपी का मतलब सकल घरेलू उत्पाद है।  यह क्या दिखाता है?  नीचे दिए गए सही कथन को चुनिए:

 (क) यह दर्शाता है कि किसी देश की अर्थव्यवस्था उसके कुल उत्पादन के मामले में किसी दिए गए वर्ष में कितनी बड़ी है।

 (ख) यह दिखाता है कि देश के कुल संसाधनों की गणना किए बिना किसी दिए गए वर्ष में देश का कुल उत्पाद क्या है।

 (ग) यह एक विशेष वर्ष में उत्पादन में शामिल लोगों की संख्या को दर्शाता है।

 (घ) यह किसी विशेष वर्ष में किसी देश के व्यापार लेनदेन के कुल मूल्य को दर्शाता है।

 

उत्तर:

 

  1. किसी देश के रोजगार के आंकड़े रोजगार और बेरोजगारी पर 5-वार्षिक सर्वेक्षण से एकत्र किए गए आंकड़ों पर आधारित होते हैं।  यह सर्वेक्षण कौन सा संगठन करता है?

 (क) एनएसएसओ-राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन

 (ख) नरेगा 2005-राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, 2005

 (ग) आईएलओ – अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन

 (घ) भारत की जनगणना

 

उत्तर:

 

  1. नीचे दी गई वस्तुओं की सूची से प्राकृतिक उत्पाद की पहचान करें:

 (क) कपड़ा

 (ख) गेहूं का आटा

 (ग) कपास

 (घ) टोमैटो सॉस

 

उत्तर:

 

  1. प्रच्छन्न बेरोजगारी आपको सबसे ज्यादा कहां मिलेगी?

(क) छोटी कृषि भूमि के लिए काम करने वाले कृषि श्रमिकों में

 (ख) अंशकालिक औद्योगिक श्रमिकों के बीच

 (ग) अधिकांश सरकारी कार्यालयों में

 (घ) बड़ी निजी कंपनियों में

 

उत्तर:

 

  1. निम्नलिखित में से कौन सी गतिविधि प्राथमिक क्षेत्र से संबंधित नहीं है?

 (क) मत्स्य पालन

 (ख) बैंकिंग

 (ग) खनन

 (घ) वानिकी

 

 उत्तर:

 

  1. निम्नलिखित में से कौन सा क्षेत्र भारत में सबसे बड़ा नियोक्ता है?

 (क) प्राथमिक क्षेत्र

 (ख) माध्यमिक क्षेत्र

 (ग) तृतीयक क्षेत्र

 (घ) आईटी क्षेत्र

 

उत्तर:

 

  1. सकल घरेलू उत्पाद मापने का कार्य किसके द्वारा किया जाता है?

 (क) केंद्र सरकार

 (ख) राज्य सरकार

 (ग) प्रांतीय सरकार

 (घ) उपरोक्त सभी

 

 उत्तर:

 

  1. किसी विशेष वर्ष के दौरान किसी देश के भीतर उत्पादित सभी अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मुद्रा मूल्य _________ कहलाता है:

 (क) सकल घरेलू उत्पाद

 (ख) शुद्ध घरेलू उत्पाद

 (ग) राष्ट्रीय उत्पाद

 (घ) माध्यमिक क्षेत्र का उत्पादन

 

 उत्तर:

 

  1. जीडीपी से क्या तात्पर्य है?

 (क) सकल डेयरी उत्पाद

 (ख) सकल घरेलू उत्पाद

 (ग) महान विकास परियोजना

 (घ) महान घरेलू उत्पाद

 

 उत्तर:

 

  1. निम्नलिखित में से कौन सी आर्थिक गतिविधि तृतीयक क्षेत्र में नहीं है?

 (क) बैंकिंग

 (ख) मधुमक्खी पालन

 (ग) शिक्षण

 (घ) कॉल सेंटर में काम करना

 

 उत्तर:

 

  1. निम्नलिखित में से किस प्रकार की गतिविधियाँ द्वितीयक क्षेत्र में शामिल हैं?

 (क) यह वस्तुओं के बजाय सेवाओं को उत्पन्न करता है।

 (ख) विनिर्माण के माध्यम से प्राकृतिक उत्पादों को बदल दिया जाता है।

 (ग) प्राकृतिक संसाधनों का दोहन करके वस्तुओं का उत्पादन किया जाता है।

 (घ) इसमें कृषि, वानिकी और डेयरी शामिल हैं।

 

उत्तर:

 

  1. सूचना और संचार प्रौद्योगिकी का संबंध ________ से है

 (क) प्राथमिक क्षेत्र

 (ख) माध्यमिक क्षेत्र

 (ग) तृतीयक क्षेत्र

 (घ) उपरोक्त में से कोई नहीं

 

उत्तर:

 

  1. आर्थिक गतिविधियों को कौन करता है?

 (क) व्यक्तियों

 (ख) फर्म

 (ग) सरकार

 (घ) उपरोक्त सभी

 

उत्तर:

 

  1. अर्थव्यवस्था को किस आधार पर सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों में वर्गीकृत किया गया है?

 (क) रोजगार की स्थिति

 (ख) आर्थिक गतिविधि की प्रकृति

 (ग) उद्यमों का स्वामित्व

 (घ) उद्यम में कार्यरत श्रमिकों की संख्या

 

 उत्तर:
 

 
 

अतिलघु उत्तरीय प्रश्न (01 Marks)

1.उद्यमों के स्वामित्व के आधार पर अर्थव्यवस्था का वर्गीकरण कीजिए।  (सीबीएसई 2012)

उत्तर: उद्यमों के स्वामित्व के आधार पर अर्थव्यवस्था दो प्रकार की होती हैं; सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र।

 

  1. गतिविधि की प्रकृति के आधार पर अर्थव्यवस्था का वर्गीकरण कीजिए।  (सीबीएसई 2015)

उत्तर: अर्थव्यवस्था को आर्थिक गतिविधियों के आधार पर तीन क्षेत्रों प्राथमिक क्षेत्र, द्वितीयक क्षेत्र और तृतीयक क्षेत्र में वर्गीकृत किया गया है।

 

  1. प्रच्छन्न बेरोजगारी क्या है?  (सीबीएसई 2012)

उत्तर: प्रच्छन्न बेरोजगारी एक ऐसी स्थिति है जिसमें किसी कार्य पर अपेक्षित संख्या से अधिक लोगों को नियोजित किया जाता है।

 

  1. प्राकृतिक प्रक्रिया के माध्यम से किसी वस्तु का उत्पादन किस क्षेत्र की गतिविधि है?  (सीबीएसई 2013)

उत्तर: प्राकृतिक प्रक्रिया के माध्यम से किसी वस्तु का उत्पादन प्राइमरी सेक्टर की गतिविधि है। 

 

  1. उस क्षेत्र का नाम बताइए जिसमें सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है।  (सीबीएसई 2013)

उत्तर: सार्वजनिक क्षेत्र में सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है।

 

  1. उस क्षेत्र का नाम बताइए जो वर्ष 2000 में भी सबसे बड़ा नियोक्ता बना रहा। (सीबीएसई 2014)

उत्तर: प्राथमिक क्षेत्र वर्ष 2000 में भी सबसे बड़ा नियोक्ता बना रहा।

 

  1. राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, 2005 के तहत कितने दिनों का गारंटीकृत रोजगार प्रदान किया जाता है?  (सीबीएसई 2014)

उत्तर: राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, 2005 के 100 दिनों के रोजगार की गारंटी है।

 

  1. एटीएम किस क्षेत्र का उदाहरण है?  (सीबीएसई 2014)

उत्तर: एटीएम तृतीय श्रेणी के उद्योग का उदाहरण है। 

 

  1. ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर पैदा करने का कोई एक तरीका सुझाएं।  (सीबीएसई 2015)

 उत्तर: दाल मिल स्थापित करना, कोल्ड स्टोरेज खोलना, शहद संग्रह शुरू करना या बढ़ावा देना ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर पैदा करने के कुछ तरीके हैं।

 

  1. उस क्षेत्र का नाम बताइए जिसमें सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है।  (सीबीएसई 2017) 

उत्तर: सार्वजनिक क्षेत्र में सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है।

 

  1. समान वेतन अधिनियम का मुख्य प्रावधान क्या है?

उत्तर: समान वेतन अधिनियम के प्रावधान के अनुसार समान कार्य करने वाले सभी श्रमिकों को समान वेतन दिया जाना चाहिए।

 

  1. जी. डी . पी.  से आप क्या समझते हैं?  यह क्या दर्शाता है?

उत्तर: जीडीपी का मतलब सकल घरेलू उत्पाद है। यह किसी विशेष वर्ष के दौरान किसी देश के भीतर उत्पादित सभी अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का कुल मूल्य है। किसी देश की जीडीपी उसकी अर्थव्यवस्था के आकार को दर्शाती है।

 

  1. अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का क्या अर्थ है?

उत्तर: अंतिम वस्तुएं और सेवाएं उत्पादन प्रक्रियाओं का उत्पादन हैं, और इन वस्तुओं और सेवाओं की मांग सीधे उपभोक्ता की आवश्यकता या वरीयता से निर्धारित होती है।  

 

  1. मध्यवर्ती वस्तुएँ और सेवाएँ क्या हैं?

उत्तर: अन्य वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन के लिए मध्यवर्ती वस्तुओं और सेवाओं की आवश्यकता होती है।  उदाहरण के लिए, गेहूँ, गन्ना, आदि मध्यवर्ती वस्तुएँ हैं जिनका उपयोग अंतिम वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन में किया जाता है।

 

  1. उद्यमों के स्वामित्व के आधार पर अर्थव्यवस्था का वर्गीकरण कीजिए।

 उत्तर: उद्यमों के स्वामित्व के आधार पर अर्थव्यवस्था में निम्न प्रकार वर्गीकृत किया जाता है

 

  •  सार्वजनिक क्षेत्र
  •  निजी क्षेत्र।

 

  1. उस क्षेत्र का नाम बताइए जिसमें सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है।

उत्तर: सार्वजनिक क्षेत्र।

 

  1. राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम, 2005 के तहत कितने दिनों का गारंटीकृत रोजगार प्रदान किया जाता है?   

उत्तर: नरेगा 2005 के तहत 100 दिनों के रोजगार की गारंटी है। 

 

  1. शहरी क्षेत्रों में क्या शामिल है?

उत्तर: शहरी क्षेत्रों में, असंगठित क्षेत्र में मुख्य रूप से लघु उद्योग में काम करने वाले, निर्माण, व्यापार और परिवहन आदि में काम करने वाले कैजुअल कामगार और रेहड़ी-पटरी वाले, हेड लोड वर्कर, गारमेंट निर्माता आदि के रूप में काम करने वाले लोग शामिल हैं।

 

  1. 19. लघु उद्योग को सरकार के समर्थन की आवश्यकता क्यों है?

 उत्तर: कच्चे माल की खरीद और उत्पादन के विपणन के लिए लघु उद्योग को सरकार के समर्थन की आवश्यकता होती है।

 

  1. 20. नरेगा का फुल फॉर्म क्या है?

 उत्तर: राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम।

 

  1. 21. अल्प-रोजगार क्या है?

 उत्तर: अल्प-रोजगार एक ऐसी स्थिति है, जहां लोग स्पष्ट रूप से काम कर रहे हैं, लेकिन उन सभी को उनकी क्षमता से कम काम करने के लिए मजबूर किया जाता है।

 

  1. ‘उचित मूल्य’ से आप क्या समझते हैं?

उत्तर: जिस कीमत पर सरकार किसानों से अनाज जैसे गेहूं, चावल आदि खरीदती है, उसे उचित मूल्य कहा जाता है।  सरकार इन खाद्यान्नों को अपने गोदामों में स्टोर करती है और राशन की दुकानों के माध्यम से उपभोक्ताओं को कम कीमत पर बेचती है।

 

  1. आवश्यक वस्तु अधिनियम कब पारित किया गया था?

उत्तर: आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 में पारित किया गया।

 

  1. राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम किस वर्ष लागू किया गया था?  [सीबीएसई सितंबर 2010]

 उत्तर: राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 में लागू किया गया था।

 

  1. सहारा एयरलाइंस और बी.एस.ई.एस.  इसके उदाहरण हैं: [सीबीएसई सितंबर 2011]

उत्तर: निजी क्षेत्र

 

  1. अगर सरकार नरेगा के तहत 100 दिन का रोजगार देने में विफल रहती है तो क्या होगा?  [सीबीएसई सितंबर 2012}

उत्तर: अगर सरकार नरेगा के तहत 100 दिन का रोजगार देने में विफल रहती है तो बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा।

 

  1. प्राथमिक क्रिया क्या है?

उत्तर: जब हम प्राकृतिक संसाधनों का दोहन कर वस्तुओं का उत्पादन करते हैं तो इसे प्राथमिक क्रिया कहते हैं।

 

  1. द्वितीयक क्रिया क्या है?

 उत्तर: जब कोई उत्पाद किसी कार्यशाला या कारखाने में बनाया या निर्मित किया जाता है, तो यह एक द्वितीयक क्रिया है।

 

  1. तृतीयक क्रिया क्या है?

उत्तर: यह एक ऐसी गतिविधि है जो उत्पादन प्रक्रिया के लिए सहायता या सहायता प्रदान करती है। यह किसी भी सामान का उत्पादन नहीं करता है।

 

  1. प्राथमिक क्षेत्र को कृषि क्षेत्र क्यों कहा जाता है?

उत्तर: हमें अधिकांश प्राकृतिक उत्पाद कृषि (डेयरी, मछली पकड़ने, वानिकी) से प्राप्त होते हैं, इसलिए इस क्षेत्र को कृषि क्षेत्र कहा जाता है।

 

  1. बेरोजगारी की परिभाषा दीजिए?

उत्तर: बेरोजगारी एक ऐसी स्थिति है जिसमें लोगों का एक वर्ग, जो काम करने में सक्षम और इच्छुक है, को लाभकारी काम नहीं मिलता है।

 

  1. मौसमी बेरोजगारी की परिभाषा दीजिए?

उत्तर: यह वह स्थिति है जिसमें लोग वर्ष के किसी भाग के दौरान नियोजित होते हैं और शेष वर्ष के दौरान बिना काम के रहते हैं।

 

  1. संरचनात्मक बेरोजगारी की परिभाषा दीजिए?

उत्तर: यह कई विकासशील देशों की एक सामान्य विशेषता है। यह एक ऐसी अर्थव्यवस्था है जिसके पास अपनी सभी श्रम शक्ति को रोजगार प्रदान करने के लिए कोई पूंजी या संसाधन नहीं है।

 

  1. आर्थिक गतिविधियाँ क्या हैं?

उत्तर: ऐसी गतिविधियाँ जो किसी अर्थव्यवस्था में वस्तुओं और सेवाओं के प्रवाह में योगदान करती हैं।

 

  1. भारत में कौन सा संगठन सकल घरेलू उत्पाद को मापने का कार्य करता है?

उत्तर: केंद्र सरकार मंत्रालय सकल घरेलू उत्पाद को मापने का कार्य करता है। 

 

  1. असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के संरक्षण और समर्थन की आवश्यकता है। कोई दो कारण बताइए?

उत्तर: (i) असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को उचित वेतन नहीं दिया जाता है।

 (ii) काम करने की स्थिति बहुत खराब है।

 

  1. किस आधार पर क्षेत्रों को सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में वर्गीकृत किया जाता है?  [सीबीएसई 2010, 2012, 14]

उत्तर: उद्यमों का स्वामित्व के आधार पर क्षेत्रों को सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में वर्गीकृत किया जाता है। 

 

  1. किस क्षेत्र ने सर्वाधिक वृद्धि दर दर्शायी है?

 उत्तर: तृतीयक क्षेत्र।

 

  1. सबसे बड़ा नियोक्ता कौन सा क्षेत्र है?

उत्तर: प्राथमिक क्षेत्र।

 

40.काम करने का अधिकार क्या है?

उत्तर: इस अधिकार के तहत जो लोग प्रचलित मजदूरी पर काम करने के लिए तैयार हैं, उन्हें सरकार द्वारा काम दिया जाता है।

 

 
 

लघु उत्तरीय प्रश्न (03 Marks) 

1.नरेगा को काम का अधिकार भी क्यों कहा जाता है?  राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 के उद्देश्यों की व्याख्या करें। (2015, 2014, 2013)

उत्तर: भारत के प्रत्येक राज्य या क्षेत्र में उस क्षेत्र में आय और रोजगार बढ़ाने की क्षमता है।

इसे स्वीकार करते हुए, भारत में केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 नामक एक अधिनियम पारित किया है,

 

नरेगा 2005 के मुख्य उद्देश्य निम्न हैं:

 

  • भारत के 200 जिलों में काम के अधिकार को लागू करने के लिए।
  • सरकार द्वारा एक वर्ष में 100 दिनों के रोजगार की गारंटी देने के लिए।  यदि सरकार विफल हो जाती है, तो वह बेरोजगारी भत्ता प्रदान करती है।
  • काम के प्रकार को वरीयता देना जो भूमि से उत्पादन बढ़ाने में मदद करेगा।

 

  1. अंतिम माल और मध्यवर्ती सामान क्या हैं?  वे सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की गणना में कैसे मदद करते हैं?  (2013)

उत्तर: अंतिम वस्तुएँ वे वस्तुएँ होती हैं जिनका उपभोग अंततः उपभोक्ता द्वारा किया जाता है न कि किसी अन्य वस्तु के उत्पादन में उपयोग किया जाता है।

 मध्यवर्ती वस्तुएँ वे वस्तुएँ हैं जिनका उपयोग अंतिम वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन में आगतों के रूप में किया जाता है।  उदाहरण के लिए, किसी उपभोक्ता को बेची गई कार अंतिम वस्तु है;  कार निर्माता को बेचे जाने वाले टायर जैसे घटक एक मध्यवर्ती वस्तु हैं। अंतिम माल के मूल्य में पहले से ही उन सभी मध्यवर्ती वस्तुओं का मूल्य शामिल होता है जिनका उपयोग अंतिम अच्छा बनाने में किया जाता है। 

 

  1. अल्प-रोजगार की समस्या को हल करने के किन्हीं तीन तरीकों की व्याख्या कीजिए।  (2013)

 उत्तर: ऐसे लोग हैं जो बेहतर काम करने में सक्षम हैं और जो उन्हें मिल रहा है उससे अधिक कमाई कर रहे हैं।  इसका कारण यह है कि बेहतर नौकरियां जिसके लिए वे योग्य हैं, उपलब्ध नहीं हैं। ऐसे लोगों को अल्प-रोजगार कहा जाता है, उदाहरण के लिए, एक स्नातक शिक्षक जो टैक्सी चलाता है। प्राथमिक या कृषि क्षेत्र में अल्प-रोजगार सबसे अधिक प्रचलित है।

 

 बेरोजगारी की समस्या को हल करने के निम्न तरीके हैं:

 

  • ऋण के प्रावधान से प्रच्छन्न बेरोजगार और अल्प-रोजगार श्रमिकों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने में मदद मिल सकती है।
  • ऋण राशि का उपयोग परिवार की आर्थिक गतिविधि को बढ़ावा देने के लिए परिवार की कमाई में जोड़ने या कुटीर उद्योग स्थापित करने के लिए किया जा सकता है।
  • अर्ध-ग्रामीण क्षेत्रों में उद्योगों और सेवाओं को बढ़ावा देना और उनका पता लगाना है जहां बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिल सकता है।

 

  1. सकल घरेलू उत्पाद में तीन क्षेत्रों की हिस्सेदारी में बदलाव आने के बावजूद रोजगार के मामले में कोई बदलाव क्यों नहीं हुआ है? (2013)

उत्तर: भारत के बारे में एक उल्लेखनीय तथ्य यह है कि जहां सकल घरेलू उत्पाद में तीन क्षेत्रों की हिस्सेदारी में बदलाव आया है, वहीं रोजगार में एक समान बदलाव नहीं हुआ है। रोजगार के मामले में प्राथमिक क्षेत्र से समान बदलाव नहीं हुआ क्योंकि माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्रों में पर्याप्त रोजगार सृजित नहीं हुए थे।

भले ही इस अवधि के दौरान औद्योगिक उत्पादन या माल का उत्पादन आठ गुना बढ़ा, लेकिन उद्योग में रोजगार केवल 2.5 गुना बढ़ा। जहां सेवा क्षेत्र में उत्पादन 11 गुना बढ़ा, वहीं सेवा क्षेत्र में रोजगार तीन गुना से भी कम बढ़ा।

नतीजतन, देश में आधे से अधिक श्रमिक प्राथमिक क्षेत्र में काम कर रहे हैं, मुख्य रूप से कृषि में, सकल घरेलू उत्पाद का केवल एक चौथाई उत्पादन करते हैं।

 

  1. सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) से क्या तात्पर्य है?  भारत में जीडीपी को कैसे मापा जाता है?  (2015)

उत्तर: किसी देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) एक विशेष वर्ष के दौरान किसी देश के भीतर प्रत्येक क्षेत्र में उत्पादित सभी अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य है।  इससे पता चलता है कि देश की अर्थव्यवस्था कितनी बड़ी है।  जीडीपी को केंद्र सरकार के मंत्रालय द्वारा मापा जाता है।  यह मंत्रालय, सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की मदद से, वस्तुओं और सेवाओं की कुल मात्रा और उनकी कीमतों से संबंधित जानकारी एकत्र करता है और फिर सकल घरेलू उत्पाद का अनुमान लगाता है।

 

  1. भारतीय अर्थव्यवस्था में प्राथमिक क्षेत्र के महत्व का वर्णन कीजिए।

 उत्तर: प्राथमिक क्षेत्र का निम्न महत्व है:

 

  • प्राथमिक क्षेत्र खाद्य और खनिज अयस्कों के लिए अर्थव्यवस्था की बुनियादी जरूरतें प्रदान करता है।
  •  यह औद्योगिक क्षेत्र के लिए कुछ कच्चे माल (जैसे जूट, कपास, खदानों से निकाले गए कोयले) का उत्पादन करता है। 
  • प्राथमिक क्षेत्र वर्ष 2000 में भी अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ा नियोक्ता बना रहा, इसका कारण यह है कि माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्र अभी भी पर्याप्त रोजगार पैदा नहीं करते हैं।
  • प्राथमिक क्षेत्र में कृषि आबादी द्वितीयक क्षेत्र के लिए उपभोक्ताओं का एक बहुत बड़ा बाजार प्रदान करती है (तैयार उत्पाद जैसे कपड़े, दैनिक आवश्यकता की वस्तुएं, उर्वरक, आदि) खरीदने के लिए।

 

  1. भारत में रोजगार के आकड़े कौन प्रदान करता है?

उत्तर: भारत में रोजगार के आंकड़े जनसंख्या, प्रति व्यक्ति आय, आय के साधन जैसे मूलभूत आधारों पर जारी किए जाते हैं। 

रोजगार कार्यालय द्वारा प्रदान किया गया डेटा ‘भारत’ में बेरोजगारी की स्थिति के बारे में जानकारी का दूसरा स्रोत है। पहला नमूना सर्वेक्षण और जनसंख्या जनगणना करता है। रोजगार कार्यालयों द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों को भारत में शिक्षित बेरोजगारों के आकलन का अप्रत्यक्ष तरीका माना जाता है।  भारतीय अर्थव्यवस्था की निगरानी के लिए केंद्र के उपभोक्ता पिरामिड घरेलू सर्वेक्षण से पता चलता है कि भारतीय युवाओं (15-24 वर्ष) के बीच रोजगार दर 2020-21 में 10.9% की तुलना में 2021-22 में 10.4% थी। 

 

  1. सेवा क्षेत्र के महत्व को स्पष्ट कीजिए।  (2013, 12)

 उत्तर: तृतीयक क्षेत्र या सेवा क्षेत्र बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इसका महत्व दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है:

 

प्राथमिक क्षेत्र और द्वितीयक क्षेत्र का जितना अधिक विकास होगा, सेवाओं की मांग उतनी ही अधिक होगी।

  • तृतीयक क्षेत्र भारत में सबसे बड़ा उत्पादक बन गया है क्योंकि विभिन्न प्रकार की सेवाएं जैसे अस्पताल, शैक्षणिक संस्थान, डाक और तार सेवाएं, पुलिस स्टेशन, अदालतें, ग्राम प्रशासनिक कार्यालय, परिवहन, बैंक, बीमा कंपनियां आदि की आवश्यकता होती है।
  • यहां तक ​​कि कृषि और उद्योग के विकास से परिवहन, व्यापार और भंडारण आदि जैसी सेवाओं का विकास होता है।
  • आय में वृद्धि के साथ, अधिक सेवाओं की मांग बढ़ रही है।

 

आधुनिक व्यापार और उद्योग के लिए सूचना प्रौद्योगिकी और आउटसोर्सिंग जैसी नई सेवाएं बहुत महत्वपूर्ण हो गई हैं। दुर्भाग्य से, भारत में सेवा क्षेत्र के तेजी से विकास ने अभी तक रोजगार में अपेक्षित वृद्धि नहीं दिखाई है।

 

  1. ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में रोजगार कैसे बढ़ाया जा सकता है? (2013)

उत्तर: ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अधिक अवसर प्रदान करने के निम्न तरीके हैं:

 

  • अर्ध-ग्रामीण क्षेत्रों में उद्योगों और सेवाओं को बढ़ावा देना और उनका पता लगाना जहाँ बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिल सकता है।  
  • लघु उद्योगों, लघु-स्तरीय निर्माण इकाइयों, कृषि प्रसंस्करण उद्योगों को बढ़ावा देना और इसके लिए ऋण प्रदान करना।  
  • यदि परिवहन और भंडारण पर अधिक पैसा खर्च किया जाता है, तो न केवल छोटे किसान लाभान्वित होंगे बल्कि परिवहन और भंडारण क्षेत्र में कई और लोगों को रोजगार मिल सकता है।
  • पर्यटन में अधिक निवेश करना और इस क्षेत्र में अधिक युवाओं को रोजगार देना। 

 

  1. निजी क्षेत्र के किन्हीं तीन दोषों की व्याख्या कीजिए।

उत्तर: समाज को समग्र रूप से कई चीजों की जरूरत है जो निजी क्षेत्र उचित कीमत पर नहीं दे पाएगा। इसके निम्न कारण हैं:

 

  • निजी क्षेत्र में गतिविधियाँ लाभ कमाने के उद्देश्य से निर्देशित होती हैं न कि लोगों के कल्याण के लिए।
  • समाज को कई सेवाओं की आवश्यकता होती है जो निजी क्षेत्र उचित मूल्य पर प्रदान नहीं कर सकता है।  सड़कों, पुलों, रेलवे, बांधों के माध्यम से सिंचाई आदि जैसी गतिविधियों के लिए बड़ी मात्रा में धन की आवश्यकता होती है जो निजी क्षेत्र की क्षमता से परे है। निजी क्षेत्र इन सेवाओं के उपयोग के लिए उच्च दर वसूल करता है। निजी क्षेत्र के लिए इन सेवाओं का उपयोग करने वाले हजारों लोगों से धन एकत्र करना कठिन है।
  • निजी क्षेत्र कभी-कभी क्षेत्रीय संतुलित विकास, आय की समानता और बुनियादी उद्योगों के विकास की उपेक्षा करता है।

 

  1. नौकरी स्वीकार करने से पहले किन्हीं पांच शर्तों या पहलुओं का वर्णन करें जिन पर आप विचार करेंगे?  (2014)

 उत्तर: नौकरी स्वीकार करने से पहले आय के अलावा कई कारकों पर विचार करने की आवश्यकता है-

 

  • इनमें परिवारों के लिए सुविधाएं, काम करने का माहौल या सीखने का अवसर जैसे कारक शामिल हैं।
  • एक अन्य मामले में, नौकरी कम वेतन दे सकती है लेकिन नियमित रोजगार की पेशकश कर सकती है जो सुरक्षा की भावना को बढ़ाती है।  एक और नौकरी हालांकि, उच्च वेतन की पेशकश कर सकती है लेकिन नौकरी की सुरक्षा नहीं है और परिवार के लिए भी समय नहीं छोड़ती है।
  • रोजगार की शर्तें सरकारी नियमों और विनियमों के अनुसार हैं।
  • उद्यम कई अन्य लाभ भी देता है जैसे पेड लीव, ​​भविष्य निधि, ग्रेच्युटी, आदि।
  • नियोक्ता चिकित्सा लाभ और सुरक्षित कार्य वातावरण के लिए भी प्रावधान करता है। एक सुरक्षित और सुरक्षित वातावरण अधिक महिलाओं को विभिन्न प्रकार के कार्य करने की अनुमति दे सकता है।

 

  1. तृतीयक क्षेत्रक को परिभाषित कीजिए। (सीबीएसई 2014)

उत्तर: तृतीय क्षेत्र की गतिविधियों से किसी भी वस्तु का उत्पादन नहीं होता है।  यह क्षेत्र उन सेवाओं का उत्पादन करता है जो प्राथमिक और माध्यमिक क्षेत्र को सहायता और सहायता के रूप में कार्य करती हैं।  प्रशासन, पुलिस, सेना, परिवहन, अस्पताल, शैक्षणिक संस्थान, डाक और तार, अदालतें, नगर निगम, बैंकिंग और बीमा, भंडारण, व्यापार और संचार जैसी सेवाएं तृतीयक क्षेत्र की गतिविधियों के उदाहरण हैं। 

 

इस क्षेत्र को “सेवा क्षेत्र” के रूप में भी जाना जाता है। पहले प्रकार के लोग विशिष्ट सेवाएं प्रदान करने वाले अत्यधिक कुशल और शिक्षित लोग हैं। 

 

  1. सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र की किन्हीं पांच विशेषताओं का उल्लेख कीजिए। (सीबीएसई 2015)

उत्तर: सार्वजनिक क्षेत्र

 

  • अधिकांश संपत्ति सरकार के पास है।
  • सभी सेवाएं सरकार द्वारा प्रदान की जाती हैं।
  • सार्वजनिक क्षेत्र का मुख्य उद्देश्य लोगों (जनता) का कल्याण है।  गतिविधियाँ समग्र रूप से राष्ट्र के हित द्वारा निर्देशित होती हैं।
  • कर्मचारी सुरक्षित महसूस करते हैं और अनुशासन और नियमित काम होता है।
  • सरकारें करों और अन्य माध्यमों से धन जुटाती हैं

उदाहरण के लिए, रेलवे, डाकघर, सड़कों, पुलों, बंदरगाहों, बांधों आदि का निर्माण।

 

निजी क्षेत्र

 

  • निजी क्षेत्र में, संपत्ति का स्वामित्व निजी व्यक्तियों या कंपनियों के हाथों में होता है।
  • सेवाएं प्रदान की जाती हैं या व्यक्तियों के हाथों में होती हैं।
  • निजी क्षेत्र में गतिविधियाँ लाभ कमाने के उद्देश्य से निर्देशित होती हैं न कि लोगों के कल्याण के लिए।
  • कर्मचारियों की नौकरियां कम सुरक्षित होती हैं और मालिकों की सनक सबसे ऊपर होती है।
  • निजी क्षेत्र उनके द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं के उपयोग के लिए उच्च दर वसूल करता है।

 

  1. उपयुक्त उदाहरणों के साथ स्पष्ट कीजिए कि सार्वजनिक क्षेत्र किस प्रकार राष्ट्र के आर्थिक विकास में योगदान देता है।  (2015)

उत्तर: आर्थिक विकास में सार्वजनिक क्षेत्र की भूमिका।  सार्वजनिक क्षेत्र अर्थव्यवस्था का वह क्षेत्र है जिसमें सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है। 

 

  • यह बुनियादी ढांचे के निर्माण और विस्तार के माध्यम से तेजी से आर्थिक विकास को बढ़ावा देता है।
  • सार्वजनिक क्षेत्र विभिन्न मूलभूत सेवाएं और सुविधाएं प्रदान करता है। 
  • कुछ गतिविधियाँ सरकार द्वारा समर्थित होने के लिए होती हैं, जैसे छोटे उद्योगों को कम कीमतों पर बिजली उपलब्ध कराना, गरीबों को भोजन की आपूर्ति आदि। यह छोटे, मध्यम और कुटीर उद्योगों के विकास को प्रोत्साहित करती है।
  • यह मध्यम दरों पर वस्तुओं और सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करता है और बुनियादी ढांचे के निर्माण और विस्तार के माध्यम से सामुदायिक विकास में भी योगदान देता है।

 

  1. जीडीपी क्या है? भारत में सकल घरेलू उत्पाद के लिए डेटा एकत्र करने के लिए कौन सा प्राधिकरण जिम्मेदार है?  यह कार्य कैसे करता है?

उत्तर: किसी विशेष वर्ष के दौरान प्रत्येक क्षेत्र में उत्पादित अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य उस वर्ष के लिए क्षेत्र का कुल उत्पादन प्रदान करता है।  और तीन क्षेत्रों में उत्पादन का योग वह देता है जिसे किसी देश का सकल घरेलू उत्पाद या जीडीपी कहा जाता है।

जीडीपी बताती है कि अर्थव्यवस्था कितनी बड़ी है।  भारत में, सकल घरेलू उत्पाद को मापने का विशाल कार्य केंद्र सरकार के मंत्रालय द्वारा किया जाता है।  यह मंत्रालय, सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विभिन्न सरकारी विभागों की मदद से, वस्तुओं और सेवाओं की कुल मात्रा और उनकी कीमतों से संबंधित जानकारी एकत्र करता है और फिर सकल घरेलू उत्पाद का अनुमान लगाता है।

 

  1. संगठित और असंगठित क्षेत्रों में एक अंतर बताइए।

उत्तर: संगठित क्षेत्र उन उद्यमों या कार्यस्थलों को कवर करता है जहां रोजगार की शर्तें नियमित होती हैं और इसलिए, लोगों को काम का आश्वासन दिया जाता है। संगठित क्षेत्र में वे रोजगार आते हैं जिनके पास उत्तम रोजगार की गारंटी होती है। 

जैसे: इंजीनियर, डॉक्टर आदि। 

 

असंगठित क्षेत्र की विशेषता छोटी और बिखरी हुई इकाइयाँ हैं जो काफी हद तक सरकार के नियंत्रण से बाहर हैं और रोजगार सुरक्षित नहीं है। असंगठित क्षेत्र में वे रोजगार आते हैं जिनके पास मौसमी रोजगारी या बिल्कुल भी निम्न कोटि की रोजगारी है। 

जैसे: बढ़ई, मोची आदि। 

 

  1. उन तीन तरीकों का उल्लेख कीजिए जिनसे सकल घरेलू उत्पाद को मापा जा सकता है।

उत्तर: जीडीपी को मापने के निम्न तरीके हैं:

 

  • किसी दिए गए वर्ष में देश में जो उत्पादन किया गया है उसका मूल्य गिनकर।  यहां यह उल्लेखनीय है कि हमें घरेलू उत्पादन में प्रयुक्त कच्चे माल या मध्यवर्ती वस्तुओं की गणना नहीं करनी चाहिए।  ऐसा डबल काउंटिंग से बचने के लिए किया जाता है।
  • किसी दिए गए वर्ष में अर्जित आय को उत्पादन में जोड़कर।  ऐसा करने से हमें जीडीपी का आय माप मिलता है।
  • वर्ष में किए गए सभी भुगतानों की गणना करके।

 

  1. सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र के बीच क्या अंतर है?

उत्तर: सार्वजनिक क्षेत्र और निजी क्षेत्र के बीच निम्न अंतर हैं-

 

सार्वजनिक क्षेत्र निजी क्षेत्र 
सार्वजनिक क्षेत्र में, सरकार अधिकांश संपत्ति का मालिक है और सभी सेवाएं प्रदान करती है। 

उदाहरण: रेलवे, हिंदुस्तान पेट्रोलियम, आदि

निजी क्षेत्र में, संपत्ति का स्वामित्व और सेवाओं का वितरण निजी व्यक्तियों या कंपनियों के हाथों में होता है।  

उदाहरण: मारुति उद्योग, रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) आदि।

सार्वजनिक क्षेत्र का उद्देश्य सिर्फ मुनाफा कमाना नहीं है बल्कि जनता के कल्याण के लिए काम करना है। निजी क्षेत्र की गतिविधियों को मुनाफा कमाने के मकसद से निर्देशित किया जाता है। इसका जनता के कल्याण से कोई लेना-देना नहीं है।
सार्वजनिक क्षेत्र बुनियादी सुविधाएं प्रदान करता है जिसमें स्वास्थ्य, स्वच्छता, शिक्षा, पेयजल, भोजन आदि रियायती दरों पर शामिल हैं। निजी क्षेत्र लोगों को उच्च दरों पर उपभोक्ता वस्तुएं प्रदान करता है।

 

  1. अल्प-रोजगार की समस्या केवल कृषि तक ही सीमित नहीं है।”  उदाहरण सहित कथन का समर्थन करें।  (2013)

उत्तर: बेरोजगारी की समस्या केवल कृषि तक ही सीमित नहीं है। यह अन्य क्षेत्रों में भी हो सकता है।

इसी तरह, हम देखते हैं कि सेवा क्षेत्र के अन्य लोग सड़क पर एक गाड़ी को धक्का देते हैं या कुछ बेचते हैं जहां वे पूरे दिन खर्च कर सकते हैं लेकिन बहुत कम कमाते हैं। रोजगार के बेहतर अवसर न मिलने के कारण ही वे ऐसा काम कर रहे हैं। असंगठित क्षेत्र में सरकार के नियंत्रण से बाहर छोटी और बिखरी हुई इकाइयाँ शामिल हैं। रोजगार सुरक्षित नहीं है। लोगों को बिना वजह जाने के लिए कहा जा सकता है। जब काम कम होता है, जैसे कि कुछ मौसमों के दौरान, कुछ लोगों को जाने के लिए कहा जा सकता है।

 

  1. बेरोजगारी हमारे जीवन को बुरी तरह प्रभावित कर रही है। इस पर अंकुश लगाने के लिए क्या क्या सुझाव हो सकते हैं?

 उत्तर: बेरोजगारी पर अंकुश लगाने के लिए निम्न सुझाव कारगर हो सकते हैं;

 

  • विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी के अवसरों को बढ़ाया जाना चाहिए। 
  • विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में कौशल विकास पर जोर दिया जाना चाहिए। 
  • व्यावसायिक प्रशिक्षण भी महत्वपूर्ण है। 
  • सुरक्षित फसल प्राप्त करने के लिए किसानों को कृषि में निवेश करने के लिए कम ब्याज दर पर ऋण दिया जाना चाहिए।
  • लघु उद्योगों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

 

  1. स्वैच्छिक बेरोजगारी से क्या तात्पर्य है?

उत्तर: स्वैच्छिक बेरोजगारी का मतलब स्वेच्छा से काम न करने का चुनाव करना है।  स्वेच्छा से बेरोजगार व्यक्ति काम करने के लिए अवकाश पसंद करते हैं क्योंकि वे व्यवहार में मजदूरी दरों को पसंद नहीं करते हैं। हालाँकि स्वैच्छिक बेरोजगारी पूरी तरह से स्वैच्छिक नहीं है, इसके पीछे कुछ छिपे या स्पष्ट कारण हो सकते हैं। इस प्रकार के अधिकांश बेरोजगार तब तक निष्क्रिय रहना पसंद करते हैं जब तक कि उन्हें उनके नियमों और शर्तों पर काम नहीं मिल जाता।

 

  1. बेरोजगारी को परिभाषित करें?  मौसमी बेरोजगारी क्या है?

उत्तर: बेरोजगारी वह स्थिति है जिसमें लोगों का एक वर्ग, जो काम करने में सक्षम और इच्छुक हैं, लेकिन लाभकारी काम नहीं पाते हैं। 

मौसमी बेरोजगारी का मतलब उस स्थिति से है जहां कुछ लोग वर्ष के कुछ हिस्सों में कार्यरत होते हैं और काम की मौसमी प्रकृति के कारण शेष वर्ष के दौरान बिना काम के रहते हैं।  उदाहरण के लिए, यदि कोई कृषि श्रमिक या किसान एक वर्ष के कम समय में काम से बाहर रहता है, तो उसे मौसमी रूप से बेरोजगार कहा जाता है।

 

  1. सबसे सामान्य प्रकार की बेरोजगारी का उल्लेख कीजिए।

उत्तर: भारत में वैसे तो 3 प्रकार की बेरोजगारी पाई जाती है लेकिन प्राप्त आंकड़ों के अनुसार, भारत में बेरोजगारी का सबसे आम प्रकार संरचनात्मक बेरोजगारी है क्योंकि इस प्रकार की बेरोजगारी में अर्थव्यवस्था के पास अपनी सभी श्रम शक्ति को रोजगार प्रदान करने के लिए कोई पूंजी या संसाधन नहीं होता है। यह कई विकासशील देशों की एक सामान्य विशेषता है। यह एक ऐसी बेरोजगारी है जिसमें देश के पास जनसंख्या और अन्य कारणों की वजह से अपनी सभी श्रम शक्ति को रोजगार प्रदान करने के लिए कोई पूंजी या संसाधन नहीं होता है।  

 

  1. कौन से मूल्य सार्वजनिक क्षेत्र से जुड़े हैं?

उत्तर: समाज को समग्र रूप से कई चीजों की आवश्यकता होती है लेकिन निजी क्षेत्र उचित कीमत पर प्रदान नहीं करेगा।  पानी, बिजली, स्वास्थ्य सेवा आदि जैसी बुनियादी चीजों के अलावा, हमें सड़कों, रेलवे, पुलों आदि की भी आवश्यकता है। सरकार इन गतिविधियों को करती है और यह सुनिश्चित करती है कि ये सुविधाएं सभी के लिए उपलब्ध हों।  निम्नलिखित मूल्यों को सार्वजनिक क्षेत्र से जोड़ा जा सकता है

 

  • सार्वजनिक सुविधाएं सभी के लिए हैं।
  • लोगों में कोई भेद नहीं है। 
  • जाति, धर्म, लिंग आदि के बावजूद हर कोई सार्वजनिक सुविधाओं का लाभ उठा सकता है।
  • सार्वजनिक सुविधाओं को रियायती दरों पर उपलब्ध कराया जाता है।
  • एक बार उन्हें प्रदान किए जाने के बाद, उनके लाभ कई लोगों द्वारा साझा किए जा सकते हैं।
  • गरीब लोगों को फायदा होता है।
  • सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यम का उद्देश्य सामाजिक कल्याण और सुरक्षा है।

 

  1. स्पष्ट कीजिए कि किस प्रकार सार्वजनिक क्षेत्र किसी राष्ट्र के आर्थिक विकास में योगदान देता है।  (सीबीएसई 2012)

उत्तर: सार्वजनिक क्षेत्र में, संपत्ति का स्वामित्व और सेवाओं का वितरण सरकार के अधीन है।  सरकार जनता को उचित लागत पर विभिन्न सेवाएं प्रदान करने में भारी मात्रा में धन खर्च करती है।

इस प्रकार सरकार राष्ट्र के आर्थिक विकास में योगदान करती है: बुनियादी ढांचे के विकास से, अर्थात, सड़कों का निर्माण, राष्ट्रीय राजमार्ग, फ्लाईओवर, मेट्रो-रेल, रेलवे लाइन, बांधों के माध्यम से सिंचाई आदि। सरकार सस्ती दरों पर बिजली की आपूर्ति करके औद्योगिक विकास को गति प्रदान करती है। सरकार स्कूल चलाकर और अच्छी गुणवत्ता वाली शिक्षा प्रदान करके निरक्षरता को दूर करने और देश को आगे ले जाने का प्रयास कर रही है।
 

 
 

कंडीशन बेस्ड प्रश्न (04 Marks)

1.कपास के पौधे की वृद्धि के लिए, हम मुख्य रूप से निर्भर करते हैं, लेकिन पूरी तरह से नहीं, वर्षा, धूप और जलवायु जैसे प्राकृतिक कारकों पर।  इस गतिविधि का उत्पाद, कपास, एक प्राकृतिक उत्पाद है। इसी तरह, खनिज और अयस्क भी प्राकृतिक उत्पाद हैं। जब हम प्राकृतिक शोषण करके एक अच्छा उत्पादन करते हैं

संसाधन, यह प्राथमिक क्षेत्र की एक गतिविधि है ।  प्राथमिक क्यों? ऐसा इसलिए है क्योंकि यह अन्य सभी उत्पादों के लिए आधार बनाता है जिन्हें हम बाद में बनाते हैं। चूंकि हमें मिलने वाले अधिकांश प्राकृतिक उत्पाद कृषि, डेयरी, मछली पकड़ने, वानिकी से हैं, इसलिए इस क्षेत्र को कृषि और संबंधित सेक्टर भी कहा जाता है। 

 

क. प्राकृतिक उत्पाद किसको कहते हैं?

उत्तर: प्रकृति से प्राप्त उत्पाद को प्राकृतिक उत्पाद कहते हैं। 

 

ख.  प्राथमिक क्षेत्र किसको कहते हैं?

उत्तर: प्राथमिक उत्पादों को प्राथमिक क्षेत्र कहते हैं। 

 

ग. प्राथमिक क्षेत्र को कृषि क्षेत्र क्यों कहते हैं?

उत्तर: प्राथमिक क्षेत्र को कृषि क्षेत्र इसलिए कहते हैं क्योंकि इस क्षेत्र में कृषि वा कृषि से संबंधित उत्पाद ही शामिल हैं। 

 

घ. प्राथमिक क्षेत्र के उदाहरण बताइए?

उत्तर: कृषि, डेयरी, मछली पकड़ना, वानिकी। 

 

  1. द्वितीयक क्षेत्र उन गतिविधियों को शामिल करता है जिनमें प्राकृतिक उत्पादों को विनिर्माण के तरीकों के माध्यम से अन्य रूपों में बदल दिया जाता है जिन्हें हम औद्योगिक गतिविधि से जोड़ते हैं। यह प्राथमिक के बाद अगला कदम है। उत्पाद प्रकृति द्वारा निर्मित नहीं है, लेकिन इसे बनाया जाना है और इसलिए विनिर्माण की कुछ प्रक्रिया आवश्यक है। यह एक कारखाने, एक कार्यशाला या घर पर हो सकता है। उदाहरण के लिए, पौधे से कपास फाइबर का उपयोग करके, हम यार्न और बुनाई कपड़े स्पिन करते हैं । गन्ने को कच्चे माल के रूप में उपयोग करके, हम चीनी या गुड़ बनाते हैं । हम मिट्टी को ईंटों में परिवर्तित करते हैं और घरों और इमारतों को बनाने के लिए ईंटों का उपयोग करते हैं । चूंकि यह क्षेत्र धीरे-धीरे विभिन्न प्रकार के उद्योगों से जुड़ गया, इसलिए इसे औद्योगिक क्षेत्र भी कहा जाता है । प्राथमिक और माध्यमिक के बाद, गतिविधियों की एक तीसरी श्रेणी है जो तृतीयक क्षेत्र के अंतर्गत आती है और उपरोक्त दो से अलग है । ये ऐसी गतिविधियाँ हैं जो प्राथमिक और द्वितीयक क्षेत्रों के विकास में मदद करती हैं । ये स्वयं गतिविधियाँ नहीं करती हैं लेकिन वे उत्पादन प्रक्रिया के लिए एक सहायता या समर्थन करती हैं । 

 

क. कपास से धागा बनाना किस क्षेत्र में आता है?

उत्तर: कपास से धागा बनाना द्वितीयक क्षेत्र में आता है। 

 

ख. औद्योगिक क्षेत्र किसको कहते हैं?

उत्तर: औद्योगिक क्षेत्र द्वितीयक क्षेत्र को कहते हैं। 

 

ग. तृतीयक क्षेत्र किसको कहते हैं?

उत्तर: तृतीयक क्षेत्र ऐसी गतिविधियाँ हैं जो प्राथमिक और द्वितीयक क्षेत्रों के विकास में मदद करती हैं । ये स्वयं गतिविधियाँ नहीं करती हैं लेकिन वे उत्पादन प्रक्रिया के लिए एक सहायता या समर्थन करती हैं । 

 

घ. द्वितीयक क्षेत्र किसको कहते हैं?

उत्तर: द्वितीयक क्षेत्र में वे गतिविधियां शामिल हैं जो प्राथमिक क्षेत्र से प्राप्त चीजों से विभिन्न उत्पाद तैयार करते हैं। 

 

  1. किसी विशेष वर्ष के दौरान प्रत्येक क्षेत्र में उत्पादित अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य उस वर्ष के लिए क्षेत्र का कुल उत्पादन प्रदान करता है और तीन क्षेत्रों में उत्पादन का योग किसी देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) कहलाता है। यह किसी विशेष वर्ष के दौरान किसी देश के भीतर उत्पादित सभी अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य है। जीडीपी दिखाता है कि अर्थव्यवस्था कितनी बड़ी है। भारत में, जीडीपी को मापने का विशाल कार्य केंद्र सरकार के मंत्रालय द्वारा किया जाता है ।  यह मंत्रालय, सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विभिन्न सरकारी विभागों की मदद से, वस्तुओं और सेवाओं की कुल मात्रा और उनकी कीमतों से संबंधित जानकारी एकत्र करता है और फिर जीडीपी का अनुमान लगाता है। 

 

क. सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) किसको कहते हैं?

उत्तर: किसी विशेष वर्ष के दौरान प्रत्येक क्षेत्र में उत्पादित अंतिम वस्तुओं और सेवाओं का मूल्य उस वर्ष के लिए क्षेत्र का कुल उत्पादन प्रदान करता है और तीन क्षेत्रों में उत्पादन का योग किसी देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) कहलाता है। 

 

ख. जीडीपी से किसका संकेतक है?

उत्तर: जीडीपी दिखाता है कि अर्थव्यवस्था कितनी बड़ी है।

 

ग. भारत में जीडीपी कौन मापता है?

उत्तर: भारत में, जीडीपी को मापने का विशाल कार्य केंद्र सरकार के मंत्रालय द्वारा किया जाता है। 

 

घ. केंद्र सरकार कैसे जीडीपी मापती है?

उत्तर: केंद्र सरकार के मंत्रालय सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के विभिन्न सरकारी विभागों की मदद से, वस्तुओं और सेवाओं की कुल मात्रा और उनकी कीमतों से संबंधित जानकारी एकत्र करता है और फिर जीडीपी का अनुमान लगाता है। 

 

  1. भारत में केंद्र सरकार ने भारत के लगभग 625 जिलों में काम करने के अधिकार को लागू करने वाला एक कानून बनाया। इसे महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 (मनरेगा 2005) कहा जाता है । मनरेगा 2005 के तहत, वे सभी जो ग्रामीण क्षेत्रों में काम करने में सक्षम हैं, और जिनकी आवश्यकता है, उन्हें सरकार द्वारा एक वर्ष में 100 दिनों के रोजगार की गारंटी दी जाती है। यदि सरकार रोजगार उपलब्ध कराने के अपने कर्तव्य में विफल रहती है, तो वह लोगों को बेरोजगारी भत्ते देगी। भविष्य में भूमि से उत्पादन बढ़ाने में मदद करने वाले कार्यों के प्रकारों को अधिनियम के तहत वरीयता दी जाएगी। 

 

क. मनरेगा कब लागू किया गया?

उत्तर: मनरेगा 2005 में लागू किया गया। 

 

ख. मनरेगा शुरुआत में कितने जिलों में लागू किया गया?

उत्तर: मनरेगा शुरुआत में 625 जिलों में लागू किया गया। 

 

ग. मनरेगा में कितने दिन की रोजगार गारंटी रहती है?

उत्तर: मनरेगा में सरकार द्वारा एक वर्ष में 100 दिनों के रोजगार की गारंटी दी जाती है।

 

घ. अगर सरकार मनरेगा के तहत तय समय में काम न उपलब्ध करवा पाई तो क्या उपाय है? 

उत्तर: यदि सरकार रोजगार उपलब्ध कराने के अपने कर्तव्य में विफल रहती है, तो वह लोगों को बेरोजगारी भत्ते देगी। भविष्य में भूमि से उत्पादन बढ़ाने में मदद करने वाले कार्यों के प्रकारों को अधिनियम के तहत वरीयता दी जाएगी।
 

 
 

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (05 Marks)

1.असंगठित क्षेत्र में किसे सुरक्षा की आवश्यकता है?  

उत्तर:  असंगठित क्षेत्र में कई संगठित क्षेत्र के उद्यम मिलना भी आम बात है।  वे करों से बचने के लिए ऐसी रणनीति अपनाते हैं और मजदूरों की रक्षा करने वाले कानूनों का पालन करने से इनकार करते हैं।  नतीजतन, बड़ी संख्या में श्रमिक कम वेतन वाली नौकरियों में उतरते हैं। उनका अक्सर शोषण किया जाता है और उन्हें उचित वेतन नहीं दिया जाता है।  उनकी कमाई कम है और नियमित नहीं है। ये नौकरियां सुरक्षित नहीं हैं और इनके कोई अन्य लाभ नहीं हैं।

 

ग्रामीण क्षेत्रों में, असंगठित क्षेत्र में ज्यादातर भूमिहीन खेतिहर मजदूर, छोटे और सीमांत किसान बटाईदार और कारीगर शामिल हैं।  इन किसानों को समय पर बीज, कृषि आदानों, ऋण, भंडारण सुविधाओं और शहरी क्षेत्रों में बाजार के लिए पर्याप्त सुविधा के माध्यम से समर्थन की आवश्यकता है, असंगठित क्षेत्र में व्यापार और परिवहन आदि शामिल हैं, और जो लोग सड़क विक्रेताओं के रूप में काम करते हैं, छोटे-छोटे में श्रमिक। छोटे पैमाने के उद्योगों को भी कच्चे माल की खरीद और आउटपुट के विपणन के लिए सरकारी समर्थन की आवश्यकता होती है। ग्रामीण और शहरी दोनों क्षेत्रों में आकस्मिक श्रमिकों को संरक्षित करने की आवश्यकता है

 

  1. गन्ने के उदाहरण द्वारा अर्थव्यवस्था के तीनों क्षेत्रों की अन्योन्याश्रयता की व्याख्या कीजिए।  (2012)

उत्तर: प्राथमिक क्षेत्र में सबसे बुनियादी स्तर पर उत्पादन शामिल है, अर्थात प्राकृतिक संसाधनों के दोहन के माध्यम से।  गन्ने की खेती एक कृषि गतिविधि है जो प्राथमिक क्षेत्र के अंतर्गत आती है। प्राथमिक क्षेत्र के कच्चे माल को द्वितीयक क्षेत्र में विनिर्माण के माध्यम से संसाधित माल में परिवर्तित किया जाता है। गन्ने को कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल कर फैक्ट्रियों में गुड़ और चीनी बनाई जाती है।  तृतीयक या सेवा क्षेत्र उत्पादन की प्रक्रिया को सहायता प्रदान करता है।  इसमें परिवहन, भंडारण, विपणन और उत्पादों की बिक्री शामिल है।  

किसान (प्राथमिक क्षेत्र) को भी उर्वरकों और बीजों की आवश्यकता होती है जो किसी कारखाने (माध्यमिक क्षेत्र) में संसाधित होते हैं और जिन्हें परिवहन के कुछ साधनों (तृतीयक क्षेत्र) द्वारा उनके घर तक पहुँचाया जाएगा।  इस प्रकार प्रत्येक छोटी प्रक्रिया के लिए अर्थव्यवस्था के तीनों क्षेत्रों की परस्पर निर्भरता एक दूसरे पर निर्भर करती है।

 

  1. हम ग्रामीण भारत में द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्रों में अधिक रोजगार कैसे सृजित कर सकते हैं?  (2012)

उत्तर: सिंचाई के लिए बांधों और नहरों के निर्माण जैसे बुनियादी कृषि बुनियादी ढांचे में निवेश करने से कृषि क्षेत्र के भीतर ही रोजगार पैदा हो सकता है जिससे कम रोजगार की समस्या कम हो सकती है। 

अगर सरकार फसलों के भंडारण और परिवहन में कुछ पैसा निवेश करती है, या बेहतर ग्रामीण सड़कें बनाती है ताकि मिनी ट्रक हर जगह पहुंचें, तो कई किसान साल भर इन फसलों को उगाना और बेचना जारी रख सकते हैं।  किसानों को बीज, उर्वरक, कृषि उपकरण, पंपसेट आदि खरीदने में मदद करने के लिए उचित ब्याज दर पर ऋण प्रदान करना ग्रामीण बैंकिंग में रोजगार पैदा कर सकता है।

सरकार/बैंक छोटे किसानों को उनकी सिंचाई सुविधाओं जैसे कुआं निर्माण में सुधार के लिए सस्ते दरों पर ऋण प्रदान कर सकते हैं ताकि वे अपनी भूमि की अच्छी तरह से सिंचाई कर सकें और एक के बजाय दो से तीन फसल प्राप्त कर सकें।  

दूसरा तरीका अर्ध-ग्रामीण क्षेत्रों में उद्योगों और सेवाओं को बढ़ावा देना और उनका पता लगाना है जहां बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार मिल सकता है।  

 

  1. बेरोजगारी कम करने के लिए सरकार ने क्या रणनीतियां अपनाई हैं?

उत्तर: भारत सरकार ने रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए कई विशेष कार्यक्रम चलाए हैं। जो निम्नलिखित हैं-

 

ग्रामीण कार्य कार्यक्रम: इस कार्यक्रम का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में स्थायी प्रकृति के सिविल कार्यों का निर्माण करना है। 

राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम: यह वह कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य ग्रामीण बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए सामुदायिक संपत्ति बनाना है। 

कौशल विकास: बेरोजगारी से संबंधित प्रमुख मुद्दों में से एक कौशल विकास है।  उत्पादन के तरीकों में बदलाव से कुशल श्रमिकों की मांग में वृद्धि हुई है।  

केन्द्रीय श्रमिक शिक्षा बोर्ड का गठन 1958 में किया गया था। यह औद्योगिक विकास की सफलता के लिए श्रमिकों में समझ और उत्साह पैदा करके महत्वपूर्ण कार्य कर रहा है।

भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालय व्यावसायिक शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं। 

 

  1. आर्थिक गतिविधियों के तीन क्षेत्रों में एक बड़ा बदलाव आया है, लेकिन रोजगार के हिस्से में एक समान बदलाव नहीं हुआ है।’ उपरोक्त कथन को तथ्यों के आधार पर स्पष्ट करें।  (2014)

उत्तर: यद्यपि सकल घरेलू उत्पाद में तीन क्षेत्रों की हिस्सेदारी में बदलाव आया है, रोजगार के ढांचे में समान बदलाव नहीं हुआ है।  प्राथमिक क्षेत्र वर्ष 2000 में भी सबसे बड़ा नियोक्ता बना हुआ है। इसका कारण यह है कि माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्रों में पर्याप्त रोजगार सृजित नहीं होते हैं। देश में आधे से अधिक श्रमिक प्राथमिक क्षेत्र में काम कर रहे हैं, मुख्य रूप से कृषि में, सकल घरेलू उत्पाद का केवल एक चौथाई उत्पादन करते हैं।  इसके विपरीत, माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्र उत्पादन का तीन-चौथाई उत्पादन करते हैं, हालांकि वे आधे से भी कम लोगों को रोजगार देते हैं।

 

 कारण:

 

  • भारतीय अर्थव्यवस्था में पिछले तीस वर्षों के दौरान माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्रों में पर्याप्त रोजगार सृजित नहीं हुए हैं, हालांकि उनके उत्पादन में कई गुना वृद्धि हुई है।  परिणामस्वरूप, देश में आधे से अधिक श्रमिक प्राथमिक क्षेत्र में काम कर रहे हैं, मुख्य रूप से कृषि, जिससे इस क्षेत्र में अत्यधिक भीड़ के कारण सकल अल्परोजगार हो रहा है।
  • आवश्यकता से अधिक लोग कृषि कार्यों में लगे हुए हैं।  स्थिति यह है कि अगर हम बहुत से लोगों को कृषि से हटा भी दें तो भी इस क्षेत्र का उत्पादन प्रभावित नहीं होगा।

 

  1. जनहित की कुछ गतिविधियों का वर्णन करें जिन पर सरकार को प्राथमिकता के आधार पर ध्यान देना है।

उत्तर: जनहित की गतिविधियाँ जिन पर सरकार को प्राथमिकता के आधार पर ध्यान देने की आवश्यकता है:

 

शिक्षा: सरकार को सभी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में पर्याप्त शिक्षा सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए।  

स्वास्थ्य और पोषण: बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाएं सभी के लिए जरूरी हैं।  समाज के गरीब तबकों को रियायती दर पर और मिलावटी दवाएं उपलब्ध कराने के लिए विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी अस्पतालों, क्लीनिकों और औषधालयों की स्थापना।

एक प्रभावी सार्वजनिक वितरण प्रणाली: राशन की दुकानों का उचित संचालन और खाद्यान्न का समान वितरण बहुत आवश्यक है।

परिवहन: आम जनता के आवागमन को आसान बनाने के लिए एक अच्छी तरह से विकसित सार्वजनिक परिवहन प्रणाली।

बिजली: सरकार का यह कर्तव्य है कि वह आम आदमी को उचित दर पर बिजली और पानी उपलब्ध कराए और उसे निजी कंपनियों के शोषण से बचाए।

 

  1. असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों की सुरक्षा कैसे की जा सकती है? ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के उदाहरण देते हुए स्पष्ट कीजिए।

उत्तर: असंगठित क्षेत्र में कामगारों के संरक्षण और समर्थन की आवश्यकता है क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में, इस क्षेत्र में भूमिहीन खेतिहर मजदूर, छोटे और सीमांत किसान, बटाईदार और कारीगर (वीनर, बढ़ई, सुनार) शामिल हैं। शहरी क्षेत्रों में, लघु उद्योग में श्रमिक, निर्माण, व्यापार और परिवहन में आकस्मिक श्रमिक, स्ट्रीट वेंडर, हेड लोड श्रमिक, कपड़ा निर्माता, कूड़ा बीनने वाले आदि सभी असंगठित क्षेत्र का हिस्सा हैं। सरकार को यह सुनिश्चित करने के लिए ठोस प्रयास करने चाहिए कि इस क्षेत्र के श्रमिकों का शोषण न हो और उन्हें उचित वेतन मिले।  उन्हें नौकरी की सुरक्षा और अन्य लाभ भी प्रदान किए जाने चाहिए।

 

  1. तृतीयक क्षेत्र भारत में इतना महत्वपूर्ण क्यों होता जा रहा है? कारण बताइए। 

उत्तर: सच्चाई यह है कि तृतीयक क्षेत्र भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।  इसके पीछे निम्न कारण हैं-

 

 (i) तृतीयक क्षेत्र प्राथमिक और द्वितीयक क्षेत्रों को परिवहन, भंडारण, बैंकिंग, संचार आदि जैसी सेवाएं प्रदान करके उनके विकास में मदद करता है। 

 (ii) पिछले एक दशक में, सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित कुछ नई सेवाएं महत्वपूर्ण और आवश्यक हो गई हैं। परिणामस्वरूप, तृतीयक क्षेत्र की जीडीपी हिस्सेदारी 1973 में लगभग 40% से बढ़कर 2010-11 में 50% से अधिक हो गई है।

(iii) जैसे-जैसे आय का स्तर बढ़ता है, लोगों के कुछ वर्ग विशेष रूप से बड़े शहरों में, बाहर खाने, पर्यटन, खरीदारी, निजी अस्पतालों आदि जैसी कई और सेवाओं की मांग करने लगते हैं। इस प्रवृत्ति ने भारतीय अर्थव्यवस्था में बहुत योगदान दिया है।

 

  1. जहां जीडीपी में तीन क्षेत्रों की हिस्सेदारी में बदलाव हुआ है, वहीं रोजगार में भी ऐसा बदलाव नहीं हुआ है।  भारत के संदर्भ में स्पष्ट कीजिए।

उत्तर:  देश के सकल घरेलू उत्पाद में तीन क्षेत्रों की हिस्सेदारी में बदलाव आया है, लेकिन रोजगार में ऐसा बदलाव नहीं हुआ है जो प्राथमिक क्षेत्र में रहता है। इसका कारण यह है कि द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्रों में पर्याप्त रोजगार सृजित नहीं हुए।

 

भले ही इस अवधि के दौरान औद्योगिक उत्पादन या माल का उत्पादन नौ गुना से अधिक बढ़ गया, उद्योग में रोजगार लगभग तीन गुना बढ़ गया।  जहां सेवा क्षेत्र में उत्पादन 14 गुना से अधिक बढ़ा, वहीं सेवा क्षेत्र में रोजगार लगभग पांच गुना बढ़ा। नतीजतन, देश में आधे से अधिक श्रमिक प्राथमिक क्षेत्र में लगे हुए हैं, मुख्य रूप से कृषि में, सकल घरेलू उत्पाद का केवल एक चौथाई उत्पादन करते हैं। इसके विपरीत, द्वितीयक और तृतीयक क्षेत्र उत्पादन का तीन-चौथाई उत्पादन करते हैं जबकि वे आधे से भी कम लोगों को रोजगार देते हैं।

 

  1. विभिन्न प्रकार के बेरोजगारी का वर्णन करें?

उत्तर: बेरोजगारी: बेरोजगारी एक ऐसी स्थिति है जिसमें लोगों का एक वर्ग, जो काम करने में सक्षम और इच्छुक है, को लाभकारी काम नहीं मिलता है।  

बेरोजगारी मुख्यतः निम्न तीन प्रकार की होती है।

 

प्रच्छन्न बेरोजगारी : यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें आवश्यकता से अधिक लोग किसी गतिविधि में लगे होते हैं।

 

मौसमी बेरोजगारी: यह वह स्थिति है जिसमें लोग वर्ष के किसी भाग के दौरान नियोजित होते हैं और शेष वर्ष के दौरान बिना काम के रहते हैं।

 

संरचनात्मक बेरोजगारी: यह कई विकासशील देशों की एक सामान्य विशेषता है। यह एक ऐसी अर्थव्यवस्था है जिसके पास अपनी सभी श्रम शक्ति को रोजगार प्रदान करने के लिए कोई पूंजी या संसाधन नहीं है।

 

अन्य प्रकार की बेरोजगारी

  • अच्छे की मांग में कमी के कारण बेरोजगारी।
  •  तकनीकी बेरोजगारी जो प्रौद्योगिकी में परिवर्तन के कारण उत्पन्न होती है।
  •  चक्रीय बेरोजगारी जो आमतौर पर पूंजीवादी देशों में होती है।

हालांकि, इस प्रकार की बेरोजगारी को हानिरहित माना जाता है और यह केवल छोटी अवधि के लिए ही बनी रहती है। 

 

वहीं दूसरी ओर मुख्य तीन प्रकार बहुत हानिकारक होते हैं।